अहिल्या उद्धार स्थल अहिल्या स्थान अधिकारी कमतौल दरभंगा

अहिल्या उद्धार स्थल अहिल्या स्थान अधिकारी कमतौल दरभंगा

अहिल्या उद्धार स्थल
अहिल्या स्थान
अधिकारी कमतौल दरभंगा

+17 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Tapsya Apr 19, 2021

+31 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 47 शेयर
SunitaSharma Apr 19, 2021

+22 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 19 शेयर

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+92 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 214 शेयर
Ravi Kumar Taneja Apr 19, 2021

🕉 *जय माँ कालरात्रि* 🕉 *दुर्गा माँ के सातवें स्वरूप को मां कालरात्रि कहा जाता है. रंग काला होने के कारण ही इन्हें कालरात्रि नाम दिया गया... मान्यताओं के अनुसार रक्तबीज नामक असुर का वध करने के लिए माँ दुर्गा ने इन्हें अपने तेज से उत्पन्न किया था. इन्हें 'शुभंकारी' भी कहा जाता है ⚛ 🌷ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी ।। दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते 🌷 🌹जय माता कालरात्रि महागौरी नमो नमः 🌹 🙏💐🙏शुभ प्रभात वंदना🙏💐🙏 🌷एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता, लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी। वामपादोल्ल सल्लोहलता कण्टक भूषणा, वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी॥🌷 🕉 देवी कालरात्र्यै नमो नमः 🙏🥀🙏 🌴या देवी सर्वभू‍तेषु मां कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥🌴 🕉सप्तमी मां कालरात्रि को काली,महाकाली, भद्रकाली,भैरवी,रुद्रानी, चामुंडा, चंडी, रौद्री और धुमोरना देवी आदि नामों से भी जाना जाता है 🕉 🌻माँ की कृपा आप तथा आपके परिवार पर सदैव बनी रहे इस कामना के साथ आप सभी को आज सप्तमी की शुभकामनाएँ🙏🌻🙏 🌿 शत्रुओं का नाश करती हैं मांकालरात्रि🌿 🦚महाशक्ति मां दुर्गा का सातवां स्वरूप हैं कालरात्रि! मां कालरात्रि काल का नाश करने वाली हैं, इसी वजह से इन्हें कालरात्रि कहा जाता है! मां कालरात्रि की आराधना के समय भक्त को अपने मन को भानु चक्र जो ललाट अर्थात सिर के मध्य स्थित करना चाहिए! इस आराधना के फलस्वरूप भानु चक्र की शक्तियां जागृत होती हैं! मां कालरात्रि की भक्ति से हमारे मन का हर प्रकार का भय नष्ट होता है! जीवन की हर समस्या को पल भर में हल करने की शक्ति प्राप्त होती है! शत्रुओं का नाश करने वाली मां कालरात्रि अपने भक्तों को हर परिस्थिति में विजय दिलाती हैं! 🦚 🕉🦚🦢🙏🌹🙏🌹🙏🦢🦚🕉

+108 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 85 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Uma shankar Pandey Apr 19, 2021

🕉सप्तंम् कालरात्रि चमहागौरी चाष्टकम् ।। सातवें दिन ,,माँ कालरात्रि,, की आराधना,उपासना,पूजा,योग,जप दान आदि से अपने शरीर मे प्रतिकूलताओं से उत्पन्न बाधाएँ समाप्त हो जाती हैं। जल,क्षिति,पावक,गगन,,समीर,,जीव जल,जंतु किसी भी भय से ,,माँ,, कालरात्रि समाप्त कर देती हैं। माँ कालरात्रि ब्रह्रमाण्ड में सभी सिध्दियों के मार्ग खोल देती हैं सारी सिध्दियाँ माँ पूरी करती हैं। माता कालरात्रि का रुप बहुत ही भयानक है किन्तु ये सभी फल देने वाली हैं ये नकारात्क ,तामसी व राक्षसी प्रबृत्तियों का बिनाश कर अभय प्रदान करती हैं। माँ का यह रुप ज्ञान व वैराग्य प्रदान करता है। घने अँधेरे की तरह गहरे काले रंग वाली तीन नेत्रों व नासिका से आग की लपटें निकलने वाली कालरात्रि माँ दुर्गा का सातवाँ रुप है। इनके नेत्र ब्रह्रमाण्ड की तरह गोल,, है। इनके गले में बिद्दुत जैसी छटा देने वाली सफेद माला सुशोभित,है।इनके चार हाथ हैंइनका बाहन गर्दभ है।इनका स्थान सहसार चक्र में माना जाता है। माँ कालरात्रि को गुड़ का नैवेद्य अर्पित करने से शोकमुक्त रहने का वरदान प्राप्त होता है। बीज मंन्त्र---🕉कलीं ऐं श्रीं कालिकाये नमः। आज का बिचार [email protected] माँ का स्वरुप पराक्रम की सीख देता है। 🌹🙏🌹🚩🕉जय माता दी।

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB