sheela Sharma
sheela Sharma Feb 14, 2020

+272 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 52 शेयर

कामेंट्स

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 Feb 14, 2020
Good Night My Sister ji 🙏🙏 Jay Shree Radhe Radhe Radhe ji God bless you and your Family Always Be Happy My Sister ji 🙏🙏🌹🌹🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳.

Mamta Chauhan Feb 14, 2020
Radhe radhe ji shubh ratri vandan dear sister ji aapka har pal mangalmay ho aap sda khush rhe ji 👌👌🌷🙏🌷🙏

Neha Sharma, Haryana Feb 14, 2020
जय श्री राधेकृष्णा बहना जी। शुभ रात्रि नमन जी। ईश्वर की असीम कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे जी। आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो मेरी प्यारी बहना जी।

🌹 लड्डू🌹 Feb 14, 2020
🙏🌹🙏 जी हां बिल्कुल सही कहा जय भोलेनाथ शुभ रात्रि जी प्यारी बहना जी

Ld Sharma Feb 14, 2020
जय श्री कृष्ण

Poonam Aggarwal Feb 14, 2020
❇️ जय श्री कृष्णा राधे राधे जी शुभ रात्रि डियर सिस्टर जी god bless U alw be Happy 😊🍫🌟🍫🙋

Jawaharlal Bhargava Feb 14, 2020
🚩 Radhe Radhe Jai Shree Krishna 🌷🌷🙏🙏🌷🌷 Shubh Ratri Sister Ji Aapka har pal Shubh v Mangalmaye ho 🙏🙏 Sister Ji

Renu Singh Feb 14, 2020
Radhe Radhe Pyari Sister Ji 🙏🌹🙏 Shubh Ratri Vandan Ji 🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏

Preeti jain Feb 14, 2020
jai mata di mata rani ka Kirpa sada aap aur aap ke family pe bana rahe aap ka har pal Shubh aur mangalmay Ho shubh ratri vandan ji 👌🌹 my sweet sister ji 🙏🌹👌👌👌

D.mir Feb 14, 2020
Jay Shri Krishna Shub Ratri Sheela ji nice post 👌🏾👌🏾👌🏾👌🏾👌🏾🌹🌹🌹🌹🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Durga Pawan Sharma Feb 15, 2020
Jai shri Radhe Krishna ji Good morning have a Beautiful day God bless you ji Radhe Radhe Krishna ji

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 10 शेयर
kamlesh sharma Jan 26, 2020

+14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 15 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Bina Aggarwal Jan 26, 2020

एक बार *सत्यभामा* ने *श्री कृष्ण* से पूछा, "मैं आप को कैसी लगती हूँ ?" *श्री कृष्ण* ने कहा, "तुम मुझे नमक जैसी लगती हो।" *सत्यभामा* इस तुलना को सुन कर क्रुद्ध हो गयी, तुलना भी की तो किस से, आपको इस संपूर्ण विश्व में मेरी तुलना करने के लिए और कोई पदार्थ नहीं मिला। *श्री कृष्ण* ने उस वक़्त तो किसी तरह सत्यभामा को मना लिया और उनका गुस्सा शांत कर दिया। कुछ दिन पश्चात *श्री कृष्ण* ने अपने महल में एक भोज का आयोजन किया छप्पन भोग की व्यवस्था हुई। सर्वप्रथम *सत्यभामा* से भोजन प्रारम्भ करने का आग्रह किया *श्री कृष्ण* ने। सत्यभामा ने पहला कौर मुँह में डाला मगर यह क्या.. सब्जी में नमक ही नहीं था। कौर को मुँह से निकाल दिया। फिर दूसरा कौर मावा-मिश्री का मुँह में डाला और फिर उसे चबाते-चबाते बुरा सा मुँह बनाया और फिर पानी की सहायता से किसी तरह मुँह से उतारा। अब तीसरा कौर फिर कचौरी का मुँह में डाला और फिर.. आक्..थू ! तब तक *सत्यभामा* का पारा सातवें आसमान पर पहुँच चुका था। जोर से चीखीं.. किसने बनाई है यह रसोइ ? *सत्यभामा* की आवाज सुन कर *श्री कृष्ण* दौड़ते हुए सत्यभामा के पास आये और पूछा क्या हुआ देवी ? कुछ गड़बड़ हो गयी क्या ? इतनी क्रोधित क्यों हो ? तुम्हारा चेहरा इतना तमतमा क्यूँ रहा है ? क्या हो गया ? *सत्यभामा* ने कहा किसने कहा था आपको भोज का आयोजन करने को ? इस तरह बिना नमक की कोई रसोई बनती है ? किसी वस्तु में नमक नहीं है। मीठे में शक्कर नहीं है। एक कौर नहीं खाया गया। श्रीकृष्ण ने बड़े भोलेपन से पूछा, तो क्या हुआ बिना नमक के ही खा लेती। *सत्यभामा* फिर चीख कर बोली लगता है दिमाग फिर गया है आपका ? बिना शक्कर के मिठाई तो फिर भी खायी जा सकती है मगर बिना नमक के कोई भी नमकीन वस्तु नहीं खायी जा सकती है। तब *श्री कृष्ण* ने कहा तब फिर उस दिन क्यों गुस्सा हो गयी थी जब मैंने तुम्हे यह कहा कि तुम मुझे नमक जितनी प्रिय हो। . अब *सत्यभामा* को सारी बात समझ में आ गयी की यह सारा वाकया उसे सबक सिखाने के लिए था और उस की गर्दन झुक गयी । तात्पर्य :.... *स्त्री* जल की तरह होती है, जिसके साथ मिलती है उसका ही गुण अपना लेती है। स्त्री नमक की तरह होती है, जो अपना अस्तित्व मिटा कर भी अपने प्रेम-प्यार तथा आदर-सत्कार से परिवार को ऐसा बना देती है। माला तो आप सबने देखी होगी। तरह-तरह के फूल पिरोये हुए... पर शायद ही कभी किसी ने अच्छी से अच्छी माला में *"गुम" उस "सूत"* को देखा होगा जिसने उन सुन्दर सुन्दर फूलों को एक साथ बाँध कर रखा है। . लोग तारीफ़ तो उस माला की करते हैं जो दिखाई देती है मगर तब उन्हें उस सूत की याद नहीं आती जो अगर टूट जाये तो सारे फूल इधर-उधर बिखर जाते है। *स्त्री* उस सूत की तरह होती है, जो बिना किसी चाह के, बिना किसी कामना के, बिना किसी पहचान के, अपना सर्वस्व खो कर भी किसी के जान-पहचान की मोहताज नहीं होती है... . और शायद इसीलिए दुनिया राम के पहले सीता को और श्याम के पहले राधे को याद करती है। अपने को विलीन कर के पुरुषों को सम्पूर्ण करने की शक्ति भगवान् ने स्त्रियों को ही दी है। जय श्री राधे.... जय श्री कृष्ण....

+81 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 45 शेयर
kamlesh sharma Jan 26, 2020

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB