MADHUBEN PATEL
MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020

🌹🔱🌹जय माता दी,जय माता दी🌹🔱🌹 ,,,,,,,,या देवी शक्तिरूपए संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः,,,,,,,,,

+381 प्रतिक्रिया 94 कॉमेंट्स • 133 शेयर

कामेंट्स

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@rrathod 🌹🔱🌹 सर्वमंगल मांगल्ये शिवसर्वार्थ साधिके,,,,शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणी नमोस्तुते,,,शुभसंध्या की मंगल कामनाएं भाईजी माता रानी आप एव आपके परिवार को सुखी,स्वस्थ रखें भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@sumitrasoni2 🌹🔱🌹 या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण,,,,,, संस्थिता,,,,नमस्तस्यै,,,,नमस्तस्यै ,,,, नमस्तस्यै,,,,,नमो नमः,,,, शुभसंध्या की मंगल कामनाएं प्यारी बहना जी माता रानी आप एव आपके परिवार के सभी आदरणीय सदस्यों की सूखी,स्वस्थ,,एव प्रसन्न रखे मेरी प्यारी बहना जी,,,,✋🙋🌄

r h Bhatt Mar 26, 2020
Jai matage Shubh Sandhya ji Vandana ji

ǟռʝʊ ʝօֆɦɨ Mar 26, 2020
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🙏जय माता दी 🙏 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 शुभ संध्या का सादर नमन मेरी बहना 🌹🌹🙏 माता रानी आपका सदा कल्याण करे।

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@rhbhatt 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभसंध्या स्नेहवंदन भाईजी माता रानी सदैव आपकी मनोकामनाएं पूरी करे भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@༺राधेराधेभक्तों༻ 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभसंध्या स्नेहवंदन मेरी प्यारी बहना जी आप एव आपके परिवार पर माँ ब्रह्मचारिणी की कृपादृष्टि बनी रहेवे प्यारी बहना जी✋🙋✋

Asha Bakshi Mar 26, 2020
जय माता दी शुभ संध्या स्नेह वंदन प्यारी बहना आप का हर पल मंगलमय हो आपका दामन सदा खुशियों से भरा रहे बहुत सुन्दर पोस्ट 👌👌👌🙏🙏🙏

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@ashabakshi 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभसंध्या स्नेहवंदन प्यारी बहना जी माँ ब्रह्मचारिणी के आशीर्वाद से आपके घर परिवार में हर पल खुशियां बनी रहेवे जी✋🙋✋

madanpal singh Mar 26, 2020
jai Mata Diiiiiiiiii 🌹 Shubh sandaya Jiiii Mata Rani ki karpa sadev AAP v aapka pariwar par bani rahe jiii 🌷 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🌹 🕉️🌹

Vinod Agrawal Mar 26, 2020
🌷Jai Mata Di Jai Maa Ambey Maharani Jai Maa Brahmcharini Devi Maa🌷

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@madanpalsingh 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभसंध्या स्नेहवंदन भाईजी माँ ब्रह्मचारिणी की कृपादृष्टि सदैव आप और आपके परिवार पर बनी रहेवे भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@vinodagrawal1 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभसंध्या स्नेहवंदन भाईजी माँ ब्रह्मचारिणी की कृपादृष्टि बनी रहेवे भाईजी✋🙋✋

Madanpal Singh Mar 26, 2020
jai mata di subh Ratari jii very nice post jii mata Rani ki karpa app our aapke pariwar par bani rahe jii 🕉🚩🐚🌷

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@madanpalmadanpalsingh 🙏🙏 धन्यवाद भाईजी🙏🙏 🥀🎄🥀 जय माता दी शुभरात्रि की मंगल कामनाएं भाईजी आप एव आपके परिवार पर माता रानी की असीम कृपादृष्टि बनी रहेवे भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@mrgupta 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभरात्रि स्नेहवंदन भाईजी आप एव आपके परिवार पर माता रानी की असीम कृपादृष्टि बनी रहेवे भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Mar 26, 2020
@mukeshkarn2 🌹🔱🌹 जय माता दी शुभरात्रि स्नेहवंदन भाईजी आपकी आनेवाली हर सुबह मंगलमय हो भाईजी✋🙋✋

MADHUBEN PATEL Apr 1, 2020
@સરદારસિહ1 🥀🎄🥀 जय माता दी दुर्गा अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं भाईजी आप एव आपके परिवार पर माँ महागौरी की कृपादृष्टि बनी रहेवे भाईजी,✋🙋✋

champalal m kadela May 10, 2020

+53 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 28 शेयर
किshan May 9, 2020

+67 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Sunita Pawar May 10, 2020

*■◆●🌹*मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं*🌹 💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕💕 माँ- दुःख में सुख का एहसास है, माँ - हरपल मेरे आस पास है। माँ- घर की आत्मा है, माँ- साक्षात् परमात्मा है। माँ- आरती, अज़ान है, माँ- गीता और कुरआन है। माँ- ठण्ड में गुनगुनी धूप है, माँ- उस रब का ही एक रूप है। माँ- तपती धूप में साया है, माँ- आदि शक्ति महामाया है। माँ- जीवन में प्रकाश है, माँ- निराशा में आस है। माँ- महीनों में सावन है, माँ- गंगा सी पावन है। माँ- वृक्षों में पीपल है, माँ- फलों में श्रीफल है। माँ- देवियों में गायत्री है, माँ- मनुज देह में सावित्री है। माँ- ईश् वंदना का गायन है, माँ- चलती फिरती रामायन है। माँ- रत्नों की माला है, माँ- अँधेरे में उजाला है, माँ- बंदन और रोली है, माँ- रक्षासूत्र की मौली है। माँ- ममता का प्याला है, माँ- शीत में दुशाला है। माँ- गुड सी मीठी बोली है, माँ- ईद, दिवाली, होली है। माँ- इस जहाँ में हमें लाई है, माँ- की याद हमें अति की आई है। माँ- मैरी, फातिमा और दुर्गा माई है, माँ- ब्रह्माण्ड के कण कण में समाई है। माँ- ब्रह्माण्ड के कण कण में समाई है। अंत में मैं बस एक पुण्य का काम करता हूँ, दुनिया की सभी माँओं को दंडवत प्रणाम करता हूँ। 🙏 *हैपी मदर्स डे* 🙏

+133 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 289 शेयर

त्रिसंध्या संध्या उस समय को कहते हैं जब एक समय जा रहा होता है और दूसरा समय आ रहा होता है । जैसे सूर्योदय से कुछ समय पूर्व रात्रि जा रही होती है और दिन आ रहा होता है । ऐसे ही दोपहर में जब सूर्य चढ़ते-चढ़ते उतरने लगता है लगभग 12:00 बजे का समय वह भी संध्या होती है ।दोपहर म् पूर्वान्ह । मध्यान्ह । अपराह्न । ये तीन काल होते हैं । ठीक ऐसे ही शाम को जब दिन छुप रहा होता है और रात्रि आ रही है होती है उसको भी संध्या कहते हैं । इस प्रकार दिन में तीन संध्या होती है एक प्रातः वाली एक दोपहर वाली और एक शाम वाली संध्या का समय भजन के लिए, उपासना के लिए बहुत ही उपयुक्त माना गया है । वैष्णव लोग त्रिकाल संध्या करते हैं । जैसे काल भी तीन हैं भूत वर्तमान और भविष्य ऐसे ही संध्याएं भी तीन हैं । संध्या का समय शांत होता है, नीरव होता है । जो जा रहा होता है वह भी शांत होता है और जो आ रहा होता है वह भी शांत होता है । अतः हम वैष्णवजन को प्रयास करके त्रिकाल संध्या के समय अवश्य थोड़ा-थोड़ा भजन बन पड़े तो करना चाहिए । अन्यथा नाम के लिए तो कोई देश, कोई काल कोई परिस्थिति की अपेक्षा नहीं है । कभी भी, कैसे भी कर सकते हैं । जिनका मन अधिक चंचल हो, मन न लगता हो वह प्रयास करके इन तीनों संध्याओं में यदि कुछ भजन करें । कुछ उपासना करें , कुछ ध्यान लगाएं , कुछ नाम करें तो उनकी चंचलता अपेक्षाकृत जल्दी ठीक हो सकती है । संध्याओं का अपना एक महत्त्व है । उसका लाभ उठाना चाहिए । समस्त वैष्णव जन को राधादासी का प्रणाम जय श्री राधे जय निताई LBW- Lives Born Works at Vrindabn

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
kamlash May 10, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB