Arti Kesarwani
Arti Kesarwani Apr 21, 2021

Jai Shree Ram🙏🙏🌹🌹🥰 Ramnavami ki aap sabhi ko Badhai🥰

+28 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 25 शेयर

कामेंट्स

+13 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर
VIDIA TOMAR May 11, 2021

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Manju Mahor May 11, 2021

+17 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Ansouya M 🍁 May 11, 2021

🌷🙏🌷श्री गणेशाय नमः 🌹🙏🌹 🙏🌷🙏🌷🌷🌷जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🙏🌷🙏🙏🌷🙏🙏जय सिया राम 🌹🙏🌹 🌷🙏🌷🌷🌷🌷जय बजरंगबली हनुमान 🙏 🙏🌷🙏🙏🙏🙏शुभ संध्या आप सभी स्नेही भक्त जनों को जी----जय सिया राम 🌹🙏🌹🌷🙏🌷 🌷🙏🌷उमा कहउ मैं अनुभव अपना। सत् हरि भजन जगत सब सपना"।।🚩 राम कथा सुन्दर करतारी। संसय बिहग उड़ावन हारी।।🚩 राम कथा सशि किरण समाना सन्त चकोर करहि जिमि पाना ।।🚩 भगवान शिव जी ने माँ पार्वती को यहाँ अत्यंत गूढ़ रहस्य को बहुत ही सरलता से प्रतिपादित कर दिया है. भगवान शिव पार्वती जी से कहते हैं कि हे उमा सुनो मैं तुम्हें अपना अनुभव बताता हूँ, ये कोई सुनी सुनाई बात नहीं है ये मेरा स्वयं का अनुभव है. ये सारा संसार एक स्वप्न की भांति झूठ है, अर्थात जैसे हम सोते हुए सपना देखते हैं, उस सपने में अनेकों प्रकार के पदार्थ देखते हैं. और जब तक हम वो सपना देख रहे होते हैं तब तक सपने में दीखने वाली प्रत्येक वस्तु हमें सत्य ही लगती है, और हम अपने वास्तविक जगत को उस समय पूरी तरह भूल जाते हैं. परन्तु जैसे ही हम जागते हैं तो सपने में देखे गये सभी पदार्थ अदृश्य हो जाते हैं क्योंकि वे वास्तव में कहीं नहीं है, वे तो बस हमारे मन में ही कल्पित हैं.। ठीक इसी प्रकार आत्मा भी अपने मन में इस संसार रूपी सपने को देख रहा है. जब तक आत्मा यह स्वप्न देखता है तब तक आत्मा को ये झूठा संसार ही सत्य लगता है क्योंकि उस समय वो अपना वास्तविक स्वरुप भूल जाता है (जैसे सोता हुआ व्यक्ति अपने शरीर को भूल जाता है और सपने में देखे गये शरीर को ही "ये मैं हूँ" ऐसा समझने लग जाता है). किन्तु हरिभजन से जैसे ही उसका स्वप्न भ्रम दूर होता है वैसे ही उसे अपने वास्तविक अविनाशी स्वरुप की प्रतीति होने लगती है. अतः हरि भजन ही सत्य है क्योंकि केवल वही सत्य स्वरुप परमात्मा का बोध कराता है। । जो मनुष्य श्रेष्ठ पुरुषों के साथ परमात्मा का विचार करके तथा बुद्धि से संसार-सागर का तत्त्व समझ कर जगत में विचरण करता है, वही वास्तविक शोभा पाता है।।🙏 🙏🙏उमा पति महादेव की जय 🙏🙏 🌷🙏🌷🙏सिया वर रामचन्द्र की जय 🌷🙏🌷🙏🌷🙏🌷सर्व भवन्तू सुखिनह ।।।।।🙏🙏 ✍️साभार - रामचरित मानस🚩

+91 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 24 शेयर
sanjay Awasthi May 11, 2021

+52 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Ajay Kumar May 11, 2021

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB