sumitra
sumitra Dec 20, 2019

Mere Mandir ke sabhi bhai bahanon ko subah ki 🙏Ram Ram ji jay Mata Di 🙏🙏🙏🚩🚩🚩

Mere Mandir ke sabhi bhai bahanon ko subah ki 🙏Ram Ram ji jay Mata Di 🙏🙏🙏🚩🚩🚩

+1694 प्रतिक्रिया 523 कॉमेंट्स • 327 शेयर

कामेंट्स

((OP JAIN)) (Raj)🌱🌱🌹🌱🌱 Dec 27, 2019
श्री राधे राधे दीदी सुप्रभात स्नेह वंदन दीदी मातारानी की कृपा से आप और आपका परिवार सदा खुश रहे जय संतोषी माता

Rajesh Lakhani Dec 27, 2019
JAI MATADI SHUBH PRABHAT BEHENA AAP PER OR AAP KE PARIVAR PER MATA RANI KA AASIRVAD HAMESA BANA RAHE AAP KA DIN SHUBH OR MANGALMAYE HO AAP OR AAP KA PARIVAR SADA SWASTH RAHE SUKHI RAHE BEHENA PRANAM

राधा रानी राधा रानी Dec 27, 2019
🙏🏼 जय श्री राधे कृष्णा बहना जी 🙏🏼 *🙏मुरलीमनोहर🙏* *प्रेम से भरी हुई आँखें देना,,* *श्रद्धा से झुका हुआ सिर देना..* *सहयोग करते हुए हाथ देना,,* *सन्मार्ग पर चलते हुए पांव देना..।* *और......* *सुमिरन करता हुआ मन देना,,* *सत्य से जुड़ी हुई जिव्हा देना..।* *श्रीराधे राधे* **

Venkatesh (ವೆಂಕಟೇಶ್ ) Dec 27, 2019
🙏🙏🙏🌷🌷🌹🌹jai sri radha krishna sri maha lakshmi ki krupa aap aur aapki parivar sada bani rahe subha prabat aap din subha mangal aur kush rahe vandan sister ji 🌺🌺🌹🥀

Renu Singh Dec 27, 2019
🙏🌹 Jai Mata Di Pyari Bahena ji 🙏🌹 Mata Rani Aapki Har Manokamna Puri Karein Aap aur Aàpke Pariwar pr Maa Bhagwati ki kripa Sadaiv Bni rhe Aàpka Din Shubh V Mangalmay ho 🌸 Shubh Prabhat Vandan Meri pyari Sweet Bahena ji 🙏🌹

r h Bhatt Dec 27, 2019
Jai matage aapka Den magalmay or Shubh ho ji Vandana ji

Naresh Rawat Dec 27, 2019
🙏🔔👣जय माता दी जय माँ वैष्णो देवी🙏राधे श्याम जय राधे राधे जी 🙏🌷शुभ प्रभात स्नेह वंदना सिस्टर जी 🙏🌞आप का हर पल हर दिन शुभ हो मंगलमय हो। माँ शेरावाली जी का आशीर्वाद आप और आपके परिवार पर सदा बना रहे सिस्टर जी 🙏माता रानी से यही प्रार्थना करते हैं कि आप सपरिवार सदा स्वस्थ 💪और खुश🙂 रहो जयकारा शेरावाली दा बोलो सच्चे दरबार की जय 🙏🚩🚩

Bal Raj🌷🌹🌹🌹 Dec 27, 2019
🌷🌹 जय हो माँ भवानी की 🙏🏽 🙏🏽माताजी मनोकामना पूर्ण करे🙏🏽 🌷🌷🌷🌷🔱🔱🔱🔱🔱

Kamala Maheshwari Dec 27, 2019
🙏 *राधे राधे*…. सुना है हमने — 🌹 *हे साँवरे ! 🌹तुम सब की परीक्षा लेते हो, हम तो आपके बिना कभी परीक्षा मे पास भी नही हो सकते है, क्योंकि मेरी जीत भी तुम से है, मेरी हार भी तुम से है, और 🌹साँवरे*🌹 *अब परीक्षा मे पास करो या फेल, क्योंकि मेरी जिन्दगी की आखिरी साँस भी तुम से है* मेरी जिंदगी — *मेरा कान्हा* ….✍ ✒… *राधे राधे* ❣ ……✍ 🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿🌷🌿

Vinod Agrawal Dec 27, 2019
🌷Jai Mata Di Jai Maa Ambey Maharani Jai Maa Mahalaxmi Ji🌷

राजेश अग्रवाल Dec 27, 2019
👉होकर मायूस न यूँ , शाम की तरह ढलते रहिये❕ जिंदगी एक भोर है, सूरज की तरह निकलते रहिये❕ राजेश भाई का सादर नमन🙏 💌💌💌💌💌💌💌

Harpal bhanot 004915751174224 Dec 27, 2019
jai mata rani di 🌷🌷🌷 Beautiful good morning ji my Sweet Sister 🙏🌻🙏 have a happy Weakend ji Sister kafi din se koi post Nahi ke ji Sister 🌻🙏🌻

Hariom Kaushik Dec 27, 2019
🙏🏵️ Jai Mata Di shub prabhat bahana Ji sadar parnam ji Shri Mata Rani Ki kripa sada aap Aur aapke Parivar per Bani rahe🙏🙏🏵️🏵️🌹🌹

रमेश भाई ठक्कर Dec 27, 2019
जय श्री कृष्णा राधे राधे राधे आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय सुखमय हो बहना जिंदगी के उतार-चढ़ाव के बावजूद भी जो आपका साथ ना छोड़े वही आपकी सही मायने में कद्र करता है बाकी तो बस नाम के रिश्ते है 🌹🙏 शुभ सवेरा🙏🌹

रमेश भाई ठक्कर Dec 27, 2019
जय श्री कृष्ण राधे-राधे ओम नमो भगवते वासुदेवाय नमः बहना पोस्ट क्यों नहीं करते आप पोस्ट करिए जय श्री कृष्ण बहना सुप्रभात स्नेह वंदन

🌼कृष्णा🌼 Dec 27, 2019
🌷🚩जय श्री माता की बहन, सादर चरण स्पर्श करता हूँ मेरी प्यारी बहना जी,श्रीमाता आपको हमेशा स्वस्थ रखें प्रसन्न रखें ख़ुश रखें और आनंदमय रखें मेरी बहना जी,जुग जुग जियो मेरी बहना, सुप्रभातम बहना जी🌹🌹🙏🙏🙏🌹🌹

Anilkumar marathe Dec 27, 2019
सुबह सुबह ज़िन्दगी की शुरुआत होती है; किसी अपने से हो जाये बात तो वो ख़ास होती है; हँस कर प्यार से अपनों को सुप्रभात बोलो तो; खुशियां अपने आप हमारे साथ होती हैं। 🙏जय श्रीकृष्ण - sweet Sister Ji 🌹 🌹आपका दिन शुभ व मंगलमय हो

champalal m kadela Jan 26, 2020

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Neha Sharma, Haryana Jan 24, 2020

जय माता दी शुभ प्रभात वंदन संकल्प या नियम क्यों आवश्यक है? 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ इसमें कोई संदेह नहीं की आज तक जितने भी कार्य सिद्ध हुए हैं, उनमे व्यक्ति की साधना और संकल्प शक्ति का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा हैं, संकल्पवान व्यक्ति ही किसी भी प्रकार की हकदार है और अपने लछ्य को पाने की योग्यिता रखता है, वह जिस कार्य को हाथ में लेता है, उसे पूरे मन और बुद्धि से पूर्ण करने के लिए अडिग व् एकनिष्ठ होता हैं। संकल्प वह लो जो बहुत छोटा हो और जिसे पूर्ण करने में किसी प्रकार की अलग से शक्ति ना लगानी पडे, बिना संकल्प के भजन आगे नही बढता, अगर भगवत भजन में आगे बढना है तो नियम चाहिये, संकल्प चाहिये, संकल्प से सोई हुई शक्तियाँ उठती हैं, जागती है। जनम कोटि लगि रगर हमारी। बरहु संभु न त रहहुँ कुआँरी।। संकल्प से भीतर की शक्तियाँ जगती है, हम संसार के भोगों को प्राप्त करने के लिये संकल्प लेते हैं, परमात्मा को सुविधा से प्राप्त करना चाहते हैं, संसार के भोगों के लिये हम जीवन को जोखिम में डालते है परन्तु परमात्मा को केवल सोफे पर बैठकर प्राप्त करना चाहते हैं। मीराबाई ने कहा है मेरा ठाकुर सरल तो है पर सस्ता नहीं, सज्जनों! सुविधा से नहर चलती है संकल्प से नदियाँ दौड़ा करती हैं, नहर बनने के लिये पूरी योजना बनेगी, नक्शा बनेगा लेकिन दस-पंद्रह किलोमीटर जाकर समाप्त हो जाती है, पर संकल्प से नदी चलती है, उसका संकल्प है महासागर से मिलना, वो नहीं जानती सागर किधर है? कोई मानचित्र लेकर नहीं बैठा, कोई मार्ग दर्शक नहीं, अन्धकार में चल दी सागर की ओर दौड़ी जा रही है, बड़ी बड़ी चट्टानों से टकराती, शिखरों को ढहाती, बड़ी-बड़ी गहरी खाइयों को पाटती जा रही है, संकल्प के साथ एक दिन नदी सागर से जाकर मिल जाती है। अगर सागर के मार्ग में पहाड के शिखर ना आये, रेगिस्तान के टीले ना आयें तो नदी भी शायद खो जाये, ये बाधायें नदी के मार्ग को अवरुद्ध नहीं करते अपितु और इससे ऊर्जा मिलती है, साधक के जीवन में जो कुछ कठिनाईयाँ आती हैं वो साधना को खंडित नहीं करती बल्कि साधना और तीक्ष्ण व पैनी हो जाया करती है। जिनको साधना के मार्ग पर चलना है उनको पहले संकल्प चाहिये, संकल्प को पूरा करने के लिये सातत्य यानी निरंतरता चाहिये, ऐसा नही है कि एक दो दिन माला जप ली और फिर चालीस दिन कहीं खो गये, साधना शुरू करने के बाद अगर एक दिन भी खंडित हो गयी तो फिर प्रारम्भ से शुरूआत करनी पडेगी, यह साधना का नियम है, इसलिये सतत-सतत-सतत। ऐसा नियम बनाइये जिसको पालन कर सके, कई लोग कहते है भजन में मन नहीं लगता, क्या इसके लिये आपने कोई संकल्प किया है कि मन लगे, इसकी कोई पीडा, दर्द या बेचैनी है आपके अन्दर, कभी ऐसा किया है आपने कि आज भजन नहीं किया तो फिर आज भोजन भी नहीं करेंगे, मौन रखेंगे, आज भजन छूट गया आज सोयेंगे नहीं। कभी ऐसी पीडा पैदा की है क्या? संकल्प बना रहे इसकी सुरक्षा चाहिये, छोटे पौधे लगाते हैं उनकी रक्षा के लिये बाड बनाते हैं, देखभाल करते हैं, वैसे ही भजन के पौधे की सुरक्षा करनी चाहिये कहीं कोई ताप न जला दे, कहीं वासना की बकरी उसे कुतर ना दे, जिनको भजन के मार्ग पर चलना हो सिर्फ, इस पर चलें। दो नावों पर पैर न रखें, इससे जीवन डूब जाता है, अन्धकार में पूरे डूबे या फिर प्रकाश की ओर चलना है तो सिर्फ प्रकाश की ओर चलो, ऐसा नहीं हो सकता कि भोग भी भोगें और भगवान् भी प्राप्त हो जायें, हमारी दशा ऐसी है घर में रोज बुहारी लगा रहे है कूड़ा बाहर डालते हैं, दरवाजे खुले रखे, हवा का झोंका आया कूड़ा सारा अन्दर आ गया, फिर बुहारी, फिर कूड़ा बाहर, फिर कूड़ा अन्दर, बस यही चलता रहता है हमारी जिन्दगी में, सारा जीवन चला जाता है, एक हाथ में बुहारी और एक हाथ में कूड़ा। सीढ़ी पर या तो ऊपर की ओर चढ़ो या नीचे की ओर, दोनो ओर नहीं चल सकते, घसीटन हो जायेगी, दोस्तों! हमारा अनुभव कहता है कि हमारा जीवन भजन के नाम पर घसीटन है, भजन की सुरक्षा चाहिये, ऐसा नही हो सकता कि प्रातः काल शिवालय हो आये और सायं काल मदिरालय, सुबह गीता पढी और शाम को मनोहर कहानियाँ, ये नहीं हो सकता। तो आत्म निरीक्षण किया करों कि मेरा नियम नहीं टूटे, मैं प्रारम्भ से कह रहा हूँ कि इसकी पूरी एक आचार संहिता है, कोई न कोई नियम बनाओ, नियम से निष्ठा पैदा होती है, निष्ठा से रूचि बढती है, रूचि से भजन में आसक्ति होने लगती है आसक्ति से फिर राग हो जाता है, राग से अनुराग होता है और अनुराग से भाव, ये भाव ही परमात्मा के प्रेम में परिवर्तित हो जाता हैं। ये पूरी की पूरी सीढ़ी है, नियम से प्रारम्भ करिये और प्रेम के शिखर तक पहुँच जाइये, किसी को कोई दोष मत दिजिये कि मेरा नियम क्यों टूटा, आत्म निरीक्षण किजिये कि मेरा नियम क्यों टूटा? नियम कहे नहीं जाते, घोषित नहीं होते, भजन को जितना छुपाओगे उतना सफल रहोगे,इसलिए नियम बनाइयें और ख्याल रखें कि नियम कभी खंडित ना हो। - डॉ0 विजय शंकर मिश्र 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ अंतिम सांस गिन रहे जटायु ने कहा कि मुझे पता था कि मैं रावण से नही जीत सकता लेकिन तो भी मैं लड़ा..यदि मैं नही लड़ता तो आने वाली पीढियां मुझे कायर कहती 🙏जब रावण ने जटायु के दोनों पंख काट डाले... तो काल आया और जैसे ही काल आया ... तो गीधराज जटायु ने मौत को ललकार कहा, -- "खबरदार ! ऐ मृत्यु ! आगे बढ़ने की कोशिश मत करना... मैं मृत्यु को स्वीकार तो करूँगा... लेकिन तू मुझे तब तक नहीं छू सकता... जब तक मैं सीता जी की सुधि प्रभु "श्रीराम" को नहीं सुना देता...! मौत उन्हें छू नहीं पा रही है... काँप रही है खड़ी हो कर... मौत तब तक खड़ी रही, काँपती रही... यही इच्छा मृत्यु का वरदान जटायु को मिला। किन्तु महाभारत के भीष्म पितामह छह महीने तक बाणों की शय्या पर लेट करके मौत का इंतजार करते रहे... आँखों में आँसू हैं ... रो रहे हैं... भगवान मन ही मन मुस्कुरा रहे हैं...! कितना अलौकिक है यह दृश्य ... रामायण मे जटायु भगवान की गोद रूपी शय्या पर लेटे हैं... प्रभु "श्रीराम" रो रहे हैं और जटायु हँस रहे हैं... वहाँ महाभारत में भीष्म पितामह रो रहे हैं और भगवान "श्रीकृष्ण" हँस रहे हैं... भिन्नता प्रतीत हो रही है कि नहीं... ? अंत समय में जटायु को प्रभु "श्रीराम" की गोद की शय्या मिली... लेकिन भीष्म पितामह को मरते समय बाण की शय्या मिली....! जटायु अपने कर्म के बल पर अंत समय में भगवान की गोद रूपी शय्या में प्राण त्याग रहा है.... प्रभु "श्रीराम" की शरण में..... और बाणों पर लेटे लेटे भीष्म पितामह रो रहे हैं.... ऐसा अंतर क्यों?... ऐसा अंतर इसलिए है कि भरे दरबार में भीष्म पितामह ने द्रौपदी की इज्जत को लुटते हुए देखा था...विरोध नहीं कर पाये थे ...! दुःशासन को ललकार देते... दुर्योधन को ललकार देते... लेकिन द्रौपदी रोती रही... बिलखती रही... चीखती रही... चिल्लाती रही... लेकिन भीष्म पितामह सिर झुकाये बैठे रहे... नारी की रक्षा नहीं कर पाये...! उसका परिणाम यह निकला कि इच्छा मृत्यु का वरदान पाने पर भी बाणों की शय्या मिली और .... जटायु ने नारी का सम्मान किया... अपने प्राणों की आहुति दे दी... तो मरते समय भगवान "श्रीराम" की गोद की शय्या मिली...! जो दूसरों के साथ गलत होते देखकर भी आंखें मूंद लेते हैं ... उनकी गति भीष्म जैसी होती है ... जो अपना परिणाम जानते हुए भी...औरों के लिए संघर्ष करते है, उसका माहात्म्य जटायु जैसा कीर्तिवान होता है। 🙏 तो , गलत का विरोध जरूर करना चाहिए। "सत्य परेशान जरूर होता है, पर पराजित नही"। 🙏🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌹🌹🌹🌹🌹🌹

+347 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 242 शेयर
champalal m kadela Jan 24, 2020

+99 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 55 शेयर
Vanita Kale Jan 24, 2020

🙏🌹शुभ शुक्रवार जय माता दी🌹 🌴G⭕⭕D🌴〽⭕➰NING🌴 आप सभी को माैनी अमावस्या हार्दिक शुभकामनाएं 🌷🙏 .•*""*•.¸ ¸.•*""*•.¸ ¸.•*""*•.¸ 🌴🌻🌹सुभप्रभातम🌹 🌻🌴 💞💞जय माता दी *कौन जाने क्या पाप ,* *क्या पुण्य* , *बस............* *किसी का दिल न दुखे* *अपने स्वार्थ के लिए* , *बाकी सब* ...... *कुदरत पर छोड़ दो* *ना पैसा बड़ा.. ना पद बड़ा ।* *मुसीबत में जो साथ खड़ा...* *वो सबसे बड़ा ।।* *कष्ट और विपत्ति* *मनुष्य को शिक्षा देने वाले* *श्रेष्ठ गुण हैं* *जो व्यक्ति साहस के साथ* *उनका सामना करते हैं* *वे सदैव सफल* *होते हैं* 👌 ¸.•*""*•.¸ 🌹🎁🌹🎁🌹 ""सदा मुस्कुराते रहिये"" 😊🍀🙏शुभ प्रभात🙏🍀😊 🌹┣━┫α ρ ρ у 🌹 🌹 *ℳỖŘŇĮŇĞ*🌹 ┈┉┅━❀꧁ω❍ω꧂❀━┅┉┈ *आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो* #🌞 Good Morning🌞🙏🌹शुभ शुक्रवार जय माता दी🌹 🌴G⭕⭕D🌴〽⭕➰NING🌴 आप सभी को माैनी अमावस्या हार्दिक शुभकामनाएं 🌷🙏 .•*""*•.¸ ¸.•*""*•.¸ ¸.•*""*•.¸ 🌴🌻🌹सुभप्रभातम🌹 🌻🌴 💞💞जय माता दी *कौन जाने क्या पाप ,* *क्या पुण्य* , *बस............* *किसी का दिल न दुखे* *अपने स्वार्थ के लिए* , *बाकी सब* ...... *कुदरत पर छोड़ दो* *ना पैसा बड़ा.. ना पद बड़ा ।* *मुसीबत में जो साथ खड़ा...* *वो सबसे बड़ा ।।* *कष्ट और विपत्ति* *मनुष्य को शिक्षा देने वाले* *श्रेष्ठ गुण हैं* *जो व्यक्ति साहस के साथ* *उनका सामना करते हैं* *वे सदैव सफल* *होते हैं* 👌 ¸.•*""*•.¸ 🌹🎁🌹🎁🌹 ""सदा मुस्कुराते रहिये"" 😊🍀🙏शुभ प्रभात🙏🍀😊 🌹┣━┫α ρ ρ у 🌹 🌹 *ℳỖŘŇĮŇĞ*🌹 ┈┉┅━❀ *आपका दिन शुभ #🌞 Good Morning🌞

+664 प्रतिक्रिया 112 कॉमेंट्स • 164 शेयर
simran Jan 24, 2020

+158 प्रतिक्रिया 66 कॉमेंट्स • 157 शेयर
champalal m kadela Jan 26, 2020

+124 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 52 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB