♦ *सनातन का अर्थ है* ♦

♦ *सनातन का अर्थ है* ♦

🔔 जो शाश्वत हो, सदा के लिए सत्य हो, जिन बातों का शाश्वत महत्व हो वही सनातन कही गई है, जैसे सत्य सनातन है, ईश्वर ही सत्य है, आत्मा ही सत्य है, मोक्ष ही सत्य है और इस सत्य के मार्ग को बताने वाला धर्म ही सनातन धर्म भी सत्य है ।

🔔 वह सत्य जो अनादि काल से चला आ रहा है और जिसका कभी भी अंत नहीं होगा वह ही सनातन या शाश्वत है, जिनका न प्रारंभ है और जिनका न अंत है, उस सत्य को ही सनातन कहते हैं, यही सनातन सत्य है।

🔔 वैदिक या हिंदू धर्म को इसलिये सनातन धर्म कहा जाता है, क्योंकि यही एकमात्र धर्म है जो ईश्वर, आत्मा और मोक्ष को तत्व और ध्यान से जानने का मार्ग बताता है ।

🔔 मोक्ष का कांसेप्ट इसी धर्म की देन है, एकनिष्ठता, ध्यान, मौन और तप सहित यम-नियम के अभ्यास और जागरण का मोक्ष मार्ग है, अन्य कोई मोक्ष का मार्ग नहीं है, मोक्ष से ही आत्मज्ञान और ईश्वर का ज्ञान होता है, यही सनातन धर्म का सत्य है।

*असतो मा सदगमय, तमसो मा ज्योर्तिगमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय।।* (वृहदारण्य उपनिषद)

🔔 सनातन धर्म के मूल तत्व सत्य, अहिंसा, दया, क्षमा, दान, जप, तप, यम-नियम आदि हैं जिनका शाश्वत महत्व है, अन्य प्रमुख धर्मों के उदय के पूर्व वेदों में इन सिद्धान्तों को प्रतिपादित कर दिया गया था, अर्थात असत्य से सत्य की ओर चलना, अंधकार से प्रकाश की ओर चलना, मृत्यु से अमृत की ओर चलना, जो लोग उस परम तत्व परब्रह्म परमेश्वर को नहीं मानते हैं वे असत्य में गिरते हैं, असत्य से मृत्युकाल में अनंत अंधकार में पड़ते हैं।

🔔 उनके जीवन की गाथा भ्रम और भटकाव की ही गाथा सिद्ध होती है, वे कभी अमृत्व को प्राप्त नहीं होते, मृत्यु आयें इससे पहले ही सनातन धर्म के सत्य मार्ग पर आ जाने में ही भलाई है ।

🔔 अन्यथा अनंत योनियों में भटकने के बाद प्रलयकाल के अंधकार में पड़े रहना पड़ता है, सत्य यानी सत् और तत्, सत का अर्थ यह और तत का अर्थ वह, दोनों ही सत्य है, "अहं ब्रह्मास्मी और तत्वमसि" अर्थात मैं ही ब्रह्म हूँ और तुम भी ब्रह्म हो, यह संपूर्ण जगत ब्रह्ममय है।

*पूर्णमद: पूर्णमिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते।*
*पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते।।*

🔔 ब्रह्म पूर्ण है, यह जगत् भी पूर्ण है, पूर्ण जगत् की उत्पत्ति पूर्ण ब्रह्म से हुई है। पूर्ण ब्रह्म से पूर्ण जगत् की उत्पत्ति होने पर भी ब्रह्म की पूर्णता में कोई न्यूनता नहीं आती, वह शेष रूप में भी पूर्ण ही रहता है, यही सनातन सत्य है, जो तत्व सदा, सर्वदा, निर्लेप, निरंजन, निर्विकार और सदैव स्वरूप में स्थित रहता है उसे सनातन या शाश्वत सत्य कहते हैं।

🔔 वेदों का ब्रह्म और गीता का स्थितप्रज्ञ ही शाश्वत सत्य है, जड़, प्राण, मन, आत्मा और ब्रह्म शाश्वत सत्य की श्रेणी में आते हैं, सृष्टि व ईश्वर (ब्रह्म) अनादि, अनंत, सनातन और सर्वविभु हैं, भाई-बहनों, आज से पितृपक्ष (श्राद्धपक्ष) की शुरूआत हो रही हैं ।

🔔 हर साल पितृपक्ष में सोलह दिन तक विशेष पूजा पाठ करते हैं, और अपने पितरों की कृपा प्राप्त करने के लिये ये सोलह दिन श्राद्ध पक्ष कहलाते हैं, कुछ जगह पर इसे महालय भी कहते हैं।

🔔 भारतीय ऋषियों ने ये दिन इसलिये निकाले थे जिससे की लोग अपने जीवन को सुखमय कर सके, और अपने साथ साथ अपने पूर्वजो का कल्याण भी कर सके, वास्तव में ये हमारा कर्त्तव्य है कि हम अपने पूर्वजो (पितरो) को समय समय पर याद करे, और उनकी कृपा के लिए उनका धन्यवाद दे, क्योंकि? हमारा अस्तित्व इस धरती पर है तो हमारे पित्रो के कारण।

🔔 हिन्दू शास्त्रो में पितरो को पूजने के लिये भी निर्देश दिये गये हैं, जिससे की लोग सुखी और संपन्न जीवन जी सके ।

🔔 हिन्दू पंचांग के हिसाब से आश्विन माह में ये सोलह दिन आते हैं जब लोगो को विशेष रूप से पितरो के निमित पूजा पाठ, दान, तर्पण करना चाहिये, ऐसा विश्वास किया जाता है कि जो भी हम दान-पुण्य पितरो के नाम से करते हैं वो उनको प्राप्त होता है, और बदले में वो हमे आशीष प्रदान करते हैं।

🔔 श्राद्ध पक्ष का आखरी दिन यानी कल अमावस्या से होता है, जिसे की “पितृ मोक्ष अमावस्या” के नाम से भी जानते हैं, इस दिन सभी लोग सभी दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना, दान, पूजा-पाठ आदि कर सकते हैं, अगर किसी व्यक्ति को अपने परिवार के किसी दिवंगत सदस्य की तिथि नहीं मालूम है, तो वह पितृ मोक्ष अमावस्या को उसके लिए श्राद्ध कर सकता है।

🔔 हमारे शास्त्रों के हिसाब से सभी को अपने कर्मो का फल तो भोगना ही है, और शरीर छोड़ने के पश्चात सभी को कर्मो के अनुसार फल प्राप्त होता है, और ये भी सत्य है की जो भी हम दान पुण्य अपने पितरो के मुक्ति और कल्याण हेतु करते हैं, उससे भी उनको गति मिलती है और वो आगे बढ़ते है, उनकी मुक्ति के रास्ते खुलते हैं, हमारे शास्त्रों के अनुसार पितृ पक्ष में किया गया दान पुण्य उन्हें जरुर प्राप्त होता है।

🔔 ऐसी भी मान्यता है की पितृ पक्ष में दिवंगत आत्मायें अपने सुक्ष्म शरीर से अपने अपने घरो में आते हैं और आशीर्वाद प्रदान करते हैं, अतः श्राद्ध पक्ष में उनके निमित्त पूजा पाठ, पिंड दान, तर्पण आदि करना चाहिये।

🔔 ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार कुंडली में अगर पितृ दोष हो तो व्यक्ति जीवन में सफल नहीं हो पाता, या फिर उसे सफलता के लिए बहुत संघर्ष करना होता है।

🔔 अतः ये जरुरी है की पितृ दोष का निवारण करें, आज से शुरू हो रहे पितृपक्ष की आप सभी को बहुत बहुत शुभकामनायें, आप सभी के पितरों को भगवान् श्री हरि मोक्ष प्रदान करें।

हरि ॐ तत्सत!
जय श्री हरि!

+82 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 83 शेयर

कामेंट्स

*यदि स्वयं सुख चाहते हो तो दूसरों को दुख मत दो. क्योंकि दूसरों को दुख दोंगे तो कई गुना लौट कर आएगा. आज नहीं तो कल. यह प्रकृति का सनातन नियम है.* ---------------------------------------------- महाकारुणिक बुद्ध कहते हैं, 'इस जगत में सभी प्राणी सुख से जीना चाहते हैं. सभी दुखों से मुक्ति चाहते हैं. सभी को अपनी जान प्यारी है इसलिए दूसरों को मन, वाणी व शरीर से दुख मत दो. दिलों को चोट मत पहुंचाओ और न ही दुख देने के लिए किसी को प्रेरित करो. यही सबसे बड़ा धम्म है. यही सच्ची मानवता है.' तथागत बुद्ध इस बात पर जोर देते हैं कि यदि तुम स्वयं सुख शांति चाहते हो, स्वयं का भला चाहते हो तो दूसरों का बुरा मत करो, दूसरों को दुख मत दो, दूसरों को मत सताओ. इसका फल इसी जीवन में आज नहीं तो कल, जरूर मिलता है. यह सनातन नियम है, सदियों से चला आ रहा प्रकृति का नियम है. एस धम्मो सनंतनो. मनुष्य, पशु पक्षी तो क्या वृक्ष भी सुख की कामना करता है. वह भी चोट, भूख व प्यास के मारे तड़पता है, कुम्हलाता है इसलिए उसे भी पीड़ा मत पहुंचाओ, वह भी सुख की वर्षा होने पर लहलहाता है. फूलों की खुशबू से प्रकृति को सरोबार करता है. सतरंगी रंगों से उल्लास व आनंद बिखेरता है. इसलिए किसी भी प्राणी या वनस्पति को चोट मत पहुंचाओ, दुख मत दो. और यदि किसी को दुख दोगे तो दुख तुम्ही पर वापस आएगा, वह भी बढ़कर और तुम सुख की नींद नहीं सो पाओंगे. भगवान बुद्ध कहते है, सुख से रहना प्रकृति के सभी जीवों का स्वभाव है दुख तो मनुष्य पहुंचाता है इसलिए दूसरों को अपनी तरह समझो. जो तुम खुद के लिए नहीं चाहते हो, वह दूसरों के लिए मत करो. यही प्रेम है. तुम दूसरों को सुख देने की बात छोड़ो. बस, इतनी मेहरबानी कर लो कि दूसरों को दुख मत दो. दूसरों की राह में कांटे मत बिछाओ क्योंकि फूल तो अपने आप खिल जाएंगे, खिलना तो उनका स्वभाव है. सुख भी मनुष्य का स्वभाव है इसलिए तुम किसी के सुख की राह में रोड़ा मत बनो. उसको आर्थिक, सामाजिक, वैचारिक व शारीरिक दुख मत दो.किसी को भोजन भले ही मत खिलाओ लेकिन उसके मुंह से निवाला तो मत छीनो, शोषण की पीड़ा की गहरी चोट मत पहुंचाओ. किसी के आंसू नहीं पोंछ सकते हो तो कोई बात नहीं, रुलाओ तो मत. यदि तुमने किसी को दुख नहीं दिया तो उसके जीवन में आनंद की रसधारा जरूर बहेगी. पद, पैसा व प्रतिष्ठा पाने के स्वार्थ व स्वयं के सुख के लिए दूसरों की छाती पर चढ़ कर आगे मत बढ़ो, दूसरों का सुख मत छिनो. अपने अहंकार में किसी को चोट मत पहुंचाओ, शोषण मत करो, बुरा मत करो, दुख मत दो, किसी प्राणी को मत सताओ क्योंकि तुम्हारी तरह सभी सुख शांति से जीना चाहते हैं. सब्बे तसन्नति दण्डस्स सब्बेस जीवितं पियं। अत्तानं उपमं कत्वा न हनेय्य न घातये।।....धम्मपद *सबका मंगल हो..सभी प्राणी सुखी हो.* जय श्री कृष्णा जय जगन्नाथ..🙏

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Anita Sharma Mar 1, 2021

. "गीता का सच्चा अर्थ" चैतन्य महाप्रभु जगन्नाथपुरी से दक्षिण भारत की यात्रा पर निकले थे। उन्होंने एक स्थान पर देखा कि सरोवर के किनारे एक ब्राह्मण स्नान करके बैठा है और गीता का पाठ कर रहा है। वह पाठ करने में इतना तल्लीन है कि उसे अपने शरीर का भी पता नहीं है। उसके नेत्रों से आँसू की धारा बह रही है। महाप्रभु चुपचाप जाकर उस ब्राह्मण के पीछे खड़े हो गए। पाठ समाप्त करके जब ब्राह्मण पुस्तक बन्द की तो महाप्रभु सम्मुख आकर पूछा, 'ब्राह्मण देवता ! लगता है कि आप संस्कृत नहीं जानते, क्योंकि श्लोकों का उच्चारण शुद्ध नहीं हो रहा था। परन्तु गीता का ऐसा कौन-सा अर्थ आप समझते हैं जिसके आनन्द में आप इतने विभोर हो रहे थे ?' अपने सम्मुख एक तेजोमय भव्य महापुरुष को देखकर ब्राह्मण ने भूमि में लेटकर दण्डवत किया। वह दोनों हाथ जोड़कर नम्रतापूर्वक बोला, 'भगवन ! में संस्कृत क्या जानूँ और गीता के अर्थ का मुझे क्या पता ? मुझे पाठ करना आता ही नहीं मैं तो जब इस ग्रंथ को पढ़ने बैठता हूँ, तब मुझे लगता है कि कुरुक्षेत्र के मैदान में दोनों और बड़ी भारी सेना सजी खड़ी है। दोनों सेनाओं के बीच में एक रथ खड़ा है। रथ पर अर्जुन दोनों हाथ जोड़े बैठा है, और रथ के आगे घोड़ों की रास पकड़े भगवान श्रीकृष्ण बैठे हैं। भगवान मुख पीछे घुमाकर अर्जुन से कुछ कह रहे हैं, मुझे यह स्पष्ट दिखता है। भगवान और अर्जुन की ओर देख-देखकर मुझे प्रेम से रुलाई आ रही है। गीता और उसके श्लोक तो माध्यम हैं। असल सत्य भाषा नहीं, भक्ति है और इस भक्ति में मैं जितना गहरा उतरता जाता हूँ मेरा आनन्द बढ़ता जाता है।' 'भैया ! तुम्हीं ने गीता का सच्चा अर्थ जाना है और गीता का ठीक पाठ करना तुम्हें ही आता है।' यह कहकर महाप्रभु ने उस ब्राह्मण को अपने हाथों से उठाकर हृदय से लगा लिया।

+69 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Kabir Chaudhary Mar 1, 2021

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+328 प्रतिक्रिया 63 कॉमेंट्स • 180 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+133 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 77 शेयर

+65 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 68 शेयर
Anita Sharma Feb 28, 2021

ज्ञान वाणी। राजस्थान के हाड़ोती क्षेत्र के बूंदी नगर में रामदासजी नाम के एक बनिया थे । वे व्यापार करने के साथ-साथ भगवान की भक्ति-साधना भी करते थे और नित्य संतों की सेवा भी किया करते थे । भगवान ने अपने भक्तों (संतों) की पूजा को अपनी पूजा से श्रेष्ठ माना है क्योंकि संत लोग अपने पवित्र संग से असंतों को भी अपने जैसा संत बना लेते हैं ।भगवान की इसी बात को मानकर भक्तों ने संतों की सेवा को भगवान की सेवा से बढ़कर माना है-‘प्रथम भक्ति संतन कर संगा ।’ रामदासजी सारा दिन नमक-मिर्च, गुड़ आदि की गठरी अपनी पीठ पर बांध कर गांव में फेरी लगाकर सामान बेचते थे जिससे उन्हें कुछ पैसे और अनाज मिल जाता था । एक दिन फेरी में कुछ सामान बेचने के बाद गठरी सिर पर रखकर घर की ओर चले । गठरी का वजन अधिक था पर वह उसे जैसे-तैसे ढो रहे थे । भगवान श्रीराम एक किसान का रूप धारण कर आये और बोले—‘भगतजी ! आपका दु:ख मुझसे देखा नहीं जा रहा है । मुझे भार वहन करने का अभ्यास है, मुझे भी बूंदी जाना है, मैं आपकी गठरी घर पहुंचा दूंगा ।’ गीता (९।१४) में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है—‘संत लोग धैर्य धारण करके प्रयत्न से नित्य कीर्तन और नमन करते हैं, भक्तिभाव से नित्य उपासना करते हैं । ऐसे प्रेमी संत मेरे और मैं उनका हूँ; इस लोक में मैं उनके कार्यों में सदा सहयोग करता हूँ ।’ ऐसा कह कर भगवान ने अपने भक्त के सिर का भार अपने ऊपर ले लिया और तेजी से आगे बढ़कर आंखों से ओझल हो गये । रामदासजी सोचने लगे—‘मैं इसे पहचानता नहीं हूँ और यह भी शायद मेरा घर न जानता होगा । पर जाने दो, राम करे सो होय ।’ यह कहकर वह रामधुन गाते हुए घर की चल दिए । रास्ते में वे मन-ही-मन सोचने लगे—आज थका हुआ हूँ, यदि घर पहुंचने पर गर्म जल मिल जाए तो झट से स्नान कर सेवा-पूजा कर लूं और आज कढ़ी-चपाती का भोग लगे तो अच्छा है । उधर किसान बने भगवान श्रीराम ने रामदासजी के घर जाकर गठरी एक कोने में रख दी और जोर से पुकार कर कहा—‘भगतजी आ रहे हैं, उन्होंने कहा है कि नहाने के लिए पानी गर्म कर देना और भोग के लिए कढ़ी-चपाती बना देना ।’ कुछ देर बाद रामदासजी घर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि सामान की गठरी कोने में रखी है । उनकी पत्नी ने कहा—‘पानी गर्म कर दिया है, झट से स्नान कर लो । भोग के लिए गर्म-गर्म कढ़ी और फुलके भी तैयार हैं ।’ रामदासजी ने आश्चर्यचकित होकर पूछा—‘तुमने मेरे मन की बात कैसे जान ली ।’ पत्नी बोली—‘मुझे क्या पता तुम्हारे मन की बात ? उस गठरी लाने वाले ने कहा था ।’ रामदासजी समझ गए कि आज रामजी ने भक्त-वत्सलतावश बड़ा कष्ट सहा । उनकी आंखों से प्रेमाश्रु झरने लगे और वे अपने इष्ट के ध्यान में बैठ गये । ध्यान में प्रभु श्रीराम ने प्रकट होकर प्रसन्न होते हुए कहा—‘तुम नित्य सन्त-सेवा के लिए इतना परिश्रम करते हो, मैंने तुम्हारी थोड़ी-सी सहायता कर दी तो क्या हुआ ?’ रामदासजी ने अपनी पत्नी से पूछा—‘क्या तूने उस गठरी लाने वाले को देखा था?’ पत्नी बोली—‘मैं तो अंदर थी, पर उस व्यक्ति के शब्द बहुत ही मधुर थे।’ रामदासजी ने पत्नी को बताया कि वे साक्षात् श्रीराम ही थे । तभी उन्होंने मेरे मन की बात जान ली। दोनों पति-पत्नी भगवान की भक्तवत्सलता से भाव-विह्वल होकर रामधुन गाने में लीन हो गये। संदेश -गीता (८।१४) में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है— अनन्यचेता: सततं यो मां स्मरति नित्यश: । तस्याहं सुलभ: पार्थ नित्ययुक्तस्य योगिन: ।। अर्थात्—‘मेरा ही ध्यान मन में रखकर प्रतिदिन जो मुझे भजता है, उस योगी संत को सहज में मेरा दर्शन हो जाता है ।’

+30 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 15 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB