Girish Chowdhari
Girish Chowdhari Sep 10, 2017

कर्म का महत्व

*आज का चिंतन*
*यह हमेशा ध्यान रखे*
1) *निम्बू-मिर्च* खाने के लिये है.. कही *टाँगने* के लिए नहीं है।
2) *बिल्लियाँ* जंगली या पालतू जानवर है, बिल्ली के *रास्ता काटने* से कुछ गलत नहीं होता.. बल्कि चूहों से होनेवाले नुक्सान को बचाया जा सकता है।
3) *छींकना* एक नैसर्गिक क्रिया है, छींकने से कुछ *अनहोनी* नहीं होती ना हि किसी काम में बाधा आती है। छींकने से शरीर की *सोई हुई मांसपेशियां* सक्रिय हो जाती है।
4) *भूत* पेड़ों पर नहीं रहते, पेड़ों पर *पक्षी* रहते है।
5) *चमत्कार* जैसी कोई चीज नहीं होती। हर घटना के पीछे *वैज्ञानिक* कारण होता है।
6) *भोपा, तंत्रिक, बाबा* जैसे लोग *झुठे* होते है, जिन्हें *शारारिक मेहनत* नहीं करनी ये वही लोग है।
7) *जादू टोणा*, या *किसी ने कराया* ऐसा कुछ नहीं होता, ये दुर्बल लोगोंके *मानसिक विकार* है।
जादू-टोणा करके आपके ग्रहो की दिशा बदलने वाले बाबा, हवा और मेघों की दिशा बदलकर बारिश नहीं ला सकते क्या?
8 ) *वास्तुशास्त्र* भ्रामक है। सिर्फ दिशाओ का *डर* दिखाकर लूटने का तरीक़ा है।
वास्तविक तो पृथ्वी ही खुद हर क्षण *अपनी दिशा* बदलती है। अगर *कुबेर जी* उत्तर दिशा में है तो एक ही स्थान या दिशा में *अमीर* और *गरीब* दोनों क्यों पाये जाते है?
9) *मन्नत के लिये बलि, टिप* या *चढ़ावे* से भगवान प्रसन्न होकर *फल* देते है, तो क्या भगवान् *रिश्वतखोर* है?
आध्यात्म *मोक्ष* के लिए है, *धन* कमाने के लिए नहीं।
यह मेसैज 15 दूसरे ग्रूप्स में भेजने से कोई *खुशखबरी* नहीं मिलेगी और इसको डिलीट करने पर कोई अनहोनी भी नहीं होगी।
परंतु इसे Farword करने से आपके कई मित्र *मेहनत* और *कर्म* का महत्त्व जरूर जान सकेंगे।

Milk Like Pranam +102 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 190 शेयर

कामेंट्स

Shivam shaastri ji Sep 11, 2017
जब आप को कभी कोई दुख होगा तो किसको याद करोगे भगवान या खुद को इसलिए कुछ भी science नही सब गॉड मेड है तू भी समझे

Roshan Nawaval Suthar Sep 11, 2017
I'm not agree with you sir....#Asthaa hi hai koi galat nahi ,,,#Najria alag alag hota hai...

Sanjay Nagpal Oct 20, 2018

ऋषि अष्टावक्र की कथा
〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️
अष्टावक्र की माता का नाम सुजाता था। उनके पिता कहोड़ वेदपाठी और प्रकांड पंडित थे तथा उद्दालक ऋषि के शिष्य और दामाद थे। राज्य में उनसे कोई शास्त्रार्थ में जीत नहीं सकता था।

अष्टावक्र जब गर्भ में थे तब रोज उनके ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Samir Pratap Singh Oct 19, 2018

एक बार फिर रावण जल गया।
हमारा मन नहीं भरता, बार बार जलाते हैं।
रावण जलाते हैं, ताकि हम पर सवाल खड़े ना हो जाएं।
रावण जलता है, मन खिन्न और उदास हो जाता है, विद्वता का ऐसा अंत ?
रावण के साथ ज्ञान की परंपरा का भी दहन हो जाता है।
ज्ञान से उपजे वैभव का...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Like +97 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 195 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*“समय जिसका साथ देता है वो बड़ों बड़ों को मात देता है।"*
*अमीर के घर पे बैठा 'कौवा' भी*
*सबको 'मोर' लगता है ..*
*और..*
*गरीब का भूखा बच्चा भी*
*सबको 'चोर' लगता है..*😔😔
: *इंसान की अच्छाई पर,*
*सब खामोश रहते हैं...*
*चर्चा अगर उसकी ब...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*"जिंदगी मे चुनौतियाँ हर* *किसी के हिस्से नहीं आती,*
*क्योकि किस्मत भी किस्मत वालो को ही आज़माती है !!"*
----------------
Sompal Prajapati

----------------

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
shivani Oct 20, 2018

jai shree ram

Pranam Lotus Jyot +152 प्रतिक्रिया 67 कॉमेंट्स • 819 शेयर

क्रोध...

एक राजा घने जंगल में भटक गया, राजा गर्मी और प्यास से व्याकुल हो गया।

इधर उधर हर जगह तलाश करने पर भी उसे कहीं पानी नही मिला।

प्यास से गला सूखा जा रहा था।

तभी उसकी नजर एक वृक्ष पर पड़ी जहाँ एक डाली से टप ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Lotus Bell +38 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 218 शेयर
🔔Meena Sharma🔔 Oct 20, 2018

बड़े बड़े गजराजों से भरे हुए महेन्द्र पर्वत के समतल प्रदेश में खड़े हुए हनुमान जी वहाँ जलाशय में स्थित हुए विशालकाय हाथी के समान जान पड़ते थे। सूर्य, इन्द्र, पवन, ब्रह्मा आदि देवों को प्रणाम कर हनुमान जी ने समुद्र लंघन का दृढ़ निश्चय कर लिया और अपने शर...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +7 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर

🍃🌺🌺 #जय_श्री_माँ_लक्ष्मी_जी_की🌺🌺🍃

एक बार अकबर बीरबल हमेशा की तरह टहलने जा रहे थे!

रास्ते में एक तुलसी का पौधा दिखा .. मंत्री बीरबल ने झुक कर प्रणाम किया !

अकबर ने पूछा कौन हे ये ?
बीरबल -- मेरी माता हे !

अकबर ने तुलसी के झाड़ को उखाड़ क...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Like Pranam +9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 20, 2018

Om Jai Jai Om

Like Pranam Tulsi +15 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 205 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*रिश्ते और रास्ते*
तब ख़त्म हो जाते हैँ
जब *पाँव* नहीं
*दिल* थक जाते है.....

*शुक्रिया अदा करना*
और ...
*माफ़ी माँगना*
दो गुण जिस व्यक्ति के पास है..
वो सबके क़रीब
और ...
सबके लिए *अजीज़* होता है ...
🌻🌻 सुप्रभात 🌻🌻
🌷 *आज का...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB