Swami Lokeshanand
Swami Lokeshanand Jun 11, 2019

"मंत्र जाप मम दृढ़ विश्वासा। पंचम भजन सो वेद प्रकासा॥" पाँचवाँ सोपान नवधा भक्ति का। बीच में आ गए, चार पार हो गए, चार आएँगे, यह निर्णायक क्षण है। आज का दिन धन्य है, यह समय धन्य है, आप धन्य हैं, मैं धन्य हूँ, समस्त प्रकृति धन्य है। संत के संग से, कथा में रति से, गुरूसेवा से और भगवान के गुणानुवाद से, क्या इतनी श्रद्धा नहीं बुद्धि में बैठ गई कि सीधे सीधे आदेश का पालन किया जा सके? क्या अभी भी शंका शेष है? क्या अभी और धक्का देना रह गया? क्या बुद्धि ने निश्चय नहीं किया कि बस अब रुकना नहीं? अगर उपदेश में संशय बना है तो फिर कभी अवसर आएगा, आज तो उनका दिन है जिनकी बुद्धि का समर्पण हो गया। अपनी लाखों जन्मों की यात्रा में, कितने शास्त्र पढ़े, कितने महापुरुषों के दर्शन किए, कितने उपदेश सुने, अगर आज भी निर्णय नहीं हुआ तो कब? बस निश्चय करो कि माया मुझे अब और नहीं नचा पाएगी, अब तो पार जाना ही है। देखो संतों के चित्रों से बाजार अटा पड़ा है, ध्यान दो कि किसी के गले में माला, किसी के हाथ में माला, क्यों? क्या यह कोई लोकाचार है? क्या माला के बिना चित्र की शोभा नहीं बनती? नहीं! यह तो मार्ग का परिचय है, कि हम इससे चल कर पहुँच गए, तुम भी इसीके सहारे पहुँच जाओगे। वह माला निमंत्रण है, इस निमंत्रण को स्वीकार करो। अपनी क्षमता पर संदेह हो तो हो, शास्त्र पर तो संदेह मत करो, संत पर, भगवान की कृपा पर तो संदेह मत करो। छोड़ो संशय, पकड़ो माला, मनका मनका रगड़ डालो, देह कल की छूटती आज छूट जाए, और सम्पत्ति मिले ना मिले, चाहे पास की भी चली जाए, नामजप रूपी महान साधन न छूटने पाए। बस मंजिल आने को ही है॥ मंत्र और नाम में अंतर जानने के लिए विडियो- https://youtu.be/TADcieWQoVU

"मंत्र जाप मम दृढ़ विश्वासा।
पंचम भजन सो वेद प्रकासा॥"
पाँचवाँ सोपान नवधा भक्ति का। बीच में आ गए, चार पार हो गए, चार आएँगे, यह निर्णायक क्षण है। आज का दिन धन्य है, यह समय धन्य है, आप धन्य हैं, मैं धन्य हूँ, समस्त प्रकृति धन्य है।
संत के संग से, कथा में रति से, गुरूसेवा से और भगवान के गुणानुवाद से, क्या इतनी श्रद्धा नहीं बुद्धि में बैठ गई कि सीधे सीधे आदेश का पालन किया जा सके? क्या अभी भी शंका शेष है? क्या अभी और धक्का देना रह गया? क्या बुद्धि ने निश्चय नहीं किया कि बस अब रुकना नहीं? अगर उपदेश में संशय बना है तो फिर कभी अवसर आएगा, आज तो उनका दिन है जिनकी बुद्धि का समर्पण हो गया।
अपनी लाखों जन्मों की यात्रा में, कितने शास्त्र पढ़े, कितने महापुरुषों के दर्शन किए, कितने उपदेश सुने, अगर आज भी निर्णय नहीं हुआ तो कब? बस निश्चय करो कि माया मुझे अब और नहीं नचा पाएगी, अब तो पार जाना ही है।
देखो संतों के चित्रों से बाजार अटा पड़ा है, ध्यान दो कि किसी के गले में माला, किसी के हाथ में माला, क्यों? क्या यह कोई लोकाचार है? क्या माला के बिना चित्र की शोभा नहीं बनती? नहीं! यह तो मार्ग का परिचय है, कि हम इससे चल कर पहुँच गए, तुम भी इसीके सहारे पहुँच जाओगे। वह माला निमंत्रण है, इस निमंत्रण को स्वीकार करो।
अपनी क्षमता पर संदेह हो तो हो, शास्त्र पर तो संदेह मत करो, संत पर, भगवान की कृपा पर तो संदेह मत करो। छोड़ो संशय, पकड़ो माला, मनका मनका रगड़ डालो, देह कल की छूटती आज छूट जाए, और सम्पत्ति मिले ना मिले, चाहे पास की भी चली जाए, नामजप रूपी महान साधन न छूटने पाए।
बस मंजिल आने को ही है॥
मंत्र और नाम में अंतर जानने के लिए विडियो- https://youtu.be/TADcieWQoVU

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB