श्री कुर्म्म मन्दिर - श्री महाविश्णु कुर्मा अव्थार SRI KURMAM TEMPLE - Sri Mahavishnu Kurma Avatar

श्री कुर्म्म मन्दिर - श्री महाविश्णु कुर्मा अव्थार 
SRI KURMAM TEMPLE - Sri Mahavishnu Kurma Avatar
श्री कुर्म्म मन्दिर - श्री महाविश्णु कुर्मा अव्थार 
SRI KURMAM TEMPLE - Sri Mahavishnu Kurma Avatar

#श्रावण #ज्ञानवर्षा #महादेव #मंदिर
श्री कुर्म्म मन्दिर - श्री महाविश्णु कुर्मा अव्थार
SRI KURMAM TEMPLE - Sri Mahavishnu Kurma Avatar

THE MOST SACRED AND ANCIENT SHRINE  OF SRI KURMAM, SITUATED ON THE SHORES OF BAY OF BENGAL,  - SRIKAKULAM, ANDHRA PRADESH IS THE ONLY SWAYAMBHU TEMPLE IN THE WORLD WHERE LORD VISHNU IS WORSHIPPED IN THE FORM OF  KURMA AVATAAR (Tortoise – The second Incarnation of the famous Dasa Avataras). THIS ANCIENT SHRINE IS BELIEVED TO BE PRIOR TO THE GOLDEN ERA OF SRI RAMA (Rama Rajyam). PROMINENT REFERENCES ABOUT THIS SHRINE ARE AVAILABLE IN KURMA , VISHNU, AGNI , PADMA, BRAHMANDA PURANAS. WHILE THE SHRINE IS SAID TO BE MORE THAN A FEW MILLION YEARS OLD, OUTER STRUCTURES WERE RECONSTRUCTED MANY A TIME - AFTER DILAPIDATION OF PREVIOUS ONE , AND THE LATEST TEMPLE STRUCTURE OF OUTER WALLS IS MORE THAN 700 YEARS OLD. The Gopuram (Sikharam) is about 2000 Years Old.

LEGEND SAYS THAT DURING KRUTA YUGA, A PIOUS KING - SWETA MAHARAJ , OBSERVED FIERCE PENANCE FOR MANY YEARS. FULFILLING HIS WISH, LORD VISHNU MANIFESTED (Swayambhu) HERE IN THE FORM OF KURMA  AVATAAR. LORD BRAHMA, THE CREATOR OF UNIVERSE, HIMSELF OFFICIATED  THE CELESTIAL RITUALS AND CONSECRATED THE SHRINE WITH GOPALA YANTRA . SWETA PUSHKARINI (The Lake in front of the Temple) IS FORMED BY THE SUDARSHAN CHAKRA. SRI MAHAA LAXMI (The Consort Of Lord Vishnu), EMANATED FROM THIS LAKE AND IS ADORED IN THE NAME OF SRI KURMA NAAYAGI, IN VARADA MUDRA POSTURE SEATED ON GARUDA VAHANA.

SRI KURMAM SHRINE IS BELIEVED TO BE THE “MOKSHA STHALAM” AND THE SWETA PUSHKARINI HAS COSMIC CLEANSING POWERS. SO, LIKE IN VARANASI, PEOPLE PERFORM THE LAST RITES OF THE DECEASED AND DROP (Nimajjan) THE ASTIKAS (Ashes) IN IT, WHICH EVENTUALLY METAMORPHOSE INTO SALAGRAMA (Divine Stones). EVEN MOTHER GANGA TAKES A BATH IN THIS  LAKE EVERY YEAR ON MAGHA SUDDHA CHAVITHI (Around February) TO CLEANSE HERSELF OF ALL THE SINS LEFT BY THE DEVOTEES . THE PRASAADAM OF THE LORD IS SAID TO POSSESS MYSTIC CURATIVE POWERS – AFTER TAKING THIS PRASAADAM, THE CELESTIAL DANCER “TILOTTAMA” BECAME DEVOTIONAL AND RENUNCIATION DESIRES., KING SUBHAANGA WON THE WAR., A DEVOTEE BY NAME VASU DEVA GOT LEPROSY CURED.

UNLIKE MANY OTHER TEMPLES ,THE PRESIDING DEITY HERE IS FACING WEST AND HENCE THERE ARE TWO “DHWAJA STAMBHAS” (Flag Posts) IN EAST AND WEST DIRECTIONS. THIS IS ALSO THE REASON TO PERMIT DEVOTEES TO ENTER THE “GARBHA GRIHA” (Sanctum Sanctorum) FOR A CLOSER DARSHAN OF THE LORD. THIS TEMPLE IS KNOWN FOR ITS MARVELLOUS SCULPTURE, PARTICULARLY ON THE SOUTHERN ENTRANCE, APART FROM THE 108 PILLARS, WHERE NO SINGLE PILLAR IS SIMILAR TO THE REMAINING. THE UNIQUE STONES ON THE FLOOR IN THE PRADAKSHINA MANDAPAM (Circumambulatory passage) ARE SAID TO INFUSE MAGNETIC ENERGY INTO THE DEVOTEES THROUGH THEIR FEET. THE ANCIENT MURAL PAINTINGS (Frescoes) ON THESE WALLS, MADE FROM NATURAL COLOURS, RESEMBLE THOSE IN AJANTA – ELLORA CAVES. “KAASI DWARAM” – THE UNDERGROUND TUNNEL TO VARANASI IN THE NORTH EASTERN CORNER OF THE PRADAKSHINA MANDAPAM IS ANOTHER MAGNIFICENT PIECE OF ANCIENT ENGINEERING SKILLS. THE ENTRY IS CLOSED NOW, SINCE MANY WILD ANIMALS AND SNAKES ARE ENTERING THE TEMPLE.

MANY GREAT PEOPLE AND HOLY SAGES OFFERED THEIR PRAYERS IN THIS SHRINE  INCLUDING, Lava & Kusha (Sons of Sri Raama, Belonging to Treta Yuga – More than a million Years ago) ., Balarama (Elder Brother of Sri Krishna, Belonging to Dwapara Yuga – More than 5000 Years ago) ., Sage Durvasa (More than 5000 Years ago) ., Sri Adi Sankaracharya (8th century AD) ., Sri Ramanujacharya (11th century AD).,  Sri Narahari Teerthulu (13th century AD)., Sri Chaitanya Mahaprabhu(1512 AD) etc.  SRI KURMANADHA IS A GREAT BESTOWER OF PEACE & BLISS AND IS SAID TO RELIEVE THE DOSHAS RELATED TO SATURN (Shani Graha Doshas).

TO PROTECT THIS TEMPLE FROM THE FOREIGN INVADERS DURING 11TH - 17TH CENTURIES , LIKE IN MANY TEMPLES IN SOUTH INDIA,THE LOCALS APPLIED LIME STONE MIX ON THE ENTIRE TEMPLE COMPLEX AND CAMOUFLAGED AS A HILLOCK. THE SOLIDIFIED LIMESTONE LAYERS ARE STILL BEING PEELED OFF NOW , AND THE SAME ARE VISIBLE EVEN TODAY ON THE TEMPLE WALLS. TEMPLES ARE THE PIVOTS OF HINDU CULTURE.  MANY OF OUR FOREFATHERS SACRIFICED THEIR LIVES TO PROTECT THESE INVALUABLE TREASURES FOR POSTERITY. WITH ONLY 3 OF THE 29 ANCIENT CIVILIZATIONS REMAINING, AND HINDUISM BEING ONE OF THEM, THE PRESENT GENERATION HAS THE INESCAPABLE RESPONSIBILITY TO PROTECT, IF NOT FURTHER DEVELOP, AND PASS ON TO THE NEXT GENERATIONS.  

AS THE GREAT SAGES SAID  “CONSERVE THE NATURE – PRESERVE THE CULTURE – TO DESERVE A FUTURE”.

MANY STRAWS WHEN TWINED TOGETHER MAKE A ROPE - MANY DROPS MAKE AN OCEAN , AND YOUR GENEROUS OFFERINGS, HOWEVER SMALL OR BIG, WILL GO A LONG WAY TO SAFEGUARD OUR ANCIENT TEMPLES LIKE SRI KURMAM.

SRIKURMAM TEMPLE - MORE THAN A MILLION YEAR OLD SHRINE - PROMINENT FEATURES OF SRI KURMANADHA SHRINE

1. More than a Million Year old Shrine where Outer Structures were reconstructed many a time, the present one being more than 700 years old.

2. References in Kurma, Vishnu, Padma, Brahmanda Purans.

3. Only Swayambhu Temple in the World where Maha Vishnu is adored in the form of Kurma (Tortoise) Avataar - 2nd Incarnation of the Famous Dasa Avataras of Lord Vishnu.

4. One of the few Temples in the World with 2 Dhwaja Stambhas - the second one in the west since deity is facing West.

5. One of the few Vishnu Temples in the World where Abhishekam is performed on daily basis (Like in Siva Temples).

6. One of the Sixteen ABHIMANA PRADESH of Sri Ramanujacharya. Sri Chaitanya Prabhu Foot Prints taken in year 1512.

7. One of the Few Temples in the World with centuries old rare Mural Paintings similar to those in Ajanta Ellora Caves.

8. Second Temple in the World with Durga Mata as Vaishno Devi replica, the other being in Vaishno Devi Temple, Jammu & Kashmir State.

9. Stone Sculpture at its Peak - Called Gandharva Shilpa Kala. 108 exquisitely carved stone pillars where no pillar is similar to the other, with a few of them hanging from the roof structure without any support from bottom. Underground Tunnel to Varanasi (KAASI).

10. Moksha Sthalam where last rites are performed for deceased , like in Varanasi (U.P.) / Puri (Odisha) / Gaya (Bihar)

11. Visited by many great Kings and Saints including Adi Sankaracharya,Ramanujacharya,Narahari Teertha, Chaitanya Mahaprabhu etc.

HOW TO REACH SRI KURMAM TEMPLE

Sri Kurmam, situated on the shores of Bay of Bengal, is easily accessible by Road, Rail and Air. It is about 13 Km from the district Headquarters town of Srikakulam, which is conveniently located on the National Highway 5 from Chennai to Kolkata. Visakhapatnam City is about 110 Km from the Temple.

+191 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 42 शेयर

कामेंट्स

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@शिवकांत.शुक्ला जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@s.b..yadav जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

TR. Madhavan Aug 8, 2017
@ashwani.kumar......pandit.ji जय श्री गणेश । अन्नदान कार्यक्रम - प्रार्थना मैं हेप्पी होम्स गेटड् खंयुनिटी का निवासी हुँ, पिछले 17 साल से श्री गणेश चतुर्थी नवरात्रि उत्सव सभी समुदाय के रहने वाले मिल कर मनाते हैं। हर साल उत्सव के दिनों में दो बार करीब 1500 से 2000 भक्तों केलिए अन्नदान का कारिक्रम करते हैं, अपनी सोसाइटी और सोशियल मीडिया के बंधु कि सहायता से। मैं और हैप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति के सभी सदस्य आप से निवेदन करते है । “उत्सव समिति कि अलग बैंक काथा नहीं है” आप से निवेदन है कि, नीचे दिये गए बैंक खाते में जामा करने कि कृपा कर सकते हैं । आप से जो भी दान राशि कि सहयोग हो सके कीजियेगा। वाट्सएप न: 8712341974 मे हमें मैसेज कीजिए। Bank account details - TR. Madhavan Ac No. 52642043000057 Oriental Bank of Commerce, Banjara Hills, Hyderabad.IFSC - ORBC0105264. Please Note: Donation receipt will be prepared and sent. धन्यवाद । हेप्पी होम्स श्री गणेश उत्सव समिति, हेप्पी होम्स, हैदराबाद-500048.फोन: 8712341974 / 9246113116

Radha Sharma Sep 21, 2020

+89 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 33 शेयर
Sandeep Kumar Sep 21, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
....... Sep 21, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Neha Sharma Sep 21, 2020

जय श्री राधेकृष्णा*🙏🌷🌷 *शुभ संध्या नमन*🌷🌷🙏 *आज की कहानी में पढ़िए कि जरूरी नहीं आप में भगवतिक गुण साधन और कर्मकांड से ही प्राप्त होंगे , *निस्वार्थ कर्म, परोपकार और दूसरों को सुख देने की भावना भी किसी भक्ति से कम नहीं अतएव जो भी करें उसका उद्देश्य केवल भगवद प्रसन्नता हो तो अतिशीघ्र आप अपने स्वरूप मै स्थित हो जाएंगे अब सभी पढ़ें और केवल 1 शेयर जरुर करें *एक राजा बहुत बड़ा प्रजा पालक था, हमेशा प्रजा के हित में प्रयत्नशील रहता था. वह इतना कर्मठ था कि अपना सुख, ऐशो-आराम सब छोड़कर सारा समय जन-कल्याण में ही लगा देता था . *यहाँ तक कि जो मोक्ष का साधन है अर्थात् भगवत-भजन, उसके लिए भी वह समय नहीं निकाल पाता था. *एक सुबह राजा वन की तरफ भ्रमण करने के लिए जा रहा था कि उसे एक देव के दर्शन हुए. राजा ने देव को प्रणाम करते हुए उनका अभिनन्दन किया और देव के हाथों में एक लम्बी-चौड़ी पुस्तक देखकर उनसे पूछा- “ महाराज, आपके हाथ में यह क्या है?” *देव बोले- “राजन! यह हमारा बही खाता है, जिसमे सभी भजन करने वालों के नाम हैं.” *राजा ने निराशायुक्त भाव से कहा- “कृपया देखिये तो इस किताब में कहीं मेरा नाम भी है या नहीं ?” *देव महाराज किताब का एक-एक पृष्ठ उलटने लगे, परन्तु राजा का नाम कहीं भी नजर नहीं आया. *राजा ने देव को चिंतित देखकर कहा- “महाराज ! आप चिंतित ना हों , आपके ढूंढने में कोई भी कमी नहीं है. वास्तव में ये मेरा दुर्भाग्य है कि मैं भजन-कीर्तन के लिए समय नहीं निकाल पाता, और इसीलिए मेरा नाम यहाँ नहीं है.” *उस दिन राजा के मन में आत्म-ग्लानि-सी उत्पन्न हुई लेकिन इसके बावजूद उन्होंने इसे नजर-अंदाज कर दिया और पुनः परोपकार की भावना लिए दूसरों की सेवा करने में लग गए. *कुछ दिन बाद राजा फिर सुबह वन की तरफ टहलने के लिए निकले तो उन्हें वही देव महाराज के दर्शन हुए, इस बार भी उनके हाथ में एक पुस्तक थी. *इस पुस्तक के रंग और आकार में बहुत भेद था, और यह पहली वाली से काफी छोटी भी थी. *राजा ने फिर उन्हें प्रणाम करते हुए पूछा- “महाराज ! आज कौन सा बहीखाता आपने हाथों में लिया हुआ है ?” *देव ने कहा- “राजन! आज के बहीखाते में उन लोगों का नाम लिखा है जो ईश्वर को सबसे अधिक प्रिय हैं !” *राजा ने कहा- “कितने भाग्यशाली होंगे वे लोग ? निश्चित ही वे दिन रात भगवत-भजन में लीन रहते होंगे !! क्या इस पुस्तक में कोई मेरे राज्य का भी नागरिक है ? ” *देव महाराज ने बहीखाता खाता , और ये क्या , पहले पन्ने पर पहला नाम राजा का ही था। *राजा ने आश्चर्यचकित होकर पूछा- “महाराज, मेरा नाम इसमें कैसे लिखा हुआ है, मैं तो मंदिर भी कभी-कभार ही जाता हूँ ? *देव ने कहा- “राजन! इसमें आश्चर्य की क्या बात है? जो लोग निष्काम होकर संसार की सेवा करते हैं, जो लोग संसार के उपकार में अपना जीवन अर्पण करते हैं. *जो लोग मुक्ति का लोभ भी त्यागकर प्रभु के निर्बल संतानो की सेवा-सहायता में अपना योगदान देते हैं उन त्यागी महापुरुषों का भजन स्वयं ईश्वर करता है. *ऐ राजन! तू मत पछता कि तू पूजा-पाठ नहीं करता, लोगों की सेवा कर तू असल में भगवान की ही पूजा करता है. परोपकार और निःस्वार्थ लोकसेवा किसी भी उपासना से बढ़कर हैं. *देव ने वेदों का उदाहरण देते हुए कहा- “कुर्वन्नेवेह कर्माणि जिजीविषेच्छनं समाः एवान्त्वाप नान्यतोअस्ति व कर्म लिप्यते नरे..” *अर्थात ‘कर्म करते हुए सौ वर्ष जीने की ईच्छा करो तो कर्मबंधन में लिप्त हो जाओगे.’ *राजन! भगवान दीनदयालु हैं. उन्हें खुशामद नहीं भाती बल्कि आचरण भाता है.. सच्ची भक्ति तो यही है कि परोपकार करो. दीन-दुखियों का हित-साधन करो. *अनाथ, विधवा, किसान व निर्धन आज अत्याचारियों से सताए जाते हैं इनकी यथाशक्ति सहायता और सेवा करो और यही परम भक्ति है..” *राजा को आज देव के माध्यम से बहुत बड़ा ज्ञान मिल चुका था और अब राजा भी समझ गया कि परोपकार से बड़ा कुछ भी नहीं और जो परोपकार करते हैं वही भगवान के सबसे प्रिय होते हैं। *तो मेरे प्यारे, जो व्यक्ति निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करने के लिए आगे आते हैं, परमात्मा हर समय उनके कल्याण के लिए यत्न करता है. *हमारे पूर्वजों ने कहा भी है- “परोपकाराय पुण्याय भवति” अर्थात दूसरों के लिए जीना, दूसरों की सेवा को ही पूजा समझकर कर्म करना, परोपकार के लिए अपने जीवन को सार्थक बनाना ही सबसे बड़ा पुण्य है. *और जब आप भी ऐसा करेंगे तो स्वतः ही आप वह ईश्वर के प्रिय भक्तों में शामिल हो जाएंगे . *जय श्री राधेकृष्णा*🙏🌷🌷

+29 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Geeta Sahu Sep 21, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
nirmal mehta Sep 21, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rajni Sep 21, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shailesh Tripathi Sep 21, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Geeta Sahu Sep 21, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sandeep Kumar Sep 21, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB