Jaikumar
Jaikumar Jan 22, 2021

+21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 53 शेयर

कामेंट्स

JAI MAA VAISHNO Jan 22, 2021
JAI MATA SANTOSHI KIRPA KARO MAA JAI MATA SANTOSHI KIRPA KARO MAA

Seema Sharma. Himachal (chd) Jan 22, 2021
*हर किसी के लिए दुआ* *किया करो* *क्या पता* *किसी की किस्मत* *आपकी दुआ का इंतजार* *कर रही हो*🙏😊🌹 हंसते हंसाते रहिए 😊 बहुत बहुत धन्यवाद जी 😊🙏

Sonali Dhanak Jan 22, 2021
सच में मा का दर्जा भगवान से भी बढ़कर है

ramkumarverma Feb 25, 2021

+26 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 106 शेयर
PDJOSHI Feb 23, 2021

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर
🥀🥀 Feb 25, 2021

भोजन के प्रकार भीष्म पितामह ने अर्जुन को 4 प्रकार से भोजन न करने के लिए बताया था ... पहला भोजन .... जिस भोजन की थाली को कोई लांघ कर गया हो वह भोजन की थाली नाले में पड़े कीचड़ के समान होती है ...! दूसरा भोजन .... जिस भोजन की थाली में ठोकर लग गई,पाव लग गया वह भोजन की थाली भिष्टा के समान होता है ....! तीसरे प्रकार का भोजन .... जिस भोजन की थाली में बाल पड़ा हो, केश पड़ा हो वह दरिद्रता के समान होता है .... चौथे नंबर का भोजन .... अगर पति और पत्नी एक ही थाली में भोजन कर रहे हो तो वह मदिरा के तुल्य होता है ..... और सुनो अर्जुन अगर पत्नी,पति के भोजन करने के बाद थाली में भोजन करती है उसी थाली में भोजन करती है या पति का बचा हुआ खाती है तो उसे चारों धाम के पुण्य का फल प्राप्त होता है .. अगर दो भाई एक थाली में भोजन कर रहे हो तो वह अमृतपान कहलाता है चारों धाम के प्रसाद के तुल्य वह भोजन हो जाता है .... और सुनो अर्जुन ..... बेटी अगर कुमारी हो और अपने पिता के साथ भोजन करती है एक ही थाली में तो उस पिता की कभी अकाल मृत्यु नहीं होती .... क्योंकि बेटी पिता की अकाल मृत्यु को हर लेती है ! इसीलिए बेटी जब तक कुमारी रहे तो अपने पिता के साथ बैठकर भोजन करें ! क्योंकि वह अपने पिता की अकाल मृत्यु को हर लेती हैं ...! संस्कार दिये बिना सुविधायें देना, पतन का कारण है ... "सुविधाएं अगर आप ने बच्चों को नहीं दिए तो हो सकता है वह थोड़ी देर के लिए रोए ... पर संस्कार नहीं दिए तो वे जीवन भर रोएंगे ..🙏🙏

+27 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 66 शेयर

(क्यों हैरान करता है इंसान का शरीर, वैज्ञानिकों को) 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 अद्भुत है इंसान का शरीर जबरदस्त फेफड़े 🔸🔸🔹🔸🔸 हमारे फेफड़े हर दिन 20 लाख लीटर हवा को फिल्टर करते हैं. हमें इस बात की भनक भी नहीं लगती. फेफड़ों को अगर खींचा जाए तो यह टेनिस कोर्ट के एक हिस्से को ढंक देंगे. ऐसी और कोई फैक्ट्री नहीं 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 हमारा शरीर हर सेकंड 2.5 करोड़ नई कोशिकाएं बनाता है. साथ ही, हर दिन 200 अरब से ज्यादा रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है. हर वक्त शरीर में 2500 अरब रक्त कोशिकाएं मौजूद होती हैं. एक बूंद खून में 25 करोड़ कोशिकाएं होती हैं. लाखों किलोमीटर की यात्रा 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 इंसान का खून हर दिन शरीर में 1,92,000 किलोमीटर का सफर करता है. हमारे शरीर में औसतन 5.6 लीटर खून होता है जो हर 20 सेकेंड में एक बार पूरे शरीर में चक्कर काट लेता है. धड़कन 🔸🔹🔸 एक स्वस्थ इंसान का हृदय हर दिन 1,03,680 बार धड़कता है. साल भर में यह 3 करोड़ से ज्यादा बार धड़क चुका होता है. दिल का पम्पिंग प्रेशर इतना तेज होता है कि वह खून को 30 फुट ऊपर उछाल सकता है. सारे कैमरे और दूरबीनें फेल 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 इंसान की आंख एक करोड़ रंगों में बारीक से बारीक अंतर पहचान सकती है. फिलहाल दुनिया में ऐसी कोई मशीन नहीं है जो इसका मुकाबला कर सके. नाक में एंयर कंडीशनर 🔸🔸🔹🔸🔹🔸🔸 हमारी नाक में प्राकृतिक एयर कंडीशनर होता है. यह गर्म हवा को ठंडा और ठंडी हवा को गर्म कर फेफड़ों तक पहुंचाता है. 400 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार 🔸🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔸 तंत्रिका तंत्र 400 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से शरीर के बाकी हिस्सों तक जरूरी निर्देश पहुंचाता है. इंसानी मस्तिष्क में 100 अरब से ज्यादा तंत्रिका कोशिकाएं होती हैं. जबरदस्त मिश्रण 🔸🔸🔹🔸🔸 शरीर में 70 फीसदी पानी होता है. इसके अलावा बड़ी मात्रा में कार्बन, जिंक, कोबाल्ट, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फेट, निकिल और सिलिकॉन होता है. बेजोड़ झींक 🔸🔸🔹🔹 झींकते समय बाहर निकले वाली हवा की रफ्तार 166 से 300 किलोमीटर प्रतिघंटा हो सकती है. आंखें खोलकर झींक मारना नामुमकिन है. बैक्टीरिया का गोदाम 🔸🔸🔹🔸🔹🔸🔸 इंसान के वजन का 10 फीसदी हिस्सा, शरीर में मौजूद बैक्टीरिया की वजह से होता है. एक वर्ग इंच त्वचा में 3.2 करोड़ बैक्टीरिया होते हैं. ईएनटी की विचित्र दुनिया 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸 आंखें बचपन में ही पूरी तरह विकसित हो जाती हैं. बाद में उनमें कोई विकास नहीं होता. वहीं नाक और कान पूरी जिंदगी विकसित होते रहते हैं. कान लाखों आवाजों में अंतर पहचान सकते हैं. कान 1,000 से 50,000 हर्ट्ज के बीच की ध्वनि तरंगे सुनते हैं. दांत संभाल के 🔸🔸🔹🔸🔸 इंसान के दांत चट्टान की तरह मजबूत होते हैं. लेकिन शरीर के दूसरे हिस्से अपनी मरम्मत खुद कर लेते हैं, वहीं दांत बीमार होने पर खुद को दुरुस्त नहीं कर पाते. मुंह में नमी 🔸🔹🔸 इंसान के मुंह में हर दिन 1.7 लीटर लार बनती है. लार खाने को पचाने के साथ ही जीभ में मौजूद 10,000 से ज्यादा स्वाद ग्रंथियों को नम बनाए रखती है. झपकती पलकें 🔸🔸🔹🔸🔸 वैज्ञानिकों को लगता है कि पलकें आंखों से पसीना बाहर निकालने और उनमें नमी बनाए रखने के लिए झपकती है. महिलाएं पुरुषों की तुलना में दोगुनी बार पलके झपकती हैं. नाखून भी कमाल के 🔸🔸🔹🔹🔸🔸 अंगूठे का नाखून सबसे धीमी रफ्तार से बढ़ता है. वहीं मध्यमा या मिडिल फिंगर का नाखून सबसे तेजी से बढ़ता है. तेज रफ्तार दाढ़ी 🔸🔸🔹🔸🔸 पुरुषों में दाढ़ी के बाल सबसे तेजी से बढ़ते हैं. अगर कोई शख्स पूरी जिंदगी शेविंग न करे तो दाढ़ी 30 फुट लंबी हो सकती है. खाने का अंबार 🔸🔸🔹🔸🔸 एक इंसान आम तौर पर जिंदगी के पांच साल खाना खाने में गुजार देता है. हम ताउम्र अपने वजन से 7,000 गुना ज्यादा भोजन खा चुके होते हैं. बाल गिरने से परेशान 🔸🔸🔹🔹🔸🔸 एक स्वस्थ इंसान के सिर से हर दिन 80 बाल झड़ते हैं. सपनों की दुनिया 🔸🔸🔹🔸🔸 इंसान दुनिया में आने से पहले ही यानी मां के गर्भ में ही सपने देखना शुरू कर देता है. बच्चे का विकास वसंत में तेजी से होता है. नींद का महत्व 🔸🔸🔹🔸🔸 नींद के दौरान इंसान की ऊर्जा जलती है. दिमाग अहम सूचनाओं को स्टोर करता है. शरीर को आराम मिलता है और रिपेयरिंग का काम भी होता है. नींद के ही दौरान शारीरिक विकास के लिए जिम्मेदार हार्मोन्स निकलते हैं। 🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 37 शेयर
ramkumarverma Feb 25, 2021

+30 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 58 शेयर
jyotipandey94 Feb 25, 2021

+8 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 10 शेयर
ramkumarverma Feb 24, 2021

+26 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 88 शेयर
ramkumarverma Feb 23, 2021

+74 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 167 शेयर
ramkumarverma Feb 24, 2021

+22 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 47 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB