prakash patel
prakash patel Apr 17, 2021

🗣️ વારંવાર ગળામાં ખારાશ, દુખાવો, સોજો અને ઈન્ફેક્શન તરત જ મટાડી દેશે આ દેશી ઉપાય, નહીં જવું પડે ડોક્ટર પાસે 🗣️ હાલ કોરોનાએ ફરી હાહાકાર મચાવ્યો છે. એવામાં જો તમને શરદી, ખાંસી, ઈન્ફેક્શન કે ગળામાં પ્રોબ્લેમ થાય તો તરત જ આ ઘરેલૂ ઉપચાર કરો. કોરોનાકાળમાં બેસ્ટ છે આ ઉપચાર ગળામાં થતાં ઈન્ફેક્શનને મટાડી દેશે નાના મોટા સૌના કામ લાગશે આ ઉપાય ગળામાં ખારાશ અને અન્ય સમસ્યાઓનો સંબંધ આપણા શ્વસનતંત્રમાં કોઈ ગરબડ સાથે હોય છે. સિઝન બદલાતા આ સમસ્યા ખૂબ જ વધી જાય છે. જ્યારે ગળાના આંતરિક ભાગમાં ઈન્ફેક્શન થઈ જાય છે ત્યારે ગળામાં સોજો, ખાસી અને ખારાશ થવા લાગે છે. જેના કારણે શરદી અને ખાંસી પણ થઈ જાય છે. જેથી આ સમસ્યામાં ડોક્ટર પાસે જવા કરતાં ઘરે જ અહીં જણાવેલા ઉપાયો અજમાવો. તમને ચોક્કસ ફાયદો થશે અને આ સમસ્યા પણ દૂર થશે. 📌 ગરમ પાણીના કોગળા : ગળાની સમસ્યા થાય તો ડોક્ટર પર ગરમ પાણી અને મીઠાંના કોગળા કરવાની સલાહ આપે છે. તે ગળામાં ઈન્ફેક્શન, સોજો અને ખારાશને પણ દૂર કરે છે. જેનાથી ગળામાં દુખાવો પણ દૂર થાય છે. 📌 લીંબુ પાણી : 1 ગ્લાસ નવશેકા પાણીમાં 1 લીંબુનો રસ અને ચપટી મીઠું અને તમને જરૂર લાગે તો થોડી ખાંડ નાખીને પીવો. તેનાથી ગળાને ખારાશથી આરામ મળશે. 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ 📌 લસણ ચાવીને ખાઓ : લસણ એક ઉત્તમ ઔષધી છે. તેમાં એલિસિન નામનું તત્વ હોય છે. જે ગળામાં ઈન્ફેક્શન પેદા કરતાં બેક્ટેરિયાને ખતમ કરી દે છે. જેથી રોજ સવારે અથવા જ્યારે ગળાની સમસ્યા બહુ વધી જાય ત્યારે 1 કળી લસણની ચાવીને ખાઈ લો. 📌 આદુ : પેટથી લઈને વાળ અને અન્ય રોગોમાં પણ બહુ જ ગુણકારી છે આદુ. આદુમાં રહેલું જિન્જેરોલ અને અન્ય તત્વો શિયાળામાં બહુ જ ફાયદો કરે છે. તેની તાસીર ગરમ હોય છે અને તેના એન્ટીબેક્ટેરિયલ તત્વ ગળામાં સોજાની સમસ્ય દૂર કરે છે. જેથી આદુનું સેવન કરો. તમે આદુની ચા બનાવીને પણ પી શકો છો. 📌 જેઠીમધ ખાઓ : જેઠીમધ શિયાળામાં થતી સમસ્યાઓ માટે રામબાણનું કામ કરે છે. સાથે જ તેના ઔષધીય ગુણ ઘણી સમસ્યાઓમાં લાભકારક છે. સિઝનલ ચેન્જિસમાં ગળામાં ઈન્ફેક્શન અને દુખાવો થાય તો જેઠીમધનું ચૂર્ણ મોંમાં રાખી ચૂસવાથી તરત આરામ મળે છે. 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

🗣️ વારંવાર ગળામાં ખારાશ, દુખાવો, સોજો અને ઈન્ફેક્શન તરત જ મટાડી દેશે આ દેશી ઉપાય, નહીં જવું પડે ડોક્ટર પાસે 🗣️

હાલ કોરોનાએ ફરી હાહાકાર મચાવ્યો છે. એવામાં જો તમને શરદી, ખાંસી, ઈન્ફેક્શન કે ગળામાં પ્રોબ્લેમ થાય તો તરત જ આ ઘરેલૂ ઉપચાર કરો.

કોરોનાકાળમાં બેસ્ટ છે આ ઉપચાર
ગળામાં થતાં ઈન્ફેક્શનને મટાડી દેશે
નાના મોટા સૌના કામ લાગશે આ ઉપાય

ગળામાં ખારાશ અને અન્ય સમસ્યાઓનો સંબંધ આપણા શ્વસનતંત્રમાં કોઈ ગરબડ સાથે હોય છે. સિઝન બદલાતા આ સમસ્યા ખૂબ જ વધી જાય છે. જ્યારે ગળાના આંતરિક ભાગમાં ઈન્ફેક્શન થઈ જાય છે ત્યારે ગળામાં સોજો, ખાસી અને ખારાશ થવા લાગે છે. જેના કારણે શરદી અને ખાંસી પણ થઈ જાય છે. જેથી આ સમસ્યામાં ડોક્ટર પાસે જવા કરતાં ઘરે જ અહીં જણાવેલા ઉપાયો અજમાવો. તમને ચોક્કસ ફાયદો થશે અને આ સમસ્યા પણ દૂર થશે.

📌 ગરમ પાણીના કોગળા :

ગળાની સમસ્યા થાય તો ડોક્ટર પર ગરમ પાણી અને મીઠાંના કોગળા કરવાની સલાહ આપે છે. તે ગળામાં ઈન્ફેક્શન, સોજો અને ખારાશને પણ દૂર કરે છે. જેનાથી ગળામાં દુખાવો પણ દૂર થાય છે. 

📌 લીંબુ પાણી :

1 ગ્લાસ નવશેકા પાણીમાં 1 લીંબુનો રસ અને ચપટી મીઠું અને તમને જરૂર લાગે તો થોડી ખાંડ નાખીને પીવો. તેનાથી ગળાને ખારાશથી આરામ મળશે. 
💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के  एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। 
https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/

📌 લસણ ચાવીને ખાઓ :

લસણ એક ઉત્તમ ઔષધી છે. તેમાં એલિસિન નામનું તત્વ હોય છે. જે ગળામાં ઈન્ફેક્શન પેદા કરતાં બેક્ટેરિયાને ખતમ કરી દે છે. જેથી રોજ સવારે અથવા જ્યારે ગળાની સમસ્યા બહુ વધી જાય ત્યારે 1 કળી લસણની ચાવીને ખાઈ લો.

📌 આદુ :

પેટથી લઈને વાળ અને અન્ય રોગોમાં પણ બહુ જ ગુણકારી છે આદુ. આદુમાં રહેલું જિન્જેરોલ અને અન્ય તત્વો શિયાળામાં બહુ જ ફાયદો કરે છે. તેની તાસીર ગરમ હોય છે અને તેના એન્ટીબેક્ટેરિયલ તત્વ ગળામાં સોજાની સમસ્ય દૂર કરે છે. જેથી આદુનું સેવન કરો. તમે આદુની ચા બનાવીને પણ પી શકો છો. 

📌 જેઠીમધ ખાઓ :

જેઠીમધ શિયાળામાં થતી સમસ્યાઓ માટે રામબાણનું કામ કરે છે. સાથે જ તેના ઔષધીય ગુણ ઘણી સમસ્યાઓમાં લાભકારક છે. સિઝનલ ચેન્જિસમાં ગળામાં ઈન્ફેક્શન અને દુખાવો થાય તો જેઠીમધનું ચૂર્ણ મોંમાં રાખી ચૂસવાથી તરત આરામ મળે છે.
🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। 
https://www.facebook.com/groups/367351564605027/

☘️सभी जानकारी,  घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 
🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉  +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
prakash patel May 6, 2021

🏡 कब्ज या पेट फूलने पर & मोटापा कम करने, टी.बी. की बीमारीके लिये... गोमूत्र का सेवन... 💎 🏡 कब्ज या पेट फूलने पर 3 तोला ताजा गोमूत्र छानकर उसमें आधा चम्मच नमक मिलाकर पिलाएं। बच्चे का पेट फूल जाए तो 1 चम्मच गोमूत्र पिलाएं। और गैस की समस्या में प्रात:काल आधे कप गोमूत्र में नमक तथा नींबू का रस मिलाकर पिलाएं या फिर पुराने गैस के रोग के लिए गोमूत्र को पकाकर प्राप्त किया गया क्षार भी गुणकारी है। 🏡 मोटापा कम करने के लिये एक गिलास पानी में चार बूंद गौमूत्र के साथ दो चम्‍मच शहद और 1 चम्‍मच नींबू का रस मिला कर रोजाना पीने से लाभ मिलता है। 🏡 टी.बी. की बीमारी टी.बी. की बीमारी में डाट्स की गोलियों का असर गौमूत्र के साथ 20 गुना बढ़ जाती है अर्थातृ सिर्फ गौमूत्र पीने से टी.बी. 3 से 6 महीने में ठीक होती है, सिर्फ डाट्स की गोलिशाँ खाने से टी.बी. 9 महीने में ठीक होती है और डाट्स की गोलियाँ और गौमूत्र साथ-साथ देने पर टी.बी. 2 से 3 महीने में ठीक हो जाती है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 6, 2021

💎खरबूजे के फायदे.... खरबूजा गर्मी से निजात दिलाने वाला एक शानदार फल है। इसमें भरपूर पानी, खनिज, विटामिन और फायबर होते हैं, जो इसे एक बहुत लाभदायक फल बनाते है। खरबूजा खाने के फायदे गर्मी के मौसम पानी की कमी को दूर करने और पोषक तत्वों को उपलब्ध कराने के लिए जाने जाते हैं। गर्मी का मौसम आते ही लोगों को तरबूज और खरबूज जैसे फलों आवश्यकता महसूस होने लगती है। खरबूज कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य फल है। खरबूजा खाने के फायदे वजन घटाने, मधुमेह, हृदय को स्वस्थ्य रखने, प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाने, आंखों की दृष्टि बढ़ाने और गुर्दे की पथरी का इलाज करने के लिए होते हैं। इसके अलावा खरबूजा खाने के फायदे में शरीर में पानी की कमी को पूरा करना भी शामिल है जो हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है। 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ खरबूजे में 95 फीसदी पानी के साथ विटामिन और मिनरल्स भी पाए जाते हैं। इससे शरीर को ठंडक तो मिलती ही है, साथ ही हृदय में जलन की परेशानी भी दूर होती है। वजन कम करने में भी खरबूजा काफी फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें शुगर और कैलोरी की मात्रा ज्यादा नहीं होती है। साथ ही यह एंटी-ऑक्सीडेंट विटामिन C का भी अच्छा स्रोत माना जाता है। यह दिल की बीमारी से भी बचाता है। इतना ही नहीं, खरबूजे से त्वचा को भी फायदा पहुंचता है। इसमें विटामिन A पाया जाता है, जो त्वाचा को स्वस्थ रखने में मददगार होता है। खरबूजे के औषधीय गुण खरबूजा शरीर में पानी की कमी की पूर्ति करता है साथ ही इसमें मौजूद विटामिन और मिनरल्स आपको ऊर्जावान बना रखने में मदद करते हैं। यह आपकी त्वचा को हाइड्रेट रखता है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो बढ़ती उम्र को रोकने के साथ-साथ तनाव कम करने में भी मददगार है। यह आपकी त्वचा को जवां बनाए रखने के साथ-साथ मानसिक शांति भी देगा। खरबूजे का नियमित रूप से सेवन, दिल के दौरे से आपको बचा सकता है। रक्त की नलिकाओं में रक्त के जमने या थक्का बनने से रोकने में यह कारगर उपाय है। इस तरह से आप दिल के दौरे से बच सकते हैं। पाचन संबंधी समस्याएं होने पर भोजन के साथ या इसके अलावा खरबूजे को अपनी डाइट में शामिल करें। यह पाचन में सहायक होगा और कब्जियत की समस्या को दूर करेगा। खरबूजे का सेवन या फिर इसके गूदे को चेहरे पर लगाना, त्वचा के लिए फायदेमंद है। इससे धूप से झुलसी हुई त्वचा ठीक होती है और त्वचा में नमी बरकरार रहने के साथ ही ताजगी दिखाई देती है। खरबूजे में मौजूद विटामिन A आपकी आंखों, त्वचा व बालों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसके अलावा इसमें बीटा कैरोटीन भी पाया जाता है जो आंखों के लिए बेहद लाभप्रद है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर और पानी होता है। इसके अलावा इसमें शर्करा की मात्रा भी कम होती है जो आपका वजन बढ़ने से रोकती है।🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ गर्मी के दिनों में पेट एवं शरीर में गर्मी बढ़ने की समस्या बहुत होती है। इससे बचने के लिए खरबूजा बेहतरीन तरीका है। यह पेट में गर्मी बढ़ने से रोकेगा और गर्मी के दुष्प्रभावों से भी आपको बचाएगा। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 6, 2021

☘️ *_ध्रुवासन : मानसिक सक्षमता और शारीरिक संतुलन का अदभुत आसन जानिए इसके लाभ और योग विधि_* https://www.facebook.com/groups/367351564605027/permalink/481553129851536/ जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है इस आसन का नाम भक्त बालक ध्रुव के नाम पर रखा गया है इन्होंने इसी कठिन मुद्रा में खड़े होकर कठोर तपस्या की थी| इस आसन में साधक को उन्ही की तरह मुद्रा बनानी पड़ती है| *ध्रुवासन के लाभ :* 1. इस आसन के अभ्यास से शरीर का संतुलन बनाये रखा जा सकता है और शरीर से आलस्य को दूर किया जा सकता है| 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ 2. मानसिक रोग और मानसिक चंचलता की स्थिति में लाभ लिया जा सकता है| 3. टांगो को मजबूती प्रदान की जा सकती है और घुटने के रोगों में भी आराम प्राप्त किया जा सकता है| 4. उदासी, झल्लाहट की समस्या से बचा जा सकता है| 5. शरीर को फुर्तीला बनाया जा सकता है साथ ही श्वास क्रिया भी नियंत्रित की जा सकती है और मन को स्थिर रखा जा सकता है| 6. मूत्र और वीर्य सम्बन्धी रोगों को दूर करने में मदद मिलती है| 7. इस आसन द्वारा शरीर को साधने की शक्ति मिलती है| 8. इस आसन का नियमित अभ्यास करने से काम वासना को शांत किया जा सकता है| 9. मसाने की कमजोरी कम की जा सकती है और पेशाब की उत्तेजना को भी शांत करने में मदद मिलती है| *ध्रुवासन की विधि :* सर्व प्रथम किसी स्वच्छ शांत औरसमतल भूमि पर सावधान अवस्था में खड़े हो जाएँ दोनों पैरों पर समान वजन डालते अपने शरीर का संतुलन बनाये रखें| अपने पैरों के बीच थोड़ी दूरी बना लें| इसके बाद सावधानी पूर्वक अपनी दायीं टांग को घुटनें से मोड़ दें और पंजे को बायीं टांग के मूल स्थान से लगा दें| अब साँस को खींच कर दोनों हाथों को ऊपर की तरफ उठाकर नमस्कार की अवस्था में मिला लें| अपनी नजर को नासिका के अग्र भाग पर रखें| अपनी सांसों को सरलता से रोकने का प्रयास कर, जितना हो सके रोके रहें| इसके बाद टांग को नीचे रखते हुए साँस को धीरे धीरे छोड़ दें| इस विधि को टांग बदल कर बार बार दोहराते रहें| 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ *ध्रुवासन में सावधानियां* किसी भी ऐसे व्यक्ति को ध्रुवासन नही करना चाहिए जिसके घुटने की सर्जरी हुई हो या हड्डी संबंधित कोई समस्या हो वंदे मातरम 🇮🇳 स्वस्थ और सबल भारत वंदे मातरम 🇮🇳 स्वस्थ और सबल भारत ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 5, 2021

💎 पामा रोसा से उपचार.. https://m.facebook.com/groups/367351564605027/permalink/481085343231648/ पौधे का परिचय श्रेणी : सगंधीय समूह : वनज वनस्पति का प्रकार : शाकीय वैज्ञानिक नाम : क्य्म्बोपोगों मार्तिनी सामान्य नाम : पामा रोसा पौधे की जानकारी उपयोग : इसका उपयोग इत्र बनाने में, विशेष रूप से तम्बाकू को स्वादिष्ट बनाने में और साबुन में सम्मिश्रण के रूप में किया जाता है। उपयोगी भाग : पत्तियाँ उत्पादन क्षमता : 220-250 कि.ग्रा./हे. तेल वितरण : पामारोजा का तेल फूलों के शूट्स से प्राप्त होता है। इसे रोसा घास या रूसा घास भी कहा जाता है और इसके तेल में उच्च सिरेप्रियल (75.90%) पाया जाता है जिसके कारण इसे जिरेनियम तेल या रूसा तेल कहा जाता है। पामरोजा का तेल सबसे महत्वपूर्ण आवश्यक तेलों में से एक हैं।🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ वर्गीकरण विज्ञान, वर्गीकृत कुल : पोऐसी आर्डर : पोएलेस प्रजातियां : स्यमबोपोगन मार्टिनी स्टाँफ वर मोटिया सी. मार्टिनी स्टाँफ वर सोफिया वितरण : पामारोजा का तेल फूलों के शूट्स से प्राप्त होता है। इसे रोसा घास या रूसा घास भी कहा जाता है और इसके तेल में उच्च सिरेप्रियल (75.90%) पाया जाता है जिसके कारण इसे जिरेनियम तेल या रूसा तेल कहा जाता है। पामरोजा का तेल सबसे महत्वपूर्ण आवश्यक तेलों में से एक हैं। आकृति विज्ञान, बाह्रय स्वरूप स्वरूप : यह एक खुशबूदार बारहमासी घास है। पत्तिंया : पत्तियाँ रैखिक, भालाकार, हद्याकार, 8.50 से.मी. लंबी, 1-3 से.मी. चौड़ी होती है।💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ फूल : पुष्पगुच्छों में होते है। पुष्पगुच्छ 10-30 से.मी. के और लाल रंग के होते है परन्तु परिपक्व होने पर अक्सर चमकीले लाल रंग के हो जाते है। फल : फल दिसम्बर – जनवरी माह में आते हैं। परिपक्व ऊँचाई : यह 150-200 से.मी. की ऊचाँई तक बढ़ सकता है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 5, 2021

☘️ *_वायुयानासन : मन और तन पर नियंत्रण का पर्याय है ये आसन जानिए इसके अन्य फायदे और विधि_* https://www.facebook.com/groups/367351564605027/permalink/480984043241778/ जैसा कि नाम से ही आसन का रूप प्रतीत हो जाता है वायुयान याने हवाई जहाज़ है। इस आसन में शरीर की स्थिति वायुयान के रूप में होती है। इसलिए यह वायुयानासन कहलाता है। इसमें कोई शक नहीं है कि किसी भी बीमारी के इलाज से बेहतर है कि उससे बचाव कर लिया जाए। जबकि एहतियात बरतना सबसे अच्छा डिफेंस है, किसी भी बीमारी के लिए अच्छे और प्रभावी ट्रीटमेंट भी बहुत दूर नहीं हैं। योग का अभ्यास छोटी उम्र से शुरू किया जाना चाहिए। यदि आप बचपन से ही योग करना शुरू कर देते हैं, तो मोटापा और गठिया जैसी स्थिति के विकास की रिस्क को कम किया जा सकता है। 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ *वायुयानासन के लाभ –* यह बॉडी को फ्लेक्सिबल बनाता है। यह आपके बैक तथा लेग की मसल्स को स्ट्रेच करता है। यह आपके पाचन तंत्र को इम्प्रूव करता है। यह आपकी रीड़ की हड्डी को लचीला बनाता है। यह आपके चेहेरे को चमकदार बनाता है। मानसिक स्थिति को नियंत्रण में रखने का ये सर्वश्रेष्ट आसान है शरीर मे रक्त संचरण की क्रिया समान रूप से और तेजी से होती है यह शरीर और मन के बैलेन्स को ठीक रखता है| मोटापे से मुक्ति का लाभ भी प्राप्त होता है इससे मानसिक एकाग्रता बढ़ती है। नेत्र ज्योति और सिर स्थिर रखने में सहायता मिलती है इसके निरंतर उपयोग से शरीर हलकेपन का अनुभव करता है। *वायुयानासन की विधि –* सर्वप्रथम किसी शांत समतल और स्वच्छ स्थान पर आसन बिछाकर सीधे खड़े हो जावे गिर दोनों हाथों को बगलों में सीधे कर बाजू खोले। ऐसी ही स्थिति बनाये रखते हुए कमर के पास थोड़ा झुकें | दाये पाव पर अपना वजन स्थिर रखते हुए बायाँ पैर पीछे की ओर उठा कर लम्बा करें। यह स्थिति एक वायुयान सरीखी होगी जिसमें दोनों हाथ सिर कमर व पैर एक सीध में होकर समान ऊंचाई पर होंगे कुछ समय शरीर की स्थिति वायुयान के रूप में ही रखे । साँस सामान्य रहे। सारे शरीर पर ध्यान दें | इसी तरह बाया पैर बदल कर भी यह आसन दोहराए । *वायुयानासन में सावधानियां* 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ वैसे तो ये आसन सामान्य आसन है तथापि इसे सावधानी से किया जाना चाहिए अन्यथा हानि हो सकती है कमर दर्द य़ा जोड़ो के अत्यधिक दर्द वाले रोगी पूर्ण गर्भावस्था क़ी स्थिति में महिला य़ा हाल ही में हुए सर्जरी में इस आसन को ना करें 🇮🇳 वन्दे मातरम सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 4, 2021

💎 पुदीना से उपचार.. https://m.facebook.com/groups/367351564605027/permalink/480497016623814/ पौधे का परिचय श्रेणी : सगंधीय समूह : वनज वनस्पति का प्रकार : शाकीय वैज्ञानिक नाम : मेंथा अर्वेंसिस सामान्य नाम : पुदीना पौधे की जानकारी उपयोग : इसका प्रयोग बड़ी संख्या में औषधीय में सुगंध लाने के लिए किया जाता है। नाक और श्वसन संबंधी उपचार की दवा में व्यापक रूप से इसका प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा इसका प्रयोग नसों का दर्द और गठिया के उपचार में पीड़ा नाशक के रूप में किया जाता है 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ टूथपेस्ट, दंत क्रीम, मिठाई, पेय पदार्थ, तम्बाकू, सिगरेट और पान मसाला जैसे अन्य वस्तुओं के निर्माण में उपयोग किया जाता है। उपयोगी भाग : पत्तियाँ उत्पादन क्षमता : 20-25 टन/हेक्टेयर उत्पति और वितरण : ऐसा माना जाता है कि इसकी उपत्ति भूमध्य सागरीय क्षेत्र से हूई है और वहाँ से यह संपूर्ण विश्व में प्राकृतिक और कृत्रिम माध्यम से फैल गया। भारत, ब्राजील, पैराग्वे, चीन, अर्जेंटाईना, जापान, थाईलैंड और अंगोला में इसकी खेती की जाती है। भारत में इसकी खेती उत्तर प्रदेश व पंजाब में की जाती है। वितरण : मेन्थाल का मुख्य स्त्रोत पुदीना हैं। इसे जापानी पुदीना भी कहते है। यह एक छोटा शाकीय पौधा है जो सीधा उगता है। पौधा मुख्य रूप से बगीचे में उगाया जाने वाला शाकीय पौधा हैं। भारत में शीतोष्ण और उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में सफलता पूर्वक इसकी खेती की जाती है। वर्गीकरण विज्ञान, वर्गीकृत कुल : लेमीअऐसी आर्डर : लेमीअलेस प्रजातियां : मैंथा अर्वेन्सिस वितरण : मेन्थाल का मुख्य स्त्रोत पुदीना हैं। इसे जापानी पुदीना भी कहते है। यह एक छोटा शाकीय पौधा है जो सीधा उगता है। पौधा मुख्य रूप से बगीचे में उगाया जाने वाला शाकीय पौधा हैं। भारत में शीतोष्ण और उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में सफलता पूर्वक इसकी खेती की जाती है।।🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ आकृति विज्ञान, बाह्रय स्वरूप स्वरूप : यह एक कोमल, बहुवर्षीय शाकीय पौधा है जो जमीन के ऊपरी सतह पर रहती है। इसकी शाखाये शख्त और रोमिल होती है। पत्तिंया : पत्तियाँ नुकीली आयताकार, 3-7 से 10 से.मी. लंबी, दांतेदार और रोयेंदार होती है। फूल : फूल श्रेणी में होते है जो आमतौर पर बिना ठंडल के होते है। फूल बैंगनी रंग के छोटे होते है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
HEMANT JOSHI May 7, 2021

*_ 🚩🙏🏼🔱जय श्री महाकालेश्वर महादेव 🙏🏻 🔱*🌺🌿🌿🌿🌿 _*🔱~❗अंत ही आरंभ है❗~🔱*_ 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 *_ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।_* *_उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||_*🌿🌿 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 *_🚩जय श्री🕉 महाकालेश्वर ज्योतिर्लिन्गं नमो नम:||_*🚩🌿🌿 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 *_संपूर्ण ब्रह्मांड के राजा भस्माङ्गधारी स्वयम्भू 🕉 श्री ॐ महाकालेश्वर महाकाल महादेव जी के आज के दिव्य भस्मा आरती श्रृंगार दर्शन_*🚩🌿 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 *_🕉श्री महाकालेश्वर ॐ ज्योतिर्लिंग मन्दिर उज्जैन मध्यप्रदेश से_*🚩🌿 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 *07/ मई /(शुक्रवार)* 🌿 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 _🌿🕉🕉🕉🕉🌿 🌹🌹🌹🌹🌹 _*❗🚩❗🚩❗🚩❗🚩❗~श्री महाकाल प्रभु* ❗🚩❗🚩❗🚩🌹🌹🌹🌹 *🙏🏻शुभ शिवमय प्रभात वंदन 🙏*

+40 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 62 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB