लौंग खाने के ख़ास 20 फायदे।

लौंग खाने के ख़ास 20 फायदे।

लौंग खाने के ख़ास 20 फायदे और लाभ

लोंग का धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्त्व है क्योंकि किसी पूजा अनुष्ठान में लौंग का जोड़ा अर्पित किया जाता है | लौंग को घी के साथ मिलाकर दीपक के साथ मिलाकर पूजा करते है |

लौंग को सुगन्धित होने के कारण सभी स्त्री पुरुष पसंद नहीं करते हैं | लौंग से बहुत सी प्राकृतिक औषधीय (Natural Remedies) बनती है (clove laung benefits आइये जाने उनके बारे में | (fayadei)

Laung Khane Ke Fayde Or Labh
#1.लौंग को पानी के साथ पीसकर, shahad मिलाकर चाटने से खसरे के रोग में बहुत लाभ होता है |

#2. लौंग और हरड़ को पानी में खूब देर तक उबालकर कवाथ (काढ़ा) बनाकर थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर पिने से अजीर्ण में बहुत फायदा होता है |

#3. लौंग को पानी के साथ पीसकर सिर और कनपटियों पर लेप करने से स्नायविक (मस्तक शूल) ख़त्म होता है |
बस व रेल के लम्बे सफर में जी मचलने व उलटी होने की स्थिति में लौंग मुंह में रखकर चूसने से बहुत फायदा होता है |

#4. लौंग (clove) को 200 ग्राम पानी में देर तक उबालें | 50 ग्राम पानी बाकी रह जाने पर उसे छानकर पिने से वायु विकार (गैस) और पेट दर्द खत्म हो जाता है

#5. लौंग के तेल की सिर पर मालिश करने से सिरदर्द ख़त्म हो जाता है |

पानी पीने के 51 फायदे
#6. लौंग और हल्दी को पिसकर लगाने से नासूर में बहुत फायदा होता है |

#7. लौंग को जल में उबालकर, छानकर थोड़ा-थोड़ा पानी पिलाने से हैजे की विकृति में उलटी का प्रकोप शांत होता है | मूत्र अधिक निष्कासित होता है | -laung ke achuk benefits.

laung khane ke fayde labh benefits

#8. लौंग को आग पर भूनकर, कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर मधु मिलाकर चटाने से कुक्कुर (काली) खांसी में बहुत लाभ होता है |

#9. शरीर के किसी भी भाग पर शोध होने पर लौंग का तेल मलने से भी चमत्कारी लाभ होता है |

#10. लौंग को मुंह में रख कर उसका रस चूसने से खांसी ख़त्म होती है | जब तक मुंह में लोंग रहती है तब तक खांसी बंद ही रहती है |

Vajan Badhane Ke Liye 21 Tarike
#11. लौंग को मुंह में रख कर चूसने से मुंह और श्वास की बदबू दूर हो जाती है | clove remedies in hindi

#12. लौंग के तेल की कुछ बुंदे किसी स्वच्छ कपडे के टुकड़े पर टपकाकर, उस कपडे को बार-बार सूंघने से प्रतिषय (जुकाम) की समस्या ठीक हो जाता है साथ ही नाक भी बंद नहीं होती है, और नाक अगर बंद हो तो खुल जाती है |

#13. लौंग को पानी के साथ पीसकर 100 ग्राम पानी में मिलाकर, छानकर मिश्री मिलाकर पिने से ह्रदय की जलन विकृति दूर होती है | पेट में जलन होना बंद हो जाती है | Laung ke achhe fayde

#14. वात विकार व सन्धिशुल (जोड़ों के दर्द) में लौंग का तेल मलने से पीड़ा ख़त्म होती है |

#15. लौंग को पानी के साथ पीसकर हलके गर्म पानी में मिलाकर पिने से जी मचलना बंद हो जाता है और ज्यादा प्यास लगना भी बंद हो जाती है |

#16. लौंग के तेल की एक दो बुंदे बताशे पर डालकर खाने से हैजे की विकृति दूर हो जाती है |

30 Din Me Weight Badhane Ke Liye 10 Aasana Tarike
#17. लौंग को बकरी के दूध में घीसकर, नेत्रों में काजल की तरह लगाने से रतोंधी रोग ठीक हो जाता है |

#18. लौंग और चिरायता दोनों बराबर मात्रा में पानी के साथ पीसकर पिलाने से बुखार (ज्वर) ख़त्म हो जाता है |

#19. एक रत्ती लौंग को पीसकर, मिश्री की चाशनी में मिलाकर चाटकर खिलाने से गर्भवती स्त्री की उल्टियां बंद हो जाती है
Laung ke fayde benefits – लौंग जीवनी शक्ति के कोशो का पोषण करता है | इसी कारण लौंग टी.बी और बुखार में एंटीबायोटिक का काम करता है | यह रक्तशोधक और कीटाणुनाशक होता है | लौंग में मुंह, आते और आमाशय में रहने वाले सूक्ष्म कीटाणुओं व सड़न को रोकने के गुण पाये जाते है |

+97 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 123 शेयर

कामेंट्स

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 65 शेयर
prakash patel May 8, 2021

💎तरबूज के फायदे.... गर्मियों का मौसम शुरू होते ही तरबूज खाना शुरू हो जाता है, क्योंकि गर्मियों के मौसम में तरबूज का सेवन बहुत लाभकारी होता है। तरबूज जोकि बाहर से देखने में थोड़ा कड़क और अंदर से एकदम नरम होता है, जिसमें पानी की मात्रा बहुत अधिक होती है। तरबूज मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन फाइबर और विटामिन जिसमें A, B और C पाए जाते हैं। यह मिनरल का अच्छा स्रोत माना जाता है। तरबूज खाने से आपको ढेर सारे स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ गर्मी से राहत प्राप्त होगी क्योंकि तरबूज शरीर को ठंडक प्रदान करता है। इसमें बीटा केरोटिन के साथ साथ एंटीऑक्सीडेंट भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। तरबूज में आयरन कैल्शियम मैग्नीशियम फास्फोरस और पोटेशियम जैसे महत्वपूर्ण खनिज तत्व मौजूद होते हैं जो आपको कई प्रकार की बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं। तरबूज के औषधीय गुण वजन घटाने में लाभदायक: तरबूज में सिट्रयूलाइन नमक तत्व होता है, जो शरीर में फैले वसा को कम करने में मदद करता है। यह वसा की मात्रा को बढ़ोतरी देने वाले कोशिकाओं को कम करता है। तरबूज में पानी की अधिकता होने के कारण यह डाइटिंग में वजन कम करने का अच्छा स्रोत हो सकता है। 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ पाचन नियमित्ता और कब्ज़ रोकथाम: तरबूज पानी और फाइबर सामग्री में उच्च होने के कारण कब्ज को रोकने और स्वस्थ पाचन तंत्र की नियमितता को बढ़ावा देने में मदद करता है। प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाये: तरबूज में मौजूद विटामिन A और विटामिन C सेहत के लिए कभी लाभदायक होते हैं। विटामिन C की मात्रा होने से यह हमारे शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, साथ ही विटामिन A होने के नाते आँखों को स्वस्थ और नजर में तीखा बनता है। शरीर को हाइड्रेट रखता है: तरबूज में 94% पानी होता है, तो यह शरीर में तरल पदार्थों की पूर्ति तो करेगा ही, जिससे शरीर हाइड्रेट रहता है। इसमें मौजूद सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और कैल्शियम शरीर एवं त्वचा को हाइड्रेट रखने मदद करते हैं। जितना ज्यादा पानी पिओगे शरीर को निरोगी पाओगे। आँखों के लिए फायदेमंद: अगर आप नियमित रूप से तरबूज का सेवन करेंगे तो, अपनी आँखों को स्वस्थ और नजर में ज्यादा पाओगे। क्यूंकि तरबूज में मौजूद बीटा कैरोटीन और विटामिन A आँखों के लिए काफी महत्वपूर्ण होते हैं। इस फल के सेवन करने से आप रतौंधी और मोतियाबिंद जैसे रोगों से बच सकते हो। दिल को मजबूत रखे: दिल तब ही स्वस्थ और फिट रहता है, जब उसमे सही तरह से शुद्ध खून का संचार होता है। तरबूज में पोटेशियम नमक पोषक तत्व खून को साफ़ और सही तरीके से प्रवाह में मदद करता है। जिससे दिल स्वस्थ और बिना किसी घबराहट के चलता है। इससे आपको किसी भी प्रकार की डर नहीं रहती है। ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल: तरबूज खाने वाले लोगो का ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल रहता है। तरबूज़ में 90 % पानी होने से ये शरीर की गर्मी को कम करता है। तरबूज़ में लाइकोपीन उच्च मात्रा में होता है जो दिल की बीमारी से बचाव में मदद कर सकता है। उच्च रक्तचाप के लिए: तरबूज में पोटेशियम, मैग्नीशियम और एमिनो एसिड प्रचुर मात्रा में होता है। जो हमारे शरीर की रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखने और ब्लड के प्रभाव को सही करने में मदद करता है। मोटे लोगों में उच्च रक्तचाप को नियंत्रण करने में तरबूज का सेवन सफल हुआ है। रोजाना एक गिलास तरबूज का जूस पीकर आप अपने हाई ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल कर सकते हैं। त्वचा जवान रहती है: अगर आप अपनी त्वचा के कसाव को बरक़रार रखना चाहते हैं तो तरबूज का सेवन करें। क्यूंकि इसमें पानी की अधिकता और कैरिटोनॉयड्स एवं फ्लेवनॉयड्स नामक तत्व होते हैं, तो त्वचा को कसने में मदद करते हैं। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ मांसपेशियों में मददगार: तरबूज में पोटेशियम अच्छी मात्रा में होता है, जो शरीर में नर्वस सिस्टम और मांसपेशियों की सेहत के लिए जरूरी है। इसके सेवन से मांसपेशियों से जुड़ी समस्याओं से बचा जा सकता है। साथ ही तरबूज और तरबूज का रस मांसपेशियों के दर्द को कम करने में मदद करता है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 8, 2021

💎 बहेड़ा के फायदे.... . पौधे का परिचय श्रेणी : औषधीय समूह : कृषि योग्य वनस्पति का प्रकार : वृक्ष वैज्ञानिक नाम : तेर्मिनालिया बेल्लेरिचा सामान्य नाम : बहेड़ा पौधे की जानकारी उपयोग : बहेड़ा बीज का तेल या पेस्ट सूजन और दर्द वाले स्थान पर लगाया जाता है। बीजों का तेल त्वचा रोगों और बालों की असमय सफेदी दूर करने में किया जाता है। फलों के टुकडों को पकाकर खाँसी, सर्दी, अस्थमा और गले बैठने पर चबाया जाता है। इसके चूर्ण का उपयोग बहते हुए खून को रोकने में किया जाता है।🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ जड़ी-बूटी के रूप में निकट द्दष्टि, अस्पष्टता, अपरिपक्व मोतियाबिंद जैसे विभिन्न नेत्र रोगों में प्रयोग किया जाता है। गिरी के काढ़े का उपयोग उल्टी में किया जाता है। उपयोगी भाग : फल उत्पादन क्षमता : 20-25 किलो फल/पूर्ण परिपक्व वृक्ष उत्पति और वितरण : यह मूल रुप से भारत का वृक्ष हैं। जो पश्चिम भारत के शुष्क क्षेत्रों को छोड़कर लगभग समस्त भारत में 1,000 मी. ऊँचाई तक के क्षेत्रों में मिलता हैं। यह मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब और महराष्ट्र में बहुतायत में पाया जाता है। वितरण : यह एक पर्णपाती वृक्ष है जो संपूर्ण भारत में पाया जाता है। पेड़ की ऊचाँई 30 मीटर होती है। छाल भूरे रंग की होती है इसे संस्कृत में विभिताकि, कार्शफाला, कालिद्रुम और हिन्दी में बहेड़ा के रूप में जाना जाता है। वर्गीकरण विज्ञान, वर्गीकृत कुल : काम्ब्रेटेसी आर्डर : मार्यटालेस प्रजातियां : टी बेल्लीरीका वितरण : यह एक पर्णपाती वृक्ष है जो संपूर्ण भारत में पाया जाता है। पेड़ की ऊचाँई 30 मीटर होती है। छाल भूरे रंग की होती है इसे संस्कृत में विभिताकि, कार्शफाला, कालिद्रुम और हिन्दी में बहेड़ा के रूप में जाना जाता है। आकृति विज्ञान, बाह्रय स्वरूप स्वरूप : यह एक विशाल पर्णपाती वृक्ष है। छाल नीले रंग की होती है जिसमें ददारे बनी होती है। पत्तिंया : पत्तियाँ अण्डाकार और शाखाओं के अंत में समूहों में होती है। पत्तियाँ लंबाई में 8 से 16 से.मी. और चौड़ाई में 6 से 10 से.मी. की होती है।💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ फूल : फूल तीव्र आक्रामक गंध के साथ पीले – हरे रंग के होते है। मई के महीने में फूल खिलते है। फल : फल अण्डाकार भूरे रंग के होते है। गिरी मीठे किन्तु नशीली होती है। फल व्यास में 1.5 से 2.5 से.मी. के होते है। परिपक्व ऊँचाई : परिपक्व वृक्ष की ऊचाँई 20-25 मी. होती है। ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट की जानकारी के लिए 📞👉 +91 9974592157 🌀 MSG 👉 +91 7016609049 हमारा संपर्क करें। और हर गंभीर बिमारी मिटाये।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

पानी से जुड़ी बुरी आदतें आपके लिए बन सकती हैं जहर 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰 पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। कहते हैं शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिनभर में कम से कम आठ से दस गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। पानी पीना फायदेमंद तो होता ही है लेकिन तब जब सही मात्रा में और सही तरीके से पीया जाए। अगर पानी को गलत तरीके से पीया जाए या गलत समय में अधिक मात्रा में पीया जाए तो वह शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है, ऐसा आयुर्वेद में वर्णित है। आयुर्वेद को जीवन का विज्ञान माना जाता है,भोजन से लेकर जीवनशैली तक की चर्चाएं इस शास्त्र में समाहित हैं। आज हम आयुर्वेदिक ग्रन्थ अष्टांग संग्रह (वाग्भट्ट) में बताए गए पानी पीने के कुछ कायदों से आपको रूबरू कराने का प्रयास करते हैं। चलिए जानते हैं पानी कब, कैसे और कितना पीना चाहिए…… 1. भक्तस्यादौ जलं पीतमग्निसादं कृशा अङ्गताम!! खाना खाने से पहले यदि पानी पिया जाए तो यह जल अग्निमांद (पाचन क्रिया का मंद हो जाना) यानी डायजेशन में दिक्कत पैदा करता है।* 2. अन्ते करोति स्थूल्त्वमूध्र्वएचामाशयात कफम! खाना खाने के बाद पानी पीने से शरीर में भारीपन और आमाशय के ऊपरी भाग में कफ की बढ़ोतरी होती है। सरल शब्दों में कहा जाए तो खाने के तुरंत बाद अधिक मात्रा में पानी पीने से मोटापा बढ़ता है व कफ संबंधी समस्याएं भी परेशान कर सकती हैं। 3. प्रयातिपित्तश्लेष्मत्वम्ज्वरितस्य विशेषत:!! आयुर्वेद के अनुसार बुखार से पीड़ित व्यक्ति प्यास लगने पर ज्यादा मात्रा में पानी पीने से बेहोशी, बदहजमी, अंगों में भारीपन, मितली, सांस व जुकाम जैसी स्थिति पैदा हो सकती है। 4. आमविष्टबध्यो :कोश्नम निष्पिपासोह्यप्यप: पिबेत! आमदोष के कारण होने वाली समस्याओं जैसे अजीर्ण और कब्ज जैसी स्थितियों में प्यास न लगने पर भी गुनगुना) पानी पीते रहना चाहिए। 5. मध्येमध्यान्ग्तामसाम्यं धातूनाम जरणम सुखम!! खाने के बीच में थोड़ी मात्रा में पानी पीना शरीर के लिए अच्छा होता है। आयुर्वेद के अनुसार खाने के बीच में पानी पीने से शरीर की धातुओं में समानता आती है और खाना बेहतर ढंग से पचता है। 6. अतियोगेसलिलं तृषय्तोपि प्रयोजितम! प्यास लगने पर एकदम ज्यादा मात्रा में पानी पीना भी शरीर के लिए बहुत नुकसानदायक होता है। ऐसा करने से पित्त और कफ दोष से संबंधित बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है। 7. यावत्य: क्लेदयन्त्यन्नमतिक्लेदोह्य ग्निनाशन:!! पानी उतना ही पीना चाहिए जो अन्न का पाचन करने में जरूरी हो, दरअसल अधिक पानी पीने से भी डायजेशन धीमा हो जाता है। इसलिए खाने की मात्रा के अनुसार ही पानी पीना शरीर के लिए उचित रहता है। 8. बिबद्ध : कफ वाताभ्याममुक्तामाशाया बंधन:! *पच्यत* क्षिप्रमाहार:कोष्णतोयद्रवी कृत:!! कफ और वायु के कारण जो भोजन नहीं पचा है उसे शरीर से बाहर कर देता है। गुनगुना पानी उसे आसानी से पचा देता है। (सभी सन्दर्भ सूत्र अष्टांग संग्रह अध्याय 6 के 41-42,33-34 एवं 36-37 से लिए गए हैं) 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 35 शेयर
prakash patel May 8, 2021

🌿કડવો લીમડો આયુર્વેદિક દવા છે જેના અનેક સ્વાસ્થ્યવર્ધક ફાયદા છે. લીમડો આપણા શરીર, ત્વચા અને વાળ માટે અત્યંત ગુણકારી છે. લીમડાને આપણે ત્યાં કટુ અમૃત કહેવામાં આવે છે. એક તો તેની શીળી છાંય, આરોગ્યપ્રદ ગુણધર્મ અને પરોપકારી સ્વભાવને લીધે આપણી સંસ્કૃતિમાં લીમડાંના વૃક્ષને આગવું મહ્ત્વ આપવામાં આવ્યું છે. 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ 🌿સ્વાસ્થ્યવર્ધક તરીકે ઓળખાતો લીમડો બધી જગ્યાએ જોવા મળે છે. તેના અનેક ઉપયોગો હોવાથી તેને આરોગ્યના દેવતા નારાયણ માનવામાં આવે છે. તે અતિ ગુણકારી હોઇ તેના તમામ ભાગનો ઉપયોગ ઓષધી તરીકે થતો હોય છે. આયુર્વેદના મહાન ગ્રંથ ભાવપ્રકાશમાં લીમડાનાં કેટલાંક નામ આપ્યાં છે તે જોતાં આપણને તેની મહત્તા સમજાશે. નિંબ – ઠંડક આપનાર. પિચુમંદ – ચામડીનો રોગ નાશ પમાડનાર. તિક્ત – કડવો રસ ધરાવનાર. અરિષ્ટ – જેનાથી અશુભ થતું નથી તે. પારિભદ્ર – જેનાં સેવનથી માત્રને માત્ર કલ્યાણ થાય છે. હિંગુનિર્યાસ – જેનો ગુંદર હિંગ જેવી સુવાસ ધરાવે છે તે. કડવા લીમડાના સેવનથી થતાં ફાયદા :- 🌿લીમડાના પાંચ ભાગ મૂળ, છાલ, પાંદડાં, ફૂલ અને ફળ વગેરે છે. જે દરેક રીતે આરોગ્ય માટે ઉપયોગી છે. તેનો સીધો ઉપયોગ ઔષધી તરીકે થઇ શકે છે. 🌿લીમડામાં પ્રોટીન, કાર્બોહાઇડેટ, ફાઇબર, કેલ્શિયમ, મેગ્નેશિયમ, આયર્ન, સોડિયમ, કોપર, સલ્ફર, વિટામિન-એ, સી જેવાં સ્વાસ્થ્યવર્ધક તત્ત્વો હોય છે. તેનાં પાંદડાંઓના નિયમિત ઉપયોગથી ચામડી અને કૃષ્ઠ રોગ જેવી બીમારીઓમાં ઝડપથી ઉગારી શકાય છે. 🌿નવજાત શિશુઓને લીમડાનાં કુમળાં પાંડદાંઓને વાટી તેનો રસ નિયમિત રીત પિવડાવવાથી તેને ઝેરીલા જીવજંતુઓની કોઇ અસર થતી નથી. 🌿આયુર્વેદના મતે સ્વાદમાં લીમડો કડવો અને તૂરો, પચવામાં હળવો, ઠંડો, વ્રણ-ઘાની શુદ્ધિ કરનાર અને હૃદય માટે હિતકારી છે. તે કફ, સોજો, પિત્ત, ઊલટી, કૃમિ, હૃદયની બળતરા, કોઢ, થાક, અરુચિ, રક્તના વિકારો, તાવ અને ઉધરસને મટાડનાર છે. લીંબોળીનું તેલ કડવું તથા ગરમ હોય છે. તે હરસ-મસા, વ્રણ, કૃમિ, વાયુ, કોઢ, રક્તના વિકારો અને તાવને મટાડે છે.🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ 🌿બે ગ્રામ લીમડાના પાનની રાખનું સેવન કરવાથી કીડનીની પથરી ગળીને નીકળી જાય છે. 🌿કડવા લીમડાના પાન બાફીને સાધારણ ગરમ હોય ત્યારે સોજા ઉપર બાંધવાથી સોજો ઉતરે છે. ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले।

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Madan Kaushik May 6, 2021

***अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻*  गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। श्रीमते रघुवीराय सेतूल्लङ्घितसिन्धवे। जितराक्षसराजाय रणधीराय मङ्गलम्।। - भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।।  क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! सबसे पहले तो नित्यप्रति आपकी प्रिय पोस्ट "नक्षत्रवाणी" की पोस्टिंग में होने वाले विलंब के लिए आप सभी से हृदयपूर्वक क्षमा प्रार्थना सहित...🙏🙏 आप सभी परम प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य/पं.मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸 जय गणेश 🌸 जय अंबे 🌸 *जय श्री कृष्ण*🌷मंगल प्रभात🌷इसी के साथ आप सभी सनातनी, धर्म-उत्सवप्रेमी, राम-कृष्ण-हरि-शिवभक्त, शक्ति उपासक व राष्ट्रप्रेमियों को आज पवित्र **वैशाख कृष्ण/अंधेर पक्ष/बदी दशमी/दसमी** की बहुत-बहुत हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं...!!!** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर...🙏 ```༺⊰🕉⊱༻ ``` *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻* ☘️🌸!! ॐ श्री गणेशाय नमः!! 🌸☘️ ****************************** 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक **०६ मई सन-२०२१/06 मई-2021 ईस्वी** बृहस्पतिवार/गुरूवासर/Thursday* *🇮🇳 राष्ट्रीय सौर वैशाख, दिनांक १५* *चैत्र (मधुमास)* प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« 👉 ध्यान दें **यहाँ दिये गए तिथि, नक्षत्र, योग व करण आदि के समय इनके समाप्ति काल हैं और सूर्योदयास्त व चंद्रोदय का गणना स्थल मुंबई हैं।** कलियुगाब्द......5122 (५१२२) विक्रम संवत्.....२०७८/2078 (आंनद नाम) शक संवत्......१९४३/1943 मास....वैशाख (सं./हिंदी)/बैसाख (मारवाड़ी/पंजाबी) पक्ष.....कृष्ण/अंधेर पक्ष/बदी/लागतो बैशाख **तिथी...(१०/10) दशमी/दसमी** *अपराह्न/दिन 14:10 पर्यंत पश्चात एकादशी* **वार/दिन.....गुरुवासर/बृहस्पतिवार/भिसपत/Thursday** **नक्षत्र.........धनिष्ठा 🌠** *पूर्वाह्न/प्रातः 10:32 पश्चात शतभिषा योग:-ऐन्द्र 19:22 पश्चात वैधृति करण:-विष्टि/भद्रा 14:10, बव 26.47 सूर्योदय.......प्रातः 06.08.00 पर सूर्यास्त........सांय 07.03.00 पर चंद्रोदय........रात्रि 03.31.00 पर। रवि(अयन-दृक)......उत्तरायण रवि(अयन-वैदिक)...उत्तरायण **ऋतु (दृक).....ग्रीष्म** **ऋतु वैदिक)...वसंत** **सूर्य राशि.......मीन** **चन्द्र राशि......कुंभ (29.55 बजे यानि रात्रि/ अगले दिन प्रातः 05.55 तक पश्चात् मीन)** **गुरु राशी.......कुंभ (पूर्व में उदय, मार्गी)** 🚦 *दिशाशूल :-* दक्षिण दिशा- यदि बहुत ही आवश्यक हो तो लड्डू/दही/केसर या ज़ीरा सेवन करके यात्रा प्रारंभ करें। ☸ शुभ अंक....६/6 🔯 शुभ रंग...... पीत/पीला/सुनहरा/केसरिया ⚜️ *अभिजीत मुहूर्त :-* मध्याह्न 12.09 से 13.01 तक। 👁‍🗨 *राहुकाल :-* अपराह्न/दिन 14:12 से 15:49 तक ⚜️ *गुलिक काल :-* पूर्वाह्न/प्रातः 09.22 से 10.58 तक। ************************* 🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-* *मेष* 04:58:44 06:39:33 *वृषभ* 06:39:33 08:38:03 *मिथुन* 08:38:03 10:51:45 *कर्क* 10:51:45 13:07:55 *सिंह* 13:07:55 15:19:44 *कन्या* 15:19:44 17:30:23 *तुला* 17:30:23 19:45:01 *वृश्चिक* 19:45:01 22:01:11 *धनु* 22:01:11 24:06:49 *मकर* 24:06:49 25:53:57 *कुम्भ* 25:53:57 27:27:31 *मीन* 27:27:31 28:58:44 ✡ *चौघडिया :-* 🌞चोघङिया दिन🌞 शुभ:-05:49से07:30तक चंचल:-10:50से12:30तक लाभ:-12:30से14:10तक अमृत:-14:10से15:50तक शुभ:-17:30से19:06तक 🌓चोघङिया रात🌗 अमृत:-19:06से20:26तक चंचल:-20:26से21:46तक लाभ:-00:26से01:46तक शुभ:-03:06से04:26तक अमृत:-04:26से05:49तक *****""""""******"""*******"""******** आज के विशेष योगायोग/युति संयोग, वेध, ग्रहचार (ग्रहचाल), व्रत/पर्व/प्रकटोत्सव, जयंती/जन्मोत्सव व मोक्ष दिवस/स्मृतिदिवस/पुण्यतिथि आदि 🙏👇:- 👉 **आज वैशाख कृष्ण/अंधेर पक्ष/सुदी गुरुवासर/बृहस्पतिवार/Thursday को हिंदु नववर्ष/विक्रमी संवत् का 24 वाँ/चौबीसवां दिन, बैशाख बदी दशमी/दसमी अपराह्न/दिन 14:10 पर्यंत पश्चात एकादशी, भद्रा अपराह्न/दिन 14:10 तक, पंचक ज़ारी, मुनि सुब्रतनाथ जयंती (जैन)।** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ 🙏📿*आज का आराधना मंत्र🙏:- **🕉 ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः‼️🎪🚩* *🚩🕉️ ॐ गरुड़वाहनाय नमः।। 🎪🚩* 📿 *आज का उपासना मंत्र :- ।। ॐ पुंडरीकाक्षाय नम: ।। ।। ॐ विष्णवे नमः।। *********************** ⚜ 👉🙏☸*महत्वूर्ण तिथि विशेष :*🚩 **वैशाख कृष्ण पक्ष/बदी दशमी/दसमी।** 🙏 💥 **विशेष ध्यातव्य👉 दशमी/दसमी को परवल/कलंबी का किसी भी रूप में सेवन करना धन व बुद्धिनाशक होने से पूर्णतः वर्जित है (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)।* साभार: 🌞 *~हिन्दू पंचांग ~* 🌞।** 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 👉 **🏡वास्तु टिप्स🏢🏡 1) गृहवास्तु विज्ञान के अनुसार बाहरी द्वार से भीतरी द्वार का बाई तरफ होना 'उपसव्य द्वार कहलाता है, जो अशुभ होता है तथा बंधु-बांधवों में कमी का कारण होता है। यथासंभव इससे बचें। 2) गृहवास्तु के अनुसार यथासंभव शयनकक्ष में दर्पण न लगाएँ। इससे घर के सदस्यों के विचारों में मतभेद और कलह की स्थिति उत्पन्न होती रहती है।** 3) यदि आपके घर से अगर अकारण ही बरकत जा रही है या आपको नेगेटिव एनर्जी दिख रही है या परिवार में निरंतर कलह रहता है, तो कपूर और फिटकरी को पीस के गौझारण (गौमूत्र) जो बहुत ही आसानी से मिल जाता है (अन्यथा पतंजलि आदि का ले लें), इससे घर मे पोछा लगाने वाले क्लीनर या पानी मे मिला लें और रोज़ सुबह-शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजा-आरती के बाद छिड़काव भी करें फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखें। 4) **घर की मुख्य सीढ़ियाँ सदैव दक्षिण या पश्चिम की ओर होनी चाहिए। ईशान में कभी भी होनी चाहिए। विशेष परस्थिति में वायव्य तथा आग्नेय कोण में बना सकते हैं। *****""""""******"""*******"""********  *संस्कृत सुभाषितानि :-* स्पृशन्नपि गजो हन्ति जिघ्रन्नपि भुजंगमः । हसन्नपि नृपो हन्ति मानयन् अपि दुर्जनः ॥ अर्थात :- स्पर्श करने से हाथी, सुंघने से सर्प, और हसते-हसते राजा (अन्य को) मार देता है। वैसे ही मान देनेके बावजुद दुर्जन मानव को मार देता है । *सुविचार* भूमि, कीर्ति, यश और लक्ष्मी, सत्य का अनुसरण करने वाले व्यक्ति की प्रार्थना करते हैं। 👍🏻 *💊💉आरोग्य मंत्र 🌿🍃* भैंस का दूध पीने, कन्द खाने व अधिक भोजन करने से नींद अधिक आती हैं। इसलिए स्फूर्ति चाहने वाले व्यक्ति को गाय का दूध पीना चाहिए तथा अल्पाहारी होना चाहिए। *कैंसर -* शक्तिशाली एंटी ऑक्सीडेंट्स वाली हींग लगातार खाने पर यह फ्री रेडिकल्स से शरीर का बचाव करती है. इसकी कैंसर प्रतिरोधी क्षमता कैंसर कोशिकाओं के विकास में रूकावट पैदा करती है. *अपच -* अपच होने पर हींग रामबाण साबित होती है. इसमें एंटी इनफ्लेमटरी और एंटी ऑक्सीडेंट्स पाये जाते हैं जो अपच को दूर करते हैं. हींग कब्ज की समस्या को भी दूर करती है. पेट पर विशेषकर नाभि के आसपास गोलाई में इस पानी का लेप करने से पेट दर्द, पेट फूलना और पेट का भारीपन जैसी पीड़ादायी समस्या दूर हो जाती है. *****""""""******"""*******"""******** ⚜*🐑🐂🦔 आज का संभावित चन्द्र राशिफल🦂🐊🐟:- 👉 किंतु पहले सबसे एक करबद्ध निवेदन🙏 मित्रों सर्वप्रथम तो कुछ तकनीकी कारणों से आपको आपकी प्रिय पोस्ट नक्षत्रवानी विलंब से मिल पाती है इसके लिए मैं आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ। तत्पश्चात मैं निवेदन करना चाहता हूँ कि आपकी इस परमप्रिय ज्ञानवर्धक 'अपना पोस्ट' *नक्षत्रवाणी* को आप जितना हो सकता हो उतना लाइक-शेयर तथा फॉरवर्ड तो करें ही, आलस्य त्याग कर कृपया इसपर अपनी बुद्धि व विवेक के अनुसार अपने सही-सही कमैंट्स भी अवश्य करें। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे और अपने फीडबैक से व लाइक/सराहना करके भी अवश्य ही मेरा उत्साहवर्धन करेंगे। नक्षत्रवाणी के संदर्भ में आप सभी के बहुमूल्य सुझाव भी सदैव सादर आमंत्रित हैं।धन्यवाद...!!! **ख़ुशख़बर।। सबसे बड़ी ख़ुशख़बर।।**👇 Free। फ्री।। Free।।। फ्री।।।। Free।।।।। फ्री।।।।।।👇 🙏👉 किसी भी जन्मलग्न या जन्मराशि या अपनी प्रसिद्ध राशि के लिए भाग्यशाली रत्न-रुद्राक्ष हमसे जानें फ्री ऑफ Charge यानि पूर्णतः निःशुल्क व निःसंकोच। इसके अलावा लैब टेस्टेड उच्चतम क्वालिटी के रत्न-रुद्राक्ष प्राप्त करने के लिए भी हमसे संपर्क करें :👇 9987815015 या 9991610514 पर। 🙏👉 प्रियवरों शिवकृपा प्राप्ति के सबसे बड़े शुभावसर 'महाशिरात्रि' के पावन पर्व पर (यानि कि 11 मार्च को) भगवान महाकालेश्वर शिव जो कि एकादश रुद्र रूपों में भी तीनों लोकों में प्रस्फुटित होते हैं, उनके साक्षात स्वरूप व कृपाप्रसाद *पंचमुखी 'रुद्राक्ष रत्न*" जिसे रुद्र के अक्ष या भगवान शिव के अक्ष के रूप में भी जाना जाता है, को इसबार फिर से इस परम शुभ अवसर पर विधिवत् *अभिमंत्रित* करके आपको आपके सभी दैहिक-दैविक-भौतिक कष्टों से मुक्ति दिलाने हेतु, विशेषतः इस **कोरोना काल** में बहुत अधिक बढ़ चुके मानसिक संताप (Mental stress/depression) तथा आर्थिक संताप को पूर्ण रूप से दूर करने के लिए, इस समय आपकी आर्थिक तँगीं की स्थिति को समझते हुए **केवल मात्र 111₹** में आप शिवभक्त सुधि पाठकों के लिए उपलब्ध करवाना प्रारंभ किया हैं। जिसे भी यह दिव्य सर्वसिद्ध **रुद्राक्ष रत्न** चाहिए, वे कृपया हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। ध्यान रखें यह योजना सीमित समय के लिए ही है, इसलिए इस सुनहरे अवसर को आप चूकें नहीं। 🙏 👉 **एक विशेष व अति शुभ सूचना:** **मित्रों हमारे 'ऐस्ट्रो वर्ल्ड' के दिव्य कोष में शुद्ध केसर (काश्मीरी व ईरानी A तथा B दोनों ग्रेड की), पारिजात, चम्पा, अनन्त, पुन्नाग, श्वेत/सफ़ेद ऊद, केसर, खस, भीना गुलाब व असली चंदन जैसे दिव्य इत्रों की पूरी रेंज, भीमसेनी कर्पूर, उत्तम क्वालिटी की शुद्ध गुग्गल व शुद्ध लोबान, शुद्ध राशि रत्न-उपरत्न, असली नेपाली रुद्राक्ष रत्न व गण्डकी नदी से प्राप्त असली शालिग्राम जी भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे इस संग्रहालय में और भी कई दिव्य व चमत्कारिक वस्तुएं उपलब्ध हैं। ये सभी दिव्य वस्तुएं हम अपने ज्योतिष-वास्तु एवं वैदिक पूजा-अनुष्ठानों के नियमित यजमानों के लिए बहुत ही सही कीमत/रेट पर और बहुत ही कम मार्जिन पर आपको देते हैं तथा इनके असली होने की मनीबैक गारंटी भी। तो आप 'नक्षत्रवाणी' के सभी पाठक भी हमारे परमप्रिय होने से इसका लाभ निःसन्देह ले सकते हैं। इसके लिए आप हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। जल्दी रिप्लाई ना मिलने पर आप कॉल भी कर सकते हैं। धन्यवाद...!!!** 🙏ध्यान दें मित्रों 👉 **जिनका भी 'FB यानि फ़ेसबुक' अकाउंट नहीं है और जो पाठकगण हमारे द्वारा भेजे जा रहे 'FB लिंक' के माध्यम से 'नक्षत्रवाणी पोस्ट' नहीं देख या पढ़ पा रहे हों वे इसके बारे में हमें अविलंब बताएं ताकि उन्हें बिना FB लिंक वाली 'पूरी पोस्ट' भेजी जा सके। इसके अलावा जिन पाठक गणों को नक्षत्रवाणी पोस्ट एक से अधिक बार प्राप्त हो रही हो, वे भी हमें तुरंत सूचित करने की कृपा करें ताकि उन्हें हमारी एक से अधिक ब्रॉडकास्ट लिस्ट्स/BCLs से उन्हें रिमूव किया जा सके। आप हमें प्रतिक्रिया नहीं देते हैं तो हमें तो यही लगेगा कि आप को नक्षत्रवाणी केवल एक ही बार प्राप्त हो रही है। इसलिए हमें सूचित अवश्य करें। धन्यवाद...!!! *****""""""******"""*******"""******** देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत् ।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिंतयेत।। ☀️ मेष राशि :- आज आप बहुत खुश रहेंगे, आपकी खुशियों में कोई बाधा नहीं आएगी। शायद आपको पता नहीं कि आपका सकारात्मक व्यवहार आपके काम में दिखाई देगा, इससे आपके सहकर्मी भी आपसे प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकेंगे। आपको इस समय का पूरा फायदा उठाते हुए अपने सभी अधूरे कामों को पूरा कर लेना चाहिए। ☀️ वृषभ राशि :- आज आपके घर पर समुद्र पार से मेहमानों के आने की प्रबल संभावना है। इससे आपके घर पर खुशियां छाई रहेंगी। अगर आप काम में व्यस्त भी हैं तो भी समय निकाल कर उनके साथ का आनंद लें। आपके दोस्तों का साथ आपको बहुत खुशियां देगा। ☀️ मिथुन राशि :- आज आपको खूब पहचान मिलेगी। आज आप जिस मुकाम पर हैं वो आपकी स्पष्टता और अच्छी संप्रेषण कला की वजह से ही है। आप और अधिक सफलता पाने के अपने प्रयासों को जारी रखें और अपने अहम को अपने रास्ते में ना आने दें। इससे लोग आपका आदर करते रहेंगे। ☀️ कर्क राशि :- आज भविष्य की योजनाएं बनाने के लिए ये समय बहुत ही अच्छा है। आप में से जो लोग परेशानी को सामना कर रहे हैं उन्हें अपनी रणनीति में परिवर्तन करना चाहिए ताकि आप अपने लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त कर सकें। ये सब करने के लिए आज से ज्यादा बेहतर दिन हो ही नहीं सकता। आपका यही कदम आपके भविष्य के लिए शुभ फल दायक रहेगा। ☀️ सिंह राशि :- आज आप उन चीजों को महत्व दें जो सच में आपके लिए महत्वपूर्ण हैं। आपको अपने परिवार, दोस्तों और काम के बीच संतुलन बनाना चाहिए। कभी-कभी आपको ये भी लगा होगा कि हर काम में सही संतुलन ना बना पाने के कारण आपकी प्राथमिकताएं पूरी नहीं हो पाई हैं। इन मुद्दों को ले कर अगर आज आप सोच-विचार करें और योजना बनाएं तो आपके दिमाग में स्पष्टता आएगी। ☀️ कन्या राशि :- आज आपका कोई प्रियजन आपके लिए कोई खुशखबरी ले कर आएगा और आपको उस पर गर्व होगा। खुशियों का उत्सव मनाने का समय है क्योंकि आपको कोई नजदीकी कुछ खास हासिल कर सकता है। उनको कोई इनाम, अच्छे अंक या फिर खूब सारी प्रशंसा मिल सकती है। उनको और अधिक प्रोत्साहन दें और शाबाशी देना बिल्कुल ना भूलें। ☀️ तुला राशि :- आज शायद आप खुद को अपनी इच्छाओं और जिम्मेदारियों के बीच झूलता हुआ पाएंगे। एक तरफ आप सामाजिक समारोह में बढ़-चढ़ कर भाग लेना चाहेंगे और दूसरी तरफ आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि आप अपना काम भी समय पर पूरा करें। ये संतुलन बनाए रखना तो कभी भी आपकी परेशानी थी ही नहीं। तो फिर देर किस बात की है सब को खुश रखें। ☀️ वृश्चिक राशि :- आज आप अपने गुस्से पर पूरी तरह से काबू रखें। ऐसा करके आप उस शांति को कायम रखेंगे जिसका मजा आप अब तक ले रहे थे। आज जो मुद्दा आपको बड़ा लग रहा है वही बात कल आपको छोटी लगेगी। इसलिए आप इस मुद्दे को प्यार से ही सुलझाने की कोशिश करें। ☀️ धनु राशि :- आज आपको लगेगा कि आप बहुत भाग्यशाली हैं आपके आस-पास के लोगों को भी ऐसा ही लगेगा। आज आप अपने परिवार व कार्यालय के लोगों के लिए भी भाग्यशाली साबित होंगे। इस अवसर का फायदा उठाते हुए दूसरों की मदद करें। वो आपको इसके लिए सराहेंगे। ☀️ मकर राशि :- आज आप मानसिक शांति से वंचित रहेंगे। अच्छा होगा कि आप कुछ मनोरंजक गतिविधियों में भाग लें। आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ कहीं बाहर घूमने भी जा सकते हैं। अगर ना भी जा पाएं तो फोन पर ही अपने किसी प्रियजन से बात कर लीजिए। आपका दिल खुश हो जाएगा। आप ज्यादा चिंता ना करें क्योंकि आपको आपकी मानसिक शांति जल्दी ही वापस मिलेगी। ☀️ कुंभ राशि :- आज शायद आप अपने दोस्तों के साथ कहीं मौज-मस्ती करने निकल जाएं। ये यात्रा एक दिन की या लंबे समय की हो सकती है। जैसी भी हो लेकिन आप इस यात्रा पर खूब मजे करेंगे। इस यात्रा को आप हमेशा याद रखेंगे। ☀️ मीन राशि :- आज आपके आस-पास के लोग आपके मधुर व्यवहार को देख कर हैरान रह जाएंगे। आप सबकी मदद करने के लिए आगे रहेंगे। आज आप पाएंगे कि जिन्दगी के प्रति आपका नजरिया पूरी तरह से बदल गया है। ध्यान रखें कि ये बदलाव सिर्फ बाहर से ही नहीं बल्कि भीतर से भी हो। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं, उन सभी प्रिय मित्रो को कोटिशः शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इन बातों पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बीमारी आपको छोड़ ही नहीं रही है...? घर का हर एक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ प्रस्तुति: आचार्य मदन टी.कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले, मूल निकास: गौड़ बंगाल एवं तत्पश्चात ढाणी भालोट-झुंझनूँ-राज.) (चयनित/Appointed/) ज्योतिष एवं वास्तु शोध वैज्ञानिक एवं पूर्व विभागाध्यक्ष: TARF, Dadar-Mumbai साभार: बाँके बिहारी (धुरंधर वैदिक विद्वानों का अद्वितीय वैश्विकमंच) कार्यकारी अध्यक्ष: एस्ट्रो-वर्ल्ड मुंबई व सिरसा (सभी दैहिक दैविक भौतिक समस्याओं का एक ही जगह सटीक निदान व स्थायी समाधान) अध्यक्ष: सातफेरे डॉट कॉम मुंबई व सिरसा (आपके अपनों के दिव्य एवं सुसंस्कारी वैवाहिक जीवन की झटपट शुरूआत हेतु अनूठा संस्थान) नोट: हमारी या हमारे संस्थान 'एस्ट्रो-वर्ल्ड' तथा आपके अपनों के वैवाहिक जीवन सम्बन्धी सभी समस्याओं का एकमात्र हल एवं विश्व के इस सबसे अनूठे मंच 'सातफेरे डॉट कॉम' मुंबई या सिरसा की किसी भी प्रकार की गरिमापूर्ण सेवा जैसे वैज्ञानिकतापूर्ण ज्योतिष-वास्तु मार्गदर्शन, सभी प्रकार के मुहूर्त शोधन, नामकरण संस्कार, विवाह संस्कार या अन्य कोई भी वैदिक पूजा-अनुष्ठान आयोजित करवाने, रत्न अभिमन्त्रण, सभी राशिरत्न-उपरत्न, मणि-माणिक्य, दक्षिणावर्ती शँख (जो कि घर में विधिवत रखने मात्र से ही बदल दे आपका भाग्य हमेशां-2 के लिए...!), सियारसिंगी, भुजयुग्म (हत्थाजोड़ी, जो तिज़ोरी आपकी कभी ख़ाली ना होने दे), नागकेसर, विविध प्रकार के वास्तु पिरामिडज एवं अन्य कई प्रकार की सौभाग्यवर्धक वस्तुओं की प्राप्ति हेतु हमारे... सम्पर्क सूत्र: 9987815015 / 9991610514 ईमेल आई डी: [email protected] 🌺आपका दिन आदि वैद्य (भगवान धन्वंतरि जी) की कृपा से परम मंगलमय हो मित्रो! *🚩जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम🚩* 🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩 ।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB