sumitra
sumitra Nov 30, 2019

jAi Shree Shnidev🙏🙏🙏 ji sbhi bhai baheno ko subh ki Ram Ram 🙏 🙏🙏🚩🚩🚩🚩

jAi Shree Shnidev🙏🙏🙏 ji sbhi bhai baheno ko subh ki Ram Ram 🙏 🙏🙏🚩🚩🚩🚩

+1565 प्रतिक्रिया 234 कॉमेंट्स • 418 शेयर

कामेंट्स

Aruna Sharma (anu) Nov 30, 2019
🙏🚩जय माता दी जी🚩🙏 🙏राधे राधे जी आप पर प्रभु जी की मेहर सदा बनी रहे जी 🙏सभी बहन भाईयों को शुभरात्रि जी🙏🌹🎋☘🌸🌼🍀🌿🌻🍃🍁🍂🌹 तमन्ना करते हो जिन खुशियों की, दुआ है वह खुशिया आपके कदमो मे हो, खुदा आपको वह सब हक़ीक़त मे दे, जो कुछ आपके सपनो में हो. 🌹🌹🌹Good Night🌹🌹🌹

brijmohan kaseara Nov 30, 2019
it is all the best good night ji didi ji welcome ji jay shree mahakal ji God bless you didi ji

Bhagirath Jangid Nov 30, 2019
शुभ रात्रि जी बहना जय सियाराम जी

Neetu koshik Nov 30, 2019
RAM Ram ji Gud Night dear Sis GBU Stay Blessed always💐💐🍫🍫🙏🙏

ghanshyam sharma Nov 30, 2019
🙏🚩🕉️👍🌷🏵️🌹🌺🕉️🚩🙏 जय श्री राम जी की जय हो 🙏 शुभ रात्रि वंदन बहन जी 🙏 श्री राधे राधे जी 🙏

Pradeep Kumar Yadav Nov 30, 2019
Jai shri Ram jai Hanuman ji ki kripa aap aur aapke Family par sada bani Rahe Good night sister Ram Ram

((OP JAIN)) (Raj)🌱🌱🌹🌱🌱 Dec 1, 2019
जय जिनेन्द्र सा ॐ सूर्य देवाय: नमः आपका दिन शुभ और मंगलमय हो शुभ रविवार मंगल प्रभात दीदी

Ajitsinh Dec 1, 2019
गुड मॉर्निंग र।धेकृष्ण

Rajesh Lakhani Dec 1, 2019
OM SHREE SURYAY NAMAH SHUBH PRABHAT BEHENA BHAGVAN SHREE SURYA NARAYAN DEV KI KRUPA AAP PER OR AAP KE PARIVAR PER SADA BANI RAHE AAP KA DIN SHUBH OR MANGALMAYE HO BEHENA PRANAM

शांतनु मिश्रा Dec 1, 2019
🌹🙏🙋‍♂शुभ प्रभात वंदन 🙋‍♂🙏🌹 नमस्ते प्रणाम दीदी को 👏👏🌞 आज का दिन शुभ तथा मंगलमयी हो श्री सीताराम जी की विवाहोत्सव की पावन पर्व पे आप सभी परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ एवं श्री सीताराम जी की अनंत कृपा दृष्टि बनी रहे सभी सुखी हो स्वस्थ रहें मेरी दीदी सदा स्वस्थ रहें सुखी हो, निरोग हो 🏹जय श्री राम 🏹🌹💐💐🙏🙏🙋‍♂

Dharma Saini Dec 1, 2019
जय श्री राम जय बजरंग बली 🙏🙏🙏🙏🙏

Preeti jain Dec 1, 2019
ram ram ji meri pyari sweet didi 🙏 god bless you and your family have a nice day always be happy good morning ji didi 🌳🍁🌹🙏🌺

Ramswaroop Chaurasia Dec 1, 2019
jai shre sita ram ji jai 🍁🍁🌷🌷⚘⚘shre anjanilal ki kirpa hamesa bani rahe ji with ❤❤🌹🌺🌺🌻🌲🌲🌞🍒🍒your family jai Mata di

thakor l.m.gujrat Dec 1, 2019
जय श्री राम जय श्री कृष्ण राधे राधे जी 🙏🙏🌹🌹🙏 शुभ प्रभात वंदन जी 🙏🙏🌹🌹🙏🏵️🌹

K K MORI Dec 2, 2019
ऊँ नमः शिवाय हर हर महादेव 🙏 शुभ प्रभात वंदन बहन जी आप एवं आपके समस्त परिवार पर बाबा भोलेनाथ भगवान शिव की असीम कृपा हमेशा हमेशा बनी रहे!! बहन जी आप का दिन शुभ मंगलमय हो 🌸🌹

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
dheeraj Kumar Jan 25, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Meena Dubey Jan 25, 2020

+32 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 24 शेयर
champalal m kadela Jan 26, 2020

+124 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 52 शेयर
champalal m kadela Jan 26, 2020

+24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 41 शेयर
Neha Sharma, Haryana Jan 27, 2020

*ओम् नमः शिवाय*🥀🥀🙏 *शुभ प्रभात् वंदन*🥀🥀🙏 भगवान शिव ने मातापार्वती को बताए थे जीवन के ये पांच रहस्य भगवान शिव ने देवी पार्वती को समय-समय पर कई ज्ञान की बातें बताई हैं। जिनमें मनुष्य के सामाजिक जीवन से लेकर पारिवारिक और वैवाहिक जीवन की बातें शामिल हैं। भगवान शिव ने देवी पार्वती को 5 ऐसी बातें बताई थीं जो हर मनुष्य के लिए उपयोगी हैं, जिन्हें जानकर उनका पालन हर किसी को करना ही चाहिए- 1. क्या है सबसे बड़ा धर्म और सबसे बड़ा पाप देवी पार्वती के पूछने पर भगवान शिव ने उन्हें मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा धर्म और अधर्म मानी जाने वाली बात के बारे में बताया है। भगवान शंकर कहते है- श्लोक- नास्ति सत्यात् परो नानृतात् पातकं परम्।। अर्थात- मनुष्य के लिए सबसे बड़ा धर्म है सत्य बोलना या सत्य का साथ देना और सबसे बड़ा अधर्म है असत्य बोलना या उसका साथ देना। इसलिए हर किसी को अपने मन, अपनी बातें और अपने कामों से हमेशा उन्हीं को शामिल करना चाहिए, जिनमें सच्चाई हो, क्योंकि इससे बड़ा कोई धर्म है ही नहीं। असत्य कहना या किसी भी तरह से झूठ का साथ देना मनुष्य की बर्बादी का कारण बन सकता है। 2. काम करने के साथ इस एक और बात का रखें ध्यान श्लोक- आत्मसाक्षी भवेन्नित्यमात्मनुस्तु शुभाशुभे। अर्थात- मनुष्य को अपने हर काम का साक्षी यानी गवाह खुद ही बनना चाहिए, चाहे फिर वह अच्छा काम करे या बुरा। उसे कभी भी ये नहीं सोचना चाहिए कि उसके कर्मों को कोई नहीं देख रहा है। कई लोगों के मन में गलत काम करते समय यही भाव मन में होता है कि उन्हें कोई नहीं देख रहा और इसी वजह से वे बिना किसी भी डर के पाप कर्म करते जाते हैं, लेकिन सच्चाई कुछ और ही होती है। मनुष्य अपने सभी कर्मों का साक्षी खुद ही होता है। अगर मनुष्य हमेशा यह एक भाव मन में रखेगा तो वह कोई भी पाप कर्म करने से खुद ही खुद को रोक लेगा। 3. कभी न करें ये तीन काम करने की इच्छा श्लोक-मनसा कर्मणा वाचा न च काड्क्षेत पातकम्। अर्थात- आगे भगवान शिव कहते है कि- किसी भी मनुष्य को मन, वाणी और कर्मों से पाप करने की इच्छा नहीं करनी चाहिए। क्योंकि मनुष्य जैसा काम करता है, उसे वैसा फल भोगना ही पड़ता है। यानि मनुष्य को अपने मन में ऐसी कोई बात नहीं आने देना चाहिए, जो धर्म-ग्रंथों के अनुसार पाप मानी जाए। न अपने मुंह से कोई ऐसी बात निकालनी चाहिए और न ही ऐसा कोई काम करना चाहिए, जिससे दूसरों को कोई परेशानी या दुख पहुंचे। पाप कर्म करने से मनुष्य को न सिर्फ जीवित होते हुए इसके परिणाम भोगना पड़ते हैं बल्कि मारने के बाद नरक में भी यातनाएं झेलना पड़ती हैं। 4. सफल होने के लिए ध्यान रखें ये एक बात संसार में हर मनुष्य को किसी न किसी मनुष्य, वस्तु या परिस्थित से आसक्ति यानि लगाव होता ही है। लगाव और मोह का ऐसा जाल होता है, जिससे छूट पाना बहुत ही मुश्किल होता है। इससे छुटकारा पाए बिना मनुष्य की सफलता मुमकिन नहीं होती, इसलिए भगवान शिव ने इससे बचने का एक उपाय बताया है। श्लोक-दोषदर्शी भवेत्तत्र यत्र स्नेहः प्रवर्तते। अनिष्टेनान्वितं पश्चेद् यथा क्षिप्रं विरज्यते।। अर्थात- भगवान शिव कहते हैं कि- मनुष्य को जिस भी व्यक्ति या परिस्थित से लगाव हो रहा हो, जो कि उसकी सफलता में रुकावट बन रही हो, मनुष्य को उसमें दोष ढूंढ़ना शुरू कर देना चाहिए। सोचना चाहिए कि यह कुछ पल का लगाव हमारी सफलता का बाधक बन रहा है। ऐसा करने से धीरे-धीरे मनुष्य लगाव और मोह के जाल से छूट जाएगा और अपने सभी कामों में सफलता पाने लगेगा। 5. यह एक बात समझ लेंगे तो नहीं करना पड़ेगा दुखों का सामना श्लोक-नास्ति तृष्णासमं दुःखं नास्ति त्यागसमं सुखम्। सर्वान् कामान् परित्यज्य ब्रह्मभूयाय कल्पते।। अर्थात- आगे भगवान शिव मनुष्यो को एक चेतावनी देते हुए कहते हैं कि- मनुष्य की तृष्णा यानि इच्छाओं से बड़ा कोई दुःख नहीं होता और इन्हें छोड़ देने से बड़ा कोई सुख नहीं है। मनुष्य का अपने मन पर वश नहीं होता। हर किसी के मन में कई अनावश्यक इच्छाएं होती हैं और यही इच्छाएं मनुष्य के दुःखों का कारण बनती हैं। जरुरी है कि मनुष्य अपनी आवश्यकताओं और इच्छाओं में अंतर समझे और फिर अनावश्यक इच्छाओं का त्याग करके शांत मन से जीवन बिताएं। *🌻कान दर्द से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय* *🌻लहसुन की 10-12 कलियों को छीलकर रख लें। इन कलियों को अच्छी तरह पीस या कूट लें। पीसते या कूटते समय इसमें 10-12 बूंद पानी मिला लें। अब इसे किसी कपड़े या महीन छन्नी से छान या निचोड़ लें। दर्द बाली कान में उस रस के 2 बून्द रस कान में डालने से दर्द से राहत मिलता है ।* *🌻लहसुन की कलियों को 2 चम्‍मच तिल के तेल में तब तक गरम करें जब तक कि वह काला ना हो जाए। फिर इसे तेल की 2-3 बूंदे कानों में टपका लें।* *🌻जैतून के पत्तों के रस को गर्म करके बूंद-बूंद करके कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है।* *🌻तुलसी के पत्तों का रस गुनगुना कर दो-दो बूंद सुबह-शाम डालने से कान के दर्द में राहत मिलती है।* *🌻प्याज का रस निकाल लें,अब रुई के फाये या किसी वूलेन कपडे के टुकडे को इस रस में डुबायें अब इसे कान के ऊपर निचोड़ दें ,इससे कान में उत्पन्न सूजन,दर्द ,लालिमा एवं संक्रमण को कम करने में मदद मिलती है।* *🌻कान में दर्द हो रहा है तो अदरक का रस निकालकर दो बूंद कान में टपका देने से भी दर्द और सूजन में काफी आराम मिलता है।*

+447 प्रतिक्रिया 46 कॉमेंट्स • 230 शेयर
Queen Jan 26, 2020

+441 प्रतिक्रिया 46 कॉमेंट्स • 61 शेयर

*👣।।संत महिमा।।👣* एक जंगल में एक संत अपनी कुटिया में रहते थे। एक किरात (शिकारी), जब भी वहाँ से निकलता संत को प्रणाम ज़रूर करता था। एक दिन किरात संत से बोला की बाबा मैं तो मृग का शिकार करता हूँ, आप किसका शिकार करने जंगल में बैठे हैं.? संत बोले - श्री कृष्ण का, और फूट फूट कर रोने लगे। किरात बोला अरे, बाबा रोते क्यों हो ? मुझे बताओ वो दिखता कैसा है ? मैं पकड़ के लाऊंगा उसको। संत ने भगवान का वह मनोहारी स्वरुप वर्णन कर दिया.... कि वो सांवला सलोना है, मोर पंख लगाता है, बांसुरी बजाता है। किरात बोला: बाबा जब तक आपका शिकार पकड़ नहीं लाता, पानी भी नही पियूँगा। फिर वो एक जगह जाल बिछा कर बैठ गया... 3 दिन बीत गए प्रतीक्षा करते करते, दयालू ठाकुर को दया आ गयी, वो भला दूर कहाँ है, बांसुरी बजाते आ गए और खुद ही जाल में फंस गए। किरात तो उनकी भुवन मोहिनी छवि के जाल में खुद फंस गया और एक टक शयाम सुंदर को निहारते हुए अश्रु बहाने लगा, जब कुछ चेतना हुयी तो बाबा का स्मरण आया और जोर जोर से चिल्लाने लगा शिकार मिल गया, शिकार मिल गया, शिकार मिल गया, और ठाकुरजी की ओर देख कर बोला, अच्छा बच्चू .. 3 दिन भूखा प्यासा रखा, अब मिले हो, और मुझ पर जादू कर रहे हो। शयाम सुंदर उसके भोले पन पर रीझे जा रहे थे एवं मंद मंद मुस्कान लिए उसे देखे जा रहे थे। किरात, कृष्ण को शिकार की भांति अपने कंधे पे डाल कर और संत के पास ले आया। बाबा, आपका शिकार लाया हूँ.... बाबा ने जब ये दृश्य देखा तो क्या देखते हैं किरात के कंधे पे श्री कृष्ण हैं और जाल में से मुस्कुरा रहे हैं। संत के तो होश उड़ गए, किरात के चरणों में गिर पड़े, फिर ठाकुर जी से कातर वाणी में बोले - हे नाथ मैंने बचपन से अब तक इतने प्रयत्न किये, आप को अपना बनाने के लिए घर बार छोडा, इतना भजन किया आप नही मिले और इसे 3 दिन में ही मिल गए...!! भगवान बोले - इसका तुम्हारे प्रति निश्छल प्रेम व कहे हुए वचनों पर दृढ़ विश्वास से मैं रीझ गया और मुझ से इसके समीप आये बिना रहा नहीं गया। भगवान तो भक्तों के संतों के आधीन ही होतें हैं। जिस पर संतों की कृपा दृष्टि हो जाय उसे तत्काल अपनी सुखद शरण प्रदान करतें हैं। किरात तो जानता भी नहीं था की भगवान कौन हैं। पर संत को रोज़ प्रणाम करता था। संत प्रणाम और दर्शन का फल ये है कि 3 दिन में ही ठाकुर मिल गए । यह होता है संत की संगति का परिणाम!! *"संत मिलन को जाईये तजि ममता अभिमान, ज्यो ज्यो पग आगे बढे कोटिन्ह यज्ञ समान"*

+356 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 316 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB