J.kashyap
J.kashyap Mar 26, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

रुद्राक्ष क्या होता है? जानिये कौन-सा रुद्राक्ष पहनने से लाभ होगा रुद्राक्ष के वृक्ष का फूल सफेद कलर का होता है। इसका फल शुरू में हरा एवं पक जाने के बाद नीला व सूखने पर काला हो जाता है। रुद्राक्ष इसी फल की गुठली को कहते हैं। रुद्राक्ष को प्राचीन काल से ही आभूषण के रूप में, सुरक्षा के लिए, ग्रह शांति के लिए और आध्यात्मिक लाभ के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। आइये जानते हैं कौन-सा रुद्राक्ष पहनने से लाभकारी होता है। अगर वैवाहिक जीवन में कोई समस्या हो या चन्द्रमा कमजोर हो दो मुखी रुद्राक्ष अत्यंत लाभकारी होता है। जो लोग अपनी सभी इच्छाएं पूरी करना चाहते हैं, वे दसमुखी रुद्राक्ष पहन सकते हैं। इससे विशेष लाभ होता है। शिक्षा में लगातार बाधाएँ आ रही हों, तो ऐसी दशा में लोगों को पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। रुद्राक्ष की खासियत यह होती है कि इसमें एक अनोखे तरह का स्पदंन होता है। जोकि पहने हुए व्यक्ति के लिए ऊर्जा का एक सुरक्षा कवच बना देता है, जिससे बाहरी ऊर्जाएं आपको परेशान नहीं कर पातीं।

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Prince Trivedi Apr 24, 2019

*💥तिलकधारण करना अर्थात् लघु देवतापूजन करना:- 💥* मनुष्यदेहको ईश्वरका देवालय (मंदिर) माना गया है । सहस्रार-चक्र मूर्धास्थानपर (चोटीके स्थानपर) होता है । वहां निर्गुण परमेश्वरका वास होता है । भृकुटिके मध्यमें (दोनों भौंहोंके मध्य) आज्ञा-चक्रपर सगुण परमेश्वरका वास होता है । मायाकी उपाधि रहनेतक सगुण परमेश्वरकी पूजा करना ही उचित है । तिलकधारण करना अर्थात् लघु देवतापूजन करना । शास्त्रानुसार मध्यमाका प्रयोग कर तिलक धारण करें । मध्यमाका संबंध हृदयसे होता है, अत: इस उंगलीसे प्रवाहित स्पंदन हृदयतक जाते हैं । भृकुटिके मध्यमें निवास करनेवाले परमेश्वरको तिलक लगाते समय तृतीय नेत्रसे जो स्पंदन प्रक्षेपित होते हैं; वे मध्यमाद्वारा हृदयमें प्रवेश कर अंकित होते हैं, इससे पूर्ण दिवस मनमें भक्तिभाव एवं शांतिका वास रहता है । स्नानके उपरांत अपने-अपने संप्रदायके अनुसार मस्तकपर तिलक अथवा मुद्रा लगाएं । वैष्णवपंथी मस्तकपर खडा तिलक, जबकि शैवपंथी आडी रेखाएं अर्थात् ‘त्रिपुंड्र’ लगाते हैं । *🙏Jai Shree Mahakal🙏*

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

+69 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 168 शेयर

+67 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 101 शेयर

👏👏शिव भोले नाम तेरा जीने का है सहारा,👏👏 👏👏अब तो शरण में लेलो रो रो के दिल पुकारा,👏👏 👏दुनियाँ में कोई अपना देता नहीं दिखाई, धीरज तुम्ही तो दोगे तुमसे लग्न लगाई, तेरे बिन न होगा इक पल कोई भी गुजारा, अब तो शरण में लेलो रो रो के दिल पुकारा, शिव भोले नाम तेरा जीने का है सहारा,👏 👏मेरी ज़िंदगी के मालिक मुझे आसरा है तेरा, कोई रास्ता न सूझे कैसे मिटे अँधेरा, मझधार पे पड़ा हु मेरा खो गया किनारा, अब तो शरण में लेलो रो रो के दिल पुकारा, शिव भोले नाम तेरा जीने का है सहारा,👏 👏तेरे नाम के दीवाने बन कर ही अब रहे गे, दुःख दर्द जो भी आये हंस कर सब सहेंंगे, तेरा साथ ना मिला तो कैसे जिए वेचारा, अब तो शरण में लेलो रो रो के दिल पुकारा, शिव भोले नाम तेरा जीने का है सहारा,👏 👏तेरी दया न होती तो ये जनम न होता, तेरे ही बल से मैं पापोंं के बोझ धोता, अब तो तुम्ही संभालो मैं हर तरफ से हारा, अब तो शरण में लेलो रो रो के दिल पुकारा, शिव भोले नाम तेरा जीने का है सहारा,👏 👏जय हो भोले भंडारी की👏

+19 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 10 शेयर
पूजा Apr 23, 2019

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
neeta trivedi Apr 22, 2019

+43 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 33 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB