Ashok Pal Bana Umath
Ashok Pal Bana Umath Sep 9, 2017

जय श्री शनि देव महाराज

जय श्री शनि देव महाराज

+583 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 136 शेयर

कामेंट्स

Ramesh Namdev Sep 9, 2017
जय शनि देव महाराज की जय

dhan Sep 9, 2017
Jai Shani maharaj

sumitra Dec 14, 2019

+1437 प्रतिक्रिया 229 कॉमेंट्स • 363 शेयर
Renu Singh Dec 14, 2019

+1118 प्रतिक्रिया 183 कॉमेंट्स • 316 शेयर
Anjana Gupta Dec 14, 2019

+1002 प्रतिक्रिया 159 कॉमेंट्स • 238 शेयर

भगवान शनि देव और हनुमान में सम्बन्ध:= जय श्री राम,, 🚩🚩🌿🌹🚩 जय श्री हनुमान 🚩🔔💐🌲🚩 जय शनि देव 🚩🌲🔔🚩 💐🌴🌻सुप्रभात🌻🌴💐 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🎎 वे सभी लोग जो सनातन धर्म में आस्था रखते हैं,भगवान हनुमान को संकटमोचक मानते हैं, और शनि देव को गलत को दंड देने वाले भगवान के रूप में। इन दोनों देवताओं का भगवान शिव से घनिष्ठ संबंध है। जहां भगवान हनुमान भगवान शिव के अवतार हैं, वहीं शनि देव ने गहन ध्यान के बाद भगवान शिव की शक्तियां प्राप्त कीं। इसके अलावा, जो लोग भगवान शिव की पूजा करते हैं, वे स्वतः शनि देव द्वारा धन्य हो जाते हैं। 🚩 इन दोनों भगवानों के बारे में इन बातों के अलावा, शास्त्रों में कुछ खास बातें बताई गई हैं, जो शक्तियों, चरित्रों के साथ-साथ इन दोनों भगवानों के बीच समानता और मतभेदों को उजागर करती हैं।   🚩🌿🌹जय श्री राम 🌹🌿🚩 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲

+786 प्रतिक्रिया 183 कॉमेंट्स • 49 शेयर
Poonam Aggarwal Dec 14, 2019

+650 प्रतिक्रिया 101 कॉमेंट्स • 322 शेयर

शनिदेव की न्याय प्रियता के आगे भगवान शिव को भी झुकना पड़ा 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰 पौराणिक कथा के अनुसार एक समय शनि देव भगवान शंकर के धाम हिमालय पहुंचे। उन्होंने अपने गुरुदेव भगवान शंकर को प्रणाम कर उनसे आग्रह किया," हे प्रभु! मैं कल आपकी राशि में आने वाला हूं अर्थात मेरी वक्र दृष्टि आप पर पड़ने वाली है। शनिदेव की बात सुनकर भगवान शंकर हतप्रभ रह गए और बोले, "हे शनिदेव! आप कितने समय तक अपनी वक्र दृष्टि मुझ पर रखेंगे।" शनिदेव बोले, "हे नाथ! कल सवा प्रहर के लिए आप पर मेरी वक्र दृष्टि रहेगी। शनिदेव की बात सुनकर भगवन शंकर चिंतित हो गए और शनि की वक्र दृष्टि से बचने के लिए उपाय सोचने लगे।" शनि से बचने हेतु शिव ने धारा हाथी का रूप शनि की दृष्टि से बचने हेतु अगले दिन भगवन शंकर मृत्यु लोक आए। भगवान शंकर ने शनिदेव और उनकी वक्र दृष्टि से बचने के लिए एक हाथी का रूप धारण कर लिया। भगवान शंकर को हाथी के रूप में सवा प्रहर तक का समय व्यतीत करना पड़ा तथा शाम होने पर भगवान शंकर ने सोचा की अब दिन बीत चुका है और शनिदेव की दृष्टि का भी उन पर कोई असर नहीं होगा। इसके उपरांत भगवान शंकर पुनः कैलाश पर्वत लौट आए। भगवान शंकर प्रसन्न मुद्रा में जैसे ही कैलाश पर्वत पर पहुंचे उन्होंने शनिदेव को उनका इंतजार करते पाया। भगवान शंकर को देख कर शनिदेव ने हाथ जोड़कर प्रणाम किया। भगवान शंकर मुस्कराकर शनिदेव से बोले,"आपकी दृष्टि का मुझ पर कोई असर नहीं हुआ।" यह सुनकर शनि देव मुस्कराए और बोले," मेरी दृष्टि से न तो देव बच सकते हैं और न ही दानव यहां तक की आप भी मेरी दृष्टि से बच नहीं पाए।" यह सुनकर भगवान शंकर आश्चर्यचकित रह गए। शनिदेव ने कहा, मेरी ही दृष्टि के कारण आपको सवा प्रहार के लिए देव योनी को छोड़कर पशु योनी में जाना पड़ा इस प्रकार मेरी वक्र दृष्टि आप पर पड़ गई और आप इसके पात्र बन गए। शनि देव की न्याय प्रियता देखकर भगवान शंकर प्रसन्न हो गए और शनिदेव को हृदय से लगा लिया। 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰

+37 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 13 शेयर

🌹🌹शुभ शनिवार🌹🌹🙏 🌴G⭕⭕D🌴〽⭕➰NING🌴 रुलाना हर किसी को आता है, हँसाना भी हर किसी को आता है, रुला के जो मना ले वो पिता है,☺ और जो रुला के खुद भी रो पड़े वही माँ है। बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते इनको तू बेकार न कर , मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई घर के आँगन में दीवार ना कर. . ```✍जो प्राप्त है वो ही पर्याप्त है । इन दो शब्दों में सुख बेहिसाब हैं।। जो इंसान खुद के लिये जीता है उसका एक दिन मरण होता है.. पर जो इंसान दूसरोंके लिये जीता है उसका हमेशा स्मरण होता है ।। भोर बेला का प्यारा -प्यारा सा 🙏🏻🌺🌺🌺🌺🌺🙏🏻         🐚☀️🐚 🐾स्नेह वंदन *🌹🙏शुभ प्रभात🙏🌹* *💞🌺 शुभ शनिवार🌺💞 *🌺🌄आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो🌺🌄* 🌴G⭕⭕D🌴〽⭕➰NING🌴 #🌷शुभ शनिवार #🌞 Good Morning🌞

+857 प्रतिक्रिया 125 कॉमेंट्स • 113 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB