दीपावली पर यह अवश्य पढ़ें

दीपावली पर यह अवश्य पढ़ें

पूज्य श्री नारायण साँई जी का दीपावली पर्व पर विशेष संदेश......

मैं लाजपोर जेल में समत्व की साधना कर रहा हूँ । आनंद ही आनंद ।
सबके जीवन में प्रिय - अप्रिय दोनों घटनाऐं घटित होती रहती है । ज्यादातर लोग प्रिय घटना से खुश होते है और अप्रिय घटना से दुःखी हो जाते हैं लेकिन जिसे ब्रह्मज्ञान हो गया वह प्रिय और अप्रिय दोनों स्थितियों में एक जैसा बना रहता है । ब्रह्मवेता न सुख में सुखी होता है और न दुःख में दुःखी । ब्रह्म में स्थित ब्रह्मज्ञानी के मन की दुविधा नष्ट हो जाती है ।
मैं यहाँ जहाँ भी जैसे भी हूँ - हर परिस्थिति में सम, शांत, प्रसन्न रहने का अभ्यास करता हूँ । मुझे अपनी शांति व समता का क्यों त्याग करना चाहिए ? समत्व की साधना करने का ईश्वर ने अवसर दिया है..... मेरा सौभाग्य है ।
आप सभी को दीपवाली, नूतनवर्ष, धनतेरस, गोवर्धन पूजा, नरक चतुर्दशी, भाईदूज की शुभकामनाएं.....

- श्री नारायण साँई जी

गुलज़ार साहब की रचना भी प्रासंगिक है - पढ़िये -
आहिस्ता चल जिंदगी, अभी कई कर्ज चुकाने बाकी हैं
कुछ दर्द मिटाने बाकी हैं, कुछ फर्ज निभाने बाकी हैं ।
रफ्तार में तेरे चलने से, कुछ रूठ गये, कुछ छूट गए...
रूठों को मनाना बाकी है, रीतों को हँसाना बाकी है...
कुछ हसरतें अभी अधूरी है, कुछ काम भी और जरूरी है,
ख्वाहिशें जो घूंट गई इस दिल में, उनको
दफनाना बाकी है
कुछ रिश्ते बनकर टूट गये, कुछ जुड़ते-जुड़ते छूट गये,
उन टूटे, छूटे रिश्तों के जख्मों को मिटाना बाकी है...
तू आगे चल मैं आता हूँ, क्या तुझे छोड़ जी पाऊँगा ?
इन साँसों पर हक है जिनका, उनको समझाना बाकी है...
आहिस्ता चल... आहिस्ता चल ए जिंदगी,
अभी कई कर्ज चुकाना बाकी है ।
- नारायण साँई 'ओहम्मो'
12/10/16

+145 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 137 शेयर

कामेंट्स

Janak Oct 13, 2017
ye BALATKARI Kya sandesh dega ? Tumahri Ma, Bahen, Beti mere pas bhejo me unka balatkar karunga ye ?, sharm aani chahiye ye post rakhne vale ko, ya fir vo bhi aaisa hi Balatkari Hai ?????

Janak Oct 13, 2017
ishe shsrm nahi aati ????? mai jail me hu aisa kahte hue ????????

+650 प्रतिक्रिया 116 कॉमेंट्स • 361 शेयर

+48 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 48 शेयर

+577 प्रतिक्रिया 103 कॉमेंट्स • 1015 शेयर
Priti Agarwal May 23, 2019

+5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Sunil upadhyaya May 23, 2019

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर
Swami Lokeshanand May 23, 2019

पंचवटी में सूर्पनखा का बड़ा प्रकोप है। सूर्पनखा वासना है, वही इस जगत के दुखों का एकमात्र कारण है। जो भी दुखी है, समझ लो उससे सूर्पनखा चिपटी है। जो इस देह रूपी पंचवटी में आया, सूर्पनखा ने सब पर डोरे डाले। जो इसकी चिकनी चुपड़ी बातों में आ गया, उसकी नाक कटी, वह मारा गया। वही बचा जिसने सत्संग किया और इसकी ओर झांका तक नहीं। उसने नाक कटवाई नहीं, बल्कि इसी की नाक काट दी। जैसे पढ़ाई पूरी होते ही परीक्षा आती है, रामजी का सत्संग पूरा होते ही सूर्पनखा आ गई। अब कच्चे और सच्चे का भेद मालूम पड़ेगा। सूर्पनखा भेष बदलकर आई है, बहुत बनावट के साथ आई है, क्योंकि भेष बदलना तो लंकावालों की परंपरा ही है, मारीच ने बदला, रावण ने बदला। इससे बचने का उपाय देखें, यह आँख से मन में घुसती है, इसीलिए सच्चे सत्संगी लक्षमणजी तुरंत भगवान की ओर देखने लगे। सीता जी ने भी उसे नहीं देखा, वे रामजी के चरणों की ओर देखने लगीं। रामजी सीताजी को ही देखते रहे, उन्होंने भी सूर्पनखा को दृष्टि नहीं दी। माने वासना आक्रमण करे तो भगवान के रूप का चिंतन करें, भगवान के चरणों का आश्रय लें, तब वासना भीतर प्रवेश नहीं कर पाएगी। साधक कभी भी अपने आचरण के बल पर निश्चिंत न रहे, भगवान के चरण के बल पर निश्चिंत रहे। सूर्पनखा की बात नहीं बनी, बने भी कैसे? जहाँ ज्ञानदेव रामजी हों, भक्तिदेवी सीताजी विराजमान हों, वैराग्यदेव लक्षमणजी हों, माने ज्ञान भक्ति और वैराग्य तीनों हों, वहाँ वासना की दाल कैसे गले? अब विशेष ध्यान दें, वासना में बाधा पड़ी तो क्रोध उत्पन्न हुआ, क्रोध हुआ तो भक्ति पर प्रहार का प्रयास हुआ। भगवान कुछ भी सह लेते हैं, भक्ति पर चोट कैसे सहन हो? भगवान ने तुरंत संकेत किया, सावधान जीव ने वासना को नाक कान विहीन कर दिया, वासना का विरूपीकरण कर दिया, कि भविष्य में कभी छल न पाए। देखो, जहाँ वासना घुस जाए वहाँ न ज्ञान बचता, न मान। तो जहाँ ज्ञान नहीं, वहाँ कान किस काम के, और जहाँ मान नहीं, वहाँ नाक कैसी? यों परीक्षा उतीर्ण हुई। भक्ति की रक्षा हुई।

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर
RenuSuresh May 22, 2019

+96 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 37 शेयर
Anju Mishra May 22, 2019

विचित्र पेड़ों के बारे में जानकारी जय श्री राधे कृष्णा 🙏🌹 चमत्कारिक बरगद : यह वृक्ष आंध्रप्रदेश के नालगोंडा में स्थित है। इसकी खासियत यह है कि इस पर विभिन्न जंगली जानवरों की आकृतियां बनी हुई है। सांप, बिच्छु, मगरमच्छ, शेर, अजगर आदि खतरनाक पशु और पक्षियों की आकृतियां संपूर्ण वृक्ष पर बनी हुई है। कहते हैं कि यह बाओबाज़ ट्री है और इसका तना दुनिया में किसी भी वृक्ष से बड़ा है।  लोगों का मानना है कि इस पेड़ के तनों पर किसी ने इन कलाकृतियों को गढ़ा है। उनका मानना है कि यह कोई चमत्कार नहीं है। दरअसल आंध्रप्रदेश के नलगोंडा में ऐसा कोई पेड़ नहीं है। ये तो डिज़्नी लैंड में कला का एक नमूना है। हालांकि वहीं बहुतयात लोगों का मानना है कि यह अनोखी प्रजाति का पेड़ है जोकि पूरी दुनिया में इकलौता है। नालगोंडा आंध्रप्रदेश का एक महत्‍वपूर्ण जिला है इस जिले का पहले नाम नीलगिरी था। नालगोंडा को पुरातत्‍वशास्त्रियों का स्‍वर्ग कहा जाता क्योंकि यहां पाषाणयुग और पूर्वपाषाण युग के अवशेष पाए गए हैं। ता फ्रोम ट्री ऑफ कंबोडिया :कंबोडिया के अंगारकोट में स्थित इस वृक्ष को देखने के लिए विश्‍व के कोने-कोने से लोग आते हैं। अंगारकोट में विश्‍व प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर भी है। यहां का जंगली क्षेत्र सिल्क कॉटन के वृक्षों के लिए भी प्रसिद्ध है।  यहां का 'ता फ्रोम बौ‍द्ध मंदिर' 12वीं शताब्दी में बनाया गया था हालांकि अब तो यह खंडहर में बदल चुका है। सैकड़ों साल पुराने मंदिर और इन पेड़ों को विश्‍व धरोहर घोषित कर दिया गया है। यहां के विशालकाय मंदिरों को इन वृक्षों ने ढंक कर रखा है। मंदिर और वृक्ष का यह अद्भुत मिलन देखना किसी आश्चर्य से कम नहीं। कैलीफोर्निया का ग्रेट सिकुआ : अमेरिका के कैलीफोर्निया राज्य के सियेरा नेवादा ढलानों के सबसे बड़े पेड़ के लिए प्रसिद्ध है। ग्रेट सिकुआ नामक यह पेड़ 'सिकुआ डेन्ड्रान' वंश का है और इसका जातिगत नाम 'जाइगे स्टिअम' है। इस पेड़ का व्यास 12 मीटर तथा कुल ऊंचाई 82 मीटर है। भूमि से 54 मीटर की ऊंचाई पर इसका तना 4 मीटर मोटा है और इसकी सबसे लंबी शाखा की लंबाई 42.3 मीटर तथा व्यास 1.8 मीटर है। इसके तने का कुल आयतन 1401.84 घनमीटर है। अमेरिका के सिकुआ राष्ट्रीय पार्क में इस प्रकार के 300 से अधिक पेड़ हैं। इनमें से कुछ का नाम अमेरिका के प्रसिद्ध व्यक्तियों के नाम पर रखा गया है। ड्रैगन ट्री, कैनरी द्वीप : ड्रैगन वृक्ष को जीवित जीवाश्म इसीलिए माना जाता है, क्योंकि जब इसे काटा जाता है तो इसमें से खून की तरह लाल रंग का रस निकलता है। इस वृक्ष का आधार चौड़ा, मध्य भाग संकरा और ऊपर का भाग किसी छतरी की तरह तना हुआ है। इसी कारण यह भाग ऐसा लगता है कि सैंकड़ों पेड़ उगकर एकसाथ बंध गए हो। अफ्रीका के उत्तरी पश्‍चिमी तट पर कैनरी आयलैंड स्थित है, इस वृक्ष को देखने के लिए विश्वभर से लोग आते हैं। लेकिन इसे ड्रैगन ट्री क्यों कहा जाता है यह समझ से परे है।

+103 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 10 शेयर

+50 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 127 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB