mohanlalverma
mohanlalverma Jun 5, 2018

jai mata di maa veshno Mandir Katra kaa Naya Marg Radhe Krishna Radhe Radhe

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 9 शेयर

+36 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Anita Sharna Mar 1, 2021

+53 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 7 शेयर
GOVIND CHOUHAN Mar 1, 2021

+16 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Mamta Chauhan Mar 1, 2021

+81 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Paritosh Shukla Mar 1, 2021

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Bhavna. joshi Mar 1, 2021

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Smt Neelam Sharma Mar 1, 2021

*राजा अकबर ने बीरबल से पूछा कि तुम लोग सारा दिन भगवान की भक्ति करते हो, सिमरन करते हो ,उसका नाम लेते हो।* *आखिर भगवान तुम्हें देता क्या है ?* *बीरबल ने कहा कि महाराज मुझे कुछ दिन का समय दीजिए ।* *बीरबल एक बूढी भिखारन के पास जाकर कहा कि मैं तुम्हें पैसे भी दूँगा और रोज खाना भी खिलाऊंगा, पर तुम्हें मेरा एक काम करना होगा ।* *बुढ़िया ने कहा ठीक है - जनाब बीरबल ने कहा कि आज के बाद* *-अगर कोई तुमसे पूछे कि क्या चाहिए तो कहना अकबर, -अगर कोई पूछे किसने दिया तो कहना अकबर शहंशाह ने ।* *वह भिखारिन अकबर को बिल्कुल नहीं जानती थी, पर वह रोज-रोज हर बात में अकबर का नाम लेने लगी ।* *कोई पूछता -क्या चाहिए तो वह कहती अकबर, -कोई पूछता किसने दिया, तो कहती अकबर मेरे मालिक ने दिया है ।* *धीरे धीरे यह सारी बातें अकबर के कानों तक भी पहुँच गई ।* *वह खुद भी उस भिखारन के पास गया और पूछा यह सब तुझे किसने दिया है ?* *तो उसने जवाब दिया, मेरे शहंशाह अकबर ने मुझे सब कुछ दिया है ।* फिर पूछा और क्या चाहिए ? *तो बड़े अदब से भिखारन ने कहा* - *अकबर का दीदार, मैं उसकी हर रहमत का शुक्राना अदा करना चाहती हूँ, बस और मुझे कुछ नहीं चाहिए ।* *अकबर उसका प्रेम और श्रद्धा देख कर निहाल हो गया और उसे अपने महल में ले आया ।* *भिखारन तो हक्की बक्की रह गई और अकबर के पैरों में लेट गई, धन्य है मेरा शहंशाह . *अकबर ने उसे बहुत सारा सोना दिया, रहने को घर, सेवा करने वाले नौकर भी दे कर उसे विदा किया ।* *तब बीरबल ने कहा महाराज यह आपके उस सवाल का जवाब है ।* *जब इस भिखारिन ने सिर्फ केवल कुछ दिन सारा दिन आपका ही नाम लिया तो आपने उसे निहाल कर दिया - इसी तरह जब हम सारा दिन सिर्फ मालिक को ही याद करेंगे तो वह हमें अपनी दया मेहर से निहाल और मालामाल कर देगा जी।* *जीवन में निरंतर प्रभु स्‍मरण की आदत बनानी चाहिए । यह सबसे आवश्‍यक और जरूरी साधन है । जीवन भर प्रभु का स्‍मरण हर पल, हर लम्‍हें रहना चाहिए । इससे हमारा अन्‍त* *सुधर जायेगा, हमारी गति सुधर जायेगी ।* *परमात्मा ना गिनकर देता है* *ना तौलकर देता है* *परमात्मा जिसे भी देता है* *दिल खोलकर देता है*🌹🙏हर हर महादेव 🙏🌹🚩🚩

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB