Bhagwati Bapu
Bhagwati Bapu Dec 30, 2016

* कागज़ पतरी हर कोई बाँचे करम न बाँचे कोय

*          कागज़  पतरी              हर  कोई  बाँचे              करम   न    बाँचे              कोय

* कागज़ पतरी
हर कोई बाँचे
करम न बाँचे
कोय रे
कोय रे --------

राजा अपढ़ कालिदास ने कहा है कि - मनुष्य के अन्दर जो कुछ भी होता है वह एक न एक दिन फ़ूट - फुट कर बहता है ! उसके अच्छे - बुरे करमो का परकास तो होगा ही होगा , सही बात है राजा आज भी ये सँसार हमें ऊँची घाटी में लगाई गई आवाज , गाये गीत की तरह ही उत्तर देता है पता लग जाता है कि - आम लगाया है कि कांटा बबूल ! हरेक को उसके किये कर्मो की ही सिद्धि मिलती है देर - सबेर यहाँ इस मानुष लोक में -- ये करम नगरी हैं यहाँ कोई भी बिना करम जी न सकेगा आत्महत्या कर लेगा ! हम लाख छिपाते अपने खोटे करम पर उजागर हो ही जाते -- वो तो भगवान् की पूजा है लेकिन आज हमारे लिए अपने - अपने करम बड़े भारी सिरदर्द हो रखे हैं जिसे देखो निन्दा कर रहा अपने करम की और दूसरे के कर्मो की तो पूछो ही मत सारे अख़बार सारे चैनल आज दूसरों की निन्दा पे ही पल रहें है वो बेचारे भी क्या करें श्रोता ही वेंसा मिल गया है अब ढोल तो बजाना ही है और समझदार उसी ताल में घुराता है जिसमे सुनने वाला खो अपना आपा नाचने लगे ! जो भी आज यहाँ सुखी हैं , धनवान हैं , पदवांन हैं , ज्ञानवान हैं , मानवान हैं जो भी -- अरे भाई उन्होंने कभी न कभी सुन्दर करम किये हैं उसका उनको आज फल मिला है लेकिन बैठ ऊँची कुर्सी सताने लगे अपने से छोटों को तो उनका जीना हराम कर दे तो , लगे चूसने गरीब - गुरबों को तो , अपने को ऊँचा और दूसरों को नीचा समझे तो बस अब उसके करमो में मैला पड़ गया अब गिरेगा देर - सबेर अपने ही कर्मो से -- अति लोभ -- अति कामनायें -- अति हँकार रूपी दैत्य इसे धरासायी करेंगे -- अब मिला मिटटी धूल चटाएंगे -- अब वो गिरेगा रौ - रौ रुपी नरक -- ठीक ही कहा है पुराणों ने -- जेसा करम करेगा वैसा फल देगा - भगवान् -- ये -- है -- गीता -- का -- ज्ञान --- जीवन - -- गीता -- का -- ज्ञान --- हाँ -- हाँ --जीवन ---- *

+22 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 14 शेयर

कामेंट्स

Bhagwati Bapu Dec 31, 2016
* हिमालयन आध्यात्मिक केन्द्र काक भूषण्ड परवत हिमालय --- प्रियजनों -- श्रीमद् भागवत् कथा , देवी पुराण कथा , शिव महा पुराण , विष्णु पुराण कथा , हरिवंश पुराण , राम कथा एवम् अन्य प्राचीन महा यज्ञों हेतु स्वागत है सत्कार है अभिनन्दन है ~~~~~ सम्पर्क सूत्र ----- 09259266609 09456774695 ॐ सिद्धम् - 3 ....... *

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB