जय जय श्री राधे श्याम

जय जय श्री राधे श्याम

जय जय श्री राधे श्याम

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
manju kotnala May 24, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर
anita yadav May 24, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Ashok singh sikarwar May 24, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 47 शेयर
Acharya Rajesh May 24, 2020

*जीवन में सुख-शांति तथा उन्नति हेतु सरल उपाय, भाग-2* 11. मुख्य द्वार के सामने तथा आसपास कभी भी कूड़ेदान न बनाये और न ही रखें इससे घर मे नकारात्मक शक्तियों का आगमन होगा, कार्य पर जाते समय यह नजर आयेगा, तो कार्यो में विफलता मिल सकती हैं, पड़ोसी से संबंधो मे तनाव हो सकता है, तथा वे शत्रुता रखने लगेंगे । 12. दान करते समय या किसी को भी कोई वस्तु देते समय दाहिने हाथ से देनी चाहिए। 13. प्रत्येक पंद्रह दिन मे मे एक बार वृहस्पतिवार के दिन अपनी दुकान या कार्यस्थल में भगवान को भोग लगाकर लड्डू, जलेबी या अमरती ले जाएँ उसे अपने सहायको तथा मताहत के साथ मिलकर खाए तो कार्य स्थल मे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा, जिससे तरक्की तथा धन लाभ प्राप्त होगा । 14. प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सामर्थ्य के अनुसार साल, छः महीने, तीन महीने या प्रतिमाह भंडारे- लंगर का आयोजन करना चाहिए । ऐसा करने से हर प्रकार का पुण्य प्राप्त होती है, वृद्धि- समृद्धि तथा तरक्क़ी की प्राप्तियां होती हैं । 15. सीताफल (पेठा), नारियल इत्यादि को स्त्रियां को नहीं तोड़ना, काटना खिलाना चाहिए । ऐसा करना शास्त्रानुसार उत्तम नही माना गया हैं। 16. रात को रसोईघर मे झूठे बर्तन ना रखें इसे पानी से धो कर रख सकते है, ऐसा करने से धन हानि रुकेगी । 17. पुस्तकें खुली छोड़कर न जायें। उन पर पैर न रखें और उनसे तकिये का काम न लें। धर्मग्रन्थों का विशेष आदर करते हुए स्वयं शुद्ध, पवित्र व स्वच्छ होने पर ही उन्हें स्पर्श करना चाहिए। उँगली मे थूक लगाकर पुस्तकों के पृष्ठ न पलटें। 18. नहाने के बाद गीले तौलिये का प्रयोग ना करें इससे संतान जिद्दी हो जाती है व परिवार से अलग होने लगती है । रोज़ साफ़ सुथरा और सूखा तौलिया ही प्रयोग करें । 19. वृहस्पतिवार के दिन घर में चने की दाल, कडी अथवा कोई भी अन्य पीला खाद्य बनाये तथा ग्रहण करे, इस दिन काली तथा हरी रंग के अन्न ना खाएं तथा इसके विपरीत बुधवार के दिन हरे रंग के अन्न खाएं लेकिन पीली अन्न बिलकुल ना खाएं इससे सुख सुख-समृद्धि प्राप्त होती है । 20. सिर पर तेल लगाने के बाद उसी हाथ से दूसरे अंगों का स्पर्श नहीं करना चाहिए। *(क्रमशः)* _________________________ *आगामी लेख:-* *1. 27 मई से "कृत्य तथा अकृत्य" लेख मे "तैलाभ्यंग" अर्थात तेल लगाने पर लेख* *2. 28 मई से "कृत्य तथा अकृत्य लेख" मे "स्नान" पर लेख* *3. 29 मई से "कृत्य तथा अकृत्य लेख" मे "वस्त्र" पर लेख* *4. शीघ्र ही "भोजन पर लेख* *5. शीघ्र ही "अन्न" पर लेख* *6. जल्द ही "निर्जला एकादशी" पर लेख ।* _________________________ *जय श्री राम* *आज का पंचांग 🌹🌹🌹* *सोमवार,25.05.2020* *श्री संवत 2077* *शक संवत् 1942* *सूर्य अयन- उतरायण, गोल- उत्तर गोल* *ऋतुः- ग्रीष्म ऋतुः ।* *मास- ज्येष्ठ मास।* *पक्ष- शुक्ल पक्ष ।* *तिथि- तृतीया तिथि अर्धरात्रि 1:19 am तक* *चंद्रराशि- चंद्र मिथुन राशि मे ।* *नक्षत्र- मृगशिरा नक्षत्र 6:10 am तक* *योग- धृति योग 5:55 am तक (अशुभ है)* *करण- तैतिल करण 1:10 pm तक* *सूर्योदय 5:30 am, सूर्यास्त 7:07 pm* *राहुकाल - 7:30 am से 9 am तक, (शुभ कार्य वर्जित )* ______________________ *विशेष:- जो व्यक्ति दिल्ली से बाहर अथवा देश से बाहर रहते हो, वह ज्योतिषीय परामर्श हेतु paytm या Bank transfer द्वारा परामर्श फीस अदा करके, फोन द्वारा ज्योतिषीय परामर्श प्राप्त कर सकतें है* *आगामी व्रत तथा त्यौहार:-* 2 जून- निर्जला एकादशी । 3 जून- प्रदोष व्रत । 5 जून- ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत । 8 जून- संकष्टी चतुर्थी । 14 जून मिथुन संक्रांति । 17 जून- योगिनी एकादशी । 18 जून- प्रदोष व्रत । 19 जून- मासिक शिवरात्रि । 21 जून-आषाढ़ अमावस्या । 23 जून- जगन्नाथ रथ यात्रा । आपका दिन मंगलमय हो . 💐💐💐 *आचार्य राजेश ( रोहिणी, दिल्ली )* *9810449333, 7982803848*

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 13 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB