दिन में मुहूर्त

दिन में मुहूर्त

जानिये 24 घंटे में होते हैं कितने और कौन से मुहूर्त
〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰
किसी भी प्रकार के मंगल कार्य करने के लिए सबसे पहले मुहूर्त और चौघड़िया देखा जाता है। आज कल लोग शुभघड़ी को मुहूर्त कहने लगे हैं। दिन व रात मिलाकर 24 घंटे के समय में, दिन में 15 व रात्रि में 15 मुहूर्त मिलाकर कुल 30 मुहूर्त होते हैं अर्थात् एक मुहूर्त 48 मिनट (2 घटी) का होता है।

मुहूर्त का नाम समय प्रारंभ समय समाप्त
रुद्र 06.00. 06.48
आहि 06.48 07.36
मित्र 07.36 08.24
पितृ 08.24 09.12
वसु 09.12 10.00
वराह 10.00 10.48
विश्‍वेदेवा 10.48 11.36
विधि 11.36 12.24
सप्तमुखी 12.24 13.12
पुरुहूत 13.12 14.00
वाहिनी 14.00 14.48
नक्तनकरा 14.48 15.36
वरुण 15:36 16:24
अर्यमा 16:24 17:12
भग 17:12 18:00
गिरीश 18:00 18:48
अजपाद 18:48 19:36
अहिर बुध्न्य 19:36 20:24
पुष्य 20:24 21:12
अश्विनी 21:12 22:00
यम 22:00 22:48
अग्नि 22:48 23:36
विधातॄ 23:36 24:24
कण्ड 24:24 01:12
अदिति 01:12 02:00
जीव/अमृत. 02:00 02:48
विष्णु 02:48 03:36
युमिगद्युति. 03:36 04:24
ब्रह्म 04:24 05:12
समुद्रम 05:12 06:00

मुहूर्त संबंधित ग्रंथ
〰〰〰〰〰
मुहूर्त संबंधित कई ग्रंथ हैं जो वेद, स्मृति आदि धर्मग्रंथों पर आधारित है। ये ग्रंथ है- मुहूर्त मार्तण्ड, मुहूर्त गणपति मुहूर्त चिंतामणि, मुहूर्त पारिजात, धर्म सिंधु, निर्णय सिंधु आदि। शुभ मुहूर्त जानते वक्त तिथि, वार, नक्षत्र, पक्ष, अयन, चौघड़ियां और लग्न आदि का भी ध्यान रखा जाता है।

कौन-सा 'समय' सर्वश्रेष्ठ होता है
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
किसी भी कार्य का प्रारंभ करने के लिए शुभ लग्न और मुहूर्त को देखा जाता है। जानिए वह कौन-सा वार, तिथि, माह, वर्ष लग्न, मुहूर्त आदि शुभ है जिसमें मंगल कार्यों की शुरुआत की जाती है।

मुहूर्त संबंधित ग्रंथ
〰〰〰〰〰
मुहूर्त संबंधित कई ग्रंथ हैं जो वेद, स्मृति आदि धर्मग्रंथों पर आधारित है। ये ग्रंथ है- मुहूर्त मार्तण्ड, मुहूर्त गणपति, मुहूर्त चिंतामणि, मुहूर्त पारिजात, धर्म सिंधु, निर्णय सिंधु, मुहूर्त प्रकरण आदि।

श्रेष्ठ दिन 👉 दिन और रात में दिन श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ मुहूर्त 👉 दिन-रात के 30 मुहूर्तों में ब्रह्म मुहूर्त ही श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ वार 👉 सात वारों में रवि, मंगल और गुरु श्रेष्ठ है।

चौघड़िया 👉 शुभ चौघड़िया श्रेष्ठ है जिसका स्वामी गुरु है। अमृत का चंद्रमा और लाभ का बुध है।

श्रेष्ठ पक्ष 👉 कृष्ण और शुक्ल पक्षों के दो मास में शुक्ल पक्ष श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ एकादशी 👉 प्रत्येक वर्ष चौबीस और अधिकमास हो तो 26 एकादशियां होती हैं। शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष में एकादशियों को श्रेष्ठ माना है। उनमें भी इसमें कार्तिक मास की देव प्रबोधिनी एकादशी श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ माह👉 मासों में चैत्र, वैशाख, कार्तिक, ज्येष्ठ, श्रावण, अश्विनी, मार्गशीर्ष, माघ, फाल्गुन श्रेष्ठ माने गए हैं उनमें भी चैत्र और कार्तिक सर्वश्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ पंचमी 👉 प्रत्येक माह में पंचमी आती है उसमें माघ माह के शुक्ल पक्ष की बसंत पंचमी श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ अयन 👉 दक्षिणायन और उत्तरायण मिलाकर एक वर्ष माना गया है। इसमें उत्तरायण श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ संक्रांति 👉 सूर्य की 12 संक्रांतियों में मकर संक्रांति ही श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ ऋ‍तु 👉 छह ऋतुओं में वसंत और शरद ऋतु ही श्रेष्ठ है।

श्रेष्ठ नक्षत्र 👉 नक्षत्र 27 होते हैं उनमें कार्तिक मास में पड़ने वाला पुष्य नक्षत्र श्रेष्ठ है। इसके अलावा अश्विनी, रोहिणी, मृगशिरा, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, स्वाति, अनुराधा, उत्तराषाढ़ा, श्रावण, धनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, रेवती नक्षत्र शुभ माने गए हैं।

पं देवशर्मा
〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰

+56 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 59 शेयर

कामेंट्स

🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔 🌺🌻☘️🍀🌹 🙏🙏🙏 🚩 🕉️ *ॐ गणेशाय नमः* 🕉️🚩 . 🛑 *शुभ शनिवार* 🛑 . ✴️ *अथ् पंचांगम्* ✴️ *दिनाँक 28/03/2020,शनिवार* ( *समाप्ति काल*) तिथि ------चतुर्थी 24:17:07 *तक* पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ----------भरणी 12:50:51 योग ---------विश्कुम्भ 17:51:33 करण -------वाणिज 11:16:40 करण ------विष्टि भद्र 24:17:07 वार -------------------------शनिवार माह ------------------------------चैत्र चन्द्र राशि --------मेष 19:29:10 चन्द्र राशि ---------------------वृषभ सूर्य राशि ----------------------मीन ऋतु --------------------------- *वसंत* आयन --------------------उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक)------2076 शाका संवत ----------------1942 सूर्योदय -----------------06:15:07 सूर्यास्त -----------------18:33:28 दिन काल --------------12:18:20 रात्री काल -------------11:40:31 चंद्रोदय -----------------08:34:01 चंद्रास्त -----------------22:03:10 लग्न ----मीन 13°40' , 343°40' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र -------------------भरणी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩✴️ पद, चरण ✴️🚩* लो ----भरणी 12:50:51 अ ----कृत्तिका 19:29:10 ई ----कृत्तिका 26:06:17 *🚩✴️ ग्रह गोचर ✴️🚩* ग्रह =राशि , अंश ,नक्षत्र, पद ************* सूर्य=मीन 13°22 ' उ o भा o, 4 ञ चन्द्र =मेष 23°23 ' भरनी ' 4 लो बुध = कुम्भ 16°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 29°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 03°30' उ o षा o ' 3 जा गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°32 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 32 ' मूल , 3 भा *🚩✴️शुभाशुभ मुहूर्त✴️🚩* राहू काल 09:20 - 10:52 अशुभ यम घंटा 13:57 - 15:29 अशुभ गुली काल 06:15 - 07:47 अशुभ अभिजित 11:59 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 07:54 - 08:43 अशुभ 🚩✴️चोघडिया, दिन काल 06:15 - 07:47 अशुभ शुभ 07:47 - 09:20 शुभ रोग 09:20 - 10:52 अशुभ उद्वेग 10:52 - 12:24 अशुभ चर 12:24 - 13:57 शुभ लाभ 13:57 - 15:29 शुभ अमृत 15:29 - 17:01 शुभ काल 17:01 - 18:33 अशुभ 🚩✴️चोघडिया, रात लाभ 18:33 - 20:01 शुभ उद्वेग 20:01 - 21:29 अशुभ शुभ 21:29 - 22:56 शुभ अमृत 22:56 - 24:24* शुभ चर 24:24* - 25:51* शुभ रोग 25:51* - 27:19* अशुभ काल 27:19* - 28:46* अशुभ लाभ 28:46* - 30:14* शुभ 🚩✴️होरा, दिन शनि 06:15 - 07:17 बृहस्पति 07:17 - 08:18 मंगल 08:18 - 09:20 सूर्य 09:20 - 10:21 शुक्र 10:21 - 11:23 बुध 11:23 - 12:24 चन्द्र 12:24 - 13:26 शनि 13:26 - 14:27 बृहस्पति 14:27 - 15:29 मंगल 15:29 - 16:30 सूर्य 16:30 - 17:32 शुक्र 17:32 - 18:33 🚩✴️होरा, रात बुध 18:33 - 19:32 चन्द्र 19:32 - 20:30 शनि 20:30 - 21:29 बृहस्पति 21:29 - 22:27 मंगल 22:27 - 23:25 सूर्य 23:25 - 24:24 शुक्र 24:24* - 25:22 बुध 25:22* - 26:21 चन्द्र 26:21* - 27:19 शनि 27:19* - 28:17 बृहस्पति 28:17* - 29:16 मंगल 29:16* - 30:14 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *🚩✴️दिशा शूल ज्ञान-पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩✴️अग्नि वास ज्ञान*✴️🚩 *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 7 + 1 = 12 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *🚩✴️ शिव वास एवं फल* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = *शोक ,दुःख कारक* 🚩✴️ *भद्रा वास एवं फल* ✴️🚩 *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 11:14 से रात्रि 24:17 तक स्वर्ग लोक = शुभ कारक *✴️🚩 विशेष जानकारी ✴️🚩* * *नवरात्रि चतुर्थ दिवस कूष्मांडा पूजन* *🚩✴️ शुभ विचार ✴️🚩* राजा राष्ट्रकृतं पापं राज्ञः पापं पुरोहितः । भर्ता च स्त्रीकृतं पापं शिष्यपापं गुरुस्तथा ******* राजा को उसके नागरिको के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है. *🚩✴️ सुभाषितानि ✴️🚩* *गीता - मोक्षसन्यासयोग अo-18* ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेऽजुर्न तिष्ठति।, भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया॥, ****** हे अर्जुन! शरीर रूप यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अन्तर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है॥61॥ *🚩 ✴️ दैनिक राशिफल ✴️🚩* 🐏मेष✴️ व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। जुए-सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यवसाय मनोनुकूल रहेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। किसी अपने का व्यवहार समझ नहीं आएगा। सुख के साधनों पर खर्च होगा। किसी बड़ी समस्या से निजात मिलेगी। 🐂वृष✴️ फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। कर्ज लेना पड़ सकता है। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से मन खिन्न रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। शत्रुभय रहेगा। परिवार की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निरंतरता रहेगी। अपरिचित व्यक्ति से सावधान रहें। 👫मिथुन✴️ संतान पक्ष की चिंता रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। यात्रा मनोनुकूल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। आय व रोजगार में वृद्धि होगी। मित्र व संबंधी सहायता को आगे आएंगे। मेहमानों पर व्यय होगा। जल्दबाजी न करें। 🦀कर्क✴️ घर-बाहर तनाव रहेगा। लोगों से प्रतिकूलता रहेगी। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकार वृद्धि हो सकती है। मनोनुकूल तबादला हो सकता है। आय में निरंतरता रहेगी। अपेक्षित कार्य पूरे होंगे। 🐅सिंह✴️ तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी। किसी मार्गदर्शक का सहयोग मिलेगा। लोगों की बातों में न आएं। कोर्ट व कचहरी में दबदबा बना रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यवसाय में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। थकान महसूस होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🙎कन्या✴️ चोट व दुर्घटना से हानि संभव है। पुराना रोग परेशान कर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अज्ञात भय रहेगा। नया कार्य प्रारंभ करने की योजना टालें। यात्रा में जल्दबाजी न करें। घर-बाहर अशांति रहेगी। धैर्य रखें। आय बनी रहेगी। ⚖तुला✴️ भागदौड़ अधिक रहेगी। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। शत्रुओं का पराभव रहेगा। अधिकार प्राप्ति के योग हैं। परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। आंखों में पीड़ा हो सकती है। 🦂वृश्चिक✴️ कष्ट, भय या तनाव का वातावरण बन सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। मकान, दुकान व जमीन खरीदने की योजना बनेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। धनहानि हो सकती है। आय में वृद्धि होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। 🏹धनु✴️ विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता प्राप्त होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। शुभ समय। 🐊मकर✴️ परिवार के साथ मनोरंजक यात्रा हो सकती है। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। क्रोध व आलस्य पर नियंत्रण रखें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🍯कुंभ✴️ मेहनत की अधिकता से स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। बुरी खबर मिल सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से तनाव रहेगा। विवेक व धैर्य का प्रयोग करें। लाभ होगा। जोखिम व जमानत के कार्य बिलकुल न करें। 🐟मीन✴️ घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। पारिवारिक सदस्यों व मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। कोई बड़ी समस्या दूर हो सकती है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। महत्वाकांक्षाएं बढ़ेंगी। प्रयास अधिक करें। *ACHARYA ANIL PARASHAR* *VADIC,KP ASTROLOGER* 🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

🥀🚩 *जय माता दी* 🚩🥀 . 🌅 * शुभ शनिवार* 🌅 . 📜 *अथ् पंचांगम्* 📜 🌸🌺🌼💮🏵️🌸🌼💮🌺 *दिनाँक -: 28/03/2020,शनिवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि ----------चतुर्थी 24:17:07 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ----------भरणी 12:50:51 योग ---------विश्कुम्भ 17:51:33 करण -------वाणिज 11:16:40 करण ------विष्टि भद्र 24:17:07 वार -------------------------शनिवार माह ------------------------------चैत्र चन्द्र राशि --------मेष 19:29:10 चन्द्र राशि ---------------------वृषभ सूर्य राशि ----------------------मीन रितु ----------------------------वसंत आयन --------------------उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक)------2076 शाका संवत ----------------1942 वाराणसी सूर्योदय -----------------06:15:07 सूर्यास्त -----------------18:33:28 दिन काल --------------12:18:20 रात्री काल -------------11:40:31 चंद्रोदय -----------------08:34:01 चंद्रास्त -----------------22:03:10 लग्न ----मीन 13°40' , 343°40' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र -------------------भरणी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* लो ----भरणी 12:50:51 अ ----कृत्तिका 19:29:10 ई ----कृत्तिका 26:06:17 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मीन 13°22 ' उ o भा o, 4 ञ चन्द्र =मेष 23°23 ' भरनी ' 4 लो बुध = कुम्भ 16°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 29°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 03°30' उ o षा o ' 3 जा गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°32 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 32 ' मूल , 3 भा *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 09:20 - 10:52 अशुभ यम घंटा 13:57 - 15:29 अशुभ गुली काल 06:15 - 07:47 अशुभ अभिजित 11:59 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 07:54 - 08:43 अशुभ 💮चोघडिया, दिन काल 06:15 - 07:47 अशुभ शुभ 07:47 - 09:20 शुभ रोग 09:20 - 10:52 अशुभ उद्वेग 10:52 - 12:24 अशुभ चर 12:24 - 13:57 शुभ लाभ 13:57 - 15:29 शुभ अमृत 15:29 - 17:01 शुभ काल 17:01 - 18:33 अशुभ 🚩चोघडिया, रात लाभ 18:33 - 20:01 शुभ उद्वेग 20:01 - 21:29 अशुभ शुभ 21:29 - 22:56 शुभ अमृत 22:56 - 24:24* शुभ चर 24:24* - 25:51* शुभ रोग 25:51* - 27:19* अशुभ काल 27:19* - 28:46* अशुभ लाभ 28:46* - 30:14* शुभ 💮होरा, दिन शनि 06:15 - 07:17 बृहस्पति 07:17 - 08:18 मंगल 08:18 - 09:20 सूर्य 09:20 - 10:21 शुक्र 10:21 - 11:23 बुध 11:23 - 12:24 चन्द्र 12:24 - 13:26 शनि 13:26 - 14:27 बृहस्पति 14:27 - 15:29 मंगल 15:29 - 16:30 सूर्य 16:30 - 17:32 शुक्र 17:32 - 18:33 🚩होरा, रात बुध 18:33 - 19:32 चन्द्र 19:32 - 20:30 शनि 20:30 - 21:29 बृहस्पति 21:29 - 22:27 मंगल 22:27 - 23:25 सूर्य 23:25 - 24:24 शुक्र 24:24* - 25:22 बुध 25:22* - 26:21 चन्द्र 26:21* - 27:19 शनि 27:19* - 28:17 बृहस्पति 28:17* - 29:16 मंगल 29:16* - 30:14 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 7 + 1 = 12 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 11:14 से रात्रि 24:17 तक स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * नवरात्रि चतुर्थ दिवस कूष्मांडा पूजन *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* राजा राष्ट्रकृतं पापं राज्ञः पापं पुरोहितः । भर्ता च स्त्रीकृतं पापं शिष्यपापं गुरुस्तथा ।। ।।चा o नी o।। राजा को उसके नागरिको के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: मोक्षसन्यासयोग अo-18 ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेऽजुर्न तिष्ठति।, भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया॥, हे अर्जुन! शरीर रूप यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अन्तर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है॥,61॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। जुए-सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यवसाय मनोनुकूल रहेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। किसी अपने का व्यवहार समझ नहीं आएगा। सुख के साधनों पर खर्च होगा। किसी बड़ी समस्या से निजात मिलेगी। 🐂वृष फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। कर्ज लेना पड़ सकता है। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से मन खिन्न रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। शत्रुभय रहेगा। परिवार की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निरंतरता रहेगी। अपरिचित व्यक्ति से सावधान रहें। 👫मिथुन संतान पक्ष की चिंता रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। यात्रा मनोनुकूल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। आय व रोजगार में वृद्धि होगी। मित्र व संबंधी सहायता को आगे आएंगे। मेहमानों पर व्यय होगा। जल्दबाजी न करें। 🦀कर्क घर-बाहर तनाव रहेगा। लोगों से प्रतिकूलता रहेगी। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकार वृद्धि हो सकती है। मनोनुकूल तबादला हो सकता है। आय में निरंतरता रहेगी। अपेक्षित कार्य पूरे होंगे। 🐅सिंह तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी। किसी मार्गदर्शक का सहयोग मिलेगा। लोगों की बातों में न आएं। कोर्ट व कचहरी में दबदबा बना रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यवसाय में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। थकान महसूस होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🙎कन्या चोट व दुर्घटना से हानि संभव है। पुराना रोग परेशान कर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अज्ञात भय रहेगा। नया कार्य प्रारंभ करने की योजना टालें। यात्रा में जल्दबाजी न करें। घर-बाहर अशांति रहेगी। धैर्य रखें। आय बनी रहेगी। ⚖तुला भागदौड़ अधिक रहेगी। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। शत्रुओं का पराभव रहेगा। अधिकार प्राप्ति के योग हैं। परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। आंखों में पीड़ा हो सकती है। 🦂वृश्चिक कष्ट, भय या तनाव का वातावरण बन सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। मकान, दुकान व जमीन खरीदने की योजना बनेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। धनहानि हो सकती है। आय में वृद्धि होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। 🏹धनु विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता प्राप्त होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। शुभ समय। 🐊मकर परिवार के साथ मनोरंजक यात्रा हो सकती है। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। क्रोध व आलस्य पर नियंत्रण रखें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🍯कुंभ मेहनत की अधिकता से स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। बुरी खबर मिल सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से तनाव रहेगा। विवेक व धैर्य का प्रयोग करें। लाभ होगा। जोखिम व जमानत के कार्य बिलकुल न करें। 🐟मीन घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। पारिवारिक सदस्यों व मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। कोई बड़ी समस्या दूर हो सकती है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। महत्वाकांक्षाएं बढ़ेंगी। प्रयास अधिक करें। दिव्य ज्योतिष केंद्र वाराणसी उत्तर प्रदेश वाट्स्अप👉9450786998 🙏🏻आपका दिन मंगलमय हो 🙏🏻 🌸🌼💮🌺🏵️🥀🏵️🌹💮🌼

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 21 शेयर

*** 2077 - आज का हिंदू पंचांग -1942*** श्री ज्योतिष सेवाश्रम भीलवाड़ा (राजस्थान) 74.30 - रेखांतर मध्य मान - 75.30 * समस्या कोई भी हो सफल समाधान संभव * (आज के राशिफल सहित) 91-9799670464. ---------------------------------------------------------- " आज नवरात्रि चतुर्थ /माता कुष्मांडा पूजन " *विद्यार्थियों का अध्ययन कक्ष कैसा हो/जानें* ---------------------------------------------------------- दिनांक.............................28.03.2020 कलियुग संवत्..............................5121 विक्रम संवत्................................2077 शक संवत्...................................1942 संवत्सर..................................श्री प्रमादी अयन..........................................उत्तर गोल............................................उत्तर ऋतु............................................वसंत मास............................................. चैत्र पक्ष............................................शुक्ल तिथि....... चतुर्थी. रात्रि. 12.17 तक/ पंचमी वार......................................... शनिवार नक्षत्र...भरणी. अपरा. 12.51 तक / कृतिका चंद्र राशि........मेष. रात्रि. 7.29 तक / वृषभ योग.........विष्कुंभ. सायं. 5.52 तक / प्रीति करण............. वणिज. पूर्वाह्न. 11.16 तक करण....विष्टि(भद्रा) रात्रि. 12.17 तक / बव ---------------------------------------------------------- सूर्योदय......................प्रातः 6.28.02 पर सूर्यास्त......................सायं. 6.45.03 पर सूर्य राशि............... (मीन) 11.13.38.31 चंद्रमा(उदित)..चंद्रास्त. रात्रि. 10.12.31 पर राहुकाल.......प्रातः 9.32 से 11.04(अशुभ) यमघंट........अपरा. 2.09 से 3.41 (अशुभ) अभिजित.................12.12 से 1.01 तक पंचक.................................आज नहीं है शुभ हवन मुहूर्त(अग्निवास)............आज है दिशाशूल.................................पूर्व दिशा दिशाशूल परिहार...उड़द सेवन कर यात्रा करें ---------------------------------------------------------- चौघड़िया (दिन-रात)......(केवल शुभ कारक) शुभ...................प्रातः 8.00 से 9.32 तक चंचल.............अपरा. 12.37 से 2.09 तक लाभ................अपरा. 2.09 से 3.41 तक अमृत...............अपरा. 3.41 से 5.13 तक लाभ............सायं-रात्रि 6.45 से 8.13 तक शुभ.................रात्रि. 9.41 से 11.08 तक अमृत.....रात्रि. 11.08 से 12.36 AM तक चंचल..रात्रि.12.36 AM से 2.04 AM तक. लाभ.....रात्रि. 4.59 AM से 6.27 AM तक ___________________________________ आज जन्मे शिशुओं का नक्षत्र चरण के अनुसार नामकरण हेतु नामाक्षर.. 12.51 PM तक--भरणी ---4- नामाक्षर (लो) 07.29 PM तक- कृतिका -1-"" "" "" (अ) _________सभी की राशि मेष____________ ___________________________________ 02.06 AM तक- कृतिका - 2-"" "" "" "(इ) उपरांत रात्रि तक- कृतिका - 3-""""""""""(उ) ________(सभी की राशि वृषभ)_________ __________________________________ ____________आज का दिन____________ नवरात्रि चतुर्थ दिवस.. आज माता कुष्मांडा पूजन दिवस. ___________________________________ व्रत विशेष.........................नवरात्रि चतुर्थ व्रत विशेष............श्री गणेश दमनक चतुर्थी दिन विशेष.................................... नहीं मलमास जारी..........विशेष शुभ कार्य निषेध सर्वा.सिद्धयोग................................नहीं सिद्ध रवियोग... प्रातः 6.28 से 12.51 PM __________________________________ _____________कल का दिन____________ दिनांक............................29.03. 2020 तिथि..................चैत्र. शुक्ला पंचमी रविवार मलमास जारी.. विशेष सांस्कारिक कर्म निषेध व्रत विशेष...नवरात्रि पंचम/ स्कंदमातृका पूजा दिन विशेष........मकरे गुरु. रात्रि. 3.47 AM सर्वा.सिद्धयोग.................................नहीं सिद्ध रवियोग................................. नहीं ___________________________________ अध्ययन कक्ष कैसा हो...? वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व, उत्तर एवं ईशान दिशाएं ज्ञानवर्धक दिशाएं कहलाती हैं, अतः अध्ययन उत्तर-पूर्व या ईशान दिशा की ओर मुंह करके करना चाहिए। यदि किसी कारणवश अध्ययन कक्ष पश्चिम दिशा में भी हो, तो पढ़ते समय मुंह उपर्युक्त दिशाओं की ओर ही होना चाहिए। विज्ञान के अनुसार इंफ्रारेड किरणें उत्तरी पूर्वी कोण अर्थात ईशान कोण से ही मिलती हैं, ये किरणें मानव शरीर तथा वातावरण के लिए अत्यंत लाभदायक हैं। ये शरीर की कोशिकाओं को शक्ति और मन को एकाग्रता प्रदान करती हैं. अध्ययन कक्ष ऐसा हो, जिसमें अध्ययन की हर सुविधा उपलब्ध हो। उसमें किताबों की रैक हो और मेज ऐसी हो जिस पर आवश्यक लेखन सामग्री के अलावा लिखने की पर्याप्त जगह हो। दीवारों पर महापुरुषों के चित्र और उनके वचन आदि भी लगा सकते हैं। साथ ही यदि मेज पर फूलों का गमला रखें, तो वातावरण और भी स्वाभाविक होगा। इसके अतिरिक्त अध्ययन कक्ष में एक बुक शेल्फ के अलावा आवश्यक फाइल, रजिस्टर आदि रखने की पूरी जगह हो। पेन, पेंसिल, फ्लापी आदि रखने के लिए दीवारों पर लगाए जाने वाले शेल्फ का प्रयोग किया जा सकता है. अध्ययन कक्ष की देखभाल भी समय-समय पर करते रहनी चाहिए। किताबों को व्यवस्थित करना और उन्हें यथास्थान रखना भी किसी कला से कम नहीं हैं। किताबें और अन्य वस्तुएं यदि तरतीब से रखी होंगी, तो उन्हें खोजने में समय नष्ट नहीं होगा। अध्ययन कक्ष में डस्टबिन का होना आवश्यक है जिसमें कागज के टुकड़े, पुरानी रिफिल गैर जरूरी सामान आदि डाले जा सकें. पुस्तकें सदैव नैर्ऋत्य में रखें। नैर्ऋत्य में स्थान का अभाव हो, तो दक्षिण या पश्चिम दिशा में भी रख सकते हैं. अध्ययन कक्ष में मेज के सामने या पास मंे आईना न रखें। मेज बीम के नीचे नहीं होनी चाहिए। मेज सदा पूर्व दिशा की तरफ रखें, इससे पढ़ाई में मन लगेगा और एकाग्रता में वृद्धि होगी। पूर्व दिशा की ओर मुंह करके पढ़ना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता हैं. अध्ययन कक्ष में मां सरस्वती की तस्वीर लगाएं एवं आराध्य देव का फोटो ईशान (उत्तरी-पूर्वी ) कोण में लगाएं. कंप्यूटर आग्नेय (दक्षिण-पूर्वी) कोण में रखें। यदि अध्ययन कक्ष बड़ा हो, तो लाइब्रेरी भी उसी में बना सकते हैं। अध्ययन बड़ा होने पर कंप्यूटर की व्यवस्था वहीं करना उचित होगा. दीवारों का रंग हल्का नीला, भूरा, हल्का हरा या गुलाबी होना चाहिए। इससे स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है. टेलीफोन वायव्य या अग्निकोण में रखें. सरस्वती बीसा यंत्र एवं हनुमान कवच का नित्य पाठ भी विद्या अर्जन के लिए लाभकारी है. जो विद्यार्थी पढ़ाई में कमजोर हों वे एकाग्रता के लिए स्टडी टेबल पर एजूकेशन टावर का इस्तेमाल करें। साथ ही उत्तर पश्चिम दिशा में ग्लोब रखें तथा उसे दिन में तीन बार अवश्य घुमाएं। माता-पिता अथवा अभिभावक चाहें तो कार्तिकेय का स्वरूप छः मुखी रुद्राक्ष भी विद्यार्थी को धारण करवा सकते हैं. - बच्चों को पूजा अर्चना आदि के क्रिया कलापों में लगाएं। धार्मिक चित्रों के उपयोग से बच्चों में सामाजिक, मनोवैज्ञानिक एवं धार्मिक विचार उत्पन्न होंगे। एवं मन को शुद्ध रखने में मदद मिलेगी। अध्ययन कक्ष में, या उससे लगा हुआ शौचालय हो, तो उसकी साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें.. ___________________________________ आज का राशिफल... मेष-(चू चे चो ला ली लू ले लो अ). मेष राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) सेहत को देखभाल की ख़ास ज़रूरत है। बोलते समय और वित्तीय लेन-देन करते समय सावधानी बरतने की ज़रूरत है। पढ़ाई की क़ीमत पर घर से ज़्यादा देर तक बाहर रहना आपको माता-पिता के ग़ुस्से का शिकार बना सकता है। करिअर के लिए योजना बनाना उतना ही आवश्यक है, जितना कि खेलना-कूदना। इसलिए माता-पिता को ख़ुश करने के लिए दोनों में संतुलन बनाना ज़रूरी है। अनपेक्षित रोमांटिक आकर्षण की संभावना है। लम्बे वक़्त से लटकी हुई दिक़्क़तों को जल्द ही हल करने की ज़रूरत है और आप जानते हैं कि आपको कहीं-न-कहीं से शुरुआत करनी होगी- इसलिए सकारात्मक सोचें और आज से ही प्रयास शुरू करें। आप और आपका जीवनसाथी मिलकर वैवाहिक जीवन की बेहतरीन यादें रचेंगे। अपने पिता के साथ आज दोस्त की तरह आप बात कर सकते हैं। आपकी बातों को सुनकर उनको खुशी होगी। वृषभ-(इ उ एओ वा वी वू वे वो) वृष राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) अपनी ख़ुशियों को दूसरों के साथ साझा करना आपकी सेहत को भी बेहतर करेगा। लेकिन ख़याल रखें कि इसे नज़रअंदाज़ करना बाद में भारी पड़ सकता है। बीते दिनों में जितना धन आपने आज को बेहतर बनाने के लिए इनवेस्ट किया था उसका फायदा आज आपको फायदा मिल सकता है। बढ़िया दिन है जब आप सबके ध्यान को अपनी तरफ़ खींचेंगे- आपके सामने चुनने के लिए कई चीज़ें होंगी और आपके सामने समस्या यह होगी कि किसे पहले चुना जाए। अपने साथी के साथ बाहर जाते वक़्त ठीक तरह से व्यवहार करें। इस राशि के उम्रदराज जातक आज के दिन अपने पूराने मित्रों से खाली समय में मिलने जा सकते हैं। रिश्तेदारों के चलते जीवनसाथी से वाद-विवाद हो सकता है, लेकि आख़िर में सब ठिक हो जाएगा। किसी ऐसे शख़्स का फ़ोन आ सकता है जिससे आप बहुत लंबे समय से बात करना चाहते थे। बहुत-सी पुरानी यादें ताज़ा हो जाएंगी और आप समय में पीछे लौट जाएंगे। मिथुन- (क की कू घ ङ छ के को ह) मिथुन राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) आपका व्यक्तित्व आज इत्र की तरह महकेगा और सबको आकर्षित करेगा। आपके घर से जुड़ा निवेश फ़ायदेमंद रहेगा। घर के किसी सदस्य के व्यवहार की वजह से आप परेशान रह सकते हैं। आपको उनसे बात करने की जरुरत है। आपका प्रिय आज कुछ खीझा हुआ महसूस कर सकता है, जो आपके दिमाग़ पर दबाव और बढ़ा देगा। आप अपनी छुपी ख़ासियत का इस्तेमाल कर दिन को बेहतरीन बनाएंगे। संभव है कि शुरुआत में जीवनसाथी की ओर से आपको कम ध्यान मिले; लेकिन दिन के अन्त तक आपको महसूस होगा कि वह आपके लिए ही कुछ-कुछ करने में व्यस्त था। कारोबारी में मुनाफ इस राशि के कारोबारियों के लिए आज सुनहरे सपने के सच होने जैसा होगा। कर्क- (ही हू हे हो डा डी डू डे डो) कर्क राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020)<br/><br/>आज आपका स्वास्थ्य दुरुस्त रहने की पूरी उम्मीद है। अपने अच्छे स्वास्थ्य के चलते आज आप अपने दोस्तों के साथ खेलने का प्लान बना सकते हैं। आपको मेरी सलाह है कि शराब सिगरेट जैसी चीजों पर पैसा खर्च न करें, ऐसा करना आपके स्वास्थ्य को तो खराब करता ही है आपकी आर्थिक स्थिति भी इससे बिगड़ती है। अपने फ़ैसले बच्चों पर थोपना उन्हें नाराज़ कर सकता है। बेहतर होगा कि आप उन्हें अपना पक्ष समझाएँ, ताकि वे उसके पीछे की वजह को समझकर आपकी बात को आसानी से स्वीकार कर सकें। आज आपका प्रेमी अपने मनोभावों को आपके सामने खुलकर नहीं रख पाएगा जिसकी वजह से आपको खिन्नता होगी। प्रेमी को वक्त देने की कोशिश करेंगे लेकिन किसी जरुरी काम के आ जाने के कारण आप उनको समय दे पाने में कामयाब नहीं हो पाएंगे। पड़ोसियों का दख़ल शादीशुदा ज़िन्दगी में दिक़्क़त पैदा करने की कोशिश कर सकता है, लेकिन आप व आपके जीवनसाथी के बीच का बंधन बहुत मज़बूत है और इसे तोड़ना आसान नहीं है। आज आप अपने देश से जुड़ी कुछ जानकारियों को जानकर चकित हो सकते हैं। सिंह- (मा मी मू मे मो टा टी टू टे) सिंह राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) गर्भवती महिलाओं को चलते-फिरते समय ख़ास ख़याल रखने की ज़रूरत है। अगर संभव हो तो ऐसे लोगों से दूर रहें जो धूम्रपान करते हैं, क्योंकि इससे पैदा होने वाले शिशु को नुक़सान हो सकता है। व्यापारियों को आज व्यापार में घाटा हो सकता है और अपने व्यापार को बेहतर बनाने के लिए आपको पैसा खर्च करना पड़ सकता है। रिश्तेदारों और दोस्तों से अचानक उपहार मिलेगा। आपका बेपनाह प्यार आपके प्रिय के लिए बेहद क़ीमती है। अपने ज़बरदस्त आत्मविश्वास का फ़ायदा उठाएँ, बाहर निकलें और कुछ नए सम्पर्क व दोस्त बनाएँ। मुमकिन है कि आपके माता-पिता आपके जीवनसाथी को कुछ शानदार आशीर्वाद दें, जिसके चलते आपके वैवाहिक जीवन में और निखार आएगा। आज आपका व्यक्तित्व लोगों को निराश कर सकता है इसलिए आपको अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक बदलाव करने की जरुरत है। कन्या- (टो प पी पू ष ण ठ पे पो) कन्या राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) सिर्फ़ आप जानते हैं कि आपके लिए क्या बेहतर है, इसलिए मज़बूत और स्पष्टवादी बनें तथा फ़ैसले तुरन्त लें और उनके परिणामों का सामना करने के लिए तैयार रहें। रियल एस्टेट सम्बन्धी निवेश आपको अच्छा-ख़ासा मुनाफ़ा देंगे। बढ़िया दिन है जब आप सबके ध्यान को अपनी तरफ़ खींचेंगे- आपके सामने चुनने के लिए कई चीज़ें होंगी और आपके सामने समस्या यह होगी कि किसे पहले चुना जाए। अपने दिल की बात ज़ाहिर करके आप ख़ुद को काफ़ी हल्का और रोमांचित महसूस करेंगे। उन लोगों से मेलजोल बढ़ाने से बचें जिनके साथ आपका वक्त खराब होता है। रोमानी गाने, महकती मोमबत्तियाँ, लज़ीज़ खाना और पेय - यह दिन आपके और आपके जीवनसाथी के लिए ही बना है। आपकी ऊर्जा आज बेवजह के कामों में जाया हो सकती है। जीवन को सही से जीना चाहते हैं तो टाइम टेबल के हिसाब से चलना सीखें। तुला- (रा री रू रे रो ता ती तू ते) तुला राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020)<br/><br/>अपनी सेहत का ख़याल रखें। बाकी दिनों के मुकाबले आज का दिन आर्थिक दृष्टि से अच्छा रहेगा और आपको पर्याप्त धन की प्राप्ति होगी। किसी ऐतिहासिक इमारत के आस-पास सैर-सपाटे की योजना बनाएँ। इससे बच्चों और परिवार के सदस्यों को ज़रूरी ताज़गी मिलेगी। आज प्यार के मामले में सामाजिक बंधन तोड़ने से बचें। रात के समय आज आप घर के लोगों से दूर होकर अपने घर की छत या किसी पार्क में टहलना पसंद करेंगे। ख़ुद तनावग्रस्त होने की झल्लाहट आप बेवजह अपने जीवनसाथी पर निकाल सकते हैं। दिन अच्छा हैै आज आपका प्रिय आपकी किसी बात पर खिलखिलाकर आपको हंसायेगा.. वृश्चिक- (तो ना नी नू ने नो या यी यू) वृश्चिक राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) जैसे ही आप हालात पर पकड़ बनाने की कोशिश शुरू करेंगे, आपकी घबराहट ग़ायब हो जाएगी। जल्दी ही आप पाएंगे कि यह परेशानी साबुन के उस बुलबुले की तरह है, जो छूते ही फूट जाता है। किसी बड़े समूह में भागीदारी आपके लिए दिलचस्प साबित होगी, हालाँकि आपके ख़र्चे बढ़ सकते हैं। कुल मिलाकर फ़ायदेमंद दिन है। लेकिन आप समझते थे जिसपर आप आँखें बंद करके यक़ीन कर सकते हैं, वह आपके भरोसे को तोड़ सकता है। प्यार बहार की तरह है; फूलों, रोशनी और तितलियों से भरा हुआ। आज आपका रोमानी पहलू उभरकर आएगा। जो लोग बीते कुछ दिनों से काफी व्यस्त थे उन्हें आज अपने लिए फुर्सत के पल मिल सकते हैं। वैवाहिक जीवन में गर्मजोशी और गर्म खाने की बहुत एहमियत है; आप आज दोनों का ही लुत्फ़ उठा सकते हैं। आपका संंगी आज आपके लिए घर पर कोई सरप्राइज डिश बना सकता है जिससे आपके दिन की थकान मिट जाएगी। धनु- (ये यो भ भी भू धा फा ढ़ा भे) धनु राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) आपको जल्द-से-जल्द अपने जज़्बात को क़ाबू में करने और डर से आज़ादी पाने की ज़रूरत है, क्योंकि ये आपकी सेहत पर ख़राब असर डाल सकते हैं और अच्छी सेहत का मज़ा लेने से आपको वंचित कर सकते हैं। लम्बे अरसे को मद्देनज़र रखते हुए निवेश करें। कुल मिलाकर फ़ायदेमंद दिन है। लेकिन आप समझते थे जिसपर आप आँखें बंद करके यक़ीन कर सकते हैं, वह आपके भरोसे को तोड़ सकता है। आज आप अपने दोस्त की महक उसकी अनुपस्थिति में महसूस करेंगे। मौज-मस्ती के लिए घूमना संतोषजनक रहेगा। घरेलू मोर्चे पर बढ़िया खाने और गहरी नीन्द का पूरा लुत्फ़ आप ले पाएंगे। एक ही काम रोज करना हर आदमी को थका देता है, आज आप भी ऐसी परेशानी से दो-चार हो सकते हैं. मकर- (भो ज जी खी खू खे खो गा गी) मकर राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) आज आप ऊर्जा से लबरेज़ होंगे- आप जो भी करेंगे उसे आप उससे आधे वक़्त में ही कर देंगे, जितना वक़्त आप अक्सर लेते हैं। आपके पिता की कोई सलाह आज कार्यक्षेत्र में आपको धन लाभ करा सकती है. प्रभावशाली और महत्वपूर्ण लोगों से परिचय बढ़ाने के लिए सामाजिक गतिविधियाँ अच्छा मौक़ा साबित होंगी। प्यार के नज़रिए से यह दिन बेहद ख़ास रहेगा। दूसरों को यह बताने के लिए ज़्यादा उतावले न हों कि आज आप कैसा महसूस कर रहे हैं। आपको अपने जीवनसाथी की ओर से ख़ास तोहफ़ा मिल सकता है। आपकी गलत आदतें आज आप पर भारी पड़ सकती हैं। आज के दिन थोड़ा संभलकर रहें। कुंभ- (गू गे गो सा सी सू से सो द) कुम्भ राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) दौड़-भाग भरा दिन आपको तुनकमिज़ाज बना सकता है। जो लोग शादीशुदा हैं उन्हें आज अपने बच्चों की पढ़ाई पर अच्छा खासा धन खर्च करना पड़ सकता है। आपका मज़ाकिया स्वभाव आपके चारों ओर के वातावरण को ख़ुशनुमा बना देगा। कोई पौधा लगाएँ। घर के छोटे सदस्यों के साथ गप्पें लगाकर आज आप अपने खाली समय का अच्छा इस्तेमाल कर सकते हैं। ज़रूरत के वक़्त आपका जीवनसाथी आपके परिवार की अपेक्षा अपने परिवार को ज़्यादा तरजीह देता हुआ नज़र आ सकता है। आज किसी ज्ञानी पुरुष से मिलकर आपको अपनी कई समस्याओं का हल मिल जाएगा। मीन- (दी दू थ झ ञ दे दो च ची) मीन राशि का कल का राशिफल (28 मार्च, 2020) अपने बच्चे का प्रदर्शन आपको बहुत ख़ुशी देगा। आज के दिन आपको धन लाभ होने की पूरी संभावना है लेकिन इसके साथ ही आपको दान-पुण्य भी करना चाहिए क्योंकि इससे आपको मानसिक शांति मिलेगी। परिवार के सदस्यों का आपके जीवन में विशेष महत्व होगा। अपने प्रिय की ग़ैरमौजूदगी में आप ख़ुद को बिल्कुल खाली महसूस करेंगे। जिंदगी में चल रही आपाधापी के बीच आज आपको अपने लिए पर्याप्त समय मिलेगा और और आप अपने पसंदीदा कामों को कर पाने में कामयाब हो पाएंगे। जीवनसाथी के साथ वाद-विवाद होने की काफ़ी संभावना है। अपने साथी के लिए कोई बेहतरीन पकवान बनाना आपके फीके पड़े रिश्तों में गर्मजोशी भर सकता है। __________________________________ पं. रामपाल भट्ट श्री ज्योतिष सेवाश्रम भीलवाड़ा (राजस्थान) __________________________________

+5 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 10 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 47 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 28/03/2020,शनिवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि ----------चतुर्थी 24:17:07 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ----------भरणी 12:50:51 योग ---------विश्कुम्भ 17:51:33 करण -------वाणिज 11:16:40 करण ------विष्टि भद्र 24:17:07 वार -------------------------शनिवार माह ------------------------------चैत्र चन्द्र राशि --------मेष 19:29:10 चन्द्र राशि ---------------------वृषभ सूर्य राशि ----------------------मीन रितु ----------------------------वसंत आयन --------------------उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक)------2076 शाका संवत ----------------1942 वृन्दावन सूर्योदय -----------------06:15:07 सूर्यास्त -----------------18:33:28 दिन काल --------------12:18:20 रात्री काल -------------11:40:31 चंद्रोदय -----------------08:34:01 चंद्रास्त -----------------22:03:10 लग्न ----मीन 13°40' , 343°40' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र -------------------भरणी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* लो ----भरणी 12:50:51 अ ----कृत्तिका 19:29:10 ई ----कृत्तिका 26:06:17 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मीन 13°22 ' उ o भा o, 4 ञ चन्द्र =मेष 23°23 ' भरनी ' 4 लो बुध = कुम्भ 16°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 29°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 03°30' उ o षा o ' 3 जा गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°32 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 32 ' मूल , 3 भा *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 09:20 - 10:52 अशुभ यम घंटा 13:57 - 15:29 अशुभ गुली काल 06:15 - 07:47 अशुभ अभिजित 11:59 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 07:54 - 08:43 अशुभ 💮चोघडिया, दिन काल 06:15 - 07:47 अशुभ शुभ 07:47 - 09:20 शुभ रोग 09:20 - 10:52 अशुभ उद्वेग 10:52 - 12:24 अशुभ चर 12:24 - 13:57 शुभ लाभ 13:57 - 15:29 शुभ अमृत 15:29 - 17:01 शुभ काल 17:01 - 18:33 अशुभ 🚩चोघडिया, रात लाभ 18:33 - 20:01 शुभ उद्वेग 20:01 - 21:29 अशुभ शुभ 21:29 - 22:56 शुभ अमृत 22:56 - 24:24* शुभ चर 24:24* - 25:51* शुभ रोग 25:51* - 27:19* अशुभ काल 27:19* - 28:46* अशुभ लाभ 28:46* - 30:14* शुभ 💮होरा, दिन शनि 06:15 - 07:17 बृहस्पति 07:17 - 08:18 मंगल 08:18 - 09:20 सूर्य 09:20 - 10:21 शुक्र 10:21 - 11:23 बुध 11:23 - 12:24 चन्द्र 12:24 - 13:26 शनि 13:26 - 14:27 बृहस्पति 14:27 - 15:29 मंगल 15:29 - 16:30 सूर्य 16:30 - 17:32 शुक्र 17:32 - 18:33 🚩होरा, रात बुध 18:33 - 19:32 चन्द्र 19:32 - 20:30 शनि 20:30 - 21:29 बृहस्पति 21:29 - 22:27 मंगल 22:27 - 23:25 सूर्य 23:25 - 24:24 शुक्र 24:24* - 25:22 बुध 25:22* - 26:21 चन्द्र 26:21* - 27:19 शनि 27:19* - 28:17 बृहस्पति 28:17* - 29:16 मंगल 29:16* - 30:14 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 7 + 1 = 12 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 11:14 से रात्रि 24:17 तक स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * नवरात्रि चतुर्थ दिवस कूष्मांडा पूजन *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* राजा राष्ट्रकृतं पापं राज्ञः पापं पुरोहितः । भर्ता च स्त्रीकृतं पापं शिष्यपापं गुरुस्तथा ।। ।।चा o नी o।। राजा को उसके नागरिको के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: मोक्षसन्यासयोग अo-18 ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेऽजुर्न तिष्ठति।, भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया॥, हे अर्जुन! शरीर रूप यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अन्तर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है॥,61॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। जुए-सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यवसाय मनोनुकूल रहेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। किसी अपने का व्यवहार समझ नहीं आएगा। सुख के साधनों पर खर्च होगा। किसी बड़ी समस्या से निजात मिलेगी। 🐂वृष फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। कर्ज लेना पड़ सकता है। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से मन खिन्न रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। शत्रुभय रहेगा। परिवार की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निरंतरता रहेगी। अपरिचित व्यक्ति से सावधान रहें। 👫मिथुन संतान पक्ष की चिंता रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। यात्रा मनोनुकूल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। आय व रोजगार में वृद्धि होगी। मित्र व संबंधी सहायता को आगे आएंगे। मेहमानों पर व्यय होगा। जल्दबाजी न करें। 🦀कर्क घर-बाहर तनाव रहेगा। लोगों से प्रतिकूलता रहेगी। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकार वृद्धि हो सकती है। मनोनुकूल तबादला हो सकता है। आय में निरंतरता रहेगी। अपेक्षित कार्य पूरे होंगे। 🐅सिंह तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी। किसी मार्गदर्शक का सहयोग मिलेगा। लोगों की बातों में न आएं। कोर्ट व कचहरी में दबदबा बना रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यवसाय में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। थकान महसूस होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🙎कन्या चोट व दुर्घटना से हानि संभव है। पुराना रोग परेशान कर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अज्ञात भय रहेगा। नया कार्य प्रारंभ करने की योजना टालें। यात्रा में जल्दबाजी न करें। घर-बाहर अशांति रहेगी। धैर्य रखें। आय बनी रहेगी। ⚖तुला भागदौड़ अधिक रहेगी। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। शत्रुओं का पराभव रहेगा। अधिकार प्राप्ति के योग हैं। परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। आंखों में पीड़ा हो सकती है। 🦂वृश्चिक कष्ट, भय या तनाव का वातावरण बन सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। मकान, दुकान व जमीन खरीदने की योजना बनेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। धनहानि हो सकती है। आय में वृद्धि होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। 🏹धनु विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता प्राप्त होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। शुभ समय। 🐊मकर परिवार के साथ मनोरंजक यात्रा हो सकती है। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। क्रोध व आलस्य पर नियंत्रण रखें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🍯कुंभ मेहनत की अधिकता से स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। बुरी खबर मिल सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से तनाव रहेगा। विवेक व धैर्य का प्रयोग करें। लाभ होगा। जोखिम व जमानत के कार्य बिलकुल न करें। 🐟मीन घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। पारिवारिक सदस्यों व मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। कोई बड़ी समस्या दूर हो सकती है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। महत्वाकांक्षाएं बढ़ेंगी। प्रयास अधिक करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 59 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻शनिवार, २८ मार्च २०२०🌻 सूर्योदय: 🌄 ०६:२० सूर्यास्त: 🌅 ०६:३५ चन्द्रोदय: 🌝 ०८:२८ चन्द्रास्त: 🌜२२:०५ अयन 🌕 उत्तरायणे (दक्षिणगोलीय) ऋतु: 🌳 बसंत शक सम्वत: 👉 १९४२ (शर्वरी) विक्रम सम्वत: 👉 २०७७ (प्रमादी) मास 👉 चैत्र पक्ष 👉 शुक्ल तिथि: 👉 चतुर्थी (२४:१७ तक) नक्षत्र: 👉 भरणी (१२:५२ तक) योग: 👉 विष्कम्भ (१७:५४ तक) प्रथम करण: 👉 वणिज (११:१७ तक) द्वितीय करण: 👉 विष्टि (२४:१७ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मीन चंद्र 🌟 वृष (१९:२९ से) मंगल 🌟 मकर (उदित, पूर्व) बुध 🌟 कुंम्भ (अस्त, पूर्व) गुरु 🌟 धनु (अस्त, पश्चिम, मार्गी) शुक्र 🌟 मेष (उदित, पश्चिम) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 मिथुन केतु 🌟 धनु 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त: 👉 ११:५७ से १२:४६ अमृत काल: 👉 ०७:३२ से ०९:१९ होमाहुति: 👉 बुध अग्निवास: 👉 पृथ्वी (२४:१७ तक) भद्रावास: 👉 स्वर्गलोक ११:१७ से २४:१७ दिशा शूल: 👉 पूर्व नक्षत्र शूल: 👉 ❌❌❌ चन्द्र वास: 👉 पूर्व (दक्षिण १९:३१ से) दुर्मुहूर्त: 👉 ०६:१५ से ०७:०४ राहुकाल: 👉 ०९:१८ से १०:५० राहु काल वास: 👉 पूर्व यमगण्ड: 👉 १३:५४ से १५:२६ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - काल २ - शुभ ३ - रोग ४ - उद्वेग ५ - चर ६ - लाभ ७ - अमृत ८ - काल ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - लाभ २ - उद्वेग ३ - शुभ ४ - अमृत ५ - चर ६ - रोग ७ - काल ८ - लाभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 दक्षिण-पूर्व (वाय विन्डिंग अथवा तिल मिश्रित चावल का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ श्रीगणेश दमनक चतुर्थी व्रत, नवरात्रि के चतुर्थ दिवस आदिशक्ति माँ दुर्गा के चतुर्थ कुष्मांड स्वरूप की उपासना व्रत आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज १२:५२ तक जन्मे शिशुओ का नाम भरणी नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (लो) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओं का नाम कृतिका नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय चरण अनुसार क्रमशः (अ, ई, उ) नामाक्षर से रखना शास्त्र सम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त: ०६:१५ - ०७:०० मीन ०७:०० - ०८:३४ मेष ०८:३४ - १०:२८ वृषभ १०:२८ - १२:४३ मिथुन १२:४३ - १५:०५ कर्क १५:०५ - १७:२४ सिंह १७:२४ - १९:४२ कन्या १९:४२ - २२:०२ तुला २२:०२ - २४:२२ वृश्चिक २४:२२ - २६:२५ धनु २६:२५ - २८:०७ मकर २८:०७ - २९:३२ कुम्भ २९:३२ - ३०:१३ मीन 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त: ०६:१५ - ०७:०० शुभ मुहूर्त ०७:०० - ०८:३४ शुभ मुहूर्त ०८:३४ - १०:२८ चोर पञ्चक १०:२८ - १२:४३ शुभ मुहूर्त १२:४३ - १२:५२ रोग पञ्चक १२:५२ - १५:०५ शुभ मुहूर्त १५:०५ - १७:२४ मृत्यु पञ्चक १७:२४ - १९:४२ अग्नि पञ्चक १९:४२ - २२:०२ शुभ मुहूर्त २२:०२ - २४:१७ रज पञ्चक २४:१७ - २४:२२ शुभ मुहूर्त २४:२२ - २६:२५ चोर पञ्चक २६:२५ - २८:०७ शुभ मुहूर्त २८:०७ - २९:३२ रोग पञ्चक २९:३२ - ३०:१३ शुभ मुहूर्त 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन आपके लिए शुभ रहेगा। आज कार्यो को काफी सोच विचारने के बाद ही करेंगे। कार्य क्षेत्र के निर्णय लेने में थोड़ी परेशानी भी रह सकती है फिर भी सोची गयी योजनाएं अवश्य फलीभूत होंगी। धन लाभ थोड़े इन्तजार के बाद होगा। शारीरिक स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। घर में पूजा पाठ का आयोजन करवा सकते है। नए कार्यो की शुरुआत फिलहाल टालें। सुख के साधनों में वृद्धि होगी। विरोधी परास्त होंगे। परिवार में शांति रहेगी। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन सभी कार्यो में आशा के विपरीत फल रहेगा। विशेष कर धन सम्बंधित कार्य अनुभवी व्यक्ति की सलाह के बाद ही करें। कार्य क्षेत्र पर गलत निर्णय लेने से धन के साथ मान हानि भी हो सकती है। पारिवारिक वातावरण भी कुछ ऐसा ही रहेगा। कार्य क्षेत्र की खींज घर में निकालने से वातावरण अशान्त बनेगा। पत्नी अथवा संतान से तकरार हो सकती है। बड़े बुजुर्ग अथवा अधिकारी भी आपसे नाराज रहेंगे। अनैतिक साधनो से धन कमाने की योजना में लाभ हो होगा परन्तु जोखिम भी अधिक रहेगा। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज आप आस-पास बन रहे वातावरण से क्षुब्ध होकर एकांतवास करना पसंद करेंगे। परन्तु सांसारिक मोह अधिक रहने के कारण ज्यादा समय एक निर्णय पर नहीं टिक पाएंगे। समाज एवं परिवार में एक समय अपने आप को अलग थलग पाएंगे। क्रोध भी अधिक रहेगा फिर भी थोड़ा संयम विवेक रहने से किसी को परेशान नहीं करेंगे। संतान आपकी भावनाओं की कद्र करेगी परन्तु अहम् के कारण किसी का सहयोग नहीं लेंगे। आर्थिक कारणों से महत्त्वपूर्ण यात्रा अथवा अन्य व्यवहार प्रभावित रहेंगे। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज का दिन आप आनंद से बितायेंगे। किसी मनोकामना अथवा बनाई योजना में सफलता मिलने की ख़ुशी दिन भर रहेगी। सेहत थोड़ी असामान्य रह सकती है स्वसन क्रिया सम्बंधित परेशानी बनेगी। कार्य क्षेत्र से आशा से अधिक लाभ कमा सकेंगे। यात्रा पर जाने का विचार होगा जिसमे थकान भी रहेगी परन्तु उत्साह के आगे अनुभव नहीं होगी। आस पड़ोसियों से ईर्ष्या युक्त सम्बन्ध रहेंगे। आप किसी से भी मदद लेने में सफल रहेंगे परन्तु किसी की मदद करने में आनाकानी कर सकते है। परिजन आपकी बात मानेंगे। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज के दिन आप में परोपकार की भावना अधिक रहेगी। अपने कार्यो को छोड़ दुसरो के कार्य करने के कारण परेशानी होगी परन्तु मानसिक संतोष भी रहेगा। दो पक्षो के विवाद के बीच व्यर्थ में फंस सकते है किसी की मध्यस्थता आज भूल कर भी ना करें। परिश्रम वाले कार्यो को करने में शारीरिक रूप से अक्षम रहेंगे। अर्थ एवं परिवारिक कारणों से चिंता रहेगी। किसी से मदद लेना चाहेंगे उसमे भी निराशा ही मिलेगी। लोग आपकी मदद करने की जगह आपकी बातों को हास्य में लेंगे। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज के दिन कार्यो में निरंतर मिल रही असफलता के कारण नकारात्मक विचार मन को परेशान करेंगे। शारीरिक रूप से भी शिथिल रहेंगे। व्यवसाय सम्बंधित आयोजन अधूरे रहने से कार्य क्षेत्र पर आपकी आलोचना भी हो सकती है। व्यवहारिकता की कमी के कारण लाभदायक सम्बन्ध टूट सकते है। नौकरी पेशा जातक काम से मन चुरायेंगे इसलिए अधिकारियो का कोप भाजन बनना पडेगा। संध्या के समय किसी स्त्री के सहयोग से धन लाभ की सम्भवना है। परिजनों से सम्बन्ध ठीक नहीं रहेंगे। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आप स्वार्थ सिद्धि के कारण आपसी मनमुटाव भुलाकर नए सिरे से कार्य करेंगे। परन्तु अधिकारियो से कार्य निकालना आसान नहीं रहेगा। कार्य क्षेत्र अथवा घर पर किसी अन्य व्यक्ति के कारण हंगामा खड़ा हो सकता है फिर भी पारिवारिक सदस्यों के एकजुट होने से समस्या का समाधान निकाल लेंगे। आर्थिक दृष्टिकोण से दिन परधानी वाला रहेगा परिश्रम के बाद भी निर्वाह योग्य आय नही बना पाएंगे। विरोधी चाह कर भी आपका बुरा नहीं कर पाएंगे। लंबी दूरी की यात्रा की योजना बनेगी भविष्य की योजनाओं पर खर्च होगा। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन धन लाभ के अवसर मिलेंगे। कार्यो में गति आने एवं घर एवं कार्य क्षेत्र पर अव्यवस्था में सुधार होगा। भविष्य के प्रति निश्चिन्त रहेंगे। पारिवारिक सदस्य आपको पूरा सहयोग करेंगे। बीच-बीच में किसी पुराने विवाद के कारण अशांति बनेगी फिर भी स्थिति नियंत्रण में रहेगी। व्यवसाय में अनिश्चितता रहेगी लेकिन किसी महत्त्वपूर्ण कार्य के पूर्ण होने से धन की आमद सुनिश्चित होगी। बड़े बुजुर्ग आपकी प्रगति से प्रसन्न रहेंगे। आज अतिआत्मविश्वास की भावना भी रहेगी जिससे सम्मान हानि भी हो सकती है। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज के दिन आप तन मन से एकदम चुस्त रहेंगे। मानसिक प्रसन्नता रहने से कार्यो को बेहतर ढंग से कर पाएंगे अपने आस-पास का वातावरण विनोदी स्वभाव से हास्यमय बनाएंगे लेकिन ध्यान रहे आपकी हास्य भरी बातें किसी के दिल को चुभ भी सकती है। कार्य क्षेत्र से आशा के अनुसार लाभ नही होने पर भी परेशांन नहीं होंगे। अधिकारी वर्ग आज आपको कोई महत्त्वपूर्ण कार्य सौप सकते है जिसपर आप खरे उतरेंगे। परिवार में भी आप सक्रीय रहेंगे परिजनों की।परेशानियों को गंभीर लेकर तुरंत समाधान करेंगे। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन की शुरुआत में किसी से विवाद हो सकता है जिस के कारण मध्यान तक मन अशांत रहेगा। कार्य व्यवसाय में भी दिन उदासीन रहेगा परिश्रम का उचित फल नहीं मिलेगा। हाथ आये अनुबंध भी निरस्त हो सकते है। नौकरी पेशा जातक कार्य ना होने के कारण उच्चाटन अनुभव करेंगे। परिवार में किसी के स्वास्थ्य खराब होने अथवा महत्त्वपूर्ण कार्य निकलने से दिनचर्या में परिवर्तन करना पड़ेगा। आकस्मिक खर्च भी परेशान करेंगे। संतान आपकी अवहेलना करेगी। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज आपका ध्यान कार्य क्षेत्र पर कम ही रहेगा फलस्वरूप लाभ की आशा भी छोड़नी पड़ेगी। परन्तु फिर भी आज आकस्मिक रूप से धन की आमद होने से आप स्वयं भी आश्चर्य चकित रह जाएगे। भोग विलास की प्रवृति में अधिक समय देंगे। सामाजिक कार्यो की अनदेखी करने से व्यवहारों में कमी आएगी। गृहस्थ सुख उत्तम बना रहेगा। रिश्तेदारी में उपहारों का आदान प्रदान होगा। अविवाहित अथवा बेरोजगारों के लिए परिस्थिति सहायक बनेगी। यात्रा में चोटादि का भय है सतर्क रहें। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज दिन का पूर्वार्द्ध पहले की भांति शांति से व्यतीत करेंगे परन्तु इसके बाद का समय थोड़ा कष्टदायक रहने वाला है सभी महत्त्वपूर्ण कार्य आलस्य छोड़ जल्दी निपटाने का प्रयास करें। इस अवधि में धन लाभ भी होगा। मध्यान के बाद स्थिति बदलने से आकस्मिक खर्च बढ़ेंगे संकलित पूँजी खर्च हो सकती है। व्यापार संबंधित चिंताएं बनेंगी परिवार में किसी महिला के रूठने पर खुशामद करनी पड़ सकती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

+18 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 39 शेयर

🚩 *श्री गणेशाय नम:🚩* *🕉🌷गीताज्ञान🌷🕉* *तद्विद्धि प्रणिपातेन* *परिप्रश्नेन सेवया ।* *उपदेक्ष्यन्ति ते ज्ञानं* *ज्ञानिनस्तत्वदर्शिनः ॥ (३४)* *✍भावार्थ : यज्ञों के उस ज्ञान को तू गुरू के पास जाकर समझने का प्रयत्न कर, उनके प्रति पूर्ण-रूप से शरणागत होकर सेवा करके विनीत-भाव से जिज्ञासा करने पर वे तत्वदर्शी ब्रह्म-ज्ञानी महात्मा तुझे उस तत्व-ज्ञान का उपदेश करेंगे। (३४)* 📜 *दैनिक पंचांग* 📜 ☀ *28 - Mar - 2020* ☀ *पंचांग-श्रीमाधोपुर* 🌷 तिथि चतुर्थी 24:19:31 🌷 नक्षत्र भरणी 12:52:52 🌷 करण : वणिज 11:19:10 विष्टि 24:19:31 🌷 पक्ष शुक्ल 🌷 योग विश्कुम्भ 17:53:08 🌷 वार शनिवार ☀ सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ 🌷 सूर्योदय 06:22:16 🌷 चन्द्रोदय 08:43:00 🌷 चन्द्र राशि मेष - 19:31:08 तक 🌷 सूर्यास्त 18:43:17 🌷 चन्द्रास्त 22:11:00 🌷 ऋतु वसंत ☀ हिन्दू मास एवं वर्ष 🌷 शक सम्वत 1942 शार्वरी 🌷 कलि सम्वत 5121 🌷 दिन काल 12:21:01 🌷 विक्रम सम्वत 2077 🌷 मास अमांत चैत्र 🌷 मास पूर्णिमांत चैत्र ☀ शुभ और अशुभ समय ☀ शुभ समय 🥗 अभिजित 12:08:04 - 12:57:29 ☀ अशुभ समय 🥗 दुष्टमुहूर्त : 06:22:16 - 07:11:40 07:11:40 - 08:01:04 🥗 कंटक 12:08:04 - 12:57:29 🥗 यमघण्ट 15:25:41 - 16:15:05 🥗 राहु काल 09:27:31 - 11:00:09 🥗 कुलिक 07:11:40 - 08:01:04 🥗 कालवेला या अर्द्धयाम 13:46:53 - 14:36:17 🥗 यमगण्ड 14:05:24 - 15:38:02 🥗 गुलिक काल 06:22:16 - 07:54:53 ☀ दिशा शूल 🥗 दिशा शूल पूर्व ☀ चन्द्रबल और ताराबल ☀ ताराबल 🥗 अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, आर्द्रा, पुष्य, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी, हस्त, स्वाति, अनुराधा, मूल, पूर्वाषाढ़ा, उत्तराषाढ़ा, श्रवण, शतभिषा, उत्तराभाद्रपद ☀ चन्द्रबल 🥗 मेष, मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक, कुम्भ 📜 *चौघडिया-मुहूर्त* 📜 🌷काल06:22:16 -07:54:53 🌷शुभ 07:54:53 -09:27:31 🌷रोग 09:27:31- 11:00:09 🌷उद्वेग11:00:09-12:32:46 🌷चल 12:32:46 -14:05:24 🌷लाभ14:05:24- 15:38:02 🌷अमृत15:38:02-17:10:40 🌷काल17:10:40 -18:43:18 🌷लाभ18:43:17 -20:10:31 🌷उद्वेग20:10:31-21:37:45 🌷शुभ 21:37:45 -23:04:59 🌷अमृत23:04:59-24:32:13 🌷चल 24:32:13 -25:59:27 🌷रोग 25:59:27 -27:26:41 🌷काल27:26:41 -28:53:55 🌷लाभ28:53:55 -30:21:08 *🕰🌷लग्न-तालिका🌷🕰* सूर्योदय का समय: 06:22:16 सूर्योदय के समय लग्न मीन द्विस्वाभाव 342°36′23″ 🥗 *मीन द्विस्वाभाव* शुरू: 05:46 AM समाप्त: 07:12 AM 🥗 *मेष चर* शुरू: 07:12 AM समाप्त: 08:49 AM 🥗 *वृषभ स्थिर* शुरू: 08:49 AM समाप्त: 10:45 AM 🥗 *मिथुन द्विस्वाभाव* शुरू: 10:45 AM समाप्त: 01:00 PM 🥗 *कर्क चर* शुरू: 01:00 PM समाप्त: 03:20 PM 🥗 *सिंह स्थिर* शुरू: 03:20 PM समाप्त: 05:36 PM 🥗 *कन्या द्विस्वाभाव* शुरू: 05:36 PM समाप्त: 07:52 PM 🥗 *तुला चर* शुरू: 07:52 PM समाप्त: 10:10 PM 🥗 *वृश्चिक स्थिर* शुरू: 10:10 PM समाप्त: अगले दिन 00:29 AM 🥗 *धनु द्विस्वाभाव* शुरू: अगले दिन 00:29 AM समाप्त: अगले दिन 02:33 AM 🥗 *मकर चर* शुरू: अगले दिन 02:33 AM समाप्त: अगले दिन 04:17 AM 🥗 *कुम्भ स्थिर* शुरू: अगले दिन 04:17 AM समाप्त: अगले दिन 05:46 AM 2⃣8⃣🚦0⃣3⃣🚦2⃣0⃣ *🕉🙏जयश्रीराम🙏🕉* *सुरेन्द्र चेजारा व्याख्याता* *ज्योतिषशास्त्री श्रीमाधोपुर* 🌹🥗🌹🥗🌹🥗🌹🥗

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 47 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 28 मार्च 2020* ⛅ *दिन - शनिवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)* ⛅ *शक संवत - 1942* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - वसंत* ⛅ *मास - चैत्र* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - चतुर्थी रात्रि 12:52 तक तत्पश्चात पंचमी* ⛅ *नक्षत्र - भरणी दोपहर 12:17 तक तत्पश्चात कृत्तिका* ⛅ *योग - विष्कम्भ शाम 05:54 तक तत्पश्चात प्रीति* ⛅ *राहुकाल - सुबह 09:29 से सुबह 11:01 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:37* ⛅ *सूर्यास्त - 18:50* ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - विनायक चतुर्थी* 💥 *विशेष - चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 💥 *ब्रह्म पुराण' के 118 वें अध्याय में शनिदेव कहते हैं- 'मेरे दिन अर्थात् शनिवार को जो मनुष्य नियमित रूप से पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उनके सब कार्य सिद्ध होंगे तथा मुझसे उनको कोई पीड़ा नहीं होगी। जो शनिवार को प्रातःकाल उठकर पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उन्हें ग्रहजन्य पीड़ा नहीं होगी।' (ब्रह्म पुराण')* 💥 *शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष का दोनों हाथों से स्पर्श करते हुए 'ॐ नमः शिवाय।' का 108 बार जप करने से दुःख, कठिनाई एवं ग्रहदोषों का प्रभाव शांत हो जाता है। (ब्रह्म पुराण')* 💥 *हर शनिवार को पीपल की जड़ में जल चढ़ाने और दीपक जलाने से अनेक प्रकार के कष्टों का निवारण होता है ।(पद्म पुराण)* 💥 *नौकरी - व्यवसाय में सफलता, आर्थिक समृद्धि एवं कर्ज मुक्ति हेतु कारगर प्रयोग शनिवार के दिन पीपल में दूध, गुड, पानी मिलाकर चढायें एवं प्रार्थना करें - 'हे प्रभु ! आपने गीता में कहा है कि वृक्षों में पीपल मैं हूँ । हे भगवान ! मेरे जीवन में यह परेशानी है । आप कृपा करके मेरी यह परेशानी (परेशानी, दुःख का नाम लेकर ) दूर करने की कृपा करें । पीपल का स्पर्श करें व प्रदक्षिणा करें ।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *नवरात्रि की पंचमी तिथि* 🌷 🙏🏻 *29 मार्च 2020 रविवार को चैत्र - शुक्ल पक्ष की पंचमी की बड़ी महिमा है | इसको श्री पंचमी भी कहते है | संपत्ति वर्धक है |* 🙏🏻 *इन दिनों में लक्ष्मी पूजा की भी महिमा है | ह्रदय में भक्तिरूपी श्री आये इसलिए ये उपासाना करें | इस पंचमी के दिन हमारी श्री बढ़े, हमारी गुरु के प्रति भक्तिरूपी श्री बढ़े | उसके लिए भी व्रत, उपासाना आदि करना चाहिए | पंचमं स्कंध मातेति | स्कंध माता कार्तिक स्वामी की माँ पार्वतीजी .... उस दिन मंत्र बोलो – ॐ श्री लक्ष्मीये नम: |* 🙏🏻 *- Shri Sureshanandji Ahmedabad 12th April' 2013* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *चैत्र मास की नवरात्रि का आरंभ 25 मार्च,बुधवार से हो गया है । नवरात्रि में रोज देवी को अलग-अलग भोग लगाने से तथा बाद में इन चीजों का दान करने से हर मनोकामना पूरी हो जाती है। जानिए नवरात्रि में किस तिथि को देवी को क्या भोग लगाएं-* 👉🏻 गताअं से आगे........... 🙏🏻 *नवरात्रि के चौथे दिन यानी चतुर्थी तिथि को माता दुर्गा को मालपुआ का भोग लगाएं ।इससे समस्याओं का अंत होता है ।* 👉🏻 शेष कल............ 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तिथि तक वासंतिक नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस बार वासंतिक नवरात्रि का प्रारंभ 25 मार्च, बुधवार से हो गया है, धर्म ग्रंथों के अनुसार, नवरात्रि में हर तिथि पर माता के एक विशेष रूप का पूजन करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी होती है। जानिए नवरात्रि में किस दिन देवी के कौन से स्वरूप की पूजा करें-* 👉🏻 गताअं से आगे........... 🌷 *रोग, शोक दूर करती हैं मां कूष्मांडा* 🌷 *नवरात्रि की चतुर्थी तिथि की प्रमुख देवी मां कूष्मांडा हैं। देवी कूष्मांडा रोगों को तुरंत नष्ट करने वाली हैं। इनकी भक्ति करने वाले श्रद्धालु को धन-धान्य और संपदा के साथ-साथ अच्छा स्वास्थ्य भी प्राप्त होता है। मां दुर्गा के इस चतुर्थ रूप कूष्मांडा ने अपने उदर से अंड अर्थात ब्रह्मांड को उत्पन्न किया। इसी वजह से दुर्गा के इस स्वरूप का नाम कूष्मांडा पड़ा।* 🙏🏻 *मां कूष्मांडा के पूजन से हमारे शरीर का अनाहत चक्रजागृत होता है। इनकी उपासना से हमारे समस्त रोग व शोक दूर हो जाते हैं। साथ ही, भक्तों को आयु, यश, बल और आरोग्य के साथ-साथ सभी भौतिक और आध्यात्मिक सुख भी प्राप्त होते हैं।* 👉🏻 शेष कल........... 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻 https://youtu.be/pORtL8RvoRI

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 29 शेयर

🚩 *श्री गणेशाय नम:🚩* 🚨 *26 - Mar - 2020* *🕉🍋गीताज्ञान🍋🕉* *एवं बहुविधा यज्ञा* *वितता ब्रह्मणो मुखे ।* *कर्मजान्विद्धि तान्सर्वान्* *एवं ज्ञात्वा विमोक्ष्यसे ॥* *✍भावार्थ : इसी प्रकार और भी अनेकों प्रकार के यज्ञ वेदों की वाणी में विस्तार से कहे गए हैं, इस तरह उन सबको कर्म से उत्पन्न होने वाले जानकर तू कर्म-बंधन से हमेशा के लिये मुक्त हो जाएगा। (३२)* 🥫 *दैनिक पंचांग* 🥫 🚨 *26 - Mar - 2020* 🛑 *पंचांग-श्रीमाधोपुर* 🥗 तिथि द्वितीया 19:55:17 🥗 नक्षत्र रेवती 07:17:10 🥗 करण : बालव 06:42:34 कौलव 19:55:17 🥗 पक्ष शुक्ल 🥗 योग एन्द्र 16:28:17 🥗 वार गुरूवार 🌹 *सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ* 🥗 सूर्योदय 06:24:29 🥗 चन्द्रोदय 07:37:59 🥗चन्द्रराशि मीन-07:17:10 तक 🥗 सूर्यास्त 18:42:17 🥗 चन्द्रास्त 20:25:00 🥗 ऋतु वसंत 🌹 *हिन्दू मास एवं वर्ष* 🥗 शक सम्वत 1942 शार्वरी 🥗 कलि सम्वत 5121 🥗 दिन काल 12:17:47 🥗 विक्रम सम्वत 2077 🥗 मास अमांत चैत्र 🥗 मास पूर्णिमांत चैत्र 🌹 *शुभ और अशुभ समय* 🌹 *शुभ समय* 🥗 अभिजित 12:08:47 - 12:57:59 🟡 *अशुभ समय* 🥗 दुष्टमुहूर्त : 10:30:25 - 11:19:36 15:25:32 - 16:14:43 🥗 कंटक 15:25:32 - 16:14:43 🥗 यमघण्ट 07:13:41 - 08:02:52 🥗 राहु काल 14:05:36 - 15:37:50 🥗 कुलिक 10:30:25 - 11:19:36 🥗 कालवेला या अर्द्धयाम 17:03:54 - 17:53:05 🥗 यमगण्ड 06:24:29 - 07:56:43 🥗 गुलिक काल 09:28:56 - 11:01:10 🌹 *दिशा शूल* 🥗 दिशा शूल दक्षिण 🌹 *चन्द्रबल और ताराबल* 🌹 *ताराबल* 🥗 अश्विनी, भरणी, रोहिणी, आर्द्रा, पुष्य, आश्लेषा, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, हस्त, स्वाति, अनुराधा, ज्येष्ठा, मूल, पूर्वाषाढ़ा, श्रवण, शतभिषा, उत्तराभाद्रपद, रेवती 🌹 *चन्द्रबल* 🥗 वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला, मकर, मीन 📜 *चौघडिया-मुहूर्त* 📜 🥗शुभ 06:24:29 -07:56:43 🥗रोग07:56:43 - 09:28:56 🥗उद्वेग09:28:56-11:01:10 🥗चल11:01:10- 12:33:23 🥗लाभ12:33:23- 14:05:36 🥗अमृत14:05:36-15:37:50 🥗काल 15:37:50-17:10:03 🥗शुभ17:10:03 - 18:42:16 🥗अमृत18:42:17-20:09:55 🥗चल 20:09:55- 21:37:33 🥗रोग 21:37:33- 23:05:11 🥗काल 23:05:11-24:32:50 🥗लाभ24:32:50- 26:00:28 🥗उद्वेग26:00:28-27:28:06 🥗शुभ 27:28:06- 28:55:44 🥗अमृत28:55:44-30:23:23 *🕰🌻लग्न-तालिका🌻🕰* 🥗सूर्योदय का समय: 06:24:29 🥗सूर्योदय के समय लग्न मीन द्विस्वाभाव 340°37′27″ 🥗 *मीन द्विस्वाभाव* शुरू: 05:54 AM समाप्त: 07:20 AM 🥗 *मेष चर* शुरू: 07:20 AM समाप्त: 08:57 AM 🥗 *वृषभ स्थिर* शुरू: 08:57 AM समाप्त: 10:53 AM 🥗 *मिथुन द्विस्वाभाव* शुरू: 10:53 AM समाप्त: 01:08 PM 🥗 *कर्क चर* शुरू: 01:08 PM समाप्त: 03:28 PM 🥗 *सिंह स्थिर* शुरू: 03:28 PM समाप्त: 05:44 PM 🥗 *कन्या द्विस्वाभाव* शुरू: 05:44 PM समाप्त: 08:00 PM 🥗 *तुला चर* शुरू: 08:00 PM समाप्त: 10:18 PM 🥗 *वृश्चिक स्थिर* शुरू: 10:18 PM समाप्त: अगले दिन 00:37 AM 🥗 *धनु द्विस्वाभाव* शुरू: अगले दिन 00:37 AM समाप्त: अगले दिन 02:41 AM 🥗 *मकर चर* शुरू: अगले दिन 02:41 AM समाप्त: अगले दिन 04:25 AM 🥗 *कुम्भ स्थिर* शुरू: अगले दिन 04:25 AM समाप्त: अगले दिन 05:54 AM 2⃣6⃣🚦0⃣3⃣🚦2⃣0⃣ *🍋🙏जयश्रीराम🙏🍋* *सुरेन्द्र चेजारा व्याख्याता* *ज्योतिषशास्त्री श्रीमाधोपुर* 🚥🚥🚥🚥🚥🚥🚥🚥

+56 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 317 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB