मंदिर में इलाज

मंदिर में इलाज

यहां पैरालायसिस का होता है इलाज, डॉक्टर और साइंस भी हैं हैरान

देश में ऐसे बहुत सारे मंदिर हैं, जहां बहुत सारी बीमारियों का इलाज किया जाता है। राजस्थान के नागौर से चालीस किलोमीटर दूर अजमेर-नागौर रोड पर कुचेरा कस्बे के पास बुटाटी धाम है, जिसे चतुरदास जी महाराज के मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां हर साल हजारों लोग लकवे के रोग से ठीक होकर जाते हैं।

कहा जाता है कि करीब 500 वर्ष पूर्व चतुरदास जी जोकि सिद्ध योगी थे वे अपनी तपस्या से लोगों को रोग मुक्त करते थे। आज भी उनकी समाधी पर परिक्रमा करने से लकवे से पीड़ित लोगों को राहत मिलती है। यहां नागोर से अलावा पूरे देशभर से लोग आते हैं। हर साल वैशाख, भादवा अौर माघ महीने में मेला लगता है।

मंदिर में आने वाले लोगों के लिए नि:शुल्क रहने व खाने की व्यवस्था भी है। यहां कोई पण्डित महाराज या हकीम नहीं होता न ही कोई दवाई लगाकर इलाज किया जाता।

यहां मंदिर में 7 दिन तक रहकर सुबह शाम फेरी लगाने से लकवे की बीमारी में सुधार होता है। हवन कुंड की भभूति लगाते हैं और बीमारी धीरे-धीरे अपना प्रभाव कम कर देती है। इस बात को लेकर डॉक्टर और साइंस के जानकार भी हैरान है कि बिना दवा से कैसे लकवे का इलाज हो सकता है।

रोगी के जो अंग हिलते डुलते नहीं वे भी धीरे-धीरे काम करने लगते हैं। लकवे से व्यक्ति की आवाज बंद होती है वह भी धीरे-धीरे आ जाती है। यहां बहुत सारे लोगों को इस बीमारी से राहत मिली है। भक्त यहां दान करते हैं, जिसे मंदिर के विकास के लिए लगाया जाता है।

Pranam Like Dhoop +164 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 129 शेयर

कामेंट्स

Rishikant Parekh Aug 31, 2017
जय हो ईश्वर की कृपा से ही सही लेकिन इस चमत्कार को नमस्कार।

Jagdish bijarnia Oct 15, 2018

Pranam Like Flower +8 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 20 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 15, 2018

Like Pranam Milk +6 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 2 शेयर

प्रथम् शैल-पुत्री च, द्वितीयं ब्रह्मचारिणि
तृतियं चंद्रघंटेति च चतुर्थ कूषमाण्डा
पंचम् स्कन्दमातेती, षष्टं कात्यानी च
सप्तं कालरात्रेति, अष्टं महागौरी च
नवमं सिद्धिदात्ररी
शैलपुत्री ( पर्वत की बेटी )
वह पर्वत हिमालय की बेटी है और नौ दुर्गा में पहल...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +6 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 14, 2018

Pranam Like Flower +107 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 88 शेयर

नौ दिन यानि हिन्दी माह चैत्र और आश्विन के शुक्ल पक्ष की पड़वा यानि पहली तिथि से नौवी तिथि तक प्रत्येक दिन की एक देवी मतलब नौ द्वार वाले दुर्ग के भीतर रहने वाली जीवनी शक्ति रूपी दुर्गा के नौ रूप हैं :
1. शैलपुत्री
2. ब्रह्मचारिणी
3. चंद्रघंटा
4....

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Bell +90 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 82 शेयर

नवरात्रि

Like Pranam Tulsi +7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Avinash Gupta Oct 15, 2018

Like Pranam +2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Narender Kumar Rosa Oct 13, 2018

Like Pranam Jyot +7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Aechana Mishra Oct 15, 2018

Like Pranam Flower +139 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 684 शेयर

Milk Pranam Like +58 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 617 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB