Sanjay Soni
Sanjay Soni Sep 7, 2017

. ऊॅ नमो नारायणः

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mamta Chauhan Mar 31, 2020

+185 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Babli Singh Mar 31, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
SUNITA devi Mar 31, 2020

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
nisha Sharma Mar 31, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
rajni kundra Mar 31, 2020

*ऐसा लग रहा है कि कलयुग में सतयुग आ गया है। कितना सादा जीवन हो गया। दाल रोटी ,कुछ कपड़े ,एक घर बस इतना ही काफी लग रहा है।थोड़े में भी आनंद आ रहा है।सुबह दुर्गा पूजा , फिर रामायण ,महाभारत ,फिर सन्त मणि , वाणी का भाव लिखना ,शाम को हवन ,आरती फिर महाभारत ,रामायण।* *सारे घर के सदस्यों का यही रूटीन हो गया है।सब मिल कर काम करते हैं।* *भागदौड़ की जिंदगी में ठहराव आ गया है। शांति , संतोष सबके मन मे है।* *सोना , चांदी, धन ,सुंदर ड्रेस कोई काम नही आ रहा। थोड़े में गुजारा हो रहा है । यही तो है संतोष धन। सब कुछ था ,बस यही तो नही था।* *भक्ति की लहर बहती रहती हैं।* *न कोई भाव बढ़ने की खुशी, न कोई घटने का दुख*।*न कोई पर चिंता, न कोई पर निंदा, सिर्फ और सिर्फ परमार्थ का भाव*। *मुनष्य पागल सा हो गया था। अब जीवन पाने को गल रहा है। मतलब जीवन है,तो जग है, अन्यथा*.....*🌹 *जय श्री राम*🌹🙏 🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
KRISHNA BABU Mar 31, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Mavjibhai Patel Mar 31, 2020

+60 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 44 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB