ajay
ajay Mar 20, 2019

🙏शुभ प्रभात मित्रों🌷 आपका दिन शुभ मंगलमय हो आप सभी साथियों को हमारी और से होलिका पूजन की हार्दिक शुभकामनाएँ जय श्री गणेशाय नमः🍀🌆🌷🌿🌺🌸🙏🏻🎆☀️💞🌹🌼🍁🙏🌻🎋🌿💞🌺

🙏शुभ प्रभात मित्रों🌷 आपका दिन शुभ मंगलमय हो आप सभी साथियों को हमारी और से होलिका पूजन की हार्दिक शुभकामनाएँ जय श्री गणेशाय नमः🍀🌆🌷🌿🌺🌸🙏🏻🎆☀️💞🌹🌼🍁🙏🌻🎋🌿💞🌺
🙏शुभ प्रभात मित्रों🌷 आपका दिन शुभ मंगलमय हो आप सभी साथियों को हमारी और से होलिका पूजन की हार्दिक शुभकामनाएँ जय श्री गणेशाय नमः🍀🌆🌷🌿🌺🌸🙏🏻🎆☀️💞🌹🌼🍁🙏🌻🎋🌿💞🌺

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Sajjan Singhal Apr 21, 2019

+24 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+33 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर
anju mishra Apr 21, 2019

कैसे होती है उच्छिष्ट गण‍पति की साधना...  उच्छिष्ट गणपति की साधना में साधक का मुंह जूंठा होना चाहिए। जैसे पान, इलायची, सुपारी आदि कोई चीज साधना के समय मुंह में होनी चाहिए। अलग-अलग कामना के लिए अलग-अलग वस्तु का प्रयोग करना चाहिए। * वशीकरण के लौंग और इलायची का प्रयोग करना चाहिए। * किसी भी फल की कामना के लिए सुपारी का प्रयोग करना चाहिए। * अन्न या धन वृद्धि के लिए गुड़ का प्रयोग करना चाहिए। * सर्वसिद्धि के लिए ताम्बुल का प्रयोग करना चाहिए। मंत्र और विनियोग...  ।। हस्ति पिशाचि लिखे स्वाहा ।। विनियोग ॐ अस्य श्री उच्छिष्ट गणपति मंत्रस्य कंकोल ऋषि:,  विराट छन्द:, श्री उच्छि गणपति देवता,  मम अभीष्ट (जो भी कामना हो) या सर्वाभीष्ट सिद्धयर्थे जपे विनियोग:। न्यास  ॐ अस्य श्री उच्छिष्ट गणपति मंत्रस्य कंकोल ऋषि: नम: शिरीस।  विराट छन्दसे नम: मुखे। उच्छिष्ट गणपति देवता नम: हृदये। सर्वाभीष्ट सिद्धयर्थे जपे विनियोगाय नम: सर्वांगे।  ऐसा कहकर निर्दिष्ट अंगों पर हाथ लगाएं... ॐ हस्ति अंगुष्ठाभ्यां नम: हृदयाय नम: ॐ पिशाचि तर्जनीभ्यां नम: शिरसे स्वाहा ॐ लिखे मध्यमाभ्यां नम: शिखाये वषट्‍ ॐ स्वाहा अनामिकाभ्यां नम: कवचाय हुँ ॐ हस्ति पिशाचि लिखे कनिष्ठकाभ्यां नम: नैत्रत्रयाय वोषट्‍ ॐ हस्ति पिशाचि लिख स्वाहा करतल कर पृष्ठाभ्यां नम: अस्त्राय फट्‍ ध्यान ।। रक्त वर्ण त्रिनैत्र, चतुर्भुज, पाश, अंकुश, मोदक पात्र तथा हस्तिदंत धारण किए हुए। उन्मत्त गणेशजी का मैं ध्यान करता हूं। हर गणेश का फल भी अलग  गणेशजी को घी से तथा दुग्ध धारा द्वारा व जलधारा द्वारा शुद्ध करके पोंछ कर रखें तथा पूजन करें। गणेश प्रतिमा श्वेतार्क की (हस्ति चित्र पर बैठकर) बनाएं। इसे रवि पुष्य या गुरु पुष्य में बनाने का विशेष महत्व है।  * श्वेतार्क मूर्ति को गल्ले या तिजोरी में रखने से धन बढ़ता है।  * शत्रु नाश के लिए नीम की लकड़ी से बने गणेशजी की आराधना करें। * गुड़ की प्रतिमा से धन की वृद्धि होती है। आठ हजार जप नित्य कर दशांस हवन करें। भोजन से पूर्व गणपति के निमित्त ग्रास निकालें। ऐसी मान्यता है कि उच्छिष्ट गणपति की आराधना से कुबेर को नौ निधियां प्राप्त हुई थीं और विभिषण लंकापति बने थे। विशेष : इस तरह की साधना किसी योग्य गुरु या आचार्य के मार्गदर्शन में करें। क्योंकि अकेले में इस तरह के प्रयोग से व्यक्ति को नुकसान भी हो सकता है।

+147 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 6 शेयर

|| एक अंजान सी अंतहीन दौड़ ||📚🕉️ एक किसान के घर एक दिन उसका कोई परिचित मिलने आया। उस समय वह घर पर नहीं था। उसकी पत्नी ने कहा-'वह खेत पर गए हैं। मैं बच्चे को बुलाने के लिए भेजती हूं। तब तक आप इंतजार करें।' कुछ ही देर में किसान खेत से अपने घर आ पहुंचा। उसके साथ-साथ उसका पालतू कुत्ता भी आया। कुत्ता जोरों से हांफ रहा था। उसकी यह हालत देख, मिलने आए व्यक्ति ने किसान से पूछा-'क्या तुम्हारा खेत बहुत दूर है?' किसान ने कहा-'नहीं, पास ही है। लेकिन आप ऐसा क्यों पूछ रहे हैं?' उस व्यक्ति ने कहा-'मुझे यह देखकर आश्चर्य हो रहा है कि तुम और तुम्हारा कुत्ता दोनों साथ-साथ आए, लेकिन तुम्हारे चेहरे पर रंच मात्र थकान नहीं जबकि कुत्ता बुरी तरह से हांफ रहा है।' किसान ने कहा-'मैं और कुत्ता एक ही रास्ते से घर आए हैं। मेरा खेत भी कोई खास दूर नहीं है। मैं थका नहीं हूं। मेरा कुत्ता थक गया है। इसका कारण यह है कि मैं सीधे रास्ते से चलकर घर आया हूं, मगर कुत्ता अपनी आदत से मजबूर है। वह आसपास दूसरे कुत्ते देखकर उनको भगाने के लिए उसके पीछे दौड़ता था और भौंकता हुआ वापस मेरे पास आ जाता था। फिर जैसे ही उसे और कोई कुत्ता नजर आता, वह उसके पीछे दौड़ने लगता। अपनी आदत के अनुसार उसका यह क्रम रास्ते भर जारी रहा। इसलिए वह थक गया है।' देखा जाए तो यही स्थिति आज के इंसान की भी है। जीवन के लक्ष्य तक पहुंचना यूं तो कठिन नहीं है, लेकिन लोभ,मोह अहंकार और ईर्ष्या जीव को उसके जीवन की सीधी और सरल राह से भटका रही है। अपनी क्षमता के अनुसार जिसके पास जितना है, उससे वह संतुष्ट नहीं। आज लखपति, कल करोड़पति, फिर अरबपति बनने की चाह में उलझकर इंसान दौड़ रहा है। अनेक लोग ऐसे हैं जिनके पास सब कुछ है। भरा-पूरा परिवार, कोठी, बंगला, एक से एक बढ़िया कारें, क्या कुछ नहीं है। फिर भी उनमें बहुत से दुखी रहते हैं। बड़ा आदमी बनना, धनवान बनना बुरी बात नहीं, बनना चाहिए। यह हसरत सबकी रहती है। उसके लिए स्वस्थ प्रतिस्पर्धा होगी तो थकान नहीं होगी। लेकिन दूसरों के सामने खुद को बड़ा दिखाने की चाह के चलते आदमी राह से भटक रहा है और यह भटकाव ही इंसान को थका रहा है।

+20 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 37 शेयर
MAHESH MALHOTRA Apr 21, 2019

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB