guru dev datt
guru dev datt Jun 10, 2018

Aao sehat banaye....

+17 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 50 शेयर
dev sharma Sep 23, 2020

हाइपर थाइरोइड और हाइपो थाइरोइड का घरेलु और सफल उपचार। 👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇 आज कल की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में ये समस्या आम सी हो गयी हैं, और अलोपथी में इसका कोई इलाज भी नहीं हैं, बस जीवन भर दवाई लेते रहो, और आराम कोई नहीं। थायराइड मानव शरीर मे पाए जाने वाले एंडोक्राइन ग्लैंड में से एक है। थायरायड ग्रंथि गर्दन में श्वास नली के ऊपर एवं स्वर यन्त्र के दोनों ओर दो भागों में बनी होती है। इसका आकार तितली जैसा होता है। यह थाइराक्सिन नामक हार्मोन बनाती है जिससे शरीर के ऊर्जा क्षय, प्रोटीन उत्पादन एवं अन्य हार्मोन के प्रति होने वाली संवेदनशीलता नियंत्रित होती है। थॉयराइड ग्रंथि तितली के आकार की होती है जो गले में पाई जाती है। यह ग्रंथि उर्जा और पाचन की मुख्य ग्रंथि है। यह एक तरह के मास्टर लीवर की तरह है जो ऐसे जीन्स का स्राव करती है जिससे कोशिकाएं अपना कार्य ठीक प्रकार से करती हैं। इस ग्रंथि के सही तरीके से काम न कर पाने के कारण कई तरह की समस्‍यायें होती हैं। इस लेख में विस्‍तार से जानें थॉयराइड फंक्‍शन और इसके उपचार के बारे में। थॉयराइड को साइलेंट किलर माना जाता है, क्‍योंकि इसके लक्षण व्‍यक्ति को धीरे-धीरे पता चलते हैं और जब इस बीमारी का निदान होता है तब तक देर हो चुकी होती है। इम्यून सिस्टम में गड़बड़ी से इसकी शुरुआत होती है लेकिन ज्यादातर चिकित्‍सक एंटी बॉडी टेस्ट नहीं करते हैं जिससे ऑटो-इम्युनिटी दिखाई देती है। * यह ग्रंथि शरीर के मेटाबॉल्जिम को नियंत्रण करती है यानि जो भोजन हम खाते हैं यह उसे उर्जा में बदलने का काम करती है। * इसके अलावा यह हृदय, मांसपेशियों, हड्डियों व कोलेस्ट्रोल को भी प्रभावित करती है। आमतौर पर शुरुआती दौर में थायराइड के किसी भी लक्षण का पता आसानी से नहीं चल पाता, क्योंकि गर्दन में छोटी सी गांठ सामान्य ही मान ली जाती है। और जब तक इसे गंभीरता से लिया जाता है, तब तक यह भयानक रूप ले लेता है। आखिर क्या कारण हो सकते है जिनसे थायराइड होता है। 👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂 थायरायडिस- यह सिर्फ एक बढ़ा हुआ थायराइड ग्रंथि (घेंघा) है, जिसमें थायराइड हार्मोन बनाने की क्षमता कम हो जाती है। * इसोफ्लावोन गहन सोया प्रोटीन, कैप्सूल, और पाउडर के रूप में सोया उत्पादों का जरूरत से ज्यादा प्रयोग भी थायराइड होने के कारण हो सकते है। * कई बार कुछ दवाओं के प्रतिकूल प्रभाव भी थायराइड की वजह होते हैं। * थायराइट की समस्या पिट्यूटरी ग्रंथि के कारण भी होती है क्यों कि यह थायरायड ग्रंथि हार्मोन को उत्पादन करने के संकेत नहीं दे पाती। * भोजन में आयोडीन की कमी या ज्यादा इस्तेमाल भी थायराइड की समस्या पैदा करता है। * सिर, गर्दन और चेस्ट की विकिरण थैरेपी के कारण या टोंसिल्स, लिम्फ नोड्स, थाइमस ग्रंथि की समस्या या मुंहासे के लिए विकिरण उपचार के कारण। * जब तनाव का स्तर बढ़ता है तो इसका सबसे ज्यादा असर हमारी थायरायड ग्रंथि पर पड़ता है। यह ग्रंथि हार्मोन के स्राव को बढ़ा देती है। * यदि आप के परिवार में किसी को थायराइड की समस्या है तो आपको थायराइड होने की संभावना ज्यादा रहती है। यह थायराइड का सबसे अहम कारण है। * ग्रेव्स रोग थायराइड का सबसे बड़ा कारण है। इसमें थायरायड ग्रंथि से थायरायड हार्मोन का स्राव बहुत अधिक बढ़ जाता है। ग्रेव्स रोग ज्यादातर 20 और 40 की उम्र के बीच की महिलाओं को प्रभावित करता है, क्योंकि ग्रेव्स रोग आनुवंशिक कारकों से संबंधित वंशानुगत विकार है, इसलिए थाइराइड रोग एक ही परिवार में कई लोगों को प्रभावित कर सकता है। * थायराइड का अगला कारण है गर्भावस्था, जिसमें प्रसवोत्तर अवधि भी शामिल है। गर्भावस्था एक स्त्री के जीवन में ऐसा समय होता है जब उसके पूरे शरीर में बड़े पैमाने पर परिवर्तन होता है, और वह तनाव ग्रस्त रहती है। * रजोनिवृत्ति भी थायराइड का कारण है क्योंकि रजोनिवृत्ति के समय एक महिला में कई प्रकार के हार्मोनल परिवर्तन होते है। जो कई बार थायराइड की वजह बनती है। थायराइड के लक्षण:- 👇🍂👇🍂👇🍂👇 कब्ज-👇 थाइराइड होने पर कब्ज की समस्या शुरू हो जाती है। खाना पचाने में दिक्कत होती है। साथ ही खाना आसानी से गले से नीचे नहीं उतरता। शरीर के वजन पर भी असर पड़ता है। हाथ-पैर ठंडे रहना-👇 थाइराइड होने पर आदमी के हाथ पैर हमेशा ठंडे रहते है। मानव शरीर का तापमान सामान्य यानी 98.4 डिग्री फॉरनहाइट (37 डिग्री सेल्सियस) होता है, लेकिन फिर भी उसका शरीर और हाथ-पैर ठंडे रहते हैं। प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना- थाइराइड होने पर शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कम़जोर हो जाती है। इम्यून सिस्टम कमजोर होने के चलते उसे कई बीमारियां लगी रहती हैं। थकान👇 थाइराइड की समस्या से ग्रस्त आदमी को जल्द थकान होने लगती है। उसका शरीर सुस्त रहता है। वह आलसी हो जाता है और शरीर की ऊर्जा समाप्त होने लगती है। त्वचा का सूखना या ड्राई होना👇 थाइराइड से ग्रस्त व्यक्ति की त्वचा सूखने लगती है। त्वचा में रूखापन आ जाता है। त्वचा के ऊपरी हिस्से के सेल्स की क्षति होने लगती है जिसकी वजह से त्वचा रूखी-रूखी हो जाती है। जुकाम होना👇 थाइराइड होने पर आदमी को जुकाम होने लगता है। यह नार्मल जुकाम से अलग होता है और ठीक नहीं होता है। डिप्रेशन👇 थाइराइड की समस्या होने पर आदमी हमेशा डिप्रेशन में रहने लगता है। उसका किसी भी काम में मन नहीं लगता है, दिमाग की सोचने और समझने की शक्ति कमजोर हो जाती है। याद्दाश्त भी कमजोर हो जाती है। बाल झड़ना👇 थाइराइड होने पर आदमी के बाल झड़ने लगते हैं तथा गंजापन होने लगता है। साथ ही साथ उसके भौहों के बाल भी झड़ने लगते है। मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द👇 मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और साथ ही साथ कमजोरी का होना भी थायराइड की समस्या के लक्षण हो सकते है। शारीरिक व मानसिक विकास👇 थाइराइड की समस्या होने पर शारीरिक व मानसिक विकास धीमा हो जाता है। अगर आपको ऐसे कोई भी लक्षण दिखाई दे तो अपने डाक्टर से संपर्क करें आपको थाइराइड समस्या हो सकती है। अति असरकारक घरेलु उपाय।👇 सुबह खाली पेट लौकी का जूस पिए, घर में ही गेंहू के जवारों का जूस निकाल कर पिए, इसके बाद एक गिलास पानी में हर रोज़ ३० मिली एलो वेरा जूस और २ बूँद तुलसी की डाल कर पिए, एलो वेरा जूस आपको किसी बढ़िया कंपनी का यूज़ करना होगा, जिसमे फाइबर ज़्यादा हो, सिर्फ कोरा पानी ना हो। बाजार से आज कल पांच तुलसीबहुत आ रही हैं, किसी बढ़िया कंपनी की आर्गेनिक पांच तुलसी ले। ये सब करने के आधे घंटे तक कुछ भी न खाए पिए, इस समय में आप प्राणायाम करे। अखरोट और बादाम है फायदेमंद :-👇 अखरोट और बादाम में सेलेनियम नामक तत्‍व पाया जाता है जो थॉयराइड की समस्‍या के उपचार में फायदेमंद है। 1 आंउस अखरोट में 5 माइक्रोग्राम सेलेनियम होता है। अखरोट और बादाम के सेवन से थॉयराइड के कारण गले में होने वाली सूजन को भी काफी हद तक कम किया जा सकता है। अखरोट और बादाम सबसे अधिक फायदा हाइपोथॉयराइडिज्‍म (थॉयराइड ग्रंथि का कम एक्टिव होना) में करता है। इसके साथ में रात को सोते समय गाय के गर्म दूध के साथ 1 चम्मच अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करे। इसके साथ प्राणायाम करना हैं, जिसे उज्जायी प्राणायाम बोलते हैं। इस प्राणायाम में गले को संकुचित करते हुए पुरे ज़ोर से ऊपर से श्वांस खींचनी हैं। सफ़ेद नमक है बहुत हानिकारक.👇 आज कल जो बाज़ार में सफ़ेद नमक हमको आयोडीन के नाम से खिलाया जा रहा है, चाहे वो कितनी भी बड़ी कंपनी हो, सिर्फ आम जन को मुर्ख बनाने के लिए है. नमक सिर्फ सेंधा या काला ही इस्तेमाल करें. काली मिर्च.👇 थाइरोइड के लिए काली मिर्च का उपयोग बहुत ही फायदेमंद साबित होता है. काली मिर्च का यथा संभव नियमित उपयोग चाहे वो किसी भी प्रकार से हो, थाइरोइड के लिए बहुत ही उपयोगी है. और जो भाई बहने ये प्रयोग करे वह अपना जवाब और इस प्रयोग के नतीजे हमसे ज़रूर शेयर करे। आपकी सालो पुरानी बीमारी से आपको 1 महीने में इतना आराम मिलेगा के आप सोच भी नहीं सकते। 🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂👇🍂

+20 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 34 शेयर
dev sharma Sep 22, 2020

हल्दी घर की पिसी हुई होना आवश्यक है। 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 हल्दी के चौका देने वाले गुण हल्दी के गुणों से अमूमन हर कोई परिचित 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 होता है। भारतीय खाने की हल्दी के बिना कल्पना करना भी मुश्किल है। हल्दी का उपयोग पाचन तंत्र को सुधारने में, सूजन कम करने में और शरीर के शोधन में हजारों सालों से उपयोग किया जा रहा है। इसमें पाया जाने वाले तत्व करक्यूमिनोइड्स और वोलाटाइल तेल कैंसर रोग से लड़ने के लिए भी जाने जाते हैं। सर्दियों के मौसम में हल्दी की गांठ का उपयोग सबसे अधिक लाभदायक है और यह समय हल्दी से होने वाले फायदों को कई गुना बढ़ा देता है क्योंकि कच्ची हल्दी में हल्दी पाउडर की तुलना में ज्यादा गुण होते हैं। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि कच्ची हल्दी के इस्तेमाल के दौरान निकलने वाला रंग हल्दी पाउडर की तुलना में काफी ज्यादा गाढ़ा और पक्का होता है। कच्ची हल्दी, अदरक की तरह दिखाई देती है। इसे ज्यूस में डालकर, दूध में उबालकर, चावल के व्यंजनों में डालकर, अचार के तौर पर, चटनी बनाकर और सूप में मिलाकर उपयोग किया जा सकता है। शोध से साबित हो चका है कि हल्दी में लिपोपॉलीसेच्चाराइड नाम का तत्व होता है इससे शरीर में इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। हल्दी इस तरह से शरीर में बैक्टेरिया की समस्या से बचाव करती है। यह बुखार होने से रोकती है। इसमें शरीर को फंगल इंफेक्शन से बचाने के गुण होते है। लाइफस्टाइल डेस्क: भारत में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वालों मसालों में हल्दी टॉप पर है। इसका उपयोग खाने में स्वाद बढ़ाने और रंग भरने के लिए होता है। इंडिया में शादी में एक रस्म ‘हल्दी’ की भी होती है, जिसमें दूल्हा-दुल्हन के शरीर पर हल्दी लगाई जाती है। इसके पीछे मान्यता है कि हल्दी से रंग निखरता है और शादी के दिन चेहरे पर एक अलग ही ग्लो नज़र आता है। सेहत के लिहाज़ से भी इसका सेवन बहुत लाभकारी है। आज हम आपको हल्दी के कुछ ऐसे ही उपयोग बताएंगे। उम्र घटाए- हल्दी चेहरे पर जम रही अनचाही परतों को अपने औषधीय गुणों द्वारा कम करती है और आपकी बढ़ती उम्र का पता नहीं लगने देती। उपाय- इसके लिए आप तीन चम्मच बेसन में एक चौथाई चम्मच हल्दी और पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं। पानी की जगह आप कच्चा दूध या दही भी मिला सकती हैं। चेहरे पर अच्छे से लगाकर इसे सूखने दें और उसके बाद गुनगुने पानी से हल्का मसाज करते हुए धो लें। झुर्रियां- चेहरे पर पड़ रही झुर्रियों के कारण आप समय से पहले ही बूढ़ी दिखने लगती हैं। हल्दी को आप अलग-अलग तरह की चीजों में मिलाकर इस्तेमाल करेंगी, तो आपके चेहरे पर पड़ रही झुर्रियां दूर हो जाएंगी और त्वचा दमकेगी। ऐसे करें हल्दी का उपयोग 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 – कच्चे दूध, टमाटर का रस, चावल का आटा और हल्दी एक साथ मिलाकर पेस्ट बनाएं। इसे चेहरे पर लगाकर कुछ देर सूखने दें। दूध में मौजूद लैक्टिक एसिड आपकी डेड हो रही स्कीन को रिपेयर करता है। – छाछ और गन्ने के रस में हल्दी मिलाकर पीने से आंखों के नीचे पड़ रहे काले घेरे और झुर्रियां ठीक होती हैं। – हल्दी और शहद का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा के पोर्स (रोम छिद्र) खुल जाते हैं, जिससे त्वचा को भरपूर ऑक्सीजन मिलती है और त्वचा फिर से जवां दिखने लगती है। कुछ अन्य फायदे👉 मुहांसे और उसके निशान ठीक होते हैं, स्ट्रेच मार्क्स हटते हैं, जलने के निशान मिटते हैं, फेशियल होता है, फटी एड़ियां ठीक होती हैं। दूध और हल्दी – रोग को पास ना आने दे। आयुर्वेद में हल्दी को सबसे बेहतरीन नेचुरल एंटीबायोटिक माना गया है। इसलिए यह स्किन, पेट और शरीर के कई रोगों में उपयोग की जाती है। हल्दी के पौधे से मिलने वाली इसकी गांठें ही नहीं, बल्कि इसके पत्ते भी बहुत उपयोगी होते हैं। ये तो हुई बात हल्दी के गुणों की, इसी प्रकार दूध भी प्राकृतिक प्रतिजैविक है। यह शरीर के प्राकृतिक संक्रमण पर रोक लगा देता है। हल्दी व दूध दोनों ही गुणकारी हैं, लेकिन अगर इन्हें एक साथ मिलाकर लिया जाए तो इनके फायदे दोगुना हो जाते हैं। इन्हें एक साथ पीने से कई स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं दूर होती हैं। हल्दी वाला दूध बनाने का तरीका 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 गर्मियों में एक चौथाई चम्मच और सर्दियों में आधा चम्मच हल्दी एक गिलास दूध में उबाल कर उसे फेंट का खूब झाग बनाकर पीना लाभकारी होता है अगर उपलब्ध हो तो देसी गाय का घी आधा चम्मच डाले तो सोने पे सुहागा 👉 हडि्डयों को पहुंचाता है फायदा रोजाना हल्दी वाला दूध लेने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलता है। हड्डियां स्वस्थ और मजबूत होती है। यह ऑस्टियोपोरेसिस के मरीजों को राहत पहुंचाता है। 👉 गठिया दूर करने में है सहायक हल्दी वाले दूध को गठिया के निदान और रियूमेटॉइड गठिया के कारण सूजन के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है। यह जोड़ो और पेशियों को लचीला बनाकर दर्द को कम करने में भी सहायक होता है। 👉 टॉक्सिन्स दूर करता है आयुर्वेद में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल शोधन क्रिया में किया जाता है। यह खून से टॉक्सिन्स दूर करता है और लिवर को साफ करता है। पेट से जुड़ी समस्याओं में आराम के लिए इसका सेवन फायदेमंद है। 👉 कीमोथेरेपी के बुरे प्रभाव को कम करते हैं एक शोध के अनुसार, हल्दी में मौजूद तत्व कैंसर कोशिकाओं से डीएनए को होने वाले नुकसान को रोकते हैं और कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम करते हैं। 👉 कान के दर्द में आराम मिलता है हल्दी वाले दूध के सेवन से कान दर्द जैसी कई समस्याओं में भी आराम मिलता है। इससे शरीर का रक्त संचार बढ़ जाता है जिससे दर्द में तेजी से आराम होता है। 👉 चेहरा चमकाने में मददगार रोजाना हल्दी वाला दूध पीने से चेहरा चमकने लगता है। रूई के फाहे को हल्दी वाले दूध में भिगोकर इस दूध को चेहरे पर लगाएं। इससे त्वचा की लाली और चकत्ते कम होंगे। साथ ही, चेहरे पर निखार और चमक आएगी। 👉 ब्लड सर्कुलेशन ठीक करता है आयुर्वेद के अनुसार, हल्दी को ब्लड प्यूरिफायर माना गया है। यह शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को मजबूत बनाता है। यह रक्त को पतला करने वाला आैर लिम्फ तंत्र और रक्त वाहिकाओं की गंदगी को साफ करने वाला होता है। 👉 शरीर को सुडौल बनाता है रोजाना एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर लेने से शरीर सुडौल हो जाता है। दरअसल गुनगुने दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा फैट्स घटता है। इसमें उपस्थित कैल्शियम और अन्य तत्व सेहतमंद तरीके से वेट लॉस में मददगार हैं। 👉 स्किन प्रॉब्लम्स में है रामबाण हल्दी वाला दूध स्किन प्रॉब्लम्स में भी रामबाण का काम करता है। 🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻🍃🍃🌻

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 22 शेयर
dev sharma Sep 21, 2020

छोटे से अमरूद में छिपे बड़े बड़े गुण 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ हल्के हरे रंग का अमरूद अपने अंदर ढ़ेरों गुण समेटे हुए है, ये न सिर्फ खाने में मीठा होता है बल्कि स्वास्थ्यवर्धक भी है। इसके अंदर सैकड़ों की संख्या में छोटे-छोटे बीज होते हैं। आसानी से मिल जाने वाले इस फल के पेड़ लोग घरों में भी लगाते हैं। मगर बेहद सामान्य फल होने के कारण आमतौर पर लोगों को इस बात का अंदाज़ा नहीं होता कि फल स्वास्थ्य के लिहाज से कितना फायदेमंद होता है। अमरूद की तासीर ठंडी होती है इसलिए ये पेट की बहुत सी बीमारियों को दूर करने का रामबाण इलाज है। अमरूद के सेवन से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है। इसके बीजों का सेवन करना भी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा से भरपूर अमरूद के अंदर जानते हैं, कौन कौन से फायदे छिपे है। • अमरूद को काले नमक के साथ खाने से पाचन संबंधी समस्या दूर हो जाती है। पाचन क्रिया के लिए ये बेहतरीन फल है। • जो बच्चे पेट में कीड़ों की समस्या से परेशान हैं, अमरूद का सेवन करना उनके लिए बेहद फायदेमंद होगा। • अमरूद की पत्तियों को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर आंखों के नीचे लगाने से काले घेरे और सूजन कम हो जाती है। • अगर आपको कब्ज की समस्या है तो सुबह खाली पेट पका हुआ अमरूद खाना फायदेमंद रहता है। • अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती है तो अमरूद की कोमल पत्तियों को चबाना आपके लिए फायदेमंद रहेगा। इसके अलावा इसे चबाने से दांतों का दर्द भी कम हो जाता है। • अगर किसी को पित्त की समस्या हो जाए तो उसके लिए भी अमरूद का सेवन करना फायदेमंद होता है। • अमरूद हाई एनर्जी फ्रूट है जिसमें भरपूर मात्रा में विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं। ये तत्व हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं। • अमरूद में पाया जाने वाला विटामिन बी-९ शरीर की कोशिकाओं और डीएनए को सुधारने का काम करता है। • अमरूद में मौजूद पोटैशियम और मैग्नीशियम दिल और मांसपेशियों को दुरुस्त रखकर उन्हें कई बीमारियों से बचाता है। • अगर आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना चाहते हैं, तो अमरूद का सेवन करना बहुत फायदेमंद होगा। • अमरूद के नियमित सेवन से सर्दी जुकाम जैसी समस्याओं के होने का खतरा कम हो जाता है। • अमरूद में पाया जाने वाला विटामिन ए और ई आंखों, बालों और त्वचा को पोषण देता है। • अमरूद में मौजूद लाइकोपीन नामक फाइटो न्यूट्रएिंट्स शरीर को कैंसर और ट्यूमर के खतरे से बचाने में सहायक होते हैं। • अमरूद में बीटा कैरोटीन होता है जो शरीर को त्वचा संबंधी बीमारियों से बचाता है। • अमरूद में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है इसलिए यह डायबिटिज के मरीजों के लिए बहुत अच्छा होता है। कच्चे अमरूद में पके अमरूद की अपेक्षा विटामिन सी अधिक पाया जाता है, इसलिए कच्चा अमरूद खाना ज्यादा फायदेमंद होता है। 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️

+21 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 25 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

****अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻*  गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। श्रीमते रघुवीराय सेतूल्लङ्घितसिन्धवे। जितराक्षसराजाय रणधीराय मङ्गलम्।। भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।।  क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! सबसे पहले तो नक्षत्रवाणी की पोस्टिंग में व्यस्तत्तम शेड्यूल के चलते ना चाहते हुए भी होने वाले विलंब के लिए आप सभी से हृदयपूर्वक क्षमा प्रार्थना सहित.....🙏🙏 आप सभी परम प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य/पं.मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸 जय गणेश 🌸 जय अंबे 🌸 *जय श्री कृष्ण*🌷मंगल प्रभात🌷इसी के साथ आप सभी सनातनी, धर्म-उत्सवप्रेमी, राम-कृष्ण-हरि-शिव व परम राष्ट्रप्रेमी मित्र-बंन्धुओं को आज **आश्विन अधिक मास (पुरूषोत्तम मास) की शुक्लपक्ष षष्टी की, विश्व कार मुक्त दिवस, विश्व राइनो दिवस, श्रम प्रतिष्ठा दिवस (कन्फर्म नहीं), विश्व गेंडा दिवस एवं गुलाब दिवस (कैंसर रोगियों के कल्याणार्थ)** की भी बहुत-बहुत हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं...!!!** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर...🙏 ```༺⊰🕉⊱༻ ``` *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻* ☘️🌸!! ॐ श्री गणेशाय नमः!! 🌸☘️ ****************************** 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक *22 सितंबर2020ईस्वी*मंगलवार/ट्यूजडे* 🇮🇳 राष्ट्रीय सौर दिनांक ३१ भाद्र* *(नभस्यमास)‌१९४२* प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« (यहाँ दिये गए तिथि, नक्षत्र,योग आदि के समय इनके समाप्ति काल हैं। सूर्योदयास्त व चंद्रोदय सहित इनका गणना स्थल मुंबई हैं)। कलियुगाब्द......5122 ( ५१२२ ) विक्रम संवत्.....2077 (प्रमादी नाम) शक संवत्......1942 🌤मास......आश्विन/आसु/आसोज 🌓पक्ष.......शुक्ल/सुदी/चानण पछ/लागतो अधिक मास​ **तिथि.......षष्टी/छठ** रात्रि 09.30 पर्यंत पश्चात सप्तमी **वार/दिन...चन्द्रवार/सोमवार** **नक्षत्र.......अनुराधा** संध्या 07.19 पर्यंत पश्चात ज्येष्ठा योग.............प्रीती रात्रि 01.57 पर्यंत पश्चात आयुष्मान करण...........कौलव प्रातः 10.35 पर्यंत पश्चात तैतिल सूर्योदय प्रातः......06.31.00 सूर्यास्त सांय...... 06.31.00 चंद्रोदय प्रातः..... 11.19.00 **ऋतु (दृक)......शरद** **वैदिक............शरद** **गुरु राशि.........धनु (पश्चिम में उदित, वक्री)** **सूर्य राशि.........कन्या** **चन्द्र राशि........वृश्चिक** 🚦 *दिशाशूल :-* उत्तर दिशा- यदि आवश्यक हो तो गुड़ या खजूर का सेवन करके यात्रा प्रारंभ करें । ☸ शुभ अंक......4 🔯 शुभ रंग........रक्तिम या गाढ़ा लाल/सफ़ेद ⚜ *अभिजीत मुहूर्त :-* मध्याह्न 12.07 से 12.55 तक । 👁‍🗨 *राहुकाल :-* अपराह्न 03.32 से 05.01 तक । 👁‍🗨 *गुलिक काल :-* मध्याह्न 12.31 से 2.01 तक। **************************** 🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-* *कन्या* 05:54:57 08:05:36 *तुला* 08:05:36 10:20:14 *वृश्चिक* 10:20:14 12:36:24 *धनु* 12:36:24 14:42:03 *मकर* 14:42:03 16:29:11 *कुम्भ* 16:29:11 18:02:44 *मीन* 18:02:44 19:33:56 *मेष* 19:33:56 21:14:39 *वृषभ* 21:14:39 23:13:16 *मिथुन* 23:13:16 25:26:58 *कर्क* 25:26:58 27:43:08 *सिंह* 27:43:08 29:54:57 ✡ *चौघडिया :-* प्रात: 09.18 से 10.48 तक चंचल प्रात: 10.48 से 12.18 तक लाभ दोप. 12.18 से 01.48 तक अमृत दोप. 03.18 से 04.48 तक शुभ रात्रि 07.48 से 09.18 तक लाभ । ************************** ✍ आज के विशेष योगायोग/युति संयोग, वेध, ग्रहचार (ग्रहचाल), व्रत/पर्व/प्रकटोत्सव, जयंती/जन्मोत्सव व मोक्ष दिवस/स्मृतिदिवस/पुण्यतिथि आदि 🙏👇:- 👉 **आज आश्विन शुक्ल पक्ष मंगलवार को 👉 वर्ष का 182/एक सौ बयाासीवां दिन, आश्विन शुक्ल/सुदी षष्ठी 21:30 तक पश्चात् सप्तमी शुरु, बुध तुला राशि में 16:55 पर, सूर्य सायन तुला राशि में 19:02 पर, मूल संज्ञक नक्षत्र 19:19 से, सर्वदोषनाशक रवि योग 19:18 तक, सूर्य दक्षिण गोल प्रारम्भ, विश्व कार मुक्त दिवस, विश्व राइनो दिवस, श्रम प्रतिष्ठा दिवस (कन्फर्म नहीं), गुरू श्री नानक देव पुण्य/स्मृति/ज्योति ज्योत दिवस (नानकशाही), श्री पवन कुमार चामलिंग जन्म दिवस, विश्व गेंडा दिवस व गुलाब दिवस (कैंसर रोगियों के कल्याणार्थ)।** ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜।** 🏡 *वास्तु टिप्स*🏡 1) कृषिवास्तु के अनुसार 'ड्रिप इर्रिगेशन तकनीक यानि बूंद-बूंद सिंचाई' या 'स्प्रिंकल सेट इर्रिगेशन यानि फव्वारा सिंचाई' विधि प्रयोग करने के लिए ओवरहेड वाटर टैंक सदैव खेत की वेस्ट डाइरेक्शन यानि पश्चिम दिशा में ही बनाना चाहिए। इससे सिंचाई की सभी दिक्कतें तो दूर होती ही हैं, साथ ही अन्य सभी शुभ फल भी प्राप्त होते हैं। 2) आपके घर से अगर अकारण ही बरकत जा रही है या आपको नेगेटिव एनर्जी दिख रही है या परिवार में निरंतर कलह रहता है, तो कपूर और फिटकरी को पीस के गौझारण (गौमूत्र) जो बहुत ही आसानी से मिल जाता है (अन्यथा पतंजलि आदि का ले लें), इससे घर मे पोछा लगाने वाले क्लीनर या पानी मे मिला लें और रोज़ सुबह-शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजा-आरती के बाद छिड़काव भी करें फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखें। 🙏 💥 **विशेष ध्यातव्य 👉 षष्टी यानि कि छठ को नीम की पत्ती, फल (निम्बोली आदि) का सेवन या दातुन मुँह में रखना पूर्णतः वर्जित है। यह कलंक कारक व धन तथा बुद्धिनाशक होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34।** 📿 *आज का आराधना/उपासना मंत्र* **🚩🕉 क्रां क्रीं क्रौ सः भौमाय नमः ‼️ 🎪 🚩** *🚩 🕉 आंजनेयाय नमः ‼️ 🎪 🚩* ।। ॐ हं हनुमते नम: ।। ****************************** ⚜ 👉🙏 🚩 ☸ *तिथि विशेष :* 🚩 *तिथि विशेष :-* ** अधिका षष्टी/छठ।** **************************** 📯 *संस्कृत सुभाषितानि :-* क्षान्त्या शुध्यन्ति विद्वांसो दानेना कार्यकारिणः । प्रच्छन्नपापा जापेन तपसा सर्व एव हि ॥ अर्थात : क्षमा से विद्वान शुद्ध होते हैं; अयोग्य काम करनेवाले दान से, और गुप्त पाप करनेवाले जप से शुद्ध होते हैं । पर तप से तो सभी शुद्ध होते हैं । 🍃 *आरोग्य मंत्र:*- *नींद न आने पर आयुर्वेदिक उपाय :-* *1. अनिद्रा के लिए बेहतर है अश्वगंधा -* अश्वगंधा का जरुरी लाभ यह है कि यह जड़ी-बूटी हमारे दिमाग में वृद्धि करती है और स्मृति को भी सुधारती है। यह अनिद्रा के लिए भी अच्छी है, क्योंकि यह हमारे नसों को ताज़ा करती है और उन्हें आराम देती है। अश्वगंधा की खुराक आधा चम्मच पाउडर है, जो रात को शक्कर, घी या गर्म दूध के साथ खाई जा सकती है। *2. जटामांसी -* जाटांमसी दिमाग को शांत करने वाली जड़ी-बूटी है, जिसका इस्तेमाल रोगी को शांत करने के लिए किया जाता है। यह तंत्रिका तंत्र के आराम में मदद करती है और न्यूरोसिस के मामले में बहुत प्रभावी है। यह न्यूरोट्रांसमिशन बढ़ाता है और याददाश्त के लिए भी अच्छा है और यह अनिद्रा के मामले में शक्तिशाली और प्रभावी है। यह शरीर के अंगों और प्रणालियों को संतुलित करती है। इसका उपयोग चूर्ण के रूप में किया जा सकता है या गर्म पानी में 4-5 घंटे भिगोकर इसका उपयोग करें। आप इसे सोते समय पी सकते है जो तनाव कम करती है। *3. शंखपुष्पी -* शंखपुष्पी एक प्राचीन औषधि है, जिसका उपयोग मस्तिष्क का बढ़ावा करने के लिए किया गया है। शंखपुष्पी को रक्त के प्रवाह के लिए, विषाक्त पदार्थों के तंत्रिका कोशिकाओं को निकालने और अनिद्रा का इलाज करने में होता है। यह मानसिक थकान को रोकती है और मस्तिष्क को आराम देती है। यह मस्तिष्क को बढाती है और उच्च रक्तचाप, अनिद्रा और अवसाद का इलाज करती है। ****************************** ⚜ * अब आज का संभावित चन्द्र राशिफल* ⚜ किंतु पहले आप सभी से एक करबद्ध निवेदन 🙏👇:- मित्रों सर्वप्रथम तो कल आपको आपकी प्रिय पोस्ट कुछ घरेलू कारणों से नहीं मिल पाई इसके लिए मैं आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ। ततपश्चात निवेदन करना चाहता हूँ कि आपकी इस परमप्रिय ज्ञानवर्धक 'अपना पोस्ट' *नक्षत्रवाणी* को आप जितना हो सकता हो उतना लाइक व शेयर/फॉरवर्ड तो करें ही, आलस्य त्याग कर कृपया इसपर अपनी बुद्धि व विवेक के अनुसार अपने सही-सही कमैंट्स भी अवश्य करें। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे और अपने फीडबैक से व लाइक/सराहना करके भी अवश्य ही मेरा उत्साहवर्धन करेंगे। नक्षत्रवाणी के संदर्भ में आप सभी के बहुमूल्य सुझाव भी सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद...!!! 💐💐 **ख़ुशख़बर।। आज की सबसे बड़ी ख़ुशख़बर।।**👇 प्रियवरों गणेशोत्सव के अंतर्गत और भाद्रपद मास के अंतिम सोमवार के शुभावसर पर त्रिगुणात्मक भगवान महाकालेश्वर शिव जो कि एकादश रुद्र रूपों में भी प्रस्फुटित होते हैं, उनके साक्षत स्वरूप व कृपाप्रसाद *'रुद्राक्ष रत्न*" जिसे रुद्र के अक्ष या भगवान शिव के अक्ष के रूप में जाना जाता है, को पहली बार अब हम विधिवत **अभिमंत्रित** करके आपको आपके सभी दैहिक-दैविक-भौतिक कष्टों से मुक्ति दिलाने हेतु, विषेषतः इस **कोरोना काल** में बहुत अधिक बढ़ चुके मानसिक संताप (Mental stress/depression) को पूर्ण रूप से दूर करने के लिए, आपकी आर्थिक तँगीं की स्थिति को समझते हुए **केवल मात्र 111₹** में आप शिवभक्त सुधि पाठकों के लिए उपलब्ध करवाना प्रारंभ किया है। जिसे भी यह दिव्य सर्वसिद्ध **रुद्राक्ष रत्न** चाहिए, वे कृपया हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। ध्यान रखें यह योजना सीमित समय के लिए ही है, इसलिए इस सुनहरे अवसर को आप चूकें नहीं। 🙏 👉 **एक विशेष व अति शुभ सूचना:👇** **मित्रों हमारे 'ऐस्ट्रो वर्ल्ड' के दिव्य कोष में शुद्ध केसर (काश्मीरी व ईरानी A तथा B दोनों ग्रेड की), पारिजात, चम्पा, अनन्त, पुन्नाग, श्वेत/सफ़ेद ऊद, केसर, खस, भीना गुलाब व असली चंदन जैसे दिव्य इत्रों की पूरी रेंज, भीमसेनी कर्पूर, उत्तम क्वालिटी की शुद्ध गुग्गल व शुद्ध लोबान, शुद्ध राशि रत्न-उपरत्न, असली नेपाली रुद्राक्ष रत्न व गण्डकी नदी से प्राप्त असली शालग्राम जी भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे इस संग्रहालय में और भी कई दिव्य व चमत्कारिक वस्तुएं उपलब्ध हैं। ये सभी दिव्य वस्तुएं हम अपने ज्योतिष-वास्तु एवं वैदिक पूजा-अनुष्ठानों के नियमित यजमानों के लिए बहुत ही सही रेट पर और कम मार्जिन पर देते हैं तथा इनके असली होने की मनी बैक गारंटी के साथ भी। तो आप 'नक्षत्रवाणी' के सभी पाठक भी हमारे परम प्रिय होने से इसका लाभ निःसन्देह ले सकते हैं। इसके लिए आप हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। जल्दी रिप्लाई ना मिलने पर आप कॉल भी कर सकते हैं। धन्यवाद...!!!**. 🐏 *राशि फलादेश मेष :-* *(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)* लेन-देन में जल्दबाजी न करें। कार्य के दस्तावेज ध्यान से पढ़ें। रुके कार्य बनेंगे। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। पार्टनरों का सहयोग प्राप्त होगा। शारीरिक कष्ट की आशंका है। विवाद से बचें। 🐂 *राशि फलादेश वृष :-* *(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)* पार्टी व पिकनिक का कार्यक्रम बन सकता है। संगीत में रुचि रहेगी। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। नौकरी में नए कार्य कर पाएंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। पारिवारिक जीवन सुखमय व्यतीत होगा। प्रमाद न करें। 👫🏻 *राशि फलादेश मिथुन :-* *(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)* दौड़धूप अधिक होगी। दु:खद समाचार मिल सकता है। पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। नकारात्मकता रहेगी। बेबात चिड़चिड़ापन रहेगा। भावना में न बहें। ईर्ष्यालु व्यक्तियों से दूर रहें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। 🦀 *राशि फलादेश कर्क :-* *(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)* सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। मित्रों तथा रिश्तेदारों की सहायता कर पाएंगे। किसी विशेष व्यक्ति से हानि संभव है। ध्यान रखें। 🦁 *राशि फलादेश सिंह :-* *(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)* भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। नए संपर्क बनेंगे। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। आय में वृद्धि होगी। आत्मसम्मान बना रहेगा। किसी बनते कार्य में बाधा संभव है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। प्रतिद्वंद्वी सक्रिय रहेंगे। जल्दबाजी न करें। 🙎🏻‍♀️ *राशि फलादेश कन्या :-* *(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)* भेंट व उपहार की प्राप्ति हो सकती है। किसी बड़ी समस्या से छुटकारा मिल सकता है। समय की अनुकूलता का लाभ लें। भरपूर प्रयास करें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। प्रसन्नता रहेगी। ⚖ *राशि फलादेश तुला :-* *(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)* फालतू खर्च होगा। लेन-देन में सावधानी रखें। पुराना रोग उभर सकता है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। किसी भी प्रकार के विवाद में न पड़ें। किसी अपरिचित व्यक्ति पर आंख मूंदकर विश्वास न करें। व्यापार ठीक चलेगा। 🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-* *(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)* यात्रा लाभदायक रहेगी। कोई बड़ा काम मिल सकता है। कारोबार में वृद्धि होगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। व्यस्तता के कारण स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। परिवार के छोटे सदस्यों के बारे में चिंता का वातावरण बनेगा। 🏹 *राशि फलादेश धनु :-* *(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)* कार्यस्थल पर सुधार व परिवर्तन हो सकता है। बिगड़े काम बनेंगे। व्यापारिक नए अनुबंध हो सकते हैं। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। बेचैनी रहेगी। स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है। योजना फलीभूत होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यापार अच्‍छा चलेगा। 🐊 *राशि फलादेश मकर :-* *(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)* कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति अनुकूल होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। कारोबार में वृद्धि होगी। तंत्र-मंत्र में रुचि जागृत होगी। प्रभाव बढ़ेगा। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। जोखिम व जमानत के कार्य बिलकुल न करें। 🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-* *(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)* शारीरिक हानि की आशंका है। विवाद न करें। बात बिगड़ सकती है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। आते-जाते कार्य करते समय सावधान रहें। कारोबार अच्‍छा चलेगा। आय होगी। 🐋 *राशि फलादेश मीन :-* *(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)* कानूनी अड़चन दूर होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। आय में वृद्धि होगी। प्रसन्नता का वातावरण बनेगा। कुंआरों को वैवाहिक प्रस्ताव प्राप्त हो सकता है। कारोबार अच्‍छा चलेगा। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। थकान रह सकती है। ☯ *आज मंगलवार है परन्तु कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आपसे मंदिर स्थान पर ज्यादा संख्या एकत्रित होना उपयुक्त नहीं है अतः आपसे आग्रह है अपने घर के मंदिर में संध्या 7 बजे सपरिवार हनुमान चालीसा पाठ अवश्य करे और यदि संभव होवे तो उसे फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लाइव के माध्यम से सम्पूर्ण जगत के साथ साझा करे (यदि आप लाइव करते है तो #हनुमत_शक्ति_जागरण इस हैशटैग का उपयोग आपकी पोस्ट में अवश्य करें) |* ****************************************** *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं, उन सभी प्रिय मित्रो को कोटिशः शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इन बातों पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बिमारी आपको छोड़ ही रही है...? घर का हरएक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ प्रस्तुति: आचार्य मदन टी.कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले, मूल निकास: गौड़ बंगाल एवं तत्पश्चात ढाणी भालोट-झुंझनूँ-राज.) (चयनित/Appointed/) ज्योतिष एवं वास्तु शोध वैज्ञानिक एवं पूर्व विभागाध्यक्ष: TARF, Dadar-Mumbai साभार: बाँके बिहारी (धुरंधर वैदिक विद्वानों का अद्वितीय वैश्विकमंच) कार्यकारी अध्यक्ष: एस्ट्रो-वर्ल्ड मुंबई व सिरसा (सभी दैहिक दैविक भौतिक समस्याओं का एक ही जगह सटीक निदान व स्थायी समाधान) अध्यक्ष: सातफेरे डॉट कॉम मुंबई व सिरसा (आपके अपनों के दिव्य एवं सुसंस्कारी वैवाहिक जीवन की झटपट शुरूआत हेतु अनूठा संस्थान) नोट: हमारी या हमारे संस्थान 'एस्ट्रो-वर्ल्ड' तथा आपके अपनों के वैवाहिक जीवन सम्बन्धी सभी समस्याओं का एकमात्र हल एवं विश्व के इस सबसे अनूठे मंच 'सातफेरे डॉट कॉम' मुंबई या सिरसा की किसी भी प्रकार की गरिमापूर्ण सेवा जैसे वैज्ञानिकतापूर्ण ज्योतिष-वास्तु मार्गदर्शन, सभी प्रकार के मुहूर्त शोधन, नामकरण संस्कार, विवाह संस्कार या अन्य कोई भी वैदिक पूजा-अनुष्ठान आयोजित करवाने, रत्न अभिमन्त्रण, सभी राशिरत्न-उपरत्न, मणि-माणिक्य, दक्षिणावर्ती शँख (जो कि घर में विधिवत रखने मात्र से ही बदल दे आपका भाग्य हमेशां-2 के लिए...!), सियारसिंगी, भुजयुग्म (हत्थाजोड़ी, जो तिज़ोरी आपकी कभी ख़ाली ना होने दे), नागकेसर, विविध प्रकार के वास्तु पिरामिडज एवं अन्य कई प्रकार की सौभाग्यवर्धक वस्तुओं की प्राप्ति हेतु हमारे... सम्पर्क सूत्र: 9987815015 / 9991610514 ईमेल आई डी: [email protected] 🌺आपका दिन आदि वैद्य (भगवान धन्वंतरि जी) की कृपा से परम मंगलमय हो मित्रो! *🚩जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम🚩* 🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩 ।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

पित्ताशय तथा गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी (Stone of Gall Bladder,kidney and urinary tract) पित्ताशय तथा गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी (Stone of Gall Bladder,kidney and urinary tract) परिचय:- पथरी का रोग पुरुषों से अधिक स्त्रियों में पाया जाता है। पित्ताशय में जब दूषित द्रव्य जमा होकर ठोस रूप ले लेता है तो इस ठोस पदार्थ को पथरी कहते हैं। पित्ताशय में जब पथरी होती है तो उसे पित्ताशय पथरी कहते हैं।          पथरी दूषित द्रव्य का जमा हुआ वह ठोस समूह होता है जो शरीर के विभिन्न स्थानों पर हो सकती है। यह छोटी, बड़ी अनेक तथा विभिन्न आकृतियों की हो सकती है। पित्ताशय में पथरी रोग होने के लक्षण-   जब किसी व्यक्ति को पित्ताशय में पथरी का रोग हो जाता है तो इसके कारण रोगी व्यक्ति को अरुचि तथा अपच की समस्या हो जाती है।   जब रोगी व्यक्ति भोजन कर लेता है तो उसका पेट भारी होने लगता है। रोगी के पित्ताशय के भाग में तेज दर्द होता है तथा उसके शरीर में कम्पन होने लगता है और रोगी को हल्का बुखार भी हो जाता है। रोगी का जी मिचलाने लगता है तथा उसे उल्टियां भी होने लगती हैं। पित्ताशय में पथरी रोग होने का कारण- यह रोग व्यक्ति को भूख से अधिक भोजन करने के कारण होता है। भोजन में चिकनाई वाली चीजों का अधिक प्रयोग करने के कारण भी यह रोग हो सकता है। अधिक औषधियों का सेवन करने के कारण भी पथरी का रोग हो सकता है। मिर्च-मसाले वाली चीजों का अधिक सेवन करने के कारण भी पित्ताशय में पथरी का रोग हो सकता है। अधिक सोने, अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने, कोई मेहनत का कार्य न करने के कारण भी यह रोग हो सकता है। कब्ज बनने के कारण भी यह रोग व्यक्ति को हो जाता है। मांस, अण्डे का अधिक सेवन करने के कारण भी पित्ताशय में पथरी का रोग हो सकता है। स्त्रियों में यह रोग मासिकधर्म के किसी रोग के हो जाने के कारण से हो सकता है। गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग होने के लक्षण-  जब यह रोग हो जाता है तो रोगी के पेट के आगे के भाग में अचानक बहुत तेज दर्द होने लगता है। कभी-कभी रोगी का जी मिचलाने लगता है और उसे उल्टियां भी होने लगती हैं। जब रोगी व्यक्ति पेशाब करता है तो उसे पेशाब करने में परेशानी होती है और पथरी के कारण रोगी को कभी-कभी बुखार भी आ जाता है। रोगी व्यक्ति को कंपकपी होती है तथा पसीना भी आने लगता है। इस रोग से पीड़ित रोगी को कभी कभी पेशाब में रक्त (खून) भी आ जाता है। जब रोगी व्यक्ति पेशाब करता है तो पेशाब की धार फट जाती है जिससे पेशाब की धार इधर-उधर गिरने लगती है। कई बार तो पथरी मूत्रयंत्र में बहुत लम्बे समय तक बनी रहती है लेकिन इसके लक्षण सामने दिखाई नहीं देते हैं। गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग होने का कारण- जब कोई मनुष्य अपने मूत्र के वेग को बार-बार रोकता है तो उसे यह रोग हो जाता है। जब कोई व्यक्ति जरूरत से बहुत कम पानी पीता है तो भी उसे यह रोग हो सकता है। भोजन में अधिक नमक, मिर्च-मसाले, अचार, चीनी तथा मैदे से बनी चीजों का अधिक इस्तेमाल करने के कारण गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी का रोग हो सकता है। औषधियों का अधिक सेवन करने के कारण भी गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग हो सकता है। तम्बाकू, गुटका तथा शराब का अधिक इस्तेमाल करने के कारण भी गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग हो सकता है। शरीर में विटामिन `ए´, `बी´ तथा `सी´ की कमी हो जाने के कारण भी गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग हो सकता है। शारीरिक कार्य अधिक करने तथा मानसिक कार्य करने के कारण भी गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग हो सकता है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में पथरी रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार- जब किसी व्यक्ति को यह रोग हो जाता है तो उसे ठीक करने के लिए रोगी व्यक्ति को हल्के गर्म पानी में नींबू का रस मिलाकर पिलाना चाहिए तथा उपवास रखवाना चाहिए। इसके बाद 3 से 7 दिनों तक सफेद पेठे का रस और केले के डण्डे के रस को नारियल पानी में मिलाकर प्रतिदिन पीने से रोगी के पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाले पथरी रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी को ठीक करने के लिए रोगी को कुछ दिनों तक उपवास रखना चाहिए। उपवास के दौरान उसे तरबूज, गाजर, संतरा, लौकी आदि का रस अधिक मात्रा में पीना चाहिए। इसके बाद रोगी को 6 सप्ताह तक फलों का रस पीना चाहिए और अधिक मात्रा में अंगूर, सेब, नाशपाती, अनन्नास तथा आंवला का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए जिसके फलस्वरूप यह रोग ठीक हो जाता है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी को ठीक करने में पका जामुन, बथुआ, मेथी, चौलाई, धनिया, पुदीना के पत्तों का साग बहुत लाभकारी रहता है। पालक के रस में शहद मिलाकर प्रतिदिन पीने से कुछ ही दिनों में पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी ठीक हो जाती है। गाजर एवं चुकन्दर का रस प्रतिदिन दिन में 3-4 बार पीने से पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाले पथरी ठीक हो जाती है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाले पथरी को ठीक करने के लिए सब्जियों का रस पीना लाभदायक रहता है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी से पीड़ित रोगी को प्रोटीन युक्त खाद्य-पदार्थ, मलाई, दूध, पनीर, घी आदि वसायुक्त पदार्थों का तथा मांसाहार पदार्थों का सेवन भी नहीं करना चाहिए। लगभग 7-8 ग्राम पपीते की जड़ को अच्छी तरह धोकर पानी के साथ पीसकर और कपड़े से छानकर सुबह के समय में खाली पेट 3 सप्ताह तक पीना चाहिए। जिसके परिणाम स्वरूप पित्ताशय की पथरी गलकर निकल जाती है और रोगी का यह रोग ठीक हो जाता है।  कुलथी की दाल को सुबह के समय में पानी में भिगोकर रख दें तथा शाम के समय में इसे पानी में पीसकर उस पानी को पी लें। इस प्रकार से प्रतिदिन प्रयोग करने से कुछ ही दिनों में हर प्रकार की पथरी गलकर शरीर से बाहर हो जाती है।  तुलसी के पत्तों के साथ अंजीर को प्रतिदिन खाने से यह रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है। तुलसी के रस को शहद के साथ मिलाकर प्रतिदिन 6 महीने तक सेवन करने से पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी ठीक हो जाती है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी को ठीक करने के लिए रोगी व्यक्ति को पेट पर मिट्टी की पट्टी करनी चाहिए। फिर इसके बाद एनिमा क्रिया करके अपने पेट को साफ करना चाहिए। फिर पेट की गर्म ठण्डी सिंकाई करनी चाहिए और रोगी को कटिस्नान, भापस्नान, गर्म पादस्नान, मेहन स्नान करना चाहिए। फिर इसके बाद रोगी को अपने शरीर पर कुछ मिनटों के लिए गीली चादर लपेटनी चाहिए और अपने शरीर को सूखे कपड़े से पोछना चाहिए। रोगी को अपने रीढ़ की हड्डी तथा गर्दन के पास मालिश करनी चाहिए। इस प्रकार से प्रतिदिन यह प्रयोग करने से रोगी के पथरी सम्बन्धित सभी रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी को ठीक करने के लिए रोगी को सूर्यतप्त सफेद बोतल का जल प्रतिदिन पीना चाहिए ताकि शरीर में विटामिन `डी´ सही मात्रा में मिल सके जो की कैल्शियम को हजम करता है पथरी को दूर करता है। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी को ठीक करने के लिए कई प्रकार के आसन हैं जिन्हें करने से ये ठीक हो जाती हैं ये आसन इस प्रकार हैं- हलासन, धनुरासन, योगमुद्रासन, भुजंगासन, शलभासन, पश्चिमोत्तानासन, सर्वांगासन तथा प्राणायाम आदि। पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी से पीड़ित रोगी के पेट या मूत्रसंस्थान तथा गुर्दे में दर्द होने लगे तो उसे दूर करने के लिए गर्म पानी के टब में बैठ जाएं तथा जब पानी ठंडा हो जाए तो उसमें फिर से थोड़ा गर्म पानी डालकर बैठ जाए। यदि गर्म पानी के टब में बैठना मुश्किल हो तो गर्म पानी से भीगा हुआ तौलिया अपने पेट पर रखें तथा तौलिये को गर्म पानी में भिगोकर बदलते रहना चाहिए। जानकारी-           इस प्रकार से प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार करने से पित्ताशय, गुर्दे और मूत्रसंस्थान में होने वाली पथरी जल्दी ही  ठीक हो जाती है।

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

****अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻*  गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। श्रीमते रघुवीराय सेतूल्लङ्घितसिन्धवे। जितराक्षसराजाय रणधीराय मङ्गलम्।। भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।।  क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! सबसे पहले तो नक्षत्रवाणी की पोस्टिंग में व्यस्तत्तम शेड्यूल के चलते ना चाहते हुए भी होने वाले विलंब के लिए आप सभी से हृदयपूर्वक क्षमा प्रार्थना सहित.....🙏🙏 आप सभी परम प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य/पं.मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸 जय गणेश 🌸 जय अंबे 🌸 *जय श्री कृष्ण*🌷मंगल प्रभात🌷इसी के साथ आप सभी सनातनी, धर्म-उत्सवप्रेमी, राम-कृष्ण-हरि-शिव व परम राष्ट्रप्रेमी मित्र-बंन्धुओं को आज **आश्विन अधिक मास (पुरूषोत्तम मास) की शुक्लपक्ष पँचमी की, बायोस्फियर दिवस (कन्फर्म कर लें), शून्य उत्सर्जन दिवस (कन्फर्म कर लें), जागतिक अंधश्रद्धा निर्मूलन दिवस (कन्फर्म कर लें), अंतर्राष्ट्रीय शान्ति दिवस एवं विश्व अल्जाइमर दिवस** की भी बहुत-बहुत हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं...!!!** ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर...🙏 ```༺⊰🕉⊱༻ ``` *༺⊰०║|। ॐ ।|║०⊱༻* ☘️🌸!! ॐ श्री गणेशाय नमः!! 🌸☘️ ****************************** 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक *21 सितंबर 2020 ईस्वी* सोमवार/मंडे* 🇮🇳 राष्ट्रीय सौर दिनांक ३० भाद्र* *(नभस्यमास)‌१९४२* प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« (यहाँ दिये गए तिथि, नक्षत्र,योग आदि के समय इनके समाप्ति काल हैं। सूर्योदयास्त व चंद्रोदय सहित इनका गणना स्थल मुंबई हैं)। कलियुगाब्द......5122 ( ५१२२ ) विक्रम संवत्.....2077 (प्रमादी नाम) शक संवत्......1942 🌤मास......आश्विन/आसु/आसोज 🌓पक्ष.......शुक्ल/सुदी/चानण पछ/लागतो अधिक मास​ **तिथि.......पंचमी/पाँचम** रात्रि 11.42 पर्यंत पश्चात षष्ठी **वार/दिन...चन्द्रवार/सोमवार** **नक्षत्र........विशाखा** रात्रि 08.49 पर्यंत पश्चात अनुराधा योग............वैधृति प्रातः 07.50 पर्यंत पश्चात प्रीती करण..........बव दोप 01.05 पर्यंत पश्चात बालव सूर्योदय प्रातः......06.31.00 सूर्यास्त सांय...... 06.32.00 चंद्रोदय प्रातः......10.16.00 **ऋतु (दृक)......शरद** **वैदिक............शरद** **गुरु राशि.........धनु (पश्चिम में उदित, वक्री)** **सूर्य राशि.........कन्या** **चन्द्र राशि........तुला (15.17 पर्यंत पश्चात वृश्चिक)** 🚦 *दिशाशूल :-* पूर्व दिशा- यदि आवश्यक हो तो खोये की बनी मिठाई का सेवन करके या दर्पण देखकर यात्रा प्रारंभ करें । ☸ शुभ अंक......3 🔯 शुभ रंग........श्वेत/सफ़ेद ⚜ *अभिजीत मुहूर्त :-* मध्याह्न 12.07 से 12.55 तक । 👁‍🗨 *राहु काल :-* प्रात: 08.01 से 09.31 तक। 👁‍🗨 *गुलिक काल :-* अपराह्न: 02.01 से 03.32 तक। **************************** 🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-* *कन्या* 05:58:54 08:09:33 *तुला* 08:09:33 10:24:10 *वृश्चिक* 10:24:10 12:40:21 *धनु* 12:40:21 14:45:59 *मकर* 14:45:59 16:33:08 *कुम्भ* 16:33:08 18:06:41 *मीन* 18:06:41 19:37:53 *मेष* 19:37:53 21:18:36 *वृषभ* 21:18:36 23:17:13 *मिथुन* 23:17:13 25:30:54 *कर्क* 25:30:54 27:47:05 *सिंह* 27:47:05 29:58:54 ✡ *चौघडिया :-* प्रात: 06.18 से 07.48 तक अमृत प्रात: 09.18 से 10.48 तक शुभ दोप. 01.49 से 03.19 तक चंचल अप. 03.19 से 04.49 तक लाभ सायं 04.49 से 06.19 तक अमृत सायं 06.19 से 07.49 तक चंचल । ************************** ✍ आज के विशेष योगायोग/युति संयोग, वेध, ग्रहचार (ग्रहचाल), व्रत/पर्व/प्रकटोत्सव, जयंती/जन्मोत्सव व मोक्ष दिवस/स्मृतिदिवस/पुण्यतिथि आदि 🙏👇:- 👉 **आज आश्विन शुक्ल पक्ष सोमवार को 👉 वर्ष का 181/एक सौ इक्यासीवां दिन, आश्विन शुक्ल/पंचमी 23:42 तक पश्चात् षष्ठी शुरु, यमघण्ट योग सूर्योदय से 20:49 तक, सर्वार्थसिद्धियोग/कार्यसिद्धियोग 20:49 से सूर्योदय तक, सर्वदोषनाशक रवि योग 20:49 से, श्री उच्छंगराय नवलशंकर ढेबर जयन्ती, बायोस्फियर दिवस (कन्फर्म कर लें), शून्य उत्सर्जन दिवस (कन्फर्म कर लें), जागतिक अंधश्रद्धा निर्मूलन दिवस (कन्फर्म कर लें), अंतर्राष्ट्रीय शान्ति दिवस व विश्व अल्जाइमर दिवस।** ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜।** 🏡 *वास्तु टिप्स*🏡 1) कृषिवास्तु के अनुसार 'ड्रिप इर्रिगेशन तकनीक यानि बूंद-बूंद सिंचाई' या 'स्प्रिंकल सेट इर्रिगेशन यानि फव्वारा सिंचाई' विधि प्रयोग करने के लिए ओवरहेड वाटर टैंक सदैव खेत की वेस्ट डाइरेक्शन यानि पश्चिम दिशा में ही बनाना चाहिए। इससे सिंचाई की सभी दिक्कतें तो दूर होती ही हैं, साथ ही अन्य सभी शुभ फल भी प्राप्त होते हैं। 2) आपके घर से अगर अकारण ही बरकत जा रही है या आपको नेगेटिव एनर्जी दिख रही है या परिवार में निरंतर कलह रहता है, तो कपूर और फिटकरी को पीस के गौझारण (गौमूत्र) जो बहुत ही आसानी से मिल जाता है (अन्यथा पतंजलि आदि का ले लें), इससे घर मे पोछा लगाने वाले क्लीनर या पानी मे मिला लें और रोज़ सुबह-शाम घर मे पोछा लगाये और गंगाजल का पूजा-आरती के बाद छिड़काव भी करें फिर चमत्कारिक परिवर्तन देखें। 🙏 💥 **विशेष ध्यातव्य 👉 पँचमी यानि कि पाँचम को बेल फल का सेवन पूर्णतः वर्जित है। यह कलंक कारक तथा धन व बुद्धिनाशक होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34।** 📿 *आज का आराधना/उपासना मंत्र* **🚩🕉 श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्राय नमः ‼️ 🎪 🚩** *🚩 🕉 सोमेश्वराय नमः ‼️ 🎪 🚩* ।। ॐ हरिप्रियायै नम: ।। ****************************** ⚜ 👉🙏 🚩 ☸ *तिथि विशेष :* 🚩 ** अधिका पँचमी।** **************************** 📢 *संस्कृत सुभाषितानि :-* मलं स्वर्णगतं वह्निः हंसः क्षीरगतं जलम् । यथा पृथक्करोत्येवं जन्तोः कर्ममलं तपः ॥ अर्थात :- जैसे सुवर्ण में रहे हुए मल को अग्नि, और दूध में रहे हुए पानी को हंस पृथक् करता है, उसी प्रकार तप प्राणीयों के कर्ममल को पृथक् करता है । 🍃 *आरोग्य मंत्र:-* बालों को काले बनाये रखने के घरेलु नुस्खे – — सूखे आंवले का चूर्ण और नींबू का रस मिलाकर बालों में एक घंटे तक लगा कर रखें। फिर धो लें। शैम्पू ना लगाएं। इससे बाल लम्बे समय तक काले बने रहते है। — करी पत्ता को नारियल के तेल में काला होने तक गर्म करें। ठंडा होने पर छान कर बोतल में भर लें। इस तेल की नियमित मालिश करने से बाल जल्दी सफ़ेद नहीं होंगे। — शेम्पू की जगह हर्बल सामानों का उपयोग करे जैसे आँवला, अरीठा, शिकाकाई से बालो को धोये। एक कटोरी दही में दो चम्मच बेसन मिलाकर बालों में हल्के हाथ से जड़ों में लगाकर पॉँच मिनट बाद धोएँ। मुल्तानी मिटटी में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर उपयोग में लाए। —अपने आहार में नियमित रूप से आंवले का प्रयोग करे। ************************************ ⚜ * अब आज का संभावित चन्द्र राशिफल* ⚜ 👉 🙏 एक करबद्ध निवेदन 🙏 👇:- मित्रों सर्वप्रथम तो कल आपको आपकी प्रिय पोस्ट कुछ घरेलू कारणों से नहीं मिल पाई इसके लिए मैं आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ। ततपश्चात निवेदन करना चाहता हूँ कि आपकी इस परमप्रिय ज्ञानवर्धक 'अपना पोस्ट' *नक्षत्रवाणी* को आप जितना हो सकता हो उतना लाइक व शेयर/फॉरवर्ड तो करें ही, आलस्य त्याग कर कृपया इसपर अपनी बुद्धि व विवेक के अनुसार अपने सही-सही कमैंट्स भी अवश्य करें। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप मुझे निराश नहीं करेंगे और अपने फीडबैक से व लाइक/सराहना करके भी अवश्य ही मेरा उत्साहवर्धन करेंगे। नक्षत्रवाणी के संदर्भ में आप सभी के बहुमूल्य सुझाव भी सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद...!!! 💐💐 **ख़ुशख़बर।। आज की सबसे बड़ी ख़ुशख़बर।।**👇 प्रियवरों गणेशोत्सव के अंतर्गत और भाद्रपद मास के अंतिम सोमवार के शुभावसर पर त्रिगुणात्मक भगवान महाकालेश्वर शिव जो कि एकादश रुद्र रूपों में भी प्रस्फुटित होते हैं, उनके साक्षत स्वरूप व कृपाप्रसाद *'रुद्राक्ष रत्न*" जिसे रुद्र के अक्ष या भगवान शिव के अक्ष के रूप में जाना जाता है, को पहली बार अब हम विधिवत **अभिमंत्रित** करके आपको आपके सभी दैहिक-दैविक-भौतिक कष्टों से मुक्ति दिलाने हेतु, विषेषतः इस **कोरोना काल** में बहुत अधिक बढ़ चुके मानसिक संताप (Mental stress/depression) को पूर्ण रूप से दूर करने के लिए, आपकी आर्थिक तँगीं की स्थिति को समझते हुए **केवल मात्र 111₹** में आप शिवभक्त सुधि पाठकों के लिए उपलब्ध करवाना प्रारंभ किया है। जिसे भी यह दिव्य सर्वसिद्ध **रुद्राक्ष रत्न** चाहिए, वे कृपया हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। ध्यान रखें यह योजना सीमित समय के लिए ही है, इसलिए इस सुनहरे अवसर को आप चूकें नहीं। 🙏 👉 **एक विशेष व अति शुभ सूचना:👇** **मित्रों हमारे 'ऐस्ट्रो वर्ल्ड' के दिव्य कोष में शुद्ध केसर (काश्मीरी व ईरानी A तथा B दोनों ग्रेड की), पारिजात, चम्पा, अनन्त, पुन्नाग, श्वेत/सफ़ेद ऊद, केसर, खस, भीना गुलाब, ख़स, मजमुआ नाइंटी सिक्स, अनंत व असली चंदन जैसे दिव्य इत्रों की पूरी रेंज, भीमसेनी कर्पूर, उत्तम क्वालिटी की शुद्ध गुग्गल व शुद्ध लोबान, शुद्ध राशि रत्न-उपरत्न, असली नेपाली रुद्राक्ष रत्न व गण्डकी नदी से प्राप्त असली शालग्राम जी भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हमारे इस संग्रहालय में और भी कई दिव्य व चमत्कारिक वस्तुएं उपलब्ध हैं। ये सभी दिव्य वस्तुएं हम अपने ज्योतिष-वास्तु एवं वैदिक पूजा-अनुष्ठानों के नियमित यजमानों के लिए बहुत ही सही रेट पर और कम मार्जिन पर देते हैं तथा इनके असली होने की मनी बैक गारंटी के साथ भी। तो आप 'नक्षत्रवाणी' के सभी पाठक भी हमारे परम प्रिय होने से इसका लाभ निःसन्देह ले सकते हैं। इसके लिए आप हमें इसी नम्बर पर व्हाट्सएप्प करें। जल्दी रिप्लाई ना मिलने पर आप कॉल भी कर सकते हैं। धन्यवाद...!!!** 🐏 *राशि फलादेश मेष :-* *(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)* स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। कोई धनहानि हो सकती है, सावधानी रखें। रोजगार प्राप्ति के प्रयास भरपूर करें। सफलता प्राप्त होगी। घर-दुकान व शोरूम इत्यादि की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। कारोबारी बड़ा लाभ होने के योग हैं। जल्दबाजी न करें । 🐂 *राशि फलादेश वृष :-* *(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)* विद्यार्थी वर्ग पठन-पाठन व लेखन इत्यादि में लगन व उत्साह से कार्य कर पाएगा। रचनात्मक कार्यों में रुचि रहेगी। धन प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। कारोबार में वृद्धि होगी। नए-नए विचार मन में आएंगे । 👫🏻 *राशि फलादेश मिथुन :-* *(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)* दुष्टजनों से सावधान रहें। हानि पहुंचा सकते हैं। भावना में बहकर कोई निर्णय न लें। नौकरी में कार्यभार रहेगा। शारीरिक कष्ट के योग हैं। स्वास्थ्य के संबंध में लापरवाही न करें। कोई बुरी खबर मिल सकती है। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। लाभ होगा । 🦀 *राशि फलादेश कर्क :-* *(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)* मान-सम्मान मिलेगा। खोई हुई वस्तु प्राप्त हो सकती है। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। प्रयास सफल रहेंगे। समाजसेवा करने का अवसर प्राप्त होगा। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। निवेश शुभ रहेगा। प्रतिद्वंद्विता बढ़ेगी। जोखिम न लें। 🦁 *राशि फलादेश सिंह :-* *(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)* व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। नौकरी में मातहतों का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा। किसी कार्य के प्रति चिंता रहेगी। घर में अतिथियों का आगमन होगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। शत्रु सक्रिय रहेंगे। 👫🏻 *राशि फलादेश कन्या :-* *(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)* नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। विवाद में विजय प्राप्त होगी। स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है। जोखिम न लें। व्यापार अच्छा चलेगा। ⚖ *राशि फलादेश तुला :-* *(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)* किसी अपने ही व्यक्ति से कहासुनी होने की आशंका है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। कोई बड़ा खर्च सामने आएगा। आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। व्यस्तता के चलते स्वास्थ्य खराब हो सकता है। धैर्य रखें। 🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-* *(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)* संतान पक्ष से अध्ययन तथा स्वास्थ्‍य संबंधी चिंता का वातावरण बन सकता है। डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। कोई पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। 🏹 *राशि फलादेश धनु :-* *(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)* आर्थिक उन्नति के लिए योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। रुके कार्य पूर्ण होंगे। मित्रों तथा रिश्तेदारों में सुधार होगा। किसी विशेष वस्तु से भय रहेगा। शारीरिक कष्ट की आशंका है। रुके कार्य पूर्ण होंगे। मित्रों तथा रिश्तेदारों का सहयोग कर पाएंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रसन्नता रहेगी। 🐊 *राशि फलादेश मकर :-* *(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)* प्रसन्नता में वृद्धि होगी। धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। व्यस्तता रहेगी। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। कोर्ट-कचहरी व सरकारी कार्यालयों में लंबित कार्य अनुकूल होंगे। 🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-* *(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)* वाणी पर नियंत्रण आवश्यक है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। आय में निश्चितता रहेगी। वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में लापरवाही न करें, विशेषकर गृहिणियां सावधान रहें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। 🐋 *राशि फलादेश मीन :-* *(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)* जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। कोर्ट-कचहरी के कार्य गति पकड़ेंगे। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। अतिमुखरता हानि देगी। राजभय रहेगा। व्यापार अच्छा चलेगा। ****************************************** *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं, उन सभी प्रिय मित्रो को कोटिशः शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इन बातों पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बिमारी आपको छोड़ ही रही है...? घर का हरएक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ प्रस्तुति: आचार्य मदन टी.कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले, मूल निकास: गौड़ बंगाल एवं तत्पश्चात ढाणी भालोट-झुंझनूँ-राज.) (चयनित/Appointed/) ज्योतिष एवं वास्तु शोध वैज्ञानिक एवं पूर्व विभागाध्यक्ष: TARF, Dadar-Mumbai साभार: बाँके बिहारी (धुरंधर वैदिक विद्वानों का अद्वितीय वैश्विकमंच) कार्यकारी अध्यक्ष: एस्ट्रो-वर्ल्ड मुंबई व सिरसा (सभी दैहिक दैविक भौतिक समस्याओं का एक ही जगह सटीक निदान व स्थायी समाधान) अध्यक्ष: सातफेरे डॉट कॉम मुंबई व सिरसा (आपके अपनों के दिव्य एवं सुसंस्कारी वैवाहिक जीवन की झटपट शुरूआत हेतु अनूठा संस्थान) नोट: हमारी या हमारे संस्थान 'एस्ट्रो-वर्ल्ड' तथा आपके अपनों के वैवाहिक जीवन सम्बन्धी सभी समस्याओं का एकमात्र हल एवं विश्व के इस सबसे अनूठे मंच 'सातफेरे डॉट कॉम' मुंबई या सिरसा की किसी भी प्रकार की गरिमापूर्ण सेवा जैसे वैज्ञानिकतापूर्ण ज्योतिष-वास्तु मार्गदर्शन, सभी प्रकार के मुहूर्त शोधन, नामकरण संस्कार, विवाह संस्कार या अन्य कोई भी वैदिक पूजा-अनुष्ठान आयोजित करवाने, रत्न अभिमन्त्रण, सभी राशिरत्न-उपरत्न, मणि-माणिक्य, दक्षिणावर्ती शँख (जो कि घर में विधिवत रखने मात्र से ही बदल दे आपका भाग्य हमेशां-2 के लिए...!), सियारसिंगी, हत्थाजोड़ी, नागकेसर, विविध प्रकार के वास्तु पिरामिडज एवं अन्य कई प्रकार की सौभाग्यवर्धक वस्तुओं की प्राप्ति हेतु हमारे... सम्पर्क सूत्र: 9987815015 / 9991610514 ईमेल आई डी: [email protected] 🌺आपका सप्ताहारंभ आदि वैद्य (भगवान धन्वंतरि जी) की कृपा से परम मंगलमय हो मित्रो! *🚩जयतु जयतु हिन्दुराष्ट्रम🚩* 🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩 ।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।। ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB