लालचन्द चौधरी ने Shri Sanatan Dharam Mandir में यह पोस्ट की।

लालचन्द चौधरी ने Shri Sanatan Dharam Mandir में यह पोस्ट की।

#कृष्ण

+60 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 48 शेयर

. ⭕️'कहानी - एक कौवा और गरुड़'⭕️ ___________________________________ एक बार एक कौआ,मांस के एक टुकड़े को पकड़कर बैठने और खाने के लिए उड़ रहा था। हालाँकि, गिद्धों का एक झुंड उसका पीछा कर रहा था। कौवा चिन्तित था और ऊँची और ऊँची उड़ान भर रहा था, फिर भी गिद्ध गरीब कौवे के पीछे थी। तभी "गरुड़" ने कौवे की आंखों में दुर्दशा और पीड़ा देखी। कौवे के करीब आकर उसने पूछा: "क्या बात है? आप बहुत" परेशान "और" तनाव "में हैं?" .. कौवा रोया "इन गिद्धों को देखो !! वे मुझे मारने के लिए मेरे पीछे हैं"। गरुड़ ज्ञान का पक्षी होने के कारण बोला "ओह माई फ्रेंड !! वे तुम्हें मारने के लिए तुम्हारे पीछे नहीं हैं !! वे मांस के उस टुकड़े के पीछे हैं जिसे आप अपनी चोंच में पकड़े हुए हैं"। बस इसे गिराएं और देखें कि क्या होगा। कौवा ने गरुड़ के निर्देशों का पालन किया और मांस का टुकड़ा गिरा दिया।टुकड़ा गिराते ही सभी गिद्धों गिरते हुए मांस की ओर उड़ गए। गरुड़ ने मुस्कुराते हुए कहा "दर्द केवल तब तक है जब तक आप इसे पकड़ते हैं" जस्ट ड्राप "। कौवा बस झुका और बोला "मैंने मांस का यह टुकड़ा गिरा दिया, अब, मैं और भी ऊंची उड़ान भर सकता हूँ .."। 👉🏻'शिक्षा'- 1.लोग "अहंकार" नामक विशाल बोझ को ढोते हैं, जो हमारे बारे में एक झूठी पहचान बनाता है, कि हम अपने लिए यह कहते हुए पैदा करते हैं कि "मुझे प्यार की ज़रूरत है, मुझे आमंत्रित करने की आवश्यकता है, मैं ऐसा हूं और इसलिए .." आदि ..."बस गिरा दो…। 2.लोग "अन्य कार्यों" से तेजी से चिढ़ जाते हैं, यह मेरा दोस्त, मेरे माता-पिता, मेरे बच्चे, मेरा सहयोगी, मेरा जीवन साथी हो सकता है और मुझे "क्रोध" "जस्ट ड्राप.. 3.लोग खुद की तुलना दूसरों से करते हैं.सुंदरता, धन, जीवन शैली, अंक, प्रतिभा और मूल्यांकन में और परेशान महसूस करते हैं,हमारे पास जो कुछ भी है उसके प्रति आभारी होना चाहिए. तुलना, नकारात्मक भावनाएं ."बस ड्रॉप" बस बोझ गिरा दो।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Radha Bansal Feb 26, 2021

+46 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 7 शेयर
radhe radhe Feb 26, 2021

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Radha Bansal Feb 24, 2021

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

#प्रभु_श्रीकृष्ण_की_16_कलाएं कौन कौन सी थीं भगवान श्री कृष्ण की वो #16_कलाऐं #सोलह_कला_पूर्ण कहा जाता है #भगवान_श्रीकृष्ण को इसीलिए वे पूर्ण पुरुष भी कहलाए। वे विष्णु के अवतार ,युग पुरुष , गीता- ज्ञान देकर समस्त मानव-जाति एवं सभी देश-काल के लिए पथ-प्रदर्शक हैं श्री कृष्‍ण। वे सोलह कलाऐं कौन कौन सी हैं जिनके बल पर श्रीकृष्ण नटखट बालक, विशुद्ध प्रेमी, ज्ञान के आधार और तर्कयोद्धा कहलाए तो आइए जानते हैं उन सोलह कलाओं के बारे में जिनमें भगवान श्रीकृष्ण निपुण थे। 🕉️🚩पहली कला- #श्रीधन (संपदा) प्रथम कला के रूप में धन संपदा को स्थान दिया गया है। जिस व्यक्ति के पास अपार धन हो और वह आत्मिक रूप से भी धनवान हो। जिसके घर से कोई भी खाली हाथ नहीं जाए वह प्रथम कला से संपन्न माना जाता है। यह कला भगवान श्री कृष्ण में मौजूद है। 🕉️🚩दूसरी कला- #भू_अचल_संपत्ति जिस व्यक्ति के पास पृथ्वी का राज भोगने की क्षमता है। पृथ्वी के एक बड़े भू-भाग पर जिसका अधिकार है और उस क्षेत्र में रहने वाले जिसकी आज्ञाओं का सहर्ष पालन करते हैं वह अचल संपत्ति का मालिक होता है। भगवान श्री कृष्ण ने अपनी योग्यता से द्वारिका पुरी को बसाया। इसलिए यह कला भी इनमें मौजूद है। 🚩🕉️तीसरी कला- #कीर्ति (यश-प्रसिद्धि) जिसके मान-सम्मान व यश की कीर्ति से चारों दिशाओं में गूंजती हो। लोग जिसके प्रति स्वत: ही श्रद्घा व विश्वास रखते हों वह तीसरी कला से संपन्न होता है। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद है। लोग सहर्ष श्री कृष्ण की जयकार करते हैं। 🕉️🚩चौथी कला- #इला (वाणी की सम्मोहकता) चौथी कला का नाम इला है जिसका अर्थ है मोहक वाणी। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद है। पुराणों में भी ये उल्लेख मिलता है कि श्री कृष्ण की वाणी सुनकर क्रोधी व्यक्ति भी अपना सुध-बुध खोकर शांत हो जाता था। मन में भक्ति की भावना भर उठती थी। यशोदा मैया के पास शिकायत करने वाली गोपियां भी कृष्ण की वाणी सुनकर शिकायत भूलकर तारीफ करने लगती थी। 🕉️🚩पांचवीं कला- #लीला (आनंद उत्सव) पांचवीं कला का नाम है लीला। इसका अर्थ है आनंद। भगवान श्री कृष्ण धरती पर लीलाधर के नाम से भी जाने जाते हैं क्योंकि इनकी बाल लीलाओं से लेकर जीवन की घटना रोचक और मोहक है। इनकी लीला कथाओं सुनकर कामी व्यक्ति भी भावुक और विरक्त होने लगता है। 🕉️🚩छठवीं कला- #कांति (सौदर्य और आभा) जिनके रूप को देखकर मन स्वत: ही आकर्षित होकर प्रसन्न हो जाता है। जिसके मुखमंडल को देखकर बार-बार छवि निहारने का मन करता है वह छठी कला से संपन्न माना जाता है। भगवान राम में यह कला मौजूद थी। कृष्ण भी इस कला से संपन्न थे। कृष्ण की इस कला के कारण पूरा ब्रज मंडल कृष्ण को मोहिनी छवि को देखकर हर्षित होता था। गोपियां कृष्ण को देखकर काम पीडि़त हो जाती थीं और पति रूप में पाने की कामना करने लगती थीं। 🚩🕉️सातवीं कला- #विद्या (मेधा बुद्धि) सातवीं कला का नाम विद्या है। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद थी। कृष्ण वेद, वेदांग के साथ ही युद्घ और संगीत कला में पारंगत थे। राजनीति एवं कूटनीति भी कृष्ण सिद्घहस्त थे। 🕉️🚩कला आठवीं- #विमला (पारदर्शिता) जिसके मन में किसी प्रकार का छल-कपट नहीं हो वह आठवीं कला युक्त माना जाता है। भगवान श्री कृष्ण सभी के प्रति समान व्यवहार रखते हैं। इनके लिए न तो कोई बड़ा है और न छोटा। महारास के समय भगवान ने अपनी इसी कला का प्रदर्शन किया था। इन्होंने राधा और गोपियों के बीच कोई फर्क नहीं समझा। सभी के साथ सम भाव से नृत्य करते हुए सबको आनंद प्रदान किया था। 🕉️🚩नौवीं कला- #उत्कर्षिणि (प्रेरणा और नियोजन) महाभारत के युद्घ के समय श्री कृष्ण ने नौवी कला का परिचय देते हुए युद्घ से विमुख अर्जुन को युद्घ के लिए प्रेरित किया और अधर्म पर धर्म की विजय पताका लहराई। नौवीं कला के रूप में प्रेरणा को स्थान दिया गया है। जिसमें इतनी शक्ति मौजूद हो कि लोग उसकी बातों से प्रेरणा लेकर लक्ष्य भेदन कर सकें। 🕉️🚩दसवीं कला- #ज्ञान (नीर क्षीर विवेक) भगवान श्री कृष्ण ने जीवन में कई बार विवेक का परिचय देते हुए समाज को नई दिशा प्रदान की जो दसवीं कला का उदाहरण है। गोवर्धन पर्वत की पूजा हो अथवा महाभारत युद्घ टालने के लिए दुर्योधन से पांच गांव मांगना यह कृष्ण के उच्च स्तर के विवेक का परिचय है। 🕉️🚩ग्‍यारहवीं कला- #क्रिया (कर्मण्यता) ग्यारहवीं कला के रूप में क्रिया को स्थान प्राप्त है। भगवान श्री कृष्ण इस कला से भी संपन्न थे। जिनकी इच्छा मात्र से दुनिया का हर काम हो सकता है वह कृष्ण सामान्य मनुष्य की तरह कर्म करते हैं और लोगों को कर्म की प्रेरणा देते हैं। महाभारत युद्घ में कृष्ण ने भले ही हाथों में हथियार लेकर युद्घ नहीं किया लेकिन अर्जुन के सारथी बनकर युद्घ का संचालन किया। 🚩🕉️बारहवीं कला- #योग (चित्तलय) जिनका मन केन्द्रित है, जिन्होंने अपने मन को आत्मा में लीन कर लिया है वह बारहवीं कला से संपन्न श्री कृष्ण हैं। इसलिए श्री कृष्ण योगेश्वर भी कहलाते हैं। कृष्ण उच्च कोटि के योगी थे। अपने योग बल से कृष्ण ने ब्रह्मास्त्र के प्रहार से माता के गर्भ में पल रहे परीक्षित की रक्षा की। मृत गुरू पुत्र को पुर्नजीवन प्रदान किया। 🚩🕉️तेरहवीं कला- #प्रहवि (अत्यंतिक विनय) तेरहवीं कला का नाम प्रहवि है। इसका अर्थ विनय होता है। भगवान कृष्ण संपूर्ण जगत के स्वामी हैं। संपूर्ण सृष्टि का संचलन इनके हाथों में है फिर भी इनमें कर्ता का अहंकार नहीं है। गरीब सुदामा को मित्र बनाकर छाती से लगा लेते हैं। महाभारत युद्घ में विजय का श्रेय पाण्डवों को दे देते हैं। सब विद्याओं के पारंगत होते हुए भी ज्ञान प्राप्ति का श्रेय गुरू को देते हैं। यह कृष्ण की विनयशीलता है। 🕉️🚩चौदहवीं कला- #सत्य (यर्थाथ) भगवान श्री कृष्ण की चौदहवीं कला का नाम सत्य है। श्री कृष्ण कटु सत्य बोलने से भी परहेज नहीं रखते और धर्म की रक्षा के लिए सत्य को परिभाषित करना भी जानते हैं यह कला सिर्फ कृष्ण में है। शिशुपाल की माता ने कृष्ण से पूछा की शिशुपाल का वध क्या तुम्हारे हाथों होगी। कृष्ण नि:संकोच कह देते हैं यह विधि का विधान है और मुझे ऐसा करना पड़ेगा। 🕉️🚩पंद्रहवीं कला- #इसना (आधिपत्य) पंद्रहवीं कला का नाम इसना है। इस कला का तात्पर्य है व्यक्ति में उस गुण का मौजूद होना जिससे वह लोगों पर अपना प्रभाव स्थापित कर पाता है। जरूरत पडऩे पर लोगों को अपने प्रभाव का एहसास दिलाता है। कृष्ण ने अपने जीवन में कई बार इस कला का भी प्रयोग किया जिसका एक उदाहरण है मथुरा निवासियों को द्वारिका नगरी में बसने के लिए तैयार करना। 🕉️🚩सोलहवीं कला- #अनुग्रह (उपकार) बिना प्रत्युकार की भावना से लोगों का उपकार करना यह सोलवीं कला है। भगवान कृष्ण कभी भक्तों से कुछ पाने की उम्मीद नहीं रखते हैं लेकिन जो भी इनके पास इनका बनाकर आ जाता है उसकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। जय जय श्री राधे जय जय श्री हरि मुरारी🚩🌷🌺🌹🍁🌻🌸🙏

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB