श्री महालक्ष्मी मंदिर (आई अंबाबाई मंदिर), कोल्हापुर

श्री महालक्ष्मी मंदिर (आई अंबाबाई मंदिर), कोल्हापुर

श्री #महालक्ष्मी #मंदिर (आई अंबाबाई मंदिर), कोल्हापुर, महाराष्ट्र


#महाराष्ट्र के #कोल्हापुर शहर में स्थित, ‘श्री महालक्ष्मी मंदिर’ भारत के सबसे प्राचीन शक्तिपीठों और मंदिरों में से एक है| यह मंदिर माता महालक्ष्मी को समर्पित है, जिन्हें ‘आई अम्बाबाई’ भी कहा जाता है और धन, धान्य, सुख और संपत्ति की दात्री माना जाता है| ऐसी मान्यता है कि माता सती का एक नेत्र यहाँ गिरा था, जिसकी रक्षा करने के लिए अन्य शक्तिपीठों की भांति यहाँ भी कालभैरव मौजूद हैं। इसी कारण इस मंदिर को ‘कोल्हापुर शक्तिपीठ’ के नाम से भी जाना जाता है। इस प्राचीन मंदिर के प्रांगण में कालभैरव को समर्पित एक मंदिर भी बना हुआ है।
यह मंदिर 7वीं सदी में चालुक्य वंश के राजाओं द्वारा बनाया गया था| मंदिर में दो मुख्य हॉल हैं – ‘दर्शन मंडप’ और ‘कूर्म मंडप’| एक ओर जहाँ दर्शन मंडप में श्रद्धालुजन माता के दिव्य दर्शन प्राप्त करते हैं, वहीं दूसरी ओर कूर्म मंडप में भक्तों पर एक पवित्र शंख द्वारा माता के आशीर्वाद स्वरूप पवित्र जल छिड़का जाता है| इस मंडप को ‘शंख तीर्थ’ भी कहा जाता है| सबसे बाहरी हॉल जिसे ‘गरुड़ मंडप’ भी कहा जाता है, मंदिर में बाद में बनवाया गया था| मंदिर के पाँच भव्य गुंबद हैं, इनमें से एक मंदिर के मध्य में और बाकी चार मंदिर की चारों दिशाओं में बनाए गए हैं|
मंदिर के गर्भगृह में देवी महालक्ष्मी की भव्य मूर्ति एक ऊँचे मंच पर पूरी साज-सज्जा के साथ स्थापित की गयी है| काले मणि पत्थर से बनी देवी की इस मूर्ति की उँचाई 3 फ़ीट है और वज़न औसतन 40 किलोग्राम है| देवी माँ की सवारी, सिंह की मूर्ति भी माता की मूर्ति के समीप ही स्थित है| मंदिर की एक दीवार पर श्रीयन्त्र भी खुदा हुआ है| श्रीयन्त्र को भी माता का एक रूप माना जाता है| यह एक बहुत ही विशाल मंदिर है जिसके प्रांगण में अन्य देवी-देवताओं को समर्पित कई छोटे मंदिर बनाए गये हैं| ऊपरी मंदिर में भगवान् गणेश की मूर्ति और मातुलिंग (शिवलिंग) के साथ ही, नंदी बैल (भगवान् शिव की सवारी) की मूर्ति भी स्थित है| भाग्यवान भक्तों को माता महालक्ष्मी के साथ-साथ माता के दो अन्य स्वरूपों, महाकाली और महासरस्वती के मंदिरों में उनके दर्शनों का भी लाभ प्राप्त होता है|

+264 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 49 शेयर

कामेंट्स

Atul Srivastava Aug 4, 2017
जय माँ ,जानकारी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB