Anju Mishra
Anju Mishra Dec 29, 2017

भगवान विष्णु को ‘नारायण’ और ‘हरि’ क्यों कहा जाता है,

भगवान विष्णु को ‘नारायण’ और ‘हरि’ क्यों कहा जाता है,

नारद मुनि भगवाना विष्णु के सबसे बड़े भक्त है और नारद जी उन्हें नारायण कहकर ही पुकारते हैं. इसके अतिरिक्त विष्णु भगवान को अनन्तनरायण, लक्ष्मीनारायण, शेषनारायण इत्यादि नामों से भी बुलाया जाता रहा है. किन्तु मूल बात यह है कि इन सभी नामों के साथ नारायण जुड़ा रहता है. अर्थात भगवान विष्णु के नाम के साथ नारायण जुड़ना जरुर विशिष्ट बात है.
आइये हम आपको बताते है नारायण और हरी क्यों कहा जाता है–भगवान विष्णु पानी में शेषनाग के उपर विराजमान रहते हैं इसी कारण भगवान विष्णु ‘नीर’ या ‘नर’ नाम से जाना जाता है. इसी ‘नर’ से उनका नाम नारायण बना, इसका अर्थ है की पानी के अंदर रहने वाले भगवान।
‘हरि’ भी एक नाम है. शास्त्रों के अनुसार, हरि का अर्थ होता है, “हरने वाला या चुराने वाला”. इसलिए एक श्लोक में कहा जाता है कि “हरि हरति पापणि” इसका तात्पर्य यह है कि हरि भगवान हैं, जो मनुष्य जीवन से पाप और समस्याओं को हर लेते हैं, अर्थात समाप्त कर देते है.

+207 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 101 शेयर

कामेंट्स

Bachan dev Dec 29, 2017
🌻ऊॅ नमो नारायणा🌻

Mani Rana Dec 29, 2017
Vishnu Lakshmi Narayan Bhagwan Ki Jai good evening ji nice

Sunita Choudhary Dec 29, 2017
नमो नारायण जी गुड इवनिंग अन्जु जी

Mani Rana Dec 29, 2017
Jai Shri Ram ji good evening ji nice g

Ajnabi Dec 30, 2017
good morning jay shree Radhe krishna veeruda

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB