!! वसुबारस व्रत कथा !!

!! वसुबारस व्रत कथा !!

वसुबारसेची व्रत

एका छोट्या गावात एक कुणब्याची म्हातारी होती. तिला एक सून होती. गाईगुरं होती, ढोरं म्हशी होत्या, गव्हाळीं मुगाळीं वांसरं होतीं. एके दिवशीं काय झालं? आश्विनमास आला. पहिल्या द्वादशीच्या दिवशीं म्हतारी सकाळीं उठली. शेतावर जाऊं लागली. सुनेला हाक मारली, ‘मुली, इकडे ये” सून आली. ‘काय’ म्हणून म्हणाली. तशी म्हातारी म्हणाली. “मी शेतावर जातें. दुपारी येईन. तूं माडीवर जा, गव्हाचे मुगांचे दाणे काढ, गव्हाळे मुगाळे शिजवून ठेव.” असं सांगितलं. आपण निघून शेतावर गेली. सून माडीवर गेली. गहूं मूग काढून ठेवले. खालीं आली. गोठ्यांत गेली. गव्हाळीं मुगाळीं वासरं उड्या मारीत होती, त्यांना ठार मारलं, चिरलं व शिजवून ठेवून सासूची वाट पहात बसली. दुपार झाली. तशी सासू घरी आली. सुनेनं पान वाढलं. सासूनं देखिलं. तांबडं मांस दृष्टिस पडलं. तिनं हे कायं’ म्हणून सूनेला पुशिलं.

सुनेनं सर्व हकीकत सांगितली. ‘तुम्ही सांगितलं तसं केलं’ म्हणाली. सासू घाबरली. न समजता सूनेकडून चुकी घडली, म्हणून तशीच उठली. देवापाशी जाऊन बसली. प्रार्थना केली, “देवा, हा सुनेच्या हातून अपराध घडला. तिला ह्याची क्षमा कर. गाईंची वासरं जिवंत कर. असं न होईल तर संध्याकाळीं मी आपला प्राण देईन.” असा निश्चय केला. देवापाशीं बसून राहिली. देवानं तिचा एकनिश्चय पाहिला. निष्कपट अंतःकरण देखिलं. पुढं संध्याकाळीं गाई आल्या. हंबरडे फोडूं लागल्या. तशी देवाला चिंता पडली. ‘हिचा निश्चय ढळणार नाही’ असं देवाला वाटले. मग देवानं काय केलं? गाईंची वासरं जिवंत केली, तीं उड्या मारीत मारीत प्यायला गेलीं. गाईचे हंबरडे बंद झाले. म्हातारीला आनंद झाला. सुनेला आश्चर्य वाटलं. तसा सर्वांना आनंद झाला. नंतर म्हातारीनं गाईगोर्‍ह्यांची पूजा केली. स्वयंपाक जेवली, आनंदी झाली. असे तुम्ही आम्ही होऊं.

ही साठां उत्तरांची कहाणी, पांचां उत्तरी, देवाब्राह्मणाचे द्वारीं, पिंपळाच्या पारीं, गाईंच्या गोठी सुफळ संपूर्ण.

+148 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 108 शेयर

कामेंट्स

geeta gsMaheshwari Sep 23, 2020

पार्वती माता के 108 नाम इस प्रकार से हैं- 1* आद्य – प्रारंभिक वास्तविकता 2* आर्या – यह देवी का नाम है 3* अभव्या – यह भय का प्रतीक है 4* अएंदरी – भगवान इंद्र की शक्ति 5* अग्निज्वाला – यह आग का प्रतीक है 6* अहंकारा – यह गौरव का प्रतिक है 7* अमेया – नाम उपाय से परे का प्रतीक है 8* अनंता – यह अनंत का एक प्रतीक है 9* अनंता – अनंत 10* अनेकशस्त्रहस्ता – कई हथियारों को रखने वाला 11* अनेकास्त्रधारिणी –  कई हथियारों को धारण करने वाला 12* अनेकावारना – कई रंगों का व्यक्ति 13* अपर्णा – एक व्यक्ति जो उपवास के दौरान कुछ नहीं कहता है यह उसका प्रतिक है 14* अप्रौधा – जो व्यक्ति उम्र नही लेता यह उसका प्रतीक है 15* बहुला – विभिन्न रूपों 16* बहुलप्रेमा- हर किसी से प्यार  17* बलप्रदा – यह ताकत का दाता का प्रतीक है 18* भाविनी – खूबसूरत औरत 19* भव्य – भविष्य 20* भद्राकाली – काली देवी के रूपों में से एक 21* भवानी – यह ब्रह्मांड की निवासी है 22* भवमोचनी – ब्रह्मांड की समीक्षक 23* भवप्रीता – ब्रह्मांड में हर किसी से प्यार पाने वाली 24* भव्य – यह भव्यता का प्रति है 25* ब्राह्मी – भगवान ब्रह्मा की शक्ति 26* ब्रह्मवादिनी – हर जगह उपस्तित 27* बुद्धि – ज्ञानी 28* बुध्हिदा – ज्ञान की दातरि 29* चामुंडा -चंड और मुंड राक्षस की हत्या करने वाली देवी 30* चंद्रघंटा – ताकतवर घंटी 31* चंदामुन्दा विनाशिनी – देवी जिसने चंड और मुंड की हत्या की 32* चिन्ता – तनाव 33* चिता – मृत्यु-बिस्तर 34* चिति – सोच मन 35* चित्रा – सुरम्य 36* चित्तरूपा – सोच या विचारशील राज्य 37* दक्शाकन्या – यह दक्ष की बेटी का नाम है 38* दक्शायाज्नाविनाशिनी – दक्ष के बलिदान को टोकनेवाला 39* देवमाता – देवी माँ 40* दुर्गा – अपराजेय 4* एककन्या – बालिका 42* घोररूपा – भयंकर रूप 43* ज्ञाना – ज्ञान 44* जलोदरी – ब्रह्मांड में निवास करने वाली  45* जया – विजयी 46* कालरात्रि – देवी जो काली है और रात के समान है 47* किशोरी – किशोर 48* कलामंजिराराजिनी – संगीत पायल 49* कराली – हिंसक 50* कात्यायनी – बाबा कत्यानन इस नाम को पूजते है 51* कौमारी- किशोर 52* कोमारी- सुंदर किशोर 53* क्रिया – लड़ाई 54* क्र्रूना- क्रूर 55* लक्ष्मी – धन की देवी 56* महेश्वारी – भगवान शिव की शक्ति 57* मातंगी – मतंगा की देवी 58* मधुकैताभाहंत्री – देवी जिसने राक्षस और मधु और कैटभ को मार दिया 59* महाबला – शक्ति 60* महातपा – तपस्या 61* महोदरी – एक विशाल पेट में ब्रह्मांड में रखते हुए 62* मनः – मन 63* मतंगामुनिपुजिता – बाबा मतंगा द्वारा पूजी जाती है 64* मुक्ताकेशा – खुले बाल 65* नारायणी – भगवान नारायण विनाशकारी विशेषताएँ 66* निशुम्भाशुम्भाहनानी – देवी जिसने भाइयो शुम्भा निशुम्भा को मारा 67* महिषासुर मर्दिनी – जिस देवी ने महिषासुर राक्षस को मार डाला 68* नित्या – अनन्त 69* पाताला – रंग लाल 70* पातालावती – लाल और सफ़द पहेने वाली 71* परमेश्वरी – अंतिम देवी 72* पत्ताम्बरापरिधान्ना – चमड़े से बना हुआ कपडा 73* पिनाकधारिणी – शिव का त्रिशूल 74* प्रत्यक्ष – असली 75* प्रौढ़ा – पुराना 76* पुरुषाकृति – आदमी का रूप लेने वाला 77* रत्नप्रिया – सजी 78* रौद्रमुखी – विनाशक रुद्र की तरह भयंकर चेहरा 79* साध्वी – आशावादी 80* सदगति – मोक्ष कन्यादान 81* सर्वास्त्रधारिणी – मिसाइल हथियारों के स्वामी 82* सर्वदाना वाघातिनी -सभी राक्षसों को मारने के लिए योग्यता है जिसमें 83* सर्वमंत्रमयी – सोच के उपकरण 84* सर्वशास्त्रमयी – चतुर सभी सिद्धांतों में 85* सर्ववाहना – सभी वाहनों की सवारी 86* सर्वविद्या – जानकार 87* सती – जो महिला जिसने अपने पति के अपमान पर अपने आप को जला दे 89* सत्ता – सब से ऊपर 90* सत्य – सत्य 91* सत्यानादास वरुपिनी – शाश्वत आनंद 92* सावित्री – सूर्य भगवान की बेटी 93* शाम्भवी – शंभू की पत्नी 94* शिवदूती – भगवान शिव के राजदूत 95* शूलधारिणी – व्यक्ति जो त्रिशूल धारण करता है 96* सुंदरी – भव्य 97* सुरसुन्दरी – बहुत सुंदर 98* तपस्विनी – तपस्या में लगी हुई 99* त्रिनेत्र – तीन आँखों का व्यक्ति 100* वाराही – जो व्यक्ति वाराह पर सवारी करता हुआ 101* वैष्णवी – अपराजेय 102* वनदुर्गा – जंगलों की देवी 103* विक्रम – हिंसक 104* विमलौत्त्त्कार्शिनी – खुशी प्रदान करना 105* विष्णुमाया – भगवान विष्णु का मंत्र 106* वृधामत्ता – माँ का पुराना स्वरूप 107* यति – दुनिया का त्याग करने वाला 108* युवती – औरत

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB