Manoj manu
Manoj manu Apr 9, 2021

🚩🏵🌿जय माता दी जय लक्ष्मी मैया 🌹🌺🙏 🌹🌹सुख ,शाँति ,समृद्धि और धन धान्य से परिपूर्ण करता है माँ लक्ष्मी का यह कनकधारा स्त्रोत :- महालक्ष्मी स्तोत्र की रचना श्री शंकराचार्य जी ने की थी।उनके इस स्तुति से प्रसन्न होकर माता लक्ष्मी जी ने स्वर्ण के आँवलों की वर्षा कराई थी इसलिए इसे कनकधारा स्तोत्र कहते हैं।अगर हमारी जन्मपत्रिका में दारिद्र्य योग हैं या जीवन मे लक्ष्मी का अभाव जान पड़ता है तो जरूर इसका प्रयोग करना चाहिए।धन को आकृष्ट करने की इसमें अद्भुत क्षमता है। 🌹🌹कनकधारा स्त्रोत पाठ विधि :- एक चौकी पर लाल या पीले कपड़े पर माँ कनकधारा लक्ष्मी की बैठी हुई प्रतिमा या फोटो लगायें और साथ में एक कनकधारा यंत्र स्थापित करें। रोजाना नियमित रूप से कनकधारा यंत्र के सामने धुप-बत्ती जलाये,और माता का पूजन कर गोघृत के दीपक से करें। अब इस कनकधारा स्तोत्र का नियमित पाठ करें।वैसे 16 पाठ करने को कहा गया है किन्तु एक पाठ जरूर करें। इस यंत्र की विशेषता है कि यह किसी भी प्रकार की विशेष माला, जप, पूजन, विधि-विधान की मांँग नहीं करता बल्कि सिर्फ दिन में एक बार इसको पढ़ना पर्याप्त है। 🌹🌹स्तोत्रअङ्गं हरे: पुलकभूषणमाश्रयन्तीभृंगांगनेव मुकुलाभरणं तमालम्अंगीकृताखिलविभूतिरपांगलीलामांगल्यदास्तु मम मंगलदेवताया: ।।1। 🌹🌹मुग्धा मुहुर्विदधती वदने मुरारे:प्रेमत्रपाप्रणिहितानि गतागतानि । माला दृशोर्मधुकरीव महोत्पले यासा मे श्रियं दिशतु सागरसम्भवाया:।।2।। 🌹🌹विश्वामरेन्द्रपदविभ्रमदानदक्ष –मानन्दहेतुरधिकं मुरविद्विषोsपि। ईषन्निषीदतु मयि क्षणमीक्षणार्ध –मिन्दीवरोदरसहोदरमिन्दिराया:।।3।। 🌹🌹आमीलिताक्षमधिगम्य मुदा मुकुन्द –मानन्दकन्दमनिमेषमनंगतन्त्रम्आकेकरस्थितकनीनिकपक्ष्मनेत्रंभूत्यै भवेन्मम भुजंगशयांनाया:।।4।। 🌹🌹बाह्वन्तरे मधुजित: श्रितकौस्तुभे याहारावलीव हरिनीलमयी विभाति। कामप्रदा भगवतोsपि कटाक्षमालाकल्याणमावहतु मे कमलालयाया:।।5।। 🌹🌹कालाम्बुदालिललितोरसि कैटभारे –र्धाराधरे स्फुरति या तडिदंगनेव । मातु: समस्तजगतां महनीयमूर्त्ति –र्भद्राणि मे दिशतु भार्गवनन्दनाया:।।6।। 🌹🌹प्राप्तं पदं प्रथमत: किल यत्प्रभावान्मांगल्यभाजि मधुमाथिनि मन्मथेन । 🌹🌹मय्यापतेत्तदिह मन्थरमीक्षणार्धंमन्दालसं च मकरालयकन्यकाया:।।7।। 🌹🌹दद्याद् दयानुपवनो द्रविणाम्बुधारा –मस्मिन्नकिंचनविहंगशिशौ विषण्णे। दुष्कर्मघर्ममपनीय चिराय दूरंनारायणप्रणयिनीनयनाम्बुवाह:।।8।। 🌹🌹इष्टा विशिष्टमतयोsपि यया दयार्द्र –दृष्ट्या त्रिविष्टपपदं सुलभं लभन्ते। दृष्टि: प्रहृष्टकमलोदरदीप्तिरिष्टांपुष्टिं कृषीष्ट मम पुष्करविष्टराया:।।9।। 🌹🌹गीर्देवतेति गरुड़ध्वजसुन्दरीतिशाकम्भरीति शशिशेखरवल्लभेति। सृष्टिस्थितिप्रलयकेलिषु संस्थितायैतस्यै नमस्त्रिभुवनैकगुरोस्तरुण्यै।।10।। 🌹🌹श्रुत्यै नमोsस्तु शुभकर्मफलप्रसूत्यैरत्यै नमोsस्तु रमणीयगुणार्णवायै। 🌹🌹शक्त्यै नमोsस्तु शतपत्रनिकेतनायैपुष्ट्यै नमोsस्तु पुरुषोत्तमवल्लभायै।।11।। नमोsस्तु नालीकनिभाननायैनमोsस्तु दुग्धोदधिजन्मभूत्यै। नमोsस्तु सोमामृतसोदरायैनमोsस्तु नारायणवल्लभायै।।12।। 🌹🌹नमोऽस्तु हेमाम्बुजपीठिकायैनमोऽस्तु भूमण्डलनायिकायै । नमोऽस्तु देवादिदयापरायैनमोऽस्तु शार्ङ्गायुधवल्लभायै।।13।। 🌹🌹नमोऽस्तु देव्यै भृगुनन्दनायैनमोऽस्तु विष्णोरुरसि स्थितायै । नमोऽस्तु लक्ष्म्यै कमलालयायैनमोऽस्तु दामोदरवल्लभायै।।14।। 🌹🌹नमोऽस्तु कान्त्यै कमलेक्षणायैनमोऽस्तु भूत्यै भुवनप्रसूत्यै । नमोऽस्तु देवादिभिरर्चितायैनमोऽस्तु नन्दात्मजवल्लभायै।।15।। 🌹🌹सम्पत्कराणि सकलेन्द्रियनन्दनानिसाम्राज्यदानविभवानि सरोरुहाक्षि। त्वद्वन्दनानि दुरिताहरणोद्यतानिमामेव मातरनिशं कलयन्तु मान्ये।।16।। 🌹🌹यत्कटाक्षसमुपासनाविधि:सेवकस्य सकलार्थसम्पद:। संतनोति वचनांगमानसै –स्त्वां मुरारिहृदयेश्वरीं भजे।।17।। 🌹🌹सरसिजनिलये सरोजहस्तेधवलतमांशुकगन्धमाल्यशोभे। भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञेत्रिभुवनभूतिकरि प्रसीद मह्यम् ।।18।। 🌹🌹दिग्घस्तिभि: कनककुम्भमुखावसृष्ट –स्वर्वाहिनीविमलचारुजलप्लुतांगीम् । प्रातर्नमामि जगतां जननीमशेष –लोकाधिनाथगृहिणीममृताब्धिपुत्रीम् ।।19।। 🌹🌹कमले कमलाक्षवल्लभेत्वं करुणापूरतरंगितैरपांगै:। अवलोकय मामकिंचनानांप्रथमं पात्रमकृत्रिमं दयाया:।।20।। 🌹🌹देवि प्रसीद जगदीश्वरि लोकमातःकल्याणगात्रि कमलेक्षणजीवनाथे । दारिद्र्यभीतिहृदयं शरणागतं माम्आलोकय प्रतिदिनं सदयैरपाङ्गैः।।21। 🌹🌹स्तुवन्ति ये स्तुतिभिरमूभिरन्वहंत्रयीमयीं त्रिभुवनमातरं रमाम् । गुणाधिका गुरुतरभाग्यभागिनोभवन्ति ते भुवि बुधभाविताशया:।।22।।।। इति श्रीमच्छंकराचार्यविरचितं कनकधारास्तोत्रं सम्पूर्णम्।। 🌹🌿🌹🌿माता लक्ष्मी जी सभी का सदा कल्याण करें सदा मंगल प्रदान करें जय माता दी 🌹🌿🌹🌿🙏

🚩🏵🌿जय माता दी जय लक्ष्मी मैया 🌹🌺🙏
🌹🌹सुख ,शाँति ,समृद्धि और धन धान्य से परिपूर्ण करता है माँ लक्ष्मी का यह कनकधारा स्त्रोत :-
महालक्ष्मी स्तोत्र की रचना श्री शंकराचार्य जी ने की थी।उनके इस स्तुति से प्रसन्न होकर माता लक्ष्मी जी ने स्वर्ण के आँवलों की वर्षा कराई थी इसलिए इसे कनकधारा स्तोत्र कहते हैं।अगर हमारी जन्मपत्रिका में दारिद्र्य योग हैं या जीवन मे लक्ष्मी का अभाव जान पड़ता है तो जरूर इसका प्रयोग करना चाहिए।धन को आकृष्ट करने की इसमें अद्भुत क्षमता है।
🌹🌹कनकधारा स्त्रोत पाठ विधि :-
एक चौकी पर लाल या पीले कपड़े पर माँ कनकधारा लक्ष्मी की बैठी हुई प्रतिमा या फोटो लगायें और साथ में एक कनकधारा यंत्र स्थापित करें।
रोजाना नियमित रूप से कनकधारा यंत्र के सामने धुप-बत्ती जलाये,और माता का पूजन कर गोघृत के दीपक  से करें। अब इस कनकधारा स्तोत्र का नियमित पाठ करें।वैसे 16 पाठ करने को कहा गया है किन्तु एक पाठ जरूर करें। इस यंत्र की विशेषता है कि यह किसी भी प्रकार की विशेष माला, जप, पूजन, विधि-विधान की मांँग नहीं करता बल्कि सिर्फ दिन में एक बार इसको पढ़ना पर्याप्त है।
🌹🌹स्तोत्रअङ्गं हरे: पुलकभूषणमाश्रयन्तीभृंगांगनेव मुकुलाभरणं 
तमालम्अंगीकृताखिलविभूतिरपांगलीलामांगल्यदास्तु 
मम मंगलदेवताया: ।।1। 
🌹🌹मुग्धा मुहुर्विदधती वदने मुरारे:प्रेमत्रपाप्रणिहितानि गतागतानि ।
माला दृशोर्मधुकरीव महोत्पले यासा मे श्रियं दिशतु सागरसम्भवाया:।।2।।
🌹🌹विश्वामरेन्द्रपदविभ्रमदानदक्ष –मानन्दहेतुरधिकं मुरविद्विषोsपि।
ईषन्निषीदतु मयि क्षणमीक्षणार्ध –मिन्दीवरोदरसहोदरमिन्दिराया:।।3।।
🌹🌹आमीलिताक्षमधिगम्य मुदा मुकुन्द –मानन्दकन्दमनिमेषमनंगतन्त्रम्आकेकरस्थितकनीनिकपक्ष्मनेत्रंभूत्यै
भवेन्मम भुजंगशयांनाया:।।4।।
🌹🌹बाह्वन्तरे मधुजित: श्रितकौस्तुभे याहारावलीव हरिनीलमयी विभाति।
कामप्रदा  भगवतोsपि कटाक्षमालाकल्याणमावहतु मे कमलालयाया:।।5।।
🌹🌹कालाम्बुदालिललितोरसि कैटभारे –र्धाराधरे स्फुरति या तडिदंगनेव ।
मातु: समस्तजगतां महनीयमूर्त्ति –र्भद्राणि मे दिशतु भार्गवनन्दनाया:।।6।।
🌹🌹प्राप्तं पदं प्रथमत: किल यत्प्रभावान्मांगल्यभाजि मधुमाथिनि मन्मथेन ।
🌹🌹मय्यापतेत्तदिह मन्थरमीक्षणार्धंमन्दालसं च मकरालयकन्यकाया:।।7।।
🌹🌹दद्याद् दयानुपवनो द्रविणाम्बुधारा –मस्मिन्नकिंचनविहंगशिशौ विषण्णे।
दुष्कर्मघर्ममपनीय चिराय दूरंनारायणप्रणयिनीनयनाम्बुवाह:।।8।।
🌹🌹इष्टा विशिष्टमतयोsपि यया दयार्द्र –दृष्ट्या त्रिविष्टपपदं सुलभं लभन्ते।
दृष्टि: प्रहृष्टकमलोदरदीप्तिरिष्टांपुष्टिं कृषीष्ट मम पुष्करविष्टराया:।।9।।
🌹🌹गीर्देवतेति गरुड़ध्वजसुन्दरीतिशाकम्भरीति शशिशेखरवल्लभेति।
सृष्टिस्थितिप्रलयकेलिषु संस्थितायैतस्यै नमस्त्रिभुवनैकगुरोस्तरुण्यै।।10।।
🌹🌹श्रुत्यै नमोsस्तु शुभकर्मफलप्रसूत्यैरत्यै नमोsस्तु रमणीयगुणार्णवायै।
🌹🌹शक्त्यै नमोsस्तु शतपत्रनिकेतनायैपुष्ट्यै नमोsस्तु पुरुषोत्तमवल्लभायै।।11।।
नमोsस्तु नालीकनिभाननायैनमोsस्तु दुग्धोदधिजन्मभूत्यै।
नमोsस्तु सोमामृतसोदरायैनमोsस्तु नारायणवल्लभायै।।12।।
🌹🌹नमोऽस्तु हेमाम्बुजपीठिकायैनमोऽस्तु भूमण्डलनायिकायै ।
नमोऽस्तु देवादिदयापरायैनमोऽस्तु शार्ङ्गायुधवल्लभायै।।13।।
🌹🌹नमोऽस्तु देव्यै भृगुनन्दनायैनमोऽस्तु विष्णोरुरसि स्थितायै ।
नमोऽस्तु लक्ष्म्यै कमलालयायैनमोऽस्तु दामोदरवल्लभायै।।14।।
🌹🌹नमोऽस्तु कान्त्यै कमलेक्षणायैनमोऽस्तु भूत्यै भुवनप्रसूत्यै ।
नमोऽस्तु देवादिभिरर्चितायैनमोऽस्तु नन्दात्मजवल्लभायै।।15।।
🌹🌹सम्पत्कराणि सकलेन्द्रियनन्दनानिसाम्राज्यदानविभवानि सरोरुहाक्षि।
त्वद्वन्दनानि दुरिताहरणोद्यतानिमामेव मातरनिशं कलयन्तु मान्ये।।16।।
🌹🌹यत्कटाक्षसमुपासनाविधि:सेवकस्य सकलार्थसम्पद:।
संतनोति वचनांगमानसै –स्त्वां मुरारिहृदयेश्वरीं भजे।।17।।
🌹🌹सरसिजनिलये सरोजहस्तेधवलतमांशुकगन्धमाल्यशोभे।
भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञेत्रिभुवनभूतिकरि प्रसीद मह्यम् ।।18।।
🌹🌹दिग्घस्तिभि: कनककुम्भमुखावसृष्ट –स्वर्वाहिनीविमलचारुजलप्लुतांगीम् ।
प्रातर्नमामि जगतां जननीमशेष –लोकाधिनाथगृहिणीममृताब्धिपुत्रीम् ।।19।।
🌹🌹कमले कमलाक्षवल्लभेत्वं करुणापूरतरंगितैरपांगै:।
अवलोकय मामकिंचनानांप्रथमं पात्रमकृत्रिमं दयाया:।।20।।
🌹🌹देवि प्रसीद जगदीश्वरि लोकमातःकल्याणगात्रि कमलेक्षणजीवनाथे ।
दारिद्र्यभीतिहृदयं शरणागतं माम्आलोकय प्रतिदिनं सदयैरपाङ्गैः।।21।
🌹🌹स्तुवन्ति ये स्तुतिभिरमूभिरन्वहंत्रयीमयीं   त्रिभुवनमातरं रमाम् ।
गुणाधिका गुरुतरभाग्यभागिनोभवन्ति ते भुवि बुधभाविताशया:।।22।।।।
इति श्रीमच्छंकराचार्यविरचितं कनकधारास्तोत्रं सम्पूर्णम्।।
🌹🌿🌹🌿माता लक्ष्मी जी सभी का सदा कल्याण करें सदा मंगल प्रदान करें जय माता दी 🌹🌿🌹🌿🙏

+366 प्रतिक्रिया 108 कॉमेंट्स • 185 शेयर

कामेंट्स

Shanti pathak Apr 11, 2021
🌷🙏🌷ओम् सूर्यदेवाय नमः🙏 शुभ संध्या वंदन भाई जी🌷आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो🌷आरोग्य के देव भगवान सूर्यदेव की असीम कृपा आप एवं आपके परिवार पर सदैव बनी रहे भाई जी🙏🌷

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 Apr 11, 2021
Good Evening My Bhai ji 🙏🙏 Om Surayadev Namah 🙏🙏🌹🌹🌹 Surayadev Bhagwan Ki Kripa Dristi Aap Our Aapke Priwar Per Hamesha Sada Bhni Rahe ji 🙏 Aapka Har Din Shub Mangalmay Ho ji 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷.

Hemant Kasta Apr 11, 2021
Jai Shree Krishna Ji Namah, Radhe Radhe Ji, Beautiful Post, Anmol Massage, Dhanywad Aadaraniy Brother Ji Namaskar, Aap Aur Aapka Parivar Har Din Har Pal Khushiyo Se Bhara Rahe, Aap Sadaiv Hanste Muskurate Rahiye, Vandan Brother Ji, Jai Shree Radhe Krishna Ji, Shubh Ratri.

🌹bk preeti 🌹 Apr 11, 2021
om Surya devaya namaha Surya dev ji ka Kirpa sada aap aur aap ke family pe bani rahe aap ka har pal Shubh aur mangalmay Ho shubh ratri vandan ji Bhaiyaji 🍧🍵✍️✍️🙏💐💐🌹🌹🙋‍♀️🙋‍♀️🙋‍♀️🙋‍♀️

Harpal bhanot Apr 11, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी शुभ रात्रि वंदन जी

sanjay Sharma Apr 11, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जय श्री सीताराम जय श्री सूर्य देव ओम् सुर्य देवाय नमः शुभ संध्या जी भाई आप सदा खुश रहिए और जीवन में सदैव कामयाबी हासिल करते रहे

seema soni Apr 11, 2021
good night bhaiya ji 🙏 Jai shree krishna ji 🙏🙏

Ragni Dhiwar Apr 11, 2021
🥀शुभ रात्रि वंदन भैया जी 🌼आप सदैव प्रसन्न रहें 🥀 आपका हरपल सुंदर व मंगलमय हो 🌼 राधे-राधे 🥀🙏🥀

BK WhatsApp STATUS Apr 12, 2021
जय माता महालक्ष्मी नमो नमः शुभ प्रभात स्नेह वंदन धन्यवाद 🌹🙏🙏🙏👌👌👍👍🕉️🌄

sanjay Sharma Apr 12, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जय श्री सीताराम जय शिव शंकर ओम् नमः शिवाय हर हर महादेव शुभ दोपहरी जी भाई आप सदा खुश रहिए और जीवन में सदैव कामयाबी हासिल करते रहे ईश्वर आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती रहें आपका हर पल सुखमय हो

Harpal bhanot Apr 12, 2021
हर हर महादेव जी शुभ रात्रि वंदन जी

Renu Singh Apr 12, 2021
Shubh Ratri Bhai Ji 🙏🌹 Jai Mata Di 🌹🙏 Aàpko aur Aàpke Samast Pariwar ko Navratri ki Hardik Shubh Kamnayein Bhai ji 🙏🌹

saumya sharma Apr 12, 2021
ओम् नमः शिवाय 🙏शुभ रात्रि वंदन भाई जी🌹भोले भंडारी की कृपा से आपके जीवन की नाँव खुशियों के समुंदर में लहराती रहे 🙏आप स्वस्थ रहें, हँसते मुस्कुराते रहें 🌹😊👍

🙋🅰NJALI😊ⓂISH®🅰🙏 Apr 12, 2021
*श्री शिवाय नमस्तुभ्यं*🙏ॐ नमः शिवाय*🔱 शुभ रात्रि मेरे आदरणीय भइया जी 🙏आपका हर पल शुभ हो👌भगवान् शंकर जी की कृपा दृष्टि सदा आप पर बनी रहें.. 🌹बाबा श्री महाकाल जी आपको एवं आपके समस्त परिवार को सदा सुखी एवं स्वास्थ्य रखें 🙌🙏🌿☆ हर हर महादेव☆🌿🙏🚩🌿🌿🌿🌿💐

sanjay choudhary Apr 13, 2021
🙏🙏 जय माता दी 🙏🙏 🙏🙏 आप सभी को चेत्र नवरात्रि की बहुत बहुत शुभकामनाऐ।।।। माता रानी की कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे।।।।। ।।।। शुभ प्रभातं जी।।।।�🍁🍁

Babita Sharma Apr 13, 2021
भारतीय *नववर्ष विक्रमी संवत् 2078* पर आपको व आपके अपनों को हार्दिक शुभकामनाएं भाई🙏🙏 प्रार्थना है कि इन नवरात्रों से मां जगदम्बे हम सभी पर उत्तम स्वास्थ्य सहित असीम अनुकंपा बनाये रखें। 🙏🙏जय माता दी 🚩

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB