🌻१८ मार्च २०१९ सोमवार🌻 प्रातःकाल ०६:०० बजे ⛳ _*(फाल्गुन कृष्ण पक्ष द्वादशी संध्या 05:43 तक तत्पश्चात त्रियोदशी )*_⛳ 🌞स्वर्ण शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞 🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏 👏जय माता दी👏 🔥🌞ॐ श्री पीताम्बरायैः नमः🌞🔥 _*🌻🌻पीताम्बराम् च द्विभुजाँम् त्रिनेत्राम् गात्रकोज्ज्वलाम्।🌻🌻*_ *🌹😊शिलामुद्गरहस्तां च स्मरेत् तां बगलामुखीम्॥😊🌻*

🌻१८ मार्च २०१९ सोमवार🌻 
प्रातःकाल ०६:०० बजे
⛳ _*(फाल्गुन कृष्ण पक्ष द्वादशी संध्या 05:43 तक तत्पश्चात त्रियोदशी )*_⛳
🌞स्वर्ण शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞
🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏
👏जय माता दी👏


🔥🌞ॐ श्री पीताम्बरायैः नमः🌞🔥

_*🌻🌻पीताम्बराम् च द्विभुजाँम् त्रिनेत्राम् गात्रकोज्ज्वलाम्।🌻🌻*_

*🌹😊शिलामुद्गरहस्तां च स्मरेत् तां बगलामुखीम्॥😊🌻*
🌻१८ मार्च २०१९ सोमवार🌻 
प्रातःकाल ०६:०० बजे
⛳ _*(फाल्गुन कृष्ण पक्ष द्वादशी संध्या 05:43 तक तत्पश्चात त्रियोदशी )*_⛳
🌞स्वर्ण शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞
🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏
👏जय माता दी👏


🔥🌞ॐ श्री पीताम्बरायैः नमः🌞🔥

_*🌻🌻पीताम्बराम् च द्विभुजाँम् त्रिनेत्राम् गात्रकोज्ज्वलाम्।🌻🌻*_

*🌹😊शिलामुद्गरहस्तां च स्मरेत् तां बगलामुखीम्॥😊🌻*
🌻१८ मार्च २०१९ सोमवार🌻 
प्रातःकाल ०६:०० बजे
⛳ _*(फाल्गुन कृष्ण पक्ष द्वादशी संध्या 05:43 तक तत्पश्चात त्रियोदशी )*_⛳
🌞स्वर्ण शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞
🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏
👏जय माता दी👏


🔥🌞ॐ श्री पीताम्बरायैः नमः🌞🔥

_*🌻🌻पीताम्बराम् च द्विभुजाँम् त्रिनेत्राम् गात्रकोज्ज्वलाम्।🌻🌻*_

*🌹😊शिलामुद्गरहस्तां च स्मरेत् तां बगलामुखीम्॥😊🌻*
🌻१८ मार्च २०१९ सोमवार🌻 
प्रातःकाल ०६:०० बजे
⛳ _*(फाल्गुन कृष्ण पक्ष द्वादशी संध्या 05:43 तक तत्पश्चात त्रियोदशी )*_⛳
🌞स्वर्ण शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞
🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏
👏जय माता दी👏


🔥🌞ॐ श्री पीताम्बरायैः नमः🌞🔥

_*🌻🌻पीताम्बराम् च द्विभुजाँम् त्रिनेत्राम् गात्रकोज्ज्वलाम्।🌻🌻*_

*🌹😊शिलामुद्गरहस्तां च स्मरेत् तां बगलामुखीम्॥😊🌻*

+505 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 67 शेयर

कामेंट्स

Narayan Tiwari Mar 18, 2019
पीताम्बरा पीठ, नलखेड़ा में विराजित मां बगलामुखी के चरणों में एक बगला साधक नमन करता हैं। मैं मां पीतांबरा (मां बगलामुखी) से प्रार्थना करता हूं, कि आप एवं आपका परिवार सदैव सुख, समृद्ध और खुशहाल रहें । ।।श्री पीतांबरायै नमः।।🚩 जय मांई की।।🚩

🌹रूमी माहेश्वरी🙏 Mar 18, 2019
जय माँ बगलामुखी🚩जय माता दी🚩 सुंदर अति सुंदर दर्शन माई💥🙏💥 कल माई का झोली भर आशीर्वाद मिला वो सब आप की वजह से हुआ भैया जी🌹🙏🌹 आप को कोटि कोटि नमन वन्दन 🎊 बस यूं ही माता रानी हम सब पर कृपा बरसाती रहे 🎊🎊🌹🎊🎊🙏 जय माँ पीताम्बरा🚩जय माता दी🚩

Gandhi Vineet Gandi Mar 18, 2019
Jay Shri Mata Maa Baglamukhi Devi Matey Namo Namah Jay Shri Mata Maa Pitambara Devi Matey Namo Namah SUPRABHAT SNEHVANDAN Ji PRANAM PRANAM PRANAM Mata

K N Padshala Mar 18, 2019
हर हर महादेव हर ॐनमः शिवाय गौरीशंकर महादेव नमः शुभ प्रभात वंदन भाई जी प्रणाम आपका परिवार हरपल आनंद मय हो एसी महादेव को प्रार्थना 🌹🙏🙏👌👌👌👍

manoj agarwal Mar 18, 2019
⛳🌷🌷रामराम🌷🌷👏👏👏👏👏👏👏👏

lndu Malhotra Mar 18, 2019
Om Sarav Mangal Mangalay Shive Sarbarth Sadhike Sharnai Trimbke Gauri Naraini Namstatay Namstatay Namstatay Namo Namah

Sudha T R Singh Mar 18, 2019
Jay mata di jay mata di jay mata di jay mata di jay mata di🙏🙏🙏

ramkarki Mar 18, 2019
ओम नमः शिवाय हर हर महादेव जय बगलामुखी महादेव की जय

+122 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 9 शेयर

+83 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+106 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 19 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anita Mittal Apr 17, 2019

🌷🌷माँ ! तेरे सहारे जीवन चलता , तेरे सहारे भोजन । हम तो दास हैं मैया ! तेरे दरबार के , करते हैं खुद को तेरे चरणों में अर्पण 🌷🌷 🌹🌹जय णाँ काली जी 🌹🌹 🌻🌻प्राणी मात्र में ईश्वर - दर्शन 🌻🌻 -------------------------------------- स्वामी विवेकानंद नये - 2 संन्यासी बने थे ।वह तब तक प्राणी मात्र में ईश्वर के दर्शन के संदेश को समझ नहीं पाये थे । युवावस्था में वह काफी समय तक ग्रामीण अंचलों का भ्रमण करने लगे रहे । वह गाँवों की स्थिति का अध्ययन करते और लोगों को सदाचारी बनने और दुर्व्यसनों से दूर रहने का उपदेश दिया करते थे । एक दिन भीषण गर्मी में स्वामी जी एक गाँव से गुजर रहे थे । प्यास लगी , तो खेत की मेड़ पर बैठे एक व्यक्ति को लोटे से पानी पीते देखकर कहा , भैया ! मुझे भी थोड़ा पानी पिला दें । उस ग्रामीण ने भगवा वस्त्रधारी संन्यासी को देखकर सिर झुकाया और बोला , महाराज ! मैं निम्न जाति का व्यक्ति आपको अपने हाथों से पानी पिलाकर पाप मोल नहीं ले सकता । स्वामी जी यह सुनकर आगे बढ़ गये । कुछ ही क्षणों में उन्हें लगा कि मैंने साधु बनने के लिये जाति , परिवार तथा पुरानी प्रचलित गलत मान्यताओं का परित्याग कर दिया , फिर आग्रह करके उस निश्छल ग्रामीण का पानी क्यों नहीं स्वीकार किया ? मेरा सोया हुआ जाति अभिमान क्यों जाग उठा ? यह तो अधर्म हो गया । वह तुरंत उस ग्रामीण के पास लौटकर बोले , भैया ! मुझे क्षमा करना । मैंने तुम जैसे निश्छल परिश्रमी व्यक्ति के हाथों पानी ना पीकर घोर पाप किया है । निम्न जाति तो उसकी होती है , जो दुर्व्यसनी और अपराधी होता है । स्वामी जी ने उसके हाथ से लोटा लेकर पानी ग्रहण किया । बाद में वे खुलकर ऊँच - नीच की भावना पर प्रहार करते रहे । 🌲🌲माँ काली का शुभाशीष आजीवन आपके साथ बना रहे 🌲🌲 🌹🌹जय माँ काली जी.🌹🌹

+475 प्रतिक्रिया 180 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Naval Sharma Apr 17, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Rajeev Thapar Apr 17, 2019

+8 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 6 शेयर
PRAMIL KUMAR SHARMA Apr 17, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB