🙏🙏कैलाश अग्रवाल की राम राम🙏🙏

🙏🙏कैलाश अग्रवाल  की राम राम🙏🙏

[ 🙏🙏कैलाश अग्रवाल की राम राम🙏🙏 *************************************
माह श्रावण के शुक्ल पक्ष तिथी त्रयोदशी दिन शनिवार विक्रमी संवत् 2074 दिनांक 05 अगस्त 2017 का शुभ प्रभात *******************************†*
#श्रावण मास मे आज असीरगढ़ (बुरहानपुर) के #गुफ्तेश्वर #महादेव शिवलिंग के शुभ दर्शन करे...

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर के नजदीक है 'असीरगढ़ किला' और इस किले के अंदर स्थित है 'गुप्तेश्वर महादेव मंदिर'।कहते हैं यहां गुप्तरूप से हर अमावस्या और पूर्णिमा के दिन अश्वत्थामा आते हैं। वह यहां शिवजी की पूजा करते हैं।अश्वत्थामा का उल्लेख महाभारत में मिलता है।यहां किसी ने भी अश्वत्थामा को पूजा करते नहीं देखा, लेकिन सुबह गुप्तेश्वर मंदिर में शिवलिंग के समक्ष गुलाब के फूल और कुमकुम के मिलता है। #मंदिर के पुजारियों का मानना है कि भगवान भोलेनाथ को गुलाब और कुमकुम अश्वत्थामा ही चढ़ाते हैं।यहां है असीरगढ़ का किला असीरगढ़ का किला बुरहानपुर शहर से 20 किलोमीटर दूर पर उत्तर दिशा में सतपुडा पहाड के शिखर पर समुद्र सतह से 750 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। किले के ऊपरी भाग में गुप्तेश्वर महादेव मंदिर है। यह मंदिर चारों और खाइयों से घिरा हुआ था।किंवदंती के अनुसार इन्हीं खाइयों में से किसी एक खाई में गुप्त रास्ता बना हुआ है, जो खांडव वन (खंडवा जिला) से होता हुआ, सीधे इस मंदिर में निकलता है। ऐसी मान्यता है कि अश्वत्थामा मंदिर में इसी रास्ते से आते हैं।

+82 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 13 शेयर
raadhe krishna Mar 3, 2021

+171 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 154 शेयर
🥀🥀 Mar 3, 2021

**महाशिवरात्रि एवं शिव नवरात्रि महोत्सव" 2021* ✍🏻"वर्ष में एक बार ही; श्री महाकालेश्वर भगवान् को हल्दी अर्पित की जाती हैं।" ✍🏻श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में महाशिवरात्रि के पहले शिव नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है, इस दौरान पूरे 9 दिन तक महाकाल के दरबार में देवाधिदेव महादेव और माता पार्वती के विवाहोत्सव का उल्लास रहता है। श्री महाकाल महाराज के दरबार में भगवान महाकाल और माता पार्वती के विवाह उत्सव का उल्लास; शिव नवरात्रि के प्रथम दिवस से बिखरने लगता है। *शैव मतानुसार;-* महाशिवरात्रि के 9 दिन पूर्व अर्थात; फाल्गुन कृष्ण पक्ष पंचमी से फाल्गुन कृष्ण पक्ष चतुर्दशी महाशिवरात्रि तक शिव नवरात्रि या महाकाल नवरात्रि का 9 दिन का उत्सव बताया गया है। मान्यतानुसार; श्री महाकालेश्वर भगवान को हल्दी अर्पित नहीं की जाती। ऐसा इसलिए क्योंकि; हल्दी स्त्री सौंदर्य प्रसाधन में प्रयोग की जाती है और शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है। एक अन्य कारण यह भी है कि; हल्दी गर्म होती है और महादेव को शीतल पदार्थ अर्पित किये जाते हैं। किन्तु इन 9 दिनों मे बाबा महाकाल को नित्य हल्दी, केशर, चन्दन का उबटन, सुगंधित इत्र, ओषधी, फलो के रस आदि से स्नान करवाया जाता है। जिस प्रकार विवाह के दौरान दूल्हे को हल्दी लगाई जाती है। उसी प्रकार भगवान श्री महाकालेश्वर को भी हल्दी लगाई जाती है। 9 दिनों तक सांयकाल को केसर व हल्दी से भगवान महाकालेश्वर जी का अनूठा श्रृंगार किया जाएगा। पुजारी पं. नरेन्द्र कृष्ण शास्त्री ने बताया कि भगवान को हल्दी लगाकर, दूल्हा बनाएंगे। भक्तों को 9 दिन तक भगवान महाकाल अलग-अलग रूपों में दर्शन देंगे। शिव नवरात्रि के 9 दिन दूल्हा स्वरूप में होने वाले राजाधिराज बाबा महाकाल के श्रृंगार के दर्शन करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। *महाशिवरात्रि के दिन भगवान महाकाल का सेहरा सजाया जाता है वर्ष 2021 में यह पर्व 3 मार्च से प्रारंभ होकर 11 मार्च 2021 तक रहेगा।*

+27 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 21 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB