मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
jai shri krishna
jai shri krishna Apr 15, 2019

#माता_वैष्णो_देवी_की_अमर_कथा_ 🙏 माता वैष्णो देवी को लेकर कई कथाएँ प्रचलित हैं। एक प्रसिद्ध प्राचीन मान्यता के अनुसार माता वैष्णो के एक परम भक्त श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर माँ ने उसकी लाज रखी और दुनिया को अपने अस्तित्व का प्रमाण दिया। एक बार ब्राह्मण श्रीधर ने अपने गाँव में माता का भण्डारा रखा और सभी गाँववालों व साधु-संतों को भंडारे में पधारने का निमंत्रण दिया। पहली बार तो गाँववालों को विश्वास ही नहीं हुआ कि निर्धन श्रीधर भण्डारा कर रहा है। अपने भक्त श्रीधर की लाज रखने के लिए माँ वैष्णो देवी कन्या का रूप धारण करके भण्डारे में आई। श्रीधर ने भैरवनाथ को भी अपने शिष्यों के साथ आमंत्रित किया गया था। भंडारे में भैरवनाथ ने खीर-पूड़ी की जगह मांस-मदिरा का सेवन करने की बात की तब श्रीधर ने इस पर असहमति जताई। भोजन को लेकर भैरवनाथ के हठ पर अड़ जाने के कारण कन्यारूपी माता वैष्णो देवी ने भैरवनाथ को समझाने की कोशिश की किंतु भैरवनाथ ने उसकी एक ना मानी। जब भैरवनाथ ने उस कन्या को पकड़ना चाहा, तब वह कन्या वहाँ से त्रिकूट पर्वत की ओर भागी और उस कन्यारूपी वैष्णो देवी ने एक गुफा में नौ माह तक तपस्या की। इस गुफा के बाहर माता की रक्षा के लिए हनुमानजी ने पहरा दिया। आज इस पवित्र गुफा को 'अर्धक्वाँरी' के नाम से जाना जाता है। अर्धक्वाँरी के पास ही माता की चरण पादुका भी है। यह वह स्थान है, जहाँ माता ने भागते-भागते मुड़कर भैरवनाथ को देखा था। कहते हैं उस वक्त हनुमानजी माँ की रक्षा के लिए माँ वैष्णो देवी के साथ ही थे। हनुमानजी को प्यास लगने पर माता ने उनके आग्रह पर धनुष से पहाड़ पर एक बाण चलाकर जलधारा को निकाला और उस जल में अपने केश धोए। आज यह पवित्र जलधारा 'बाणगंगा' के नाम से जानी जाती है, जिसके पवित्र जल का पान करने या इससे स्नान करने से भक्तों की सारी व्याधियाँ दूर हो जाती हैं। जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने हठी भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान आज पूरी दुनिया में 'भवन' के नाम से प्रसिद्ध है। इस स्थान पर माँ काली माँ सरस्वती (मध्य) और माँ लक्ष्मी पिंडी के रूप में गुफा में विराजित है, जिनकी एक झलक पाने मात्र से ही भक्तों के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। इन तीनों के सम्मि‍लित रूप को ही माँ वैष्णो देवी का रूप कहा जाता है। भैरवनाथ का वध करने पर उसका शीश भवन से 8 किमी दूर जिस स्थान पर गिरा, आज उस स्थान को 'भैरवनाथ के मंदिर' के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि अपने वध के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने माँ से क्षमादान की भीख माँगी। माता वैष्णो देवी ने भैरवनाथ को वरदान देते हुए कहा कि मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं माने जाएँगे, जब तक कोई भक्त मेरे बाद तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा।

#माता_वैष्णो_देवी_की_अमर_कथा_ 🙏
माता वैष्णो देवी को लेकर कई कथाएँ प्रचलित हैं। एक प्रसिद्ध प्राचीन मान्यता के अनुसार माता वैष्णो के एक परम भक्त श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर माँ ने उसकी लाज रखी और दुनिया को अपने अस्तित्व का प्रमाण दिया। एक बार ब्राह्मण श्रीधर ने अपने गाँव में माता का भण्डारा रखा और सभी गाँववालों व साधु-संतों को भंडारे में पधारने का निमंत्रण दिया।
पहली बार तो गाँववालों को विश्वास ही नहीं हुआ कि निर्धन श्रीधर भण्डारा कर रहा है। अपने भक्त श्रीधर की लाज रखने के लिए माँ वैष्णो देवी कन्या का रूप धारण करके भण्डारे में आई। श्रीधर ने भैरवनाथ को भी अपने शिष्यों के साथ आमंत्रित किया गया था। भंडारे में भैरवनाथ ने खीर-पूड़ी की जगह मांस-मदिरा का सेवन करने की बात की तब श्रीधर ने इस पर असहमति जताई।
भोजन को लेकर भैरवनाथ के हठ पर अड़ जाने के कारण कन्यारूपी माता वैष्णो देवी ने भैरवनाथ को समझाने की कोशिश की किंतु भैरवनाथ ने उसकी एक ना मानी। जब भैरवनाथ ने उस कन्या को पकड़ना चाहा, तब वह कन्या वहाँ से त्रिकूट पर्वत की ओर भागी और उस कन्यारूपी वैष्णो देवी ने एक गुफा में नौ माह तक तपस्या की।
इस गुफा के बाहर माता की रक्षा के लिए हनुमानजी ने पहरा दिया। आज इस पवित्र गुफा को 'अर्धक्वाँरी' के नाम से जाना जाता है। अर्धक्वाँरी के पास ही माता की चरण पादुका भी है। यह वह स्थान है, जहाँ माता ने भागते-भागते मुड़कर भैरवनाथ को देखा था।
कहते हैं उस वक्त हनुमानजी माँ की रक्षा के लिए माँ वैष्णो देवी के साथ ही थे। हनुमानजी को प्यास लगने पर माता ने उनके आग्रह पर धनुष से पहाड़ पर एक बाण चलाकर जलधारा को निकाला और उस जल में अपने केश धोए। आज यह पवित्र जलधारा 'बाणगंगा' के नाम से जानी जाती है, जिसके पवित्र जल का पान करने या इससे स्नान करने से भक्तों की सारी व्याधियाँ दूर हो जाती हैं।
जिस स्थान पर माँ वैष्णो देवी ने हठी भैरवनाथ का वध किया, वह स्थान आज पूरी दुनिया में 'भवन' के नाम से प्रसिद्ध है। इस स्थान पर माँ काली माँ सरस्वती (मध्य) और माँ लक्ष्मी पिंडी के रूप में गुफा में विराजित है, जिनकी एक झलक पाने मात्र से ही भक्तों के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। इन तीनों के सम्मि‍लित रूप को ही माँ वैष्णो देवी का रूप कहा जाता है।
भैरवनाथ का वध करने पर उसका शीश भवन से 8 किमी दूर जिस स्थान पर गिरा, आज उस स्थान को 'भैरवनाथ के मंदिर' के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि अपने वध के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने माँ से क्षमादान की भीख माँगी। माता वैष्णो देवी ने भैरवनाथ को वरदान देते हुए कहा कि मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं माने जाएँगे, जब तक कोई भक्त मेरे बाद तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा।

+278 प्रतिक्रिया 94 कॉमेंट्स • 93 शेयर

कामेंट्स

Usha Chaudhary Jul 17, 2019

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ritu Sen Jul 18, 2019

+84 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 136 शेयर
Amit Kumar Jul 18, 2019

🌹गीता अध्याय,18/7,8,9,🌹🌹🌹 🌹नियतस्य तु सन्न्यासः कर्मणो नोपपद्यते । मोहात्तस्य परित्यागस्तामसः परिकीर्तितः ॥ भावार्थ : (निषिद्ध और काम्य कर्मों का तो स्वरूप से त्याग करना उचित ही है) परन्तु नियत कर्म का (इसी अध्याय के श्लोक 48 की टिप्पणी में इसका अर्थ देखना चाहिए।) स्वरूप से त्याग करना उचित नहीं है। इसलिए मोह के कारण उसका त्याग कर देना तामस त्याग कहा गया है॥7॥ दुःखमित्येव यत्कर्म कायक्लेशभयात्त्यजेत्‌ । स कृत्वा राजसं त्यागं नैव त्यागफलं लभेत्‌ ॥ भावार्थ : जो कुछ कर्म है वह सब दुःखरूप ही है- ऐसा समझकर यदि कोई शारीरिक क्लेश के भय से कर्तव्य-कर्मों का त्याग कर दे, तो वह ऐसा राजस त्याग करके त्याग के फल को किसी प्रकार भी नहीं पाता॥8॥ कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेअर्जुन । सङ्‍गं त्यक्त्वा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः ॥ भावार्थ : हे अर्जुन! जो शास्त्रविहित कर्म करना कर्तव्य है- इसी भाव से आसक्ति और फल का त्याग करके किया जाता है- वही सात्त्विक त्याग माना गया है॥9॥🌹 🌹🌹देखोभाई, वही काम नही करना चाहिए जो करने लायक न हो ,उसे जरूर छोड़ देना चाहिए ,पर जो सस्त्रानुरूप कर्म हैं उनका त्याग नही करना चाहिए, मगर मनुष्य इतना चतुर है कि वह जो छोड़ना चाहिए उसे तो नही छोड़ता जो नही छोड़ना चाहिए उसे छोड़ देता है,🌹 एक बार एक बहेलिया भगवान बुद्ध से बहुत प्रभावित हुआ और दीक्षा लेने चला गया भगवान बुद्धने उसे दीक्षा तो दी पर उसे एक बुराई को छोड़ने को कहा , बहेलिया ने कहा मैं कौन सी बुराई छोड़ दूं गुरुवर,बुद्ध ने कहा तुम बहेलिए हो पक्षियों को मारते हो वही छोड़ दो ,उसने कहा वह तो मेरा पेसा है उसे कैसे छोड़ दूं , बुद्ध ने कहा चलो कोई एक पक्षी को न मारने का संकल्प ले लो ,उसे मारना छोड़ दो ,तो उसने विचार किया कि किसे कह दूँ ,तीतर को छोड़ नही सकता कबूतर छोड़ नही सकता, फिर सोचविचारकर उसने कहा ठीक है गुरुदेव कौवे को मारना छोड़ दूंगा ,भगवान बुद्ध हंश पड़े और बोले यह तेरी ही समस्या नही सारा समाज ही ऐसा है ,करने योग्य नही करेंगे ,और न करने योग्य ही करेंगे,श्री कृष्ण कहते हैं यह मूढ़ता बस किया गया त्याग तामसी त्याग है ,और कुछ लोग तो शरीर को पोसते रहते है ,कुछ करना न पड़े क्योकि शरीर को कस्ट होगा इसलिए कर्म छोड़ देते हैं ,तो यह राजस त्याग है, इससे कोई आध्यात्मिक उन्नति नही मिल सकती ,,एक बाबा जी थे वे खुद नही खाते थे कोई उन्हें दूसरा बना कर खिलाये तो खाते थे ,उनका विस्तर कोई दूसरा लगाए तो वे सोयें ,यह कोई त्याग थोड़ी है यह तो उल्टे पाप की श्रेणी में आ गया ,की जो आप कर सकते हैं वह भी नही करते और दूसरों की सेवा लेते हैं,साधक को किसी से सेवा नही करवाना चाहिए, जिससे सेवा ली जाती है पुण्य भी वही ले जाता है ,उसे त्याग का फल मिलनेवाला नही,या राजस त्याग कहलाता है, और जो किसी लालच या स्वार्थ के बिना अनासक्त भाव से यह समझ कर कर्म करता है कि यह हमारा कर्तव्य है इसलिए कर्म कर रहे हैं ,और कर्म फल की आसक्ति का त्याग करके जो किया जाता है वह सत्वविक त्याग कहलाता है,🌹 🌹जै श्री कृष्ण🌹 🌹 डॉ स्वामी विनेश्वरानंद🌹 🌹

+51 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 300 शेयर
Ramesh Agarwal Jul 18, 2019

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 54 शेयर
Ritu Sen Jul 18, 2019

+57 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 28 शेयर
Ashok Yadav Jul 18, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 35 शेयर
Ritu Sen Jul 18, 2019

+31 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 16 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 22 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB