Archana Singh
Archana Singh May 4, 2021

Jai Shree radhe Krishna ji subh ratri vandan ji 🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏

Jai Shree radhe Krishna ji subh ratri vandan ji 🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏🙏🌹🌹🙏

+339 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 153 शेयर

कामेंट्स

GOVIND CHOUHAN May 4, 2021
Jai Shree Radhe Radhe Jiii 🌹 Jai Shree Radhe Krishna Jiii 🌹 Subh Ratri Vandan Pranaam Jiii Didi 👏👏👏👏👏

🔴 Suresh Kumar 🔴 May 4, 2021
राधे राधे जी 🙏 शुभ रात्रि वंदन आपका हर पल कृष्णमय हो मेरी प्यारी बहन 💠🙏💠

Norat mal mali Rajasthan May 4, 2021
jay hanuman ji jay shree ram ji jay shree hari balaji 🙏🙏🌹🌹 jay shree radhe radhe krishna ji 🙏🙏🌹🌹 shubh vandan shubh ratri jiji prnam

Sanjay Rastogi May 4, 2021
jai shri Radhe krishna ji Radhe Radhe ji good night didi

🌷JK🌷 May 4, 2021
🌹🥀🌹Radhe Radhe🌹🥀🌹 very👌 post subh ratri vandan ji 🌹🙏🏼🌹

Brajesh Sharma May 4, 2021
🌹🎋🌷शुभ रात्रि🌹🎋🙏 🎋🧶जय श्री राधे कृष्णा जी🌹🎋🙏 🌹ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव🙏🌹

kirankanwar May 4, 2021
Radhe Radhe Ji Jai shree krishna ji 🙏🌹🌷🌹

Mamta Chauhan May 4, 2021
Ram ram ji🌷🙏 Shubh ratri vandan pyari bahan ji aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho Prabhu ram ji ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe 🌷🌷🌷🙏🙏🙏

Anju Mishra May 4, 2021
राधे राधे बहना शुभ रात्रि

ललन कुमार-8696612797 May 4, 2021
जय श्री राधे राधे जी।आपका हर सपना साकार और पूर्ण हो जी।शुभ रात्रि विश्राम जी।

Naresh Rawat May 4, 2021
राधे राधे जी जय श्रीकृष्ण 🙏🌷शुभ रात्रि स्नेह वंदन सिस्टर जी🙏🌙 ठाकुर जी की कृपा से आप सपरिवार घर-परिवार में सुख शांति और समृद्धि हमेशा बनी रहे सिस्टर जी🙏🌷शुभ रात्रि सबा खैर 😴

Ashwinrchauhan May 4, 2021
राधे राधे बहना जी राधारानी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे मेरी आदरणीय बहना जी आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे मुरलीवाले कान्हा जी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड नाईट बहना जी

🍃🌹K. P Gupta 🌹🍃 May 4, 2021
very nice post Ji. kanha ji ki kripa sadaiv aap per rahe. good night with sweet Dreams ji. thanks 🍒🍒💐💐👏👏

Ramesh Mathews May 4, 2021
Meri pyari Bdi Bahana Rain ji Jai Shri Krishna ji Jai Shri Krishna ji

madan pal 🌷🙏🏼 May 4, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी शूभ रात्रि वंदन जी आपका हर पल शूभ मंगल हों जी 👌🏼👌🏼👌🏼👌🏼👌🏼👌🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼🌹🌷🌷

RAJ RATHOD May 5, 2021
🌹🌹 सुप्रभात वंदन जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹 🌹🌹 भगवान श्री गणेश जी की कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे 🙏🙏🌺💐🌿🌹💐💐🌺🌿🌿🌹💐🌹🌹 🌹🌹 आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो 🌹🌹

jatan kurveti May 5, 2021

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Shanti Pathak May 3, 2021

*जय श्री राधे कृष्णा* *शुभरात्रि वंदन * [: *पुरुष का श्रृंगार तो स्वयं प्रकृति ने किया है..* *स्त्रियाँ* काँच का टुकड़ा हैं..जो मेकअप की रौशनी पड़ने पर ही चमकती हैं.. किन्तु *पुरुष* हीरा है जो अँधेरे में भी चमकता है और उसे मेकअप की कोई आवश्यकता नहीं होती। खूबसूरत *मोर* होता है *मोरनी* नहीं.. मोर *रंग - बिरंगा* और *हरे - नीले* रंग से सुशोभित..जबकि मोरनी *काली सफ़ेद*.. मोर के *पंख* होते हैं इसीलिए उन्हें *मोरपंख* कहते हैं..मोरनी के पंख नहीं होते.. *दांत* हाथी के होते हैं,हथिनी के नहीं। हांथी के दांत *बेशकीमती* होते हैं। *नर हाथी* मादा हाथी के मुकाबले बहुत *खूबसूरत* होता है। *कस्तूरी* नर हिरन में पायी जाती है। *मादा हिरन* में नहीं। नर हिरन *मादा हिरन* के मुकाबले बहुत *सुन्दर* होता है। *मणि* नाग के पास होती है , *नागिन* के पास नहीं। नागिन ऐसे नागों की दीवानी होती है जिनके पास *मणि* होती है। *रत्न महासागर* में पाये जाते हैं, *नदियो* में नहीं..और *अंत* में *नदियों* को उसी *महासागर* में गिरना पड़ता है। *संसार* के बेशकीमती *तत्व* इस प्रकृति ने *पुरुषों* को सौंपे.. *प्रकृति ने पुरुष* के साथ अन्याय नहीं किया.. *9 महीने* स्त्री के गर्भ में रहने के बावजूद भी *औलाद का चेहरा*, स्वभाव पिता की तरह होना, ये संसार का सबसे बड़ा *आश्चर्य* है.. क्योंकि , *पुरुष का श्रृंगार* प्रकृति ने करके भेजा है,उसे श्रृंगार की आवश्यकता नहीं... 👆 *पहली बार कोई लेख पुरुषों के लिए*👆 *🔷मृत्यु का भय 🔷* किसी नगर में एक आदमी रहता था। उसने परदेश के साथ व्यापार किया। मेहनत फली, कमाई हुई और उसकी गिनती सेठों में होने लगी। महल जैसी हवेली बन गई। वैभव और बड़े परिवार के बीच उसकी जवानी बड़े आनंद से बीतने लगी। एक दिन उसका एक संबंधी किसी दूसरे नगर से आया। बातचीत के बीच उसने बताया कि उसके यहां का सबसे बड़ा सेठ गुजर गया। बेचारे की लाखों की धन-संपत्ति पड़ी रह गई। बात सहज भाव से कही गई थी, पर उस आदमी के मन को डगमगा गई। हां उस सेठ की तरह एक दिन वह भी तो मर जाएगा। उसी क्षण से उसे बार-बार मौत की याद सताने लगी। हाय मौत आएगी, उसे ले जाएगी और सबकुछ यहीं छूट जाएगा! मारे चिंता के उसकी देह सूखने लगी। देखने वाले देखते कि उसे किसी चीज की कमी नहीं है, पर उसके भीतर का दुख ऐसा था कि किसी से कहा भी नहीं जा सकता था। धीरे-धीरे वह बिस्तर पर पड़ गया। बहुतेरा इलाज किया गया, लेकिन उसका रोग कम होने की बजाय बढ़ता ही गया। एक दिन एक साधु उसके घर पर आया। उस आदमी ने बेबसी से उसके पैर पकड़ लिए और रो-रोकर अपनी व्यथा उसे बता दी। सुनकर साधु हंस पड़ा और बोला - *"तुम्हारे रोग का इलाज तो बहुत आसान है।"* उस आदमी के खोए प्राण मानो लौट आए| अधीर होकर उसने पूछा - *"स्वामीजी, वह इलाज क्या है!"* साधु ने कहा - *"देखो मौत का विचार जब मन में आए, जोर से कहो जब तक मौत नहीं आएगी, मैं जीऊंगा। इस नुस्खे को सात दिन तक आजमाओ, मैं अगले सप्ताह आऊंगा।"* सात दिन के बाद साधु आए तो देखते क्या हैं, वह आदमी बीमारी के चंगुल से बाहर आ गया है और आनंद से गीत गा रहा है। साधु को देखकर वह दौड़ा और उसके चरणों में गिरकर बोला - *"महाराज, आपने मुझे बचा लिया। आपकी दवा ने मुझ पर जादू का-सा असर किया। मैंने समझ लिया कि जिस दिन मौत आएगी, उसी दिन मरूंगा, उससे पहले नहीं।"* *साधु ने कहा - "वत्स, मौत का डर सबसे बड़ा डर है। वह जितनों को मारता है मौत उतनों को नहीं मारती"..!!* *🙏🙏जय जय श्री राधे*🙏🏼🙏🏻

+204 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 254 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 3 शेयर
savi Choudhary May 5, 2021

+129 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 174 शेयर

एक आदमी घोड़े पर कहीं जा रहा था, घोड़े को जोर की प्यास लगी थी।कुछ दूर कुएं पर एक किसान बैलों से "रहट" चलाकर खेतों में पानी लगा रहा था।मुसाफिर कुएं पर आया और घोड़े को "रहट" में से पानी पिलाने लगा।पर जैसे ही घोड़ा झुककर पानी पीने की कोशिश करता, "रहट" की ठक-ठक की आवाज से डर कर पीछे हट जाता।फिर आगे बढ़कर पानी पीने की कोशिश करता और फिर "रहट" की ठक-ठक से डरकर हट जाता।मुसाफिर कुछ क्षण तो यह देखता रहा, फिर उसने किसान से कहा कि थोड़ी देर के लिए अपने बैलों को रोक ले ताकि रहट की ठक-ठक बन्द हो और घोड़ा पानी पी सके। किसान ने कहा कि जैसे ही बैल रूकेंगे कुएँ में से पानी आना बन्द हो जायेगा, इसलिए पानी तो इसे ठक-ठक में ही पीना पड़ेगा। ठीक ऐसे ही यदि हम सोचें कि जीवन की ठक-ठक (हलचल) बन्द हो तभी हम भजन, सन्ध्या, वन्दना आदि करेंगे तो यह हमारी भूल है। हमें भी जीवन की इस ठक-ठक (हलचल) में से ही समय निकालना होगा, तभी हम अपने मन की तृप्ति कर सकेंगे, वरना उस घोड़े की तरह हमेशा प्यासा ही रहना होगा। सब काम करते हुए, सब दायित्व निभाते हुए प्रभु सुमिरन में भी लगे रहना होगा, जीवन में ठक-ठक तो चलती ही रहेगी।

+322 प्रतिक्रिया 85 कॉमेंट्स • 253 शेयर
Renu Singh May 5, 2021

+449 प्रतिक्रिया 86 कॉमेंट्स • 321 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 17 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB