चिराग
चिराग Dec 1, 2017

" प्रेरक-प्रसंग : बिना प्रयास सफलता नहीं…"

" प्रेरक-प्रसंग : बिना प्रयास सफलता नहीं…"

प्रेरक-प्रसंग : बिना प्रयास सफलता नहीं…

एक किसान था। उसके खेत में एक पत्थर का एक हिस्सा ज़मीन से ऊपर निकला हुआ था, जिससे ठोकर खाकर वह कई बार गिर चुका था। कितनी ही बार उससे टकराकर खेती के औजार भी टूट जाते थे।

रोजाना की तरह आज भी वह सुबह-सुबह खेती करने पहुंचा और इस बार वही हुआ। किसान का हल पत्थर से टकराकर टूट गया।

किसान क्रोधित हो उठा, और उसने निश्चय किया कि आज जो भी हो जाए वह इस चट्टान को ज़मीन से निकाल कर इस खेत के बाहर फ़ेंक देगा।

वह तुरंत गाँव से 4-5 लोगों को बुला लाया और सभी को लेकर वह उस पत्त्थर के पास पहुंचा और बोला, “यह देखो ज़मीन से निकले चट्टान के इस हिस्से ने मेरा बहुत नुक्सान किया है, और आज हम सभी को मिलकर इसे आज उखाड़कर खेत के बाहर फ़ेंक देना है।”

ऐसा कहते ही वह फावड़े से पत्थर के किनार वार करने लगा, पर यह क्या !

अभी उसने एक-दो बार ही मारा था कि पूरा-का-पूरा पत्थर ज़मीन से बाहर निकल आया। साथ खड़े लोग भी अचरज में पड़ गए और उन्ही में से एक ने हँसते हुए पूछा, “क्यों भाई, तुम तो कहते थे कि तुम्हारे खेत के बीच में एक बड़ी सी चट्टान दबी हुई है, पर ये तो एक मामूली सा पत्थर निकला ??”

किसान भी आश्चर्य में पड़ गया सालों से जिसे वह एक भारी-भरकम चट्टान समझ रहा था दरअसल वह बस एक छोटा सा पत्थर था !

उसे पछतावा हुआ कि काश उसने पहले ही इसे निकालने का प्रयास किया होता तो ना उसे इतना नुकसान उठाना पड़ता और ना ही दोस्तों के सामने उसका मज़ाक बनता।

हम भी कई बार ज़िन्दगी में आने वाली छोटी-छोटी बाधाओं को बहुत बड़ा समझ लेते हैं और उनसे निपटने की बजाय तकलीफ उठाते रहते हैं। ज़रुरत इस बात की है कि हम बिना समय गंवाएं उन मुसीबतों से लडें।

जब हम ऐसा करेंगे तो कुछ ही समय में चट्टान सी दिखने वाली समस्या एक छोटे से पत्थर के समान दिखने लगेगी, जिसे हम आसानी से हल करके आगे बढ़ सकते हैं।

+125 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 185 शेयर

कामेंट्स

Ajnabi Dec 1, 2017
very nice good morning jay shree Radhe krishna veeruda

🌹🌹जय हो मां भवानी🚩🚩 नवार्ण मंत्र' दुर्गा दुखों का नाश करने वाली देवी दुर्गा की नौ शक्तियों को जागृत करने के लिए दुर्गा के 'नवार्ण मंत्र' का जाप किया जाता है। इसलिए नवरात्रि में जब उनकी पूजा आस्था, श्रद्धा से की जाती है तो उनकी नौ शक्तियां जागृत होकर नौ ग्रहों को नियंत्रित कर देती हैं। फलस्वरूप प्राणियों का कोई अनिष्ट नहीं हो पाता। दुर्गा की इन नौ शक्तियों को जागृत करने के लिए दुर्गा के 'नवार्ण मंत्र' का जाप किया जाता है। नव का अर्थ 'नौ' तथा अर्ण का अर्थ 'अक्षर' होता है। अतः नवार्ण नौ अक्षरों वाला वह मंत्र है । नवार्ण मंत्र- 'ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चै ।' नौ अक्षरों वाले इस नवार्ण मंत्र के एक-एक अक्षर का संबंध दुर्गा की एक-एक शक्ति से है और उस एक-एक शक्ति का संबंध एक-एक ग्रह से है। नवार्ण मंत्र के नौ अक्षरों में पहला अक्षर ' ऐं ' है, जो सूर्य ग्रह को नियंत्रित करता है। ऐं का संबंध दुर्गा की पहली शक्ति शैलपुत्री से है, जिसकी उपासना 'प्रथम नवरात्रि' को की जाती है। दूसरा अक्षर ' ह्रीं ' है, जो चंद्रमा ग्रह को नियंत्रित करता है। इसका संबंध दुर्गा की दूसरी शक्ति ब्रह्मचारिणी से है, जिसकी पूजा दूसरे नवरात्रि को होती है। तीसरा अक्षर ' क्लीं ' है, जो मंगल ग्रह को नियंत्रित करता है।इसका संबंध दुर्गा की तीसरी शक्ति चंद्रघंटा से है, जिसकी पूजा तीसरे नवरात्रि को होती है। चौथा अक्षर 'चा' है जो बुध को नियंत्रित करता है। इनकी देवी कुष्माण्डा है जिनकी पूजा चौथे नवरात्री को होती है। पांचवां अक्षर 'मुं' है जो गुरु ग्रह को नियंत्रित करता है। इनकी देवी स्कंदमाता है पांचवे नवरात्रि को इनकी पूजा की जाती है। छठा अक्षर 'डा' है जो शुक्र ग्रह को नियंत्रित करता है। छठे नवरात्री को माँ कात्यायिनी की पूजा की जाती है। सातवां अक्षर 'यै' है जो शनि ग्रह को नियंत्रित करता है। इस दिन माँ कालरात्रि की पूजा की जाती है। आठवां अक्षर 'वि' है जो राहू को नियंत्रित करता है । नवरात्री के इस दिन माँ महागौरी की पूजा की जाती है। नौवा अक्षर 'च्चै ' है। जो केतु ग्रह को नियंत्रित करता है। नवरात्री के इस दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है,, जय माता दी अज्ञात

+73 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 168 शेयर
Swami Lokeshanand Mar 27, 2020

गजब बात है, भगवान गर्भ में आए, भीतर उतर आए तो ज्ञान, भक्ति और कर्म तीनों पुष्ट हो गए। दशरथजी के चेहरे पर तो तेज आ ही गया, बाहर भी सब ओर मंगल ही मंगल छा गया, अमंगल रहा ही नहीं। देखो, जड़ को पानी देने से फूल पत्ते अपने आप छा जाते हैं, जलपात्र में नमक डाल दें तो सब जलकणों में नमक आ जाता है, यों भगवान को मना लें तो सब अनुकूल हो जाते हैं। वर्ना भीतर पढ़ाई न हो तो लाख चश्मा बदलो, पढ़ा कैसे जाए? विवेकानन्द जी कहते थे, ये दुनिया कुत्ते की दुम है, संत पकड़े रहे तो सीधी रहे, छोड़ते ही फिर टेढ़ी। ध्यान दो, दुनिया बार बार बनती है, बार बार मिटती है, पर ठीक नहीं होती, दुनिया बदलते बदलते कितने दुनिया से चले गए, दुनिया है कि आज तक नहीं बदली। जिन्हें भ्रम हो कि दुनिया आज ही बिगड़ी है, पहले तो ठीक थी, वे विचार करें कि हिरण्याक्ष कब हुआ? हिरण्यकशिपु, तारकासुर, त्रिपुरासुर, भस्मासुर कब हुए? देवासुर संग्राम कब हुआ? दुनिया तो ऐसी थी, ऐसी है, और रहेगी भी ऐसी ही। आप इसे बदलने के चक्कर में पड़ो ही मत, आप इसे यूं बदल नहीं पाओगे। आप स्वयं बदल जाओ, तो सब बदल जाए। जो स्वयं काँटों में उलझा है, जबतक उसके स्वयं के फूल न खिल जाएँ, वह क्या खाक किसी दूसरे के जीवन में सुगंध भरेगा? हाँ, उसे छील भले ही दे। जबतक भगवान आपके भीतर न उतर आएँ, अपना साधन करते चलो, दूसरे पर ध्यान मत दो। आप दूसरे को ठीक नहीं कर सकते, दूसरा आपको भले ही बिगाड़ डाले। लाख समस्याओं का एक ही हल है, भगवान को भीतर उतार लाओ। अब विडियो देखें- मंगल भवन अमंगल हारी https://youtu.be/_BF-H0AmPK4

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+30 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 11 शेयर

+22 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 12 शेयर
SHANKAR KHOT Mar 26, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 21 शेयर
Omprakash Soni Mar 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Swami Lokeshanand Mar 26, 2020

दशरथजी ने गुरुजी को अपना दुख सुनाया। उन्हें दुख क्या है? यही कि भगवान नहीं मिले। सोया हुआ मनुष्य भगवान के न मिलने का दुख नहीं मानता, पर जागा हुआ जानता है कि जैसे संतान के बिना भवन सूना है, भगवान के बिना जीवन सूना है। देह मंदिर भगवान को बिठाने के लिए है। देह मंदिर की दीवारें जर्जर हो रही हैं, कब तक खड़ी हैं मालूम नहीं, इनके भरभरा कर गिरने से पहले ही भगवान आ जाएँ, तब जीवन का कोई अर्थ है। गुरुजी ने कहा- धैर्य रखें! राम आएँगे। दशरथजी ने पूछा- तो गुरुजी अब मुझे क्या करना है? गुरुजी ने कहा- परमात्मा करने का फल नहीं है। करने का फल तो सद्गुरू का मिलना है। अब बस अपने घर में बैठ जाओ। घर में, माने घट में, मन में, अंतर्मुख होकर बैठ जाओ। पर यही तो सबसे कठिन है। तन को तो रोक लें, मन कैसे रोकें? जैसे गाडी खड़ी तो हो, पर हो स्टार्ट। ऐसे ही तन लाख बैठा रहे, पर मन तो कामनाओं की भड़भड़ भड़भड़ करता ही रहता है। काम घर से बाहर ले जाता है, कामना घट से बाहर ले जाती है। काम हो तो घर में कैसे बैठे रहें? कामना हो तो घट में कैसे बैठें? और जहाँ कामना हो वहाँ राम कैसे आएँ? आप घट में बैठ जाएँ, माने कामना न रहे, तो भगवान आएँ। बस इसी के लिए नामजप नामक महायज्ञ है। यही यज्ञ का असल रूप है, देह ही यज्ञमंडप है, वासना रहित अंतःकरण ही सूखी लकड़ी है, सत रज तम, त्रिगुण ही जौ चावल तिल हैं, ज्ञान ही अग्नि है, यज्ञ की पूर्णता पर, त्रिगुण-त्रिदेह-त्रिवस्था जल जाने पर, मैं और मेरा के स्वाहा हो जाने पर, जब कामना बचती ही नहीं, अपनाआपा राम ही शेष रहते हैं, एकमात्र ब्रह्म ही बचता है। इसी ब्रह्म को "यज्ञ से बचा हुआ अन्न" कहा जाता है। दशरथजी श्रद्धावान हैं, गुरुजी पर विश्वास करने वाले हैं, विवाद करने वाले नहीं हैं। उन्हें बस यही एक अंतिम यज्ञ करना बाकी रहा, यह यज्ञ संपूर्ण हुआ कि भगवान के पधारने का समय आया। अब विडियो देखें- अनन्यता- परमात्मा प्राप्ति की विधि https://youtu.be/S48p-qsD53M

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 35 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 17 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB