Jay Shri Narayan

Jay Shri Narayan

+40 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 23 शेयर

कामेंट्स

RAJ RATHOD Apr 8, 2021
शुभ रात्रि वंदन जी * 😊🌹 🚩*_❥ जय श्री हरि विष्णु जी ❥_*🚩 🌃 🌌🌌🌌🌌🌌🌌🌌🌃 ¸.•*””*•.¸ *🌹💐🌹*🌸🌸🌸 🙏🏻🙏🏻 *””सदा मुस्कुराते रहिये””*😀😀

Devendra Tiwari Apr 8, 2021
🙏🌹Jai Shree Radhe Krishna🌹 Subh Ratri Bandan ji 🌹Sweet Dreams 💐💐🙏🙏

Brajesh Sharma Apr 8, 2021
मोर मुकुट बंसी वाले की जय श्री बांके बिहारी लाल की जय जय जय श्री राधे..जय श्री राधे कृष्णा जी.. ॐ नमःशिवाय.. हर हर महादेव

dhruv wadhwani Apr 9, 2021
जय मां लक्ष्मी सदा सहाय

Vishnubhai Suthar May 7, 2021

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 34 शेयर

+165 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 84 शेयर
Sanjay Airon May 7, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vishnubhai Suthar May 5, 2021

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Vishnubhai Suthar May 6, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Arun Kumar Sharma May 5, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+26 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 55 शेयर

+202 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 231 शेयर
Shanti Pathak May 7, 2021

,*जय श्री राधे कृष्णा जी* *शुभरात्रि वंदन* पाजिटिव रिपोर्ट। 15 दिनों की जद्दोजहद के बाद एक आदमी अपनी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट हाथ में लिए अस्पताल के रिसेप्शन पर खड़ा था। आसपास के कुछ लोग तालियां बजा कर उसका अभिनंदन कर रहे थे! जंग जो जीत कर आया था वो! लेकिन उस शख्स के चेहरे पर बेचैनी की गहरी छाया थी। गाड़ी में घर के पूरे रास्ते भर उसे आता रहा आइसोलेशन नामक खतरनाक ओर असहनीय दौर का वो मंजर। न्यूनतम सुविधाओं वाला वो छोटा सा कमरा अपर्याप्त उजाला मनोरंजन के किसी साधन की अनुपलब्धता और कोई बात नहीं करता था और न ही कोई नजदीक आता था खाना भी बस प्लेट में रख कर सरका दिया जाता था। कैसे गुजारे उसने वे 15 दिन वही जानता था। घर पहुंचते ही स्वागत में खड़े उत्साहित पत्नी और बच्चों को छोड़कर वह शख्स सीधे घर के एक उपेक्षित कोने के कमरे में गया जहाँ उसकी माँ पिछले पाॉच वर्षों से पडी़ थी। माँ के पावों में गिरकर वह खूब रोया और माँ को लेकर बाहर आया। पिता की मृत्यु के बाद पिछले 5 वषोॅ से एकांतवास (आइसोलेशन) भोग रही माँ से कहा , माँ आज से आप हम सब एक साथ एक जगह पर ही रहेंगे। माँ को भी बड़ा आश्चर्य हुआ कि बेटे ने उसकी पत्नी के सामने ऐसा कहने की हिम्मत कैसे कर ली? इतना बड़ा हृदय परिवर्तन अचानक कैसे हो गया? बेटे ने फिर अपने एकांतवास की सारी परिस्थितियों माँ को बताई और बोला अब मुझे अहसास हुआ कि एकांतवास कितना दुखदायी होता है? बेटे की नेगेटिव रिपोर्ट उसकी जिन्दगी की पाजिटिव रिपोर्ट बन गयी। संदेश - आज बहुत से बुजुर्गों के साथ यही समस्या है। जिस उम्र में उसे अपनों के सहारे की जरुरत महसूस होती है ,जब उन्हें बच्चों का साथ संजीवनी सा काम करता है उसी समय वे नितांत अकेले रह जाते हैं | असुरक्षा की भावना उनके अंतर्मन में इस कदर व्याप्त है कि उन्हें अपना जीवन व्यर्थ सा लगने लगा है ऐसे में हमारी यह जिम्मेदारी बनती है कि हम अपने बुजुर्गों का ध्यान रखें और उनका सहारा बनें। याद रहे जैसा व्यवहार आज आप अपने माँ बाप के साथ करेंगे,जैसा उदाहरण प्रस्तुत करेंगे, वैसा ही व्यवहार आपकी आने वाली पीढी आप के साथ करेगी।

+174 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 397 शेयर

+402 प्रतिक्रिया 84 कॉमेंट्स • 232 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB