gopal Krishna
gopal Krishna Sep 20, 2017

🅾 *सभी नारायण-नारायण करते हैं..॥* 🅾

🅾 *सभी नारायण-नारायण करते हैं..॥* 🅾

🅾 *सभी नारायण-नारायण करते हैं..॥* 🅾
*************************************
एक बार भगवान नारायण लक्ष्मी जी से बोले : “लोगो में कितनी भक्ति बढ़ गई है.. सभी “नारायण - नारायण” करते हैं..॥”
::
तो लक्ष्मी जी बोली, “आप को पाने के लिए नहीं, मुझे पाने के लिए भक्ति बढ़ गयी है..॥”
::
तो भगवान बोले, “लोग “लक्ष्मी लक्ष्मी” ऐसा जाप थोड़े ही ना करते हैं !”
::
तो माता लक्ष्मी बोली कि “विश्वास ना हो तो परीक्षा हो जाए..॥”
::
भगवान नारायण एक गाँव में ब्राह्मण का रूप लेकर गए…एक घर का दरवाजा खटखटाया…घर के यजमान ने दरवाजा खोल कर पूछा : “कहाँ के है..??”
तो… भगवान बोले, “हम तुम्हारे नगर में भगवान का कथा-कीर्तन करना चाहते है…॥”
::
यजमान बोला: “ठीक है महाराज, जब तक कथा होगी, आप मेरे घर में रहना…॥”
::
गाँव के कुछ लोग इकट्ठा हो गये और सब तैयारी कर दी….पहले दिन कुछ लोग आये…अब भगवान स्वयं कथा कर रहे थे तो संगत बढ़ी ! दूसरे और तीसरे दिन और भी भीड़ हो गयी….भगवान खुश हो गए..की कितनी भक्ति है लोगो में…॥
::
लक्ष्मी माता ने सोचा अब देखा जाये कि क्या चल रहा है।
::
लक्ष्मी माता ने बुढ्ढी माता का रूप लिया और उस नगर में पहुंची.. एक महिला ताला बंद कर के कथा में जा रही थी कि माता उसके द्वार पर पहुंची ! बोली : “बेटी ज़रा पानी पिला दे!”
तो वो महिला बोली: ”माताजी, साढ़े 3 बजे है…मेरे को प्रवचन में जाना है..!”
::
लक्ष्मी माता बोली : ”पिला दे बेटी थोडा पानी… बहुत प्यास लगी है..॥”
तो वो महिला लौटा भर के पानी लायी.. माता ने पानी पिया और लौटा वापिस लौटाया तो सोने का हो गया था..॥
::
यह देख कर महिला अचंभित हो गयी कि लौटा दिया था तो स्टील का और वापस लिया तो सोने का ! कैसी चमत्कारिक माता जी हैं ! अब तो वो महिला हाथ-जोड़ कर कहने लगी कि “माताजी आप को भूख भी लगी होगी, खाना खा लीजिये..!” ये सोचा कि खाना खाएगी तो थाली, कटोरी, चम्मच, गिलास आदि भी सोने के हो जायेंगे।
माता लक्ष्मी बोली: “तुम जाओ बेटी, तुम्हारा प्रवचन का टाइम हो गया!”
::
वह महिला प्रवचन में आई तो सही..
लेकिन, आस-पास की महिलाओं को सारी बात बतायी….!!
::
अब महिलायें यह बात सुनकर चालू सत्संग में से उठ कर चली गयी !!
::
अगले दिन से कथा में लोगों की संख्या कम हो गयी.. तो भगवान ने पूछा कि “लोगो की संख्या कैसे कम हो गयी ?”
::
किसी ने कहा, ‘एक चमत्कारिक माताजी आई हैं नगर में, जिस के घर दूध पीती हैं तो गिलास सोने का हो जाता है, थाली में रोटी सब्जी खाती हैं तो थाली सोने की हो जाती है ! उस के कारण लोग प्रवचन में नहीं आते..!!”
::
भगवान नारायण समझ गए कि लक्ष्मी जी का आगमन हो चुका है!
इतनी बात सुनते ही देखा कि जो यजमान सेठ जी थे, वो भी उठ खड़े हो गए.. खिसक गए!
::
पहुंचे माता लक्ष्मी जी के पास व बोले, “माता, मैं तो भगवान की कथा का आयोजन कर रहा था और आप ने मेरे घर को ही छोड़ दिया !”
माता लक्ष्मी बोली: “तुम्हारे घर तो मैं सब से पहले आनेवाली थी ! लेकिन तुमने अपने घर में जिस कथा कार को ठहराया है ना, वो चला जाए तभी तो मैं आऊं !”
सेठ जी बोले, “बस इतनी सी बात। अभी उनको धर्मशाला में कमरा दिलवा देता हूँ !”
::
जैसे ही महाराज (भगवान्) कथा कर के घर आये तो सेठ जी बोले :
"महाराज आप अपना बिस्तर बांधो ! आपकी व्यवस्था अबसे धर्मशाला में कर दी है !!”
महाराज बोले : “अभी तो 2/3 दिन बचे है कथा के.. यहीं रहने दो”
सेठ बोले - “नहीं.. नहीं, जल्दी जाओ ! मैं कुछ नहीं सुनने वाला ! किसी ओर मेहमान को ठहराना है। ”
::
इतने में लक्ष्मी जी आई, कहा कि - “सेठ जी , आप थोड़ा बाहर जाओ..
मैं इन से निबट लूँ!”
माता लक्ष्मी जी भगवान् से बोली, "प्रभु , अब तो मान गए?”
भगवान नारायण बोले, “हां लक्ष्मी तुम्हारा प्रभाव तो है, लेकिन एक बात तुम को भी मेरी माननी पड़ेगी कि तुम तब आई, जब संत के रूप में मैं यहाँ आया!!
संत जहां कथा करेंगे वहाँ लक्ष्मी तुम्हारा निवास जरुर होगा…!!”
::
यह कह कर नारायण भगवान् ने वहां से बैकुंठ के लिए विदाई ली। अब प्रभु के जाने के बाद अगले दिन सेठ के घर सभी गाँव वालों की भीड़ हो गयी। सभी चाहते थे कि यह माता सभी के घरों में बारी 2 आये। पर यह क्या ? लक्ष्मी माता ने सेठ और बाकी सभी गाँव वालों को कहा कि, अब मैं भी जा रही हूँ। सभी कहने लगे कि, माता, ऐसा क्यों, क्या हमसे कोई भूल हुई है ? माता ने कहा, मैं वही रहती हूँ जहाँ नारायण का वास होता है। आपने नारायण को तो निकाल दिया, फिर मैं कैसे रह सकती हूँ ?’ और वे चली गयी।
::
🌷शिक्षा : जो लोग केवल माता लक्ष्मी को पूजते हैं, वे भगवान् नारायण से दूर हो जाते हैं। अगर हम नारायण की पूजा करें तो लक्ष्मी तो वैसे ही पीछे 2 आ जाएँगी, क्योंकि वो उनके बिना रह ही नही सकती ।🌹
::
जहाँ परमात्मा की याद है। वहाँ लक्ष्मी का वास होता है।
केवल लक्ष्मी के पीछे भागने वालों को न माया मिलती हैं और ना ही प्रभु।
*'सदा सुखी कौन है..??'*
::
*जिसको भगवान की कृपा पर भरोसा है और उनके न्याय पर विश्वास है, उसको संसार की कोई भी स्थिति विचलित नही कर सकती☘!!*
*🙏🏻'जय श्री कृष्ण'🙏🏻*

Jyot Water Like +140 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 128 शेयर

कामेंट्स

Rajender Puranik Sep 21, 2017
shri Narayan ke seva Shri Lakshmi bhi adhuri hain. Jai Shri Krishna.

sushma Dec 18, 2018

Like Tulsi Pranam +55 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Jay Shree Krishna Dec 18, 2018

*🌹मोक्षदा एकादशी 19 दिसंबर*

*🌹19 दिसम्बर 2018 बुधवार को त्रिस्पृशा-मोक्षदा एकादशी का व्रत (उपवास) रखें । हजार एकादशियों का फल देनेवाला व्रत*

*🌹युधिष्ठिर बोले : देवदेवेश्वर ! मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष में कौन सी एकादशी होती है ? उसकी क्या वि...

(पूरा पढ़ें)
Tulsi Pranam Like +13 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Jay Shree Krishna Dec 18, 2018

_*🙏🏼🦋🙋🏻‍♂🌹~श्री राधे ~🌹🙋🏻‍♂🦋🙏🏼*_ _*१८ /१२ /२०१८*_ _*मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष नवमी*_

_*आज वैकुण्ठ एकादशी पर श्री वासवी कन्यका परमेश्वरी देवी के श्री वैंकटेश्वर गोविंदा जी स्वरूप मे श्रृंगार दर्शन ८वीं क्रोस रोड मल्लेश्वरम बेंगलुरु से*_

...

(पूरा पढ़ें)
Flower Jyot Bell +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Anuradha Tiwari Dec 18, 2018

हिन्दू धर्म में कहते हैं कि ब्रह्माजी जन्म देने वाले, विष्णु पालने वाले और शिव वापस ले जाने वाले देवता हैं। भगवान विष्णु तो जगत के पालनहार हैं। वे सभी के दुख दूर कर उनको श्रेष्ठ जीवन का वरदान देते हैं। जीवन में किसी भी तरह का संकट हो या धरती पर कि...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Lotus Like +14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 24 शेयर

सफला एकादशी का व्रत पौष माह की कृष्ण पक्ष की एकादशी को किया जाता है और यह व्रत समस्त कार्यों में सफल होने का फल देता है इसलिए इसे सफला एकादशी व्रत कहा जाता है। इस व्रत के पुण्य से मनुष्य को सभी कार्यों में सफलता मिलती है।

अधिक जानकारी के लिए नीचे...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +70 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 34 शेयर
dhiraj katariya Dec 18, 2018

Like Flower +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Raj Kumar Tiwari Dec 18, 2018

ज्योतिष से जानें व्यक्ति को कब मिलती है सफलता

*कई लोगों को खूब प्रयास करने के बाद भी यश की प्राप्ति नहीं होती है, आइए जानते हैं ज्योतिष के अनुसार कब और कैसे मिलता है यश.*

*कुंडली के चतुर्थ, सप्तम और दशम भाव से व्यक्ति के नाम और यश की स्थिति देखी...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like +3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर

पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक मोक्षदा एकादशी का व्रत बहुत शुभ माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा-पाठ और कीर्तन करने से पाप का नाश होता है. इसीलिए इस दिन पापों को नष्ट करने और पितरों के लिए मोक्ष के द्वार खोलने के लिए श्री हरि क...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Bell +216 प्रतिक्रिया 52 कॉमेंट्स • 65 शेयर
Kumar Dinesh Dec 18, 2018

Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB