माँ पार्वती के 108 नाम

माँ पार्वती के 108 नाम

माँ पार्वती के 108 नाम
जय शिव शक्ति
1. आद्य - इस नाम का मतलब प्रारंभिक वास्तविकता है।
2. आर्या - यह देवी का नाम है
3. अभव्या - यह भय का प्रतीक है।
4. अएंदरी - भगवान इंद्र की शक्ति।
5. अग्निज्वाला - यह आग का प्रतीक है।
6. अहंकारा - यह गौरव का प्रतिक है ।
7. अमेया - नाम उपाय से परे का प्रतीक है।
8. अनंता - यह अनंत का एक प्रतीक है।
9. अनंता - अनंत
10 अनेकशस्त्रहस्ता - इसका मतलब है कई हतियारो को रखने वाला ।
11. अनेकास्त्रधारिणी - इसका मतलब है कई हतियारो को रखने वाला ।
12. अनेकावारना - कई रंगों का व्यक्ति ।
13. अपर्णा – एक व्यक्ति जो उपवास के दौरान कुछ नहि कहता है यह उसका प्रतिक है ।
14. अप्रौधा – जो व्यक्ति उम्र नहि करता यह उसका प्रतिक है ।
15. बहुला - विभिन्न रूपों ।
16. बहुलप्रेमा- हर किसी से प्यार ।
17. बलप्रदा - यह ताकत का दाता का प्रतीक है ।
18. भाविनी - खूबसूरत औरत ।
19. भव्य – भविष्य ।
20. भद्राकाली - काली देवी के रूपों में से एक ।
21. भवानी - यह ब्रह्मांड की निवासी है ।
22. भवमोचनी - ब्रह्मांड की समीक्षक ।
23. भवप्रीता - ब्रह्मांड में हर किसी से प्यार पाने वाली ।
24. भव्य - यह भव्यता का प्रति है ।
25. ब्राह्मी - भगवान ब्रह्मा की शक्ति ।
26. ब्रह्मवादिनी – हर जगह उपस्तित ।
27. बुद्धि- ज्ञानी
28. बुध्हिदा - ज्ञान की दातरि ।
29. चामुंडा -राक्षसों चंदा और मुंडा की हत्या करने वलि देवि ।
30. चंद्रघंटा - ताकतवर घंटी
31. चंदामुन्दा विनाशिनी - देवी जिसने चंदा और मुंडा की हत्या की ।
32. चिन्ता - तनाव ।
33. चिता - मृत्यु-बिस्तर ।
34. चिति - सोच मन ।
35. चित्रा - सुरम्य ।
36. चित्तरूपा - सोच या विचारशील राज्य ।
37. दक्शाकन्या - यह दक्षा की बेटी का नाम है ।
38. दक्शायाज्नाविनाशिनी - दक्षा के बलिदान को टोकनेवाला ।
39. देवमाता - देवी माँ ।
40. दुर्गा - अपराजेय ।
41.एककन्या - बालिका ।
42. घोररूपा - भयंकर रूप ।
43. ज्ञाना - ज्ञान ।
44. जलोदरी - ब्रह्मांड मेइन वास करने वाली ।
45. जया - विजयी
46 कालरात्रि - देवी जो कालि है और रात के समान है ।
47. किशोरी - किशोर
48. कलामंजिराराजिनी - संगीत पायल ।
49.कराली - हिंसक
50. कात्यायनी - बाबा कत्यानन इस नाम को पूजते है ।
51. कौमारी- किशोर ।
52. कोमारी- सुंदर किशोर ।
53. क्रिया - लड़ाई ।
54. क्र्रूना- क्रूर ।
55. लक्ष्मी - धन की देवी ।
56. महेश्वारी - भगवान शिव की शक्ति ।
57. मातंगी - मतंगा की देवी ।
58. मधुकैताभाहंत्री - देवी जिसने राक्षसों मधु और कैताभा को आर दिया ।
59. महाबला - शक्ति ।
60. महातपा - तपस्या ।
61. महोदरी - एक विशाल पेट में ब्रह्मांड में रखते हुए ।
62. मनः - मन ।
63. मतंगामुनिपुजिता - बाबा मतंगा द्वारा पूजी जाती है ।
64. मुक्ताकेशा - खुले बाल ।
65. नारायणी - भगवान नारायण विनाशकारी विशेषताएँ ।
66. निशुम्भाशुम्भाहनानी - देवी जिसने भाइयो शुम्भा निशुम्भा को मारा ।
67. महिषासुर मर्दिनी - महिषासुर राक्षस को मार डाला जो देवी ने ।
68 नित्या - अनन्त ।
69. पाताला - रंग लाल ।
70. पातालावती - लाल और सफ़द पहेने वाली ।
71. परमेश्वरी - अंतिम देवी ।
72. पत्ताम्बरापरिधान्ना - चमड़े से बना हुआ कपडा ।
73. पिनाकधारिणी - शिव का त्रिशूल ।
74. प्रत्यक्ष – असली ।
75. प्रौढ़ा - पुराना ।
76. पुरुषाकृति - आदमी का रूप लेने वाला ।
77. रत्नप्रिया - सजी
78. रौद्रमुखी - विनाशक रुद्र की तरह भयंकर चेहरा ।
79. साध्वी - आशावादी ।
80. सदगति - मोक्ष कन्यादान ।
81. सर्वास्त्रधारिणी - मिसाइल हथियारों के स्वामी ।
82. सर्वदाना वाघातिनी -सभी राक्षसों को मारने के लिए योग्यता है जिसमें ।
83. सर्वमंत्रमयी - सोच के उपकरण ।
84. सर्वशास्त्रमयी - चतुर सभी सिद्धांतों में ।
85. सर्ववाहना - सभी वाहनों की सवारी ।
86. सर्वविद्या - जानकार ।
87. सती - जो महिला जिसने अपने पति के अपमान पर अपने आप को जला दिया ।
89. सत्ता - सब से ऊपर ।
90. सत्य - सत्य ।
91. सत्यानादास वरुपिनी - शाश्वत आनंद ।
92. सावित्री - सूर्य भगवान सवित्र की बेटी ।
93. शाम्भवी - शंभू की पत्नी ।
94.शिवदूती - भगवान शिव के राजदूत ।
95. शूलधारिणी – व्यक्ति जो त्र्सिहुल धारण करता है ।
96. सुंदरी - भव्य ।
97.सुरसुन्दरी - बहुत सुंदर ।
98. तपस्विनी - तपस्या में लगी हुई ।
99. त्रिनेत्र - तीन आँखों का व्यक्ति ।
100. वाराही – जो व्यक्ति वाराह पर सवारी करता हियो ।
101. वैष्णवी - अपराजेय ।
102. वनदुर्गा - जंगलों की देवी ।
103. विक्रम - हिंसक ।
104. विमलौत्त्त्कार्शिनी - प्रदान करना खुशी ।
105. विष्णुमाया - भगवान विष्णु का मंत्र ।
106. वृधामत्ता - पुराना है, जो माँ ।
107. यति - दुनिया त्याग जो व्यक्ति एक ।
108. युवती - औरत ।

देवी पार्वती यह सभी नाम पूजा करने के लिए और उनके आशीर्वाद पाने के लिए किऐ जाते है ।

Agarbatti Pranam Like +351 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 286 शेयर

कामेंट्स

Asha Dave Sep 14, 2017
Jay ho mataji Jay ho pranam aashirwad appo

Asha Dave Sep 14, 2017
Jay shiv Priya, Jay shiv Priya, Jay shiv Priya Jay ho, pranam

Bheem Nirola Sep 14, 2017
ॐआद्यशक्त्यै नमो नमः।।

Sidhkaran Goyal Sep 15, 2017
जय माता दी कृपया माँ लक्ष्मी के नाम भी लिखें

Deepak Khanna Aug 17, 2018

Direct Dil Se 💓🙏🌼

Jyot Fruits Pranam +195 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 271 शेयर
Shri Banke Bihari Aug 17, 2018

Pranam Flower Bell +10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 118 शेयर
Madhu Manju Aug 17, 2018

*जब तुम, बगैर किसी वजह से,* *ख़ुशी महसूस करो, तो* *यकीन कर लो, कि* *कोई ना कोई, कही ना कही,* *तुम्हारे लिये,, दुआ, कर रहा है !!*

🌺शुभ रात्रि 🌺

Dhoop Pranam Flower +91 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 80 शेयर

🌸🌸🌸🌸🌸🌸लक्ष्मीजी का हाथ हो,,,,
सरस्वती जी का साथ हो 🌸🌸🌸🌸🌸🌸
🌸🌸🌸🌸🌸गणेश जी का निवास हो,,,,
और माँ दुर्गा के आशिर्वाद हो 🌸🌸🌸🌸🌸
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸और हम दुवा करते हे
आप सबके जीवन मे प्रकाश ही प्रकाश हो 🌸🌸
🌸🌸🌸🌸🌸शुभ दोपहर🌸🌸🌸�...

(पूरा पढ़ें)
Bell Fruits Sindoor +452 प्रतिक्रिया 270 कॉमेंट्स • 538 शेयर

जय मां चिंता हरनी

Sindoor Dhoop Fruits +19 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 17 शेयर

🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷

Jyot Flower Pranam +108 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 74 शेयर
Jagdish Prasad.Delhi Aug 17, 2018

🏵️🌸 या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपेण संस्थितः, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः 🌸🏵️
🏵️ॐ ऐंग हिग क्लिंग चामुंडाये विच्चे 🏵️
🏵️🌸 हे दुर्गा भवानी माताजी सब पर सुख शांति व सुन्दर स्वास्थ्य का आशिर्वाद हमेशा बनायें रखना। 🌸🏵️
🙏...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Jyot +120 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 88 शेयर
Jay Shree Krishna Aug 17, 2018

🙏🏻🙏🏻🌹आज के श्रृंगार दर्शन श्री जीण भवानी माता जी सीकर धाम राजस्थान से🌹🙏🏻🙏🏻


🙏🏻🙏🏻🌹आज के श्रृंगार दर्शन माँ संकठा माता जी के सिंधिया घाट वाराणसी उत्तरप्रदेश से🌹🙏🏻🙏🏻*_



🙏🏻🙏🏻🌹आज के श्रृंगार दर्शन माँ जिवदानी जी के विरार ठाण...

(पूरा पढ़ें)
Like Bell Sindoor +219 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Ashish shukla Aug 17, 2018

Pranam Sindoor Jyot +263 प्रतिक्रिया 160 कॉमेंट्स • 1659 शेयर

अद्भुत पौराणिक कथा- शिव और सती का प्रेम !!
===========================
दक्ष प्रजापति की सभी पुत्रियां गुणवती थीं। फिर भी दक्ष के मन में संतोष नहीं था। वे चाहते थे उनके घर में एक ऐसी पुत्री का जन्म हो, जो सर्व शक्ति-संपन्न हो एवं सर्वविजयिनी हो। अत...

(पूरा पढ़ें)
Like Sindoor Dhoop +155 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 234 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB