🙏🌹 गुरुवार 04 मार्च 2021 का पंचांग 🌹🙏 हमारी इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर कर सनातन संस्कृति को आगे बढ़ाने में मायमंदिर का सहयोग करें।

🙏🌹 गुरुवार 04 मार्च 2021 का पंचांग 🌹🙏

हमारी इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर कर सनातन संस्कृति को आगे बढ़ाने में मायमंदिर का सहयोग करें।

+253 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 124 शेयर

कामेंट्स

जितेन्द्र दुबे Mar 4, 2021
🚩🌹🥀जय श्री मंगलमूर्ति गणेशाय नमः 🌺🌹💐🚩🌹🌺 शुभ प्रभात वंदन🌺🌹 राम राम जी 🌺🚩🌹मंदिर के सभी भाई बहनों को राम राम जी परब्रह्म परमात्मा आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें 🙏 🚩🔱🚩प्रभु भक्तो को सादर प्रणाम 🙏 🚩🔱🚩 🕉️ नमो भगवते वासुदेवाय नमः🌹 श्रीमन नारायण नारायण नारायण🌹 भजमन तुलसी नारायण नारायण नारायण 🌹ऊँ लक्ष्मीनारायण🌹 लक्ष्मी नारायण नारायण नारायण 🚩🚩ऊँ रामेश्वराय नमः🚩 ऊँ उमामहेश्वराभ्यां नमः🌺 ऊँ राम रामाय नमः 🌻🌹ऊँ सीतारामचंद्राय नमः🌹 ॐ राम रामाय नमः🌹🌺🌹 ॐ हं हनुमते नमः 🌻ॐ हं हनुमते नमः🌹🥀🌻🌺🌹ॐ शं शनिश्चराय नमः 🚩🌹🚩ऊँ नमः शिवाय 🚩🌻 जय श्री राधे कृष्णा जगत पिता परब्रह्म परमात्मा श्री हरि विष्णु जी की कृपा दृष्टि आप सभी पर हमेशा बनी रहे आप का हर पल मंगलमय हो 🚩जय श्री राम 🚩🌺हर हर महादेव🚩राम राम जी 🥀शुभ प्रभात स्नेह वंदन💐🌹🌺 शुभ गुरुवार🌺 हर हर नर्मदे हर हर नर्मदे 🌺🙏🌻🙏🌻🥀🌹🚩

sanjay choudhary Mar 4, 2021
🙏🙏 ॐ भगवते वासुदेवाय नमः 🙏🙏 ।।।। शुभ प्र्भात् जी।।।। 🕉 *हँसते हुये चेहरों का अर्थ ये नही कि* *इनके जीवन में दुखों की* *गैरहाजिरी है,* *बल्कि* *इनके अन्दर* *परिस्थितियों को* *सँभालने की क्षमता है ।*🕉 *🌿🌹🙏🙏शुभप्रभात🙏🙏🌹🌿*

Sahdev Singh Mar 4, 2021
ज🙏🙏🍀🍀य माता शेरावाली दी🍀🍀🙏🙏

न प Mar 4, 2021
🌹ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🌹🙏🙏

RAJ RATHOD Mar 4, 2021
जय_श्री_विष्णु🙏🚩जय_श्री_राम_जी_🌹🌹

Surender Verma Mar 4, 2021
🙏राधे राधे राधे राधे 🙏जय श्री श्याम🙏

Ansouya M 🍁 Mar 4, 2021
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🌹🙏

RAM .. PARKASH .. Mar 4, 2021
सु प्रभात जी, ओम साईं राम जी जय श्री सांई राम जी,

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 16 मई 2021* ⛅ *दिन - रविवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077)* ⛅ *शक संवत - 1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म* ⛅ *मास - वैशाख* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - चतुर्थी सुबह 10:00 तक तत्पश्चात पंचमी* ⛅ *नक्षत्र - आर्द्रा सुबह 11:14 तक तत्पश्चात पुनर्वसु* ⛅ *योग - शूल 17 मई रात्रि 02:52 तक तत्पश्चात गण्ड* ⛅ *राहुकाल - शाम 05:31 से शाम 07:10 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:01* ⛅ *सूर्यास्त - 19:08* ⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण -* 💥 *विशेष - चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *धन और स्वास्थ्य की कमी दूर करने के लिए* 🌷 🙏🏻 *जिन लोगों के घर में धन और स्वास्थ्य सम्बन्धी कमी का एहसास नित्य होता है, पैसों की भी कमी रहती है और स्वास्थ्य में भी कभी कोई बीमार तो कभी कोई बीमार रहता हो उनके लिए पद्म पुराण में बताया है- वैशाख मास का एक प्रयोग | वैशाख मास की बहुत महिमा बताई है | वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को पद्म पुराण में उसको शर्करा सप्तमी कहा गया है । उस दिन पानी में सफ़ेद तिल मिलाकर भगवन्नाम सुमिरन करते हुए स्नान करें | फिर सूर्य भगवान की ओर मुख करके सूर्यदेव और माँ गायत्री को प्रणाम करें | सूर्य भगवान को इन मंत्रों से प्रणाम करें-* 🌷 *ॐ नम: सवित्रे | ॐ नम: सवित्रे | ॐ नम: सवित्रे |* *विश्व देव मयो यस्मात वेदवादी ति पठ्यसे |* *त्वमेवा मृतसर्वस्व मत: पाहि सनातन ||* 🌞 *ये मंत्र बोलकर सूर्यनारायण को व अन्य देवों को मन ही मन प्रणाम करें | अर्घ्य तो देते ही हैं | सूर्य भगवान को जो अर्घ्य ना दें वो आदमी हिंदू कहलाने के लायक नहीं है |* ➡ *ये कर लिया फिर दूसरे दिन हो सके तो अपने हाथों से दूध चावल की खीर बनाकर उसमें थोड़ा घी डालकर.. थोड़ा-सा भले ज्यादा ना डाल सके एक चम्मच डाल दें और किसी को .. १-२ व्यक्तियों को खिला दें | कोई ब्राह्मण हो, कोई साधू-महात्मा हो | खीर के साथ थोड़ा रोटी सब्जी दे दें किसी १ व्यक्ति को भी ।* 🙏🏻 *अगर ब्राह्मण न मिले, कोई साधू ना मिले तो छोटी बच्चियों को खिला दें | कन्या को खिला दो तो भी अच्छा है | ऐसा करने से ऐश्वर्य और आरोग्य दोनों की वृद्धि होती है |* 🙏🏻 *वैशाख शुक्ल सप्तमी को ही सुख और आरोग्य की वृद्धि के लिए पद्म पुराण में इस सप्तमी को 'कमल सप्तमी' भी कहा गया है | हो सके तो उस दिन १ कमल का फूल मिल जाये तो लोटे में जल भरा और कमल का पुष्प लोटे में डाल दिया और सूर्य भगवान को अर्घ्य दिया | कमल ना मिले तो कमल की जगह अक्षत भी डाल सकते हैं | कुम - कुम वाले अक्षत कर लिए और लोटे में डाल दिए क्योंकि वैदिक कर्मकांड में जो भी वस्तु उपलब्ध ना हो उस स्थान पर अक्षत लेने का विधान है | ये अपने देश के ग्रंथो की बड़ी दया है हम पर | ग्रंथो के रचयिता भगवान वेदव्यासजी की भी बड़ी कृपा है हम पर | इस तीर्थ धाम में हम भगवान वेदव्यासजी को भी बार-बार प्रणाम करते हैं | तो कमल ना मिला तो चावल तो सबके घर में होते ही है | कुम -कुम वाले चावल लोटे में डाल दिए और सूर्य भगवान को जल देते समय ये मंत्र बोलेंगे, साथ में सब बोलना -* 🌷 *नमस्ते पद्म हस्ताय नमस्ते विश्व धारणे ||* *दिवाकर नमस्तुभ्यम प्रभाकर नमोस्तुते ||* ➡ *वैशाख शुक्ल सप्तमी का खूब-खूब फायदा उठाइये और उस दिन जप भी खूब करिये गुरु मंत्र का |* 🙏🏻 *भविष्योत्तर पुराण में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को 'निम्ब सप्तमी' भी कहते हैं | उस दिन सूर्य देव को प्रणाम करके नीम् के पत्ते भी खाएं तो रोगों से मुक्ति प्राप्त होती है | जिनके शरीर में बीमारियाँ रहती हो पेट की, सिर दर्द की कोई भी तकलीफ रहती हो और वो कमबख्त मिट नहीं रही है, बड़ा परेशान कर रही है वो तकलीफ तो आप नीम के पत्ते वैशाख शुक्ल सप्तमी को सूर्य भगवान को अर्घ्य देकर प्रणाम करके फिर ये मंत्र बोलते हुए नीम के पत्ते खाएं । ये मंत्र बोलकर नीम के पत्ते खाने से आरोग्य की प्राप्ति हो सकती है हम दृढता से करें -* 👉🏻 *आजकल लोग अंग्रेजी बडबड करते हैं पर देव भाषा संस्कृत है | वो घर में बोली जानी चाहिए थी पर अब संस्कृत में आप और हम नहीं बोल सकते तो कम से कम ये संस्कृत के वैदिक-पौराणिक मंत्र बोलते हुए ये नियम करें तो घर में भी सुख-शांति बढती है |* 🌷 *निम्ब पल्लव भद्रनते सुभद्रं तेस्तुवई सदा |* *ममापि कुरु भद्रं वै त्राशनाद रोगा: भव ||* 🌿 *ये बोलकर नीम के पत्ते खा लेना | कोमल-कोमल धो कर खाना और उस दिन हो सके तो रात को पलंग पर नहीं धरती पर बिस्तर बिछाकर कम्बल आदि बिछाकर उस पर आराम करना| जिनको कोई भी रोग है वो यह करें |* 🙏🏻 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 जय श्री राधे राधे🙏🙏🚩🚩🚩

+63 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 353 शेयर
Ajay Awasthi May 16, 2021

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-:16/05/2021,रविवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष वैशाख """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------- चतुर्थी 10:00:27 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र----------------आर्द्रा11:12:45 योग-------------- शूल 26:49:27 करण--------- विष्टि भद्र 10:00:27 करण---------------- बव 22:51:12 वार------------------------- रविवार माह--------------------------वैशाख चन्द्र राशि------------------- मिथुन सूर्य राशि------------------- वृषभ रितु---------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत-----------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:31:08 सूर्यास्त----------------- 19:00:20 दिन काल--------------- 13:29:12 रात्री काल-------------- 10:30:15 चंद्रोदय---------------- 08:42:07 चंद्रास्त------------------ 23:07:11 लग्न---- वृषभ 1°13' , 31°13' सूर्य नक्षत्र----------------- कृत्तिका चन्द्र नक्षत्र-------------------आर्द्रा नक्षत्र पाया-------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* छ---- आर्द्रा 11:12:45 के---- पुनर्वसु 17:47:35 को---- पुनर्वसु 24:20:35 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= वृषभ 01°52 ' कृतिका , 2 ई चन्द्र = मिथुन 17°23 ' आर्द्रा , 4 छ बुध = वृषभ 23°57' रोहिणी' 4 वु शुक्र= वृषभ 14°55, रोहिणी ' 2 वा मंगल=मिथुन 19°30 ' आर्द्रा ' 4 छ गुरु=कुम्भ 05°22 ' धनिष्ठा , 4 गे शनि=मकर 19°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 17°38 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 17°38 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 17:19 - 19:00 अशुभ यम घंटा 12:16 - 13:57 अशुभ गुली काल 15:38 - 17:19 अशुभ अभिजित 11:49 -12:43 शुभ दूर मुहूर्त 17:12 - 18:06 अशुभ 💮चोघडिया, दिन उद्वेग 05:31 - 07:12 अशुभ चर 07:12 - 08:53 शुभ लाभ 08:53 - 10:35 शुभ अमृत 10:35 - 12:16 शुभ काल 12:16 - 13:57 अशुभ शुभ 13:57 - 15:38 शुभ रोग 15:38 - 17:19 अशुभ उद्वेग 17:19 - 19:00 अशुभ 🚩चोघडिया, रात शुभ 19:00 - 20:19 शुभ अमृत 20:19 - 21:38 शुभ चर 21:38 - 22:57 शुभ रोग 22:57 - 24:15* अशुभ काल 24:15* - 25:34* अशुभ लाभ 25:34* - 26:53* शुभ उद्वेग 26:53* - 28:12* अशुभ शुभ 28:12* - 29:31* शुभ 💮होरा, दिन सूर्य 05:31 - 06:39 शुक्र 06:39 - 07:46 बुध 07:46 - 08:53 चन्द्र 08:53 - 10:01 शनि 10:01 - 11:08 बृहस्पति 11:08 - 12:16 मंगल 12:16 - 13:23 सूर्य 13:23 - 14:31 शुक्र 14:31 - 15:38 बुध 15:38 - 16:45 चन्द्र 16:45 - 17:53 शनि 17:53 - 19:00 🚩होरा, रात बृहस्पति 19:00 - 19:53 मंगल 19:53 - 20:45 सूर्य 20:45 - 21:38 शुक्र 21:38 - 22:30 बुध 22:30 - 23:23 चन्द्र 23:23 - 24:15 शनि 24:15* - 25:08 बृहस्पति 25:08* - 26:01 मंगल 26:01* - 26:53 सूर्य 26:53* - 27:46 शुक्र 27:46* - 28:38 बुध 28:38* - 29:31 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान--------------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा चिरौंजी खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 1 + 1 = 6 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 10:00 तक समाप्त स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* एकाकिना तपो द्वाभ्यां पठनं गायनं त्रिभिः । चतुर्भिर्गमनं क्षेत्रं पंचभिर्बहुभी रणम् ।। ।।चा o नी o।। जब आप तप करते है तो अकेले करे. अभ्यास करते है तो दुसरे के साथ करे. गायन करते है तो तीन लोग करे. कृषि चार लोग करे. युद्ध अनेक लोग मिलकर करे. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 यज्ज्ञात्वा न पुनर्मोहमेवं यास्यसि पाण्डव ।, येन भुतान्यशेषेण द्रक्ष्यस्यात्मन्यथो मयि ॥, जिसको जानकर फिर तू इस प्रकार मोह को नहीं प्राप्त होगा तथा हे अर्जुन! जिस ज्ञान द्वारा तू सम्पूर्ण भूतों को निःशेषभाव से पहले अपने में (गीता अध्याय 6 श्लोक 29 में देखना चाहिए।,) और पीछे मुझ सच्चिदानन्दघन परमात्मा में देखेगा।, (गीता अध्याय 6 श्लोक 30 में देखना चाहिए।,)॥,35॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष नवीन वस्त्राभूषण की प्राप्ति होगी। यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। परीक्षा आदि में सफलता मिलेगी। पारिवारिक कष्ट एवं समस्याओं का अंत संभव है। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। आय से अधिक व्यय न करें। परोपकार में रुचि बढ़ेगी। 🐂वृष शत्रु सक्रिय रहेंगे। कुसंगति से हानि होगी। व्ययवृद्धि होगी। लेन-देन में सावधानी रखें, जोखिम न लें। किसी शुभचिंतक से मेल-मुलाकात का हर्ष होगा। संतान की आजीविका संबंधी समस्या का हल निकलेगा। लापरवाही से काम न करें। 👫मिथुन यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। डूबी हुई रकम प्राप्त होगी। आय में वृद्धि होगी। प्रमाद न करें। आकस्मिक लाभ व निकटजनों की प्रगति से मन में प्रसन्नाता रहेगी। परिश्रम से स्वयं के कार्यों में भी शुभ परिणाम आएँगे। क्रोध एवं उत्तेजना पर संयम रखें। 🦀कर्क कार्यस्थल पर परिवर्तन लाभ में वृद्धि करेगा। योजना फलीभूत होगी। नए अनुबंध होंगे। कष्ट होगा। पारिवारिक जिम्मेदारी बढ़ने से व्यस्तता बढ़ेगी। कार्य में नवीनता के भी योग हैं। संतान के व्यवहार से समाज में सम्मान बढ़ेगा। स्वास्थ्य खराब हो सकता है। 🐅सिंह कानूनी अड़चन दूर होगी। अध्यात्म में रुचि रहेगी। यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। रुके धन के लिए प्रयत्न जरूर करें। कार्य का विस्तार होगा। दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप से बचें। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। विलासिता के प्रति रुझान बढ़ेगा। 🙍‍♀️कन्या चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें, बाकी सामान्य रहेगा। प्रयास अधिक करने पर भी उचित सफलता मिलने में संदेह है। कार्य में विलंब के भी योग हैं। आर्थिक हानि हो सकती है। पारिवारिक जीवन तनावपूर्ण रहेगा। ⚖️तुला जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। राजकीय बाधा दूर होगी। बेचैनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। अर्थ प्राप्ति के योग बनेंगे। विवादों से दूर रहना चाहिए। पिता से व्यापार में सहयोग मिल सकेगा। सरकारी मसले सुलझेंगे। सकारात्मक सोच बनेगी। 🦂वृश्चिक बेरोजगारी दूर होगी। विवाद न करें। संपत्ति की खरीद-फरोख्त हो सकती है। आय बढ़ेगी। मन में उत्साहपूर्ण विचारों के कारण समय सुखद व्यतीत होगा। मकान व जमीन संबंधी कार्य बनेंगे। अनायास धन लाभ के योग हैं। व्यापार में वांछित उन्नति होगी। 🏹धनु रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी बड़े कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। प्रसन्नता बनी रहेगी। नए कार्यों से जुड़ने का योग बनेगा। पारिवारिक जीवन सुखद नहीं रहेगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। इच्छित लाभ होगा। नौकरी में कार्य की प्रशंसा हो सकती है। 🐊मकर बुरी खबर मिल सकती है। विवाद को बढ़ावा न दें। भागदौड़ रहेगी। आय में कमी होगी। किसी कार्य में प्रतिस्पर्धात्मक तरीके से जुड़ने की प्रवृत्ति आपके लिए शुभ रहेगी। राज्यपक्ष से लाभ होगा। अपने काम से काम रखें। दांपत्य सुख प्राप्त होगा। 🍯कुंभ मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। मान-सम्मान मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा। दूर रहने वाले व्यक्तियों से संपर्क के कारण लाभ हो सकता है। नई योजनाओं का सूत्रपात होने के योग हैं। कार्यक्षमता में वृद्धि होगी। व्यर्थ संदेह न करें। 🐟मीन मेहमानों का आवागमन होगा। व्यय होगा। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। अपने प्रयासों से उन्नति पथ प्रशस्त करेंगे। बुद्धि चातुर्य से कठिन कार्य भी आसानी से बनेंगे। व्यापार अच्छा चलेगा। व्यर्थ समय नष्ट न करें। रुका पैसा मिलेगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+68 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 172 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 15, 2021

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄 #सुप्रभातम 🌄 🗓 आज का #पञ्चाङ्ग 🗓 🌻रविवार, १६ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३५ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५७ चन्द्रोदय: 🌝 ०८:३३ चन्द्रास्त: 🌜२३:११ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 चतुर्थी (१०:०० तक) नक्षत्र 👉 आर्द्रा (११:१४ तक) योग 👉 शूल (२६:५२ तक) प्रथम करण 👉 विष्टि (१०:०० तक) द्वितीय करण 👉 बव (२२:५१ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 वृष चंद्र 🌟 मिथुन मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ रवियोग 👉 ०५:२३ से ११:१४ विजय मुहूर्त 👉 १४:३० से १५:२५ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:५० से १९:१४ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १७:२१ से १९:०४ राहुवास 👉 उत्तर यमगण्ड 👉 १२:१३ से १३:५६ होमाहुति 👉 बुध दिशाशूल 👉 पश्चिम अग्निवास 👉 पाताल (१०:०० से पृथ्वी) भद्रावास 👉 स्वर्ग (१०:०० तक) चन्द्रवास 👉 पश्चिम 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - उद्वेग २ - चर ३ - लाभ ४ - अमृत ५ - काल ६ - शुभ ७ - रोग ८ - उद्वेग ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - शुभ २ - अमृत ३ - चर ४ - रोग ५ - काल ६ - लाभ ७ - उद्वेग ८ - शुभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 पश्चिम-दक्षिण (पान का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ उपनयन संस्कार+विधा एवं अक्षरारम्भ+देवप्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०७:२१ से ११:१२ तक, चूड़ाकर्म संस्कार मुहूर्त प्रातः ०७:२१ से १२:२३ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज ११:१४ तक जन्मे शिशुओ का नाम आर्द्रा नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (छ) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम पुनर्वसु नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमश (के, को, ह, ही) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त वृषभ - २९:२२ से ०७:१७ मिथुन - ०७:१७ से ०९:३२ कर्क - ०९:३२ से ११:५३ सिंह - ११:५३ से १४:१२ कन्या - १४:१२ से १६:३० तुला - १६:३० से १८:५१ वृश्चिक - १८:५१ से २१:१० धनु - २१:१० से २३:१४ मकर - २३:१४ से २४:५५ कुम्भ - २४:५५ से २६:२१ मीन - २६:२१ से २७:४४ मेष - २७:४४ से २९:१८ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त रज पञ्चक - ०५:२३ से ०७:१७ शुभ मुहूर्त - ०७:१७ से ०९:३२ चोर पञ्चक - ०९:३२ से १०:०० शुभ मुहूर्त - १०:०० से ११:१४ रोग पञ्चक - ११:१४ से ११:५३ शुभ मुहूर्त - ११:५३ से १४:१२ मृत्यु पञ्चक - १४:१२ से १६:३० अग्नि पञ्चक - १६:३० से १८:५१ शुभ मुहूर्त - १८:५१ से २१:१० रज पञ्चक - २१:१० से २३:१४ शुभ मुहूर्त - २३:१४ से २४:५५ चोर पञ्चक - २४:५५ से २६:२१ शुभ मुहूर्त - २६:२१ से २७:४४ शुभ मुहूर्त - २७:४४ से २९:१८ चोर पञ्चक - २९:१८ से २९:२२ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन आपको कोई नई खुशी देकर जाएगा। धन लाभ उम्मीद ना होने पर भी अकस्मात होगा। कार्यो के प्रति गंभीर रहेंगे दिन भर की मेहनत का आंकलन संध्या के समय संतोषजनक रहेगा। आज आपके मन को भटकाने वाले प्रसंग भी बनेंगे सही दिशा में जा रहा कार्य किसी के गलत मार्गदर्शन से गलत होगा जिसे सुधारने में समय खराब करेंगे। महिलाए किसी कार्य पूर्ति को लेकर आशंकित रहेंगी धर्य ना खोये देर से ही सही सफलता अवश्य मिलेगी। धन संबंधित कार्य अन्य दिनों की तुलना में शीघ्र बनेंगे। आर्थिक रूप से सक्षम रहेंगे फिर भी कंजूस प्रवृति घर मे अथवा सहकर्मियों का आगे नीचा दिखाएगी। परिवार के बुजुर्ग अनदेखी होने पर व्यथित होंगे। सेहत सामान्य ही रहेगी। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज का दिन धैर्य से बिताने में ही भलाई है। मेहनत करने पर तुरंत लाभ की आशा ना रखें आज किया परिश्रम का फल संध्या बाद से दिखने लगेगा लेकिन प्राप्ति में अड़चनें आएंगी आज की तुलना में कल दिन ज्यादा बेहतर रहेगा। आज केवल आश्वासनो से ही काम चलाना पड़ेगा। मध्यान तक का समय कार्य व्यवसाय के लिये उतार चढ़ाव वाला रहेगा इसके बाद परिस्थिति से समझौता कर लेंगे स्वभाव में संतोष बनेगा। धन अथवा अन्य किसी भी प्रकार के वादे ना करें पूरे नही कर पाएंगे उलटे आलोचना ही होगी। घर का कोई सदस्य जिद पर अड़ेगा जिससे कुछ समय के लिये शांति भंग होगी। महिलाए अपने कार्य छोड़ अन्य के कार्य मे मीन मेख निकालेंगी यह झगड़े का कारण बनेगा। बदन दर्द स्नायु तंत्र में दुर्बलता रहेगी। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन मिश्रित फल प्रदान करेगा। कभी लाभ होता नजर आएगा अगले पल निराश होने पड़ेगा। घर एवं कार्य क्षेत्र पर मनमाना व्यवहार करेंगे इससे आप तो निश्चिन्त रहेंगे लेकिन संपर्क में रहने वालों को परेशानी आएगी। कार्य करते समय भी मन मौज शौक की ओर आकर्षित होगा। आज आप प्रलोभन में अनैतिक कार्य करने से भी परहेज नही करेंगे इससे धन लाभ शीघ्र तो होगा साथ मे नई समस्या भी बढ़ेगी जिसके परिणाम निकट भविष्य में भुगतने पड़ेंगे। व्यवसायी वर्ग नए कार्य मे निवेश कर सकते है इसके निकट भविष्य में संतोषजनक परिणाम मिलेंगे। घर के सदस्य अपने कामो में मस्त रहेंगे। कफ अथवा अन्य ठंड संबंधित समस्या हो सकती है। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज भी दिनचार्य संघर्ष वाली रहेगी। दिन के आरम्भ से ही मन किस अरिष्ट की आशंका से व्याकुल रहेगा हानि की सम्भवना के कारण बड़ा कार्य करने से डरेंगे लेकिन दैनिक कार्य थोड़े विलम्ब से पूर्ण हो जाएंगे। घर अथवा कार्य क्षेत्र पर टूट-फुट अथवा अन्य कारणों से हानि होने का भय है। आर्थिक मामले अधूरे रहने के कारण धन संबंधित समस्या भी रहेगी खर्च चलाना भी आज भारी पड़ेगा। किसी से लिये उधार अतिशीघ्र वापस करने का प्रयास करें। परिजन आपकी मनोदशा को जानते हुए भी अनदेखा करेंगे मित्र परिचित केवल औपचारिक व्यवहार रखेंगे। दिन भर मानसिक बोझ बना रहेगा। संध्या बाद से थोड़ी राहत मिलने लगेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज के दिन सुख शांति में वृद्धि होगी लेकिन शरीर मे कोई नया विकार भी बनेगा। आज आप की कार्य गति थोड़ी धीमी रहेगी कोई भी कार्य एकदम सर पर आने पर ही करेंगे फिर भी अन्य लोगो की तुलना में जल्दी और अधिक सफाई रहेगी। मध्यान के बाद स्वभाव में तेजी आएगी कार्य-व्यवसाय से लाभ आशाजनक रहेगा फिर भी सन्तोष नही होगा अधिक पाने की लालसा परेशानी में डालेंगी धर्य से काम लें। नौकरी वाले लोग महत्त्वपूर्ण कार्य सम्पन्न होने पर प्रसन्न रहेंगे अधिकारी वर्ग से काम निकालने के लिये आज दिन उपयुक्त है। व्यवसायी वर्ग धन का निवेश करने से बचे आने वाले समय मे व्यवधान आएंगे। सेहत भी संध्या बाद प्रतिकूल होने लगेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन वैसे तो आपके लिये कुछ ना कुछ लाभ ही देगा लेकिन आज आपके द्वारा कोई ऐसा काम हो सकता है जिसका पछतावा लंबे समय तक रहेगा। दिन के पहले भाग से लेकर दोपहर बाद तक भागदौड़ व्यर्थ लगेगी फिर भी व्यवहार पूर्ति के लिये करनी पड़ेगी इसके बाद का समय आकस्मिक लाभ दिलाएगा लेकिन ध्यान रहे यहाँ लापरवाही करने पर लाभ हानि में भी बदल सकता है। धन लाभ मेहनत की।तुलना में कम फिर भी संतोषजनक हो ही जायेगा। कार्य क्षेत्र पर विस्तार करने के अवसर मिलेंगे धन निवेश से ना डरें भविष्य में दुगुना होकर मिलेगा। घर मे संध्या तक स्थिति सामान्य रहेगी इसके बाद कोई हानिकर समाचार मिल सकता है। सेहत में भी गिरावट दर्ज होगी। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन थोड़ा उठापटक वाला रहेगा। आज एक समय मे मन दो कार्यो में भटकने के कारण मनचाही सफलता नही मिल पाएगी। विपरीत लिंगीय आकर्षण भी अधिक रहेगा जिसके चलते किसी की अनुचित मांग पूरा करने में संकोच नही करेंगे लेकिन याद रहे बाद में यह आत्मग्लानि का कारण भी बनेगा। मध्यान बाद कार्य व्यवसाय से लाभ की आशा जागेगी परन्तु मेहनत इसकी तुलना में कम रहने के कारण बाद में ले देकर काम निकालना पड़ेगा। व्यर्थ समय खराब करते वक्त ध्यान रहे आज कीगई मेहनत आने वाले दिनों में जीवन की दिशा बदल सकती है। पारिवारिक जन को गुमराह करने का प्रयास करेंगे यह बाद में कलह का कारण बनेगा। सेहत में छोटे मोटे विकार लगे रहेंगे। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन मन कार्य में आ रही बाधा के कारण अशान्त रहेगा। शारीरिक सामर्थ्य भी आज कम ही रहेगा फिर भी जबरदस्ती करेंगे। व्यवसायी वर्ग अधूरे कार्य पर ज्यादा ध्यान दें आज धन पाने का यही एक साधन है। मध्यान तक स्थिति अनियंत्रित रहेगी चाह कर भी मन के अनुसार काम नही कर पाएंगे लेकिन दोपहर बाद थोड़ा बदलाव आने लगेगा किसी की सहायता मिलने पर जटिल कार्य आसानी से पूर्ण कर लेंगे। पूर्व में किये गलत आचरण का आज भुगतान भी करना पड़ेगा। स्वभाव में चिड़चिड़ा पन रहेगा अकारण ही परिजन अथवा सहकर्मियों पर क्रोध करेंगे आस-पड़ोसी आपके प्रति सांत्वना रखेंगे लेकिन आपका व्यवहार विपरीत ही रहेगा। लोभ से दूर रहें। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज का दिन भी आपके लिये अनुकूल बना हुआ है जिस भी कार्य मे हाथ डालेंगे उसमे अन्य लोगो की तुलना में शीघ्र सफलता मिल सकती है। लेकिन व्यवहारिकता की कमी अथवा स्वार्थी वृति कुछ अभाव भी बनाएगी। कार्य क्षेत्र पर धन को लेकर आज किसी भी प्रकार का समझौता नही करेंगे लेकिन अपना काम बनाने के लिये आवश्यकता से अधिक धन लुटाएंगे। पुराने कार्य मे विलम्ब होने पर कहासुनी होगी लेकिन धन की आमद हो जाने के बाद इनको भूल जाएंगे। सहकर्मी अथवा परिजन आपसे कोई अनैतिक मांग करेंगे जिस पूर्ण करने में खासी परेशानी आएगी। घर का वातावरण छोटी मोटी उलझनों को छोड़ ठीक ही रहेगा। स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज भी दिन आपके पक्ष में रहेगा लेकिन आज आपके अंदर समझ की कमी भी रहेगी सही की जगह गलत बातो का समर्थन करना घर अथवा बाहर वैचारिक मतभेद बनाएगा। कार्य व्यवसाय एवं दैनिक कार्यो में आज परिश्रम अधिक करना पड़ेगा परन्तु इसका परिणाम सकारत्मक ही रहेगा। आज आपको सहयोग भी बिन मांगे मिल जायेगा अपने कार्य समय से पूर्ण कर लेंगे लेकिन अन्य लोगो की सहायता करने में टालमटोल करेंगे घरेलू कार्य की अनदेखी करने पर ताने सुनने को मिलेंगे। धन की आमाद निश्चित होगी सामाजिक व्यवहार इसके कम या अधिक होने में महत्त्वपूर्ण रहेगा। सेहत आज ठीक ही रहेगी फिर भी खाना समय पर खाये। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज के दिन आप पिछली गलतियों से सीख लेंगे। व्यवहार में सुधार करेंगे मीठा बोलकर अपना स्वार्थ सिद्ध कर लेंगे। घर के सदस्य बजट से अधिक मांग कर दिनचार्य को जटिल बनाएंगे आज दिन भर धन संबंधित मामले दिमाग मे चलते रहेंगे फिर भी आज धन की तुलना में बौद्धिक क्षमता की उन्नति अधिक होगीं। मध्यान के आस पास सगे संबंधियों से किसी बात को लेकर टकराव होने की संभावना है आज स्वभाव की नरमी बात बढ़ेंगे नही देगी लेकिन मानसिक बेचैनी जरूर रहेगी। कार्य व्यवसाय में उन्नति होगी पर धन लाभ के लिये इंतजार करना पड़ेगा। बाहर घूमे के प्रसंग बनेंगे परन्तु अंत समय मे टल भी सकते है। मानसिक अंतर्द्वन्द को छोड़ सेहत ठीक रहेगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज भी बचते बचते कलह होने की संभावना है आज स्वभाव में नरमी रखना अत्यंत आवश्यक है। आप जल्दी से किसी विवाद में नही पड़ेंगे लेकिन वातावरण ही ऐसा बनेगा ना चाहकर भी क्रोध आयेगा। आर्थिक कारणों से घर एवं कार्य क्षेत्र पर खींच तान होगी। भाई बंधुओ से किसी पुराने विवाद को लेकर तीखी झड़प होने की संभावना है बेतुकी बयानबाजी से बचें अन्यथा स्थिति अनियंत्रित हो सकती है। नई सरकारी उलझने भी बनने के आसार है अनैतिक गतिविधियोंसे स्वयं को दूर रखें। महिला वर्ग भी आज आवश्यकता पड़ने पर ही अपना विचार रखें अन्यथा मान हानि हो सकती हैं। आज धन लाभ की आशा कम ही रखें बस खर्च ही निकाल पाएंगे। सेहत में सुधार आएगा पर अपनी ही गलती से समस्या दोबारा हो सकती है। अति आवश्यक कार्यो के लिये संध्या का इंतजार करें। 🌐http://www.vkjpandey.in 〰〰〰〰〰〰〰〰〰 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+35 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 167 शेयर

🏵️🕉️शुभ रविवार🏵️शुभ प्रभात् 🕉️🏵️ 2078-विजय श्री हिंदू पंचांग-राशिफल-1943 🏵️-आज दिनांक--16.05.2021-🏵️ श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 74.30 - रेखांतर मध्यमान - 75.30 शिक्षा नौकरी आजीविका प्रेम विवाह भाग्योदय (प्रामाणिक जानकारी--प्रभावी समाधान) --------------------------------------------------------- -विभिन्न शहरों के लिये रेखांतर(समय) संस्कार- (लगभग-वास्तविक समय के समीप) दिल्ली +10मिनट---------जोधपुर -6 मिनट जयपुर +5 मिनट------अहमदाबाद-8 मिनट कोटा +5 मिनट-------------मुंबई-7 मिनट लखनऊ +25 मिनट------बीकानेर-5 मिनट कोलकाता +54 मिनट-जैसलमेर -15 मिनट ____________________________________ _____________आज विशेष______________ पारिवारिक अशांति निवारक सहज प्रयोग _____________________________________ आज दिनांक....................... 16.05.2021 कलियुग संवत्.............................. 5123 विक्रम संवत............................... . 2078 शक संवत................................... ..1943 संवत्सर................................... .श्री राक्षस अयन..................................... . उत्तरायण गोल............................................ ..उत्तर ऋतु............................................. .ग्रीष्म मास........................................... वैशाख पक्ष............................................. शुक्ल तिथि.............चतुर्थी. प्रातः 10.01 तक/पंचमी वार.............................................रविवार नक्षत्र.......आर्द्रा. पूर्वाह्न. 11.13 तक / पुनर्वसु चंद्र राशि...............+ .मिथुन. संपूर्ण (अहोरात्र) योग................ ..शूल. रात्रि. 2.49 तक / गंड करण.............. विष्टि(भद्रा) प्रातः 10.01 तक करण.............बव. रात्रि. 10.51 तक / बालव _____________________________________ सूर्योदय............................. .5.47.22 पर सूर्यास्त...............................7.08.36 पर दिनमान................................ 13.21.14 रात्रिमान................................10.38.17 चंद्रोदय................ प्रातः 9.00.32 AM पर चंद्रास्त............... रात्रि. 11.14.17 PM पर राहुकाल........ सायः 5.28 से 7.09 (अशुभ) यमघंट.. अपरा. 12.28 से 2.08 तक(अशुभ) अभिजित..... . (मध्या)12.01 से 12.55 तक पंचक................................. आज नहीं है शुभ हवन मुहूर्त(अग्निवास)....... आज नहीं है दिशाशूल..............................पश्चिम दिशा दोष निवारण........ घी का सेवन कर यात्रा करें ____________________________________ ____आज की सूर्योदय कालीन ग्रह स्थिति____ ग्रह स्पष्ट.. राशि.. सूर्य------वृषभ 1°13' कृत्तिका, 2 ई चन्द्र ------मिथुन 17°16' आद्रा, 4 छ बुध-------वृषभ 23°4' रोहिणी, 4 वु शुक्र ----वृषभ 14°23' रोहिणी,2 वा मंगल----मिथुन 19°34' आद्रा, 4 छ बृहस्पति ----कुम्भ 6°3' धनिष्ठा, 4 गे शनि -----मकर 19°24' श्रवण, 3 खे राहू----वृषभ 17°38' रोहिणी, 3 वी केतु----वृश्चिक 17°38' ज्येष्ठा, 1 नो ___________________________________ चौघड़िया (दिन-रात)........केवल शुभ कारक * चौघड़िया दिन * चंचल.................प्रातः 7.28 से 9.08 तक लाभ................प्रातः 9.08 से 10.48 तक अमृत..........पूर्वाह्न. 10.48 से 12.28 तक शुभ.................अपरा. 2.08 से 3.48 तक * चौघड़िया रात्रि * शुभ.......... सायं-रात्रि. 7.09 से 8.28 तक अमृत.............. .रात्रि. 8.28 से 9.48 तक चंचल..............रात्रि. 9.48 से 11.08 तक लाभ...रात्रि. 1.48 AM से 3.07 AM. तक शुभ.....रात्रि. 4.27 AM से 5.47 AM तक (विशेष - ज्योतिष शास्त्र में एक शुभ योग और एक अशुभ योग साथ साथ आते हैं तो शुभ योग की स्वीकार्यता मानी गई है ) ___________________________________ *शुभ शिववास की तिथियां* शुक्ल पक्ष-2-----5-----6---- 9-------12----13. कृष्ण पक्ष-1---4----5----8---11----12----30. ____________________________________ जानकारी विशेष -यदि किसी बालक का जन्म गंड मूल(रेवती, अश्विनी, अश्लेषा, मघा, ज्येष्ठा और मूल) नक्षत्रों में होता है तो नक्षत्र शांति को आवश्यक माना गया है.. आज जन्मे बालकों का नक्षत्र के चरण अनुसार राशिगत नामाक्षर.. 11.13 AM तक----आर्द्रा -----4------(छ) 05.48 PM तक--पुनर्वसु-----1------(के) 12.21 AM तक--पुनर्वसु-----2-----(को) उपरांत रात्रि तक--पुनर्वसु-----3------(ह) (पाया-रजत) __________सभी की राशि मिथुन _________ ____________________________________ ____________आज का दिन______________ दिनांक.............................. 16.05 2021 तिथि.............. वैशाख शुक्ला चतुर्थी रविवार दिन विशेष.............. भद्रा. प्रातः 10.01 तक व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष.......................................नहीं सर्वा.सि.योग................................... नहीं सिद्ध रवियोग...... .प्रातः5.47 से 11.13 AM ____________________________________ _____________कल का दिन_____________ दिनांक............................. .17.05 2021 तिथि............ . वैशाख शुक्ला पंचमी सोमवार दिन विशेष................ श्री शंकराचार्य जयंती दिन विशेष.....................श्री सूरदास जयंती दिन विशेष..............श्री रामानुजाचार्य जयंती व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष...................................... नहीं सर्वा.सि.योग........ अपरा. 1.21 से रात्रि पर्यंत सिद्ध रवियोग....... अपरा. 1.21 से रात्रि पर्यंत ___________________________________ _____________आज विशेष ____________ पारिवारिक अशांति निवारक प्रयोग... साधारणतया प्रत्येक परिवार में कुछ अशांति या अशुभता की स्थिति प्रायः नजर आती है। सांसारिक जीवन में पंच तत्वों से युक्त मानव शरीर से सभी जन विज्ञ हैं यथा पृथ्वी, आकाश, जल, वायु और अग्नि। कहा है कि ‘यथा पिंडे तथा ब्रह्माण्डे’। सारे ग्रह, राशियां, नक्षत्र, प्राणी एवं घर सभी इनके आधार पर संचालित होते हैं। अतः निम्नांकित उपाय नियमित करने से आम तौर पर पारिवारिक खुशियों का वातावरण बना रहेगा। उपाय: - हमेशा मिट्टी के जल पात्र (मटकी, घड़ा, सुराही) का ही जल पियें। इससे शनि, राहु, केतु ग्रह शांत रहते हैं। - घर में तुलसी का पौधा लगाएं। प्रतिदिन प्रातः व सायं घी का दीपक करें। इससे घर का वास्तु दोष संतुलित रहता है तथा बुध, चंद्र व आंशिक शुक्रादि ग्रह शांत रहते हैं। घर की छत पर ईशान कोण में तुलसी का पौधा रखें, नित्य जल चढ़ाएं (रविवार को छोड़कर)। इससे मंगल व सूर्य ग्रह शांत व प्रसन्न रहते हैं जिससे धंधा एवं भवन संबंधी कार्य होता है। - परिवार में शयन कक्ष हमेशा स्वच्छ व सुगंधित रखें। लकड़ी के ही पलंग पर शयन करें तथा उसके सभी पायों के नीचे ताम्बे के प्लेट रखें। इससे बुध, शुक्र व केतु ग्रह शांत व प्रसन्न रहते हैं तथा परिवार में रोग निवारण होता है। - यदि आपकी रसोई उचित दिशा आग्नेय (दक्षिण-पूर्व) कोण में नहीं है तो रसोई के ईशान कोण (उत्तर-पूर्व) में सिन्दूरी रंग के गणपति स्थापित करें, धन-धान्य एवं समृद्धि की बहार रहेगी और दुर्घटनाओं का खतरा भी नहीं होगा। - घर की छत पर नैर्ऋत्य (दक्षिण-पश्चिम) में लाल, पीली, नीली, सफेद व हरे पंचरंगी पताका (ध्वजा) फहराएं। इससे सूर्य व गुरु ग्रह ही नहीं बल्कि सभी नवग्रह प्रसन्न व शांत रहते हैं तथा समस्त पीड़ाकारक दोषों का निवारण होता है। - पितृ दोष निवारण के लिए बुजुर्गों की प्रसन्नता के लिए और आपके घर में शांति के लिए, नौकरी कारोबार में उन्नति के लिए प्रतिदिन प्रातः और सायंकाल परिण्डे (पीने के पानी रखने का स्थान) के पास दीपक जलायें। - प्रत्येक रविवार को जल में इत्र मिलाकर प्रातःकाल सूर्योदय वेला एवं सूर्योदय होने पर सूर्य को अघ्र्य दें तथा ‘ऊँ हिरण्यगर्भाय नमः’ मंत्र का जाप करते हुए एक माला (108 नाम) फेरंे। - प्रत्येक शनिवार को सायं काल पीपल वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। - राहु की शांति के लिए तथा पितरों की शांति के लिए परिण्डे पर प्रतिदिन सायं काल घी का दीपक जलायें। बुजुर्गों का सम्मान करें। - प्रत्येक मंगलवार को शुद्ध होकर प्रातः काल श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमानजी के मंदिर में दर्शन करें तथा गुड़ के प्रसाद का भोग लगायें। लोबान धूप कर सकें तो और भी अच्छा होगा। - प्रत्येक शनिवार को श्री हनुमानजी को गुलकंद युक्त मीठा पान चढ़ायें तथा ‘ऊँ पवनपुत्राय नमः‘ मंत्र की एक माला (108 नाम) जपें। ---------------------------------------------------------- *संकलनकर्त्ता* श्री ज्योतिष सेवाश्रम सेवाश्रम संस्थान (राज) ___________________________________ ___________आज का राशिफल__________ मेष-(चू चे चो ला ली लू ले लो अ) आज किसी दोस्त की बेरुख़ी आपको नाराज़ करेगी। लेकिन ख़ुद को शांत रखें। इस बात को परेशानी न बनने दें और इससे बचने की कोशिश करें। जो लोग काफी वक्त से आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे उन्हें आज कहीं से धन प्राप्त हो सकता है जिससे जीवन की कई परेशानियां दूर हो जाएंगी। परिवार के लोगों से अपनी परेशानियां साझा करके आप हल्का महसूस करते हैं, लेकिन कई बार आप अपने अहम को आगे रखकर घर वालों को जरुरी बातें नहीं बताते। आपको ऐसा नहीं करना चाहिए ऐसा करके परेशानी और भी बढ़ेगी कम नहीं होगी। दिन को ख़ास बनाने के लिए स्नेह और उदारता के छोटे-छोटे तोहफ़े लोगों को दें। आज घर के लोगों के साथ बातचीत करते दौरान आपके मुंह से कोई ऐसी बात निकल सकती है जिससे घर के लोग नाराज हो सकते हैं। इसके बाद घर के लोगों को मनाने में आपका काफी समय जा सकता है। मुमकिन है कि आपके माता-पिता आपके जीवनसाथी को कुछ शानदार आशीर्वाद दें, जिसके चलते आपके वैवाहिक जीवन में और निखार आएगा। हमेशा आप अपनी बातों को सही मान लेते हैं। ऐसा करना सही नहीं है आपने विचारों को लचीला बनाएं। वृषभ-(इ उ एओ वा वी वू वे वो) आपका उदार स्वभाव आज आपके लिए कई ख़ुशनुमा पल लेकर आएगा। आज किसी विपरीत लिंगी की मदद से आपको करोबार या नौकरी में आर्थिक लाभ होने की संभावना है। आपके बच्चे के पुरुस्कार वितरण समारोह का बुलावा आपके लिए ख़ुशनुमा एहसास रहेगा। वह आपकी उम्मीदों पर खरा उतरेगा और आप उसके ज़रिए अपने सपने साकार होते हुए देखेंगे। आप महसूस करेंगे कि प्यार में बहुत गहराई है और आपका प्रिय आपको सदा बहुत प्यार करेगा। अपने शरीर को दुरुस्त करने के लिए आज भी आप कई बार सोचेंगे लेकिन बाकी दिनों की तरह भी आज यह प्लान धरा का धरा रह जाएगा। जब आप अपने जीवनसाथी से भावनात्मक तौर पर जुड़ते हैं, तो नज़दीकी अपने आप महसूस की जा सकती है। अगर आपकी आवाज सुरीली है तो कोई गाना गाकर आप अपने प्रेमी को आज खुश कर सकते हैं। मिथुन- (क की कू घ ङ छ के को ह) आपके बारे में सिर्फ़ आप जानते हैं कि आपके लिए क्या बेहतर है, इसलिए मज़बूत और स्पष्टवादी बनें तथा फ़ैसले तुरन्त लें और उनके परिणामों का सामना करने के लिए तैयार रहें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। आपके आकर्षण और व्यक्तित्व के ज़रिए आपको कुछ नए दोस्त मिलेंगे। आज अपने प्रिय को माफ़ करना न भूलें। अगर आप किसी विवाद में उलझ जाएँ तो तल्ख़ टिप्पणी करने से बचिए। आपका जीवनसाथी आपसे नाराज़ हो सकता है, क्योंकि आप उनसे कोई बात साझा करना भूल गए थे। किसी अच्छे स्पा में जाकर आप तरोताज़ा महसूस कर सकते हैं। कर्क- (ही हू हे हो डा डी डू डे डो) आज अपने ख़राब मूड को शादीशुदा ज़िंदगी में तनाव का कारण न बनने दें। इससे बचने की कोशिश करें, नहीं तो बाद में पछताना पड़ेगा। किसी करीबी रिश्तेदार की मदद से आज आप अपने करोबार में अच्छा कर सकते हैं जिससे आपको आर्थिक लाभ भी होगा। जो लोग आपके क़रीब हैं, वे आपका ग़लत फ़ायदा उठा सकते हैं। शाम को प्रिय के साथ रोमांटिक मुलाक़ात और साथ में कहीं अच्छा खाना खाने के लिहाज़ से बढ़िया दिन है। यात्राओं से तुरंत लाभ तो नहीं होगा, लेकिन इसके चलते अच्छे भविष्य की नींव रखी जाएगी। आज से पहले शादीशुदा ज़िन्दगी इतनी अच्छी कभी नहीं रही। वक्त कैसे गुजर जाता है इस बात का अहसास आज आपको अपने किसी पुराने मित्र से मिलकर हो सकता है। सिंह- (मा मी मू मे मो टा टी टू टे) आज आपका ग़ुस्सा राई का पहाड़ बना सकता है, जो आपके परिवार को नाराज़ कर सकता है। वे लोग ख़ुशक़िस्मत हैं जो अपने ग़ुस्से पर क़ाबू रख सकते हैं। इससे पहले कि आपका ग़ुस्सा आपको ख़त्म करे, आप उसे ख़त्म कर दें। धन की आवाजाही आज दिन भर होती रहेगी और दिन ढलने के बाद आप बचत करने में भी सक्षम हो पाएंगे। आपको परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ बिताने के लिए पर्याप्त समय मिलेगा। जिनकी सगाई हो चुकी है, वे अपने मंगेतर से बहुत-सी ख़ुशियाँ पाएंगे। यह दिन बेहतरीन दिनों में से एक हो सकता है। आज दिन में आप कई अच्छे प्लान भविष्य के लिए बना सकते हैं लेकिन शाम के वक्त किसी दूर के रिश्तेदार के घर में आ जाने के कारण आपके सारे प्लान धरे के धरे रह सकते हैं। आपका जीवनसाथी आपकी बहुत तारीफ़ करेगा और आप को बहुत स्नेह देगा । आपकी बातों को आपके घर वाले आज गौर से नहीं सुनेंगे इसलिए आज उनपर आपका गुस्सा फूट सकता है। कन्या- (टो प पी पू ष ण ठ पे पो) आज आपकी उम्मीद एक महक से भरे हुए ख़ूबसूरत फूल की तरह खिलेगी। आपकी लगन और मेहनत पर लोग ग़ौर करेंगे और आज इसके चलते आपको कुछ वित्तीय लाभ मिल सकता है। घर के माहौल की वजह से आप उदास हो सकते हैं। आज आप ऐसे इंसान से मिल सकते हैं, जो आपको ख़ुद अपनी ज़िन्दगी से ज़्यादा चाहता होगा। आज आपको ढेरों दिलचस्प निमंत्रण मिलेंगे- साथ ही आपको एक आकस्मिक उपहार भी मिल सकता है। अगर आप वैवाहिक तौर पर लंबे समय से कुछ नाख़ुश हैं, तो आज के दिन आप हालात बेहतर होते हुए महसूस कर सकते हैं। अगर आप किसी नए काम की शुरुआत कर रहे हैं तो आज का दिन आपके लिए अच्छा है। तुला- (रा री रू रे रो ता ती तू ते) आज आपकी सबसे बड़ी पूंजी आपकी हँसने-हँसाने की शैली है, अपनी बीमारी को ठीक करने के लिए इसका उपयोग करके देखें। आज बिना किसी की मदद के ही आप धन कमा पाने में सक्षम होंगे। दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शाम के आयोजन में शिरकत करें। यह दिन प्रसन्नता और ज़िन्दादिली के साथ किसी ख़ास संदेश को भी देगा । आपका व्यक्तित्व ऐसा है कि ज्यादा लोगों से मिलकर आप परेशान हो जाते हैं और फिर अपने लिए वक्त निकालने की कोशिश करने लग जाते हैं। इस लिहाज से आज का दिन आपके लिए बहुत अच्छा रहने वाला है। आज आपको अपने लिए पर्याप्त समय मिलेगा। आज आप अपने जीवनसाथी के साथ कुछ बेहतरीन पल गुज़ार सकेंगे। परिवार में किसी सदस्य के साथ कहा-सुनी के चलते माहौल थोड़ा बोझिल हो सकता है, लेकिन यदि आप स्वयं को शान्त रखें व धैर्य से काम लें तो सबका मूड बढ़िया कर सकते हैं। वृश्चिक- (तो ना नी नू ने नो या यी यू) आज अपने बच्चे का प्रदर्शन आपको बहुत ख़ुशी देगा। जीवनसाथी से पैसों से जुड़े किसी मुद्दे को लेकर आज बहस होने की आशंका है। आज आपकी फिजुलखर्ची पर आपका साथी आपको लेक्चर दे सकता है। ऐसे कामों में सहभागिता करने के लिए अच्छा समय है, जिसमें युवा लोग जुड़े हों। रोमांटिक मुलाक़ात आपकी ख़ुशी में तड़के का काम करेगी। जब आपसे राय पूछी जाए तो संकोच न करें- क्योंकि इसके लिए आपकी काफ़ी तारीफ़ होगी। आज आप एक बार फिर समय में पीछे जाकर शादी के शुरुआती दिनों के प्यार को महसूस कर सकते हैं। किसी सहकर्मी की अचानक तबीयत खराब होने पर आज आप उनका भरपूर सहयोग दे सकते हैं। धनु-ये यो भा भी भू धा फा ढ़ा भे) आज आपका विनम्र स्वभाव सराहा जाएगा। कई लोग आपकी ख़ासी तारीफ़ कर सकते हैं। आपकी लगन और मेहनत पर लोग ग़ौर करेंगे और आज इसके चलते आपको कुछ वित्तीय लाभ मिल सकता है। आपका मज़ाकिया स्वभाव आपके चारों ओर के वातावरण को ख़ुशनुमा बना देगा। रोमांस के लिहाज़ से रोमांचक दिन है। शाम के लिए कोई ख़ास योजना बनाएँ और जितना हो सके, इसे उतना रुमानी बनाने की कोशिश करें। आज सोच-समझकर क़दम बढ़ाने की ज़रूरत है- जहाँ दिल की बजाय दिमाग़ का ज़्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। आज के दिन आप वैवाहिक जीवन का असली स्वाद चख सकते हैं। दिन के पहले भाग में ख़ुद को थोड़ा अलसाहट भरा महसूस कर सकते हैं, लेकिन अगर आप घर से बाहर निकलने की हिम्मत जुटाएँ तो काफ़ी काम किया जा सकता है। मकर- (भो जा जी खी खू खे खो गा गी) आज किसी पुराने दोस्त से मुलाक़ात आपका मन ख़ुश कर देगी। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को आज धन की बहुत आवश्यकता पड़ेगी लेकिन बीते दिनों में किये गये फिजुलखर्च के कारण उनके पास पर्याप्त धन नहीं होगा। आपकी भरपूर ऊर्जा और ज़बरदस्त उत्साह सकारात्मक परिणाम लाएंगे व घरेलू तनाव दूर करने में मददगार रहेंगे। अपने प्रिय की बातों के प्रति आप ज़रूरत से ज़्यादा संवेदनशील रहेंगे- आपको अपने जज़्बात पर क़ाबू रखने की ज़रूरत है और ऐसा कुछ करने से बचें जो मामले को और भी बिगाड़ दे। काम को समय पर निपटाकर जल्दी घर जाना आज आपके लिए अच्छा रहेगा इससे आपके परिवार वालों को भी खुशी मिलेगी और आप भी तरोताजा महसूस करेेंगे। मुश्किल हालात से उबरने में आपके जीवनसाथी की तरफ़ से ज़्यादा सहयोग नहीं हासिल होगा। अगर आज कुछ ज़्यादा करने को नहीं है तो किसी लाइब्रेरी में समय बिताना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। कुंभ- (गू गे गो सा सी सू से सो द) आज आपकी इच्छाओं और महत्वाकांक्षाओं पर डर का साया पड़ सकता है। इसका सामना करने के लिए आपको उपयुक्त सलाह की ज़रूरत है। बीते दिनों में जितना धन आपने आज को बेहतर बनाने के लिए इनवेस्ट किया था उसका फायदा आज आपको फायदा मिल सकता है। आज आप जिस सामाजिक कार्यक्रम में जाएंगे, वहाँ आप सबके ध्यान का केन्द्र होंगे। जिसे आप चाहते हैं, उसके साथ आपका तल्ख़ रवैया आपके रिश्ते में दूरी बढ़ा सकता है। दीर्घावधि में कामकाज के सिलसिले में की गयी यात्रा फ़ायदेमंद साबित होगी। ज़रूरत के वक़्त आपका जीवनसाथी आपके परिवार की अपेक्षा अपने परिवार को ज़्यादा तरजीह देता हुआ नज़र आ सकता है। किसी ऐसे इंसान के साथ समय बिताना जिसका साथ आपको बहुत पसंद न हो, आपकी खीझ की वजह हो सकता है। इसलिए सोच-समझकर फ़ैसला करें कि आप किसके साथ बाहर जाने वाले हैं। मीन- (दी दू थ झ ञ दे दो च ची) आज आप उदास और अवसादग्रस्त न हों। आपकी मनोकामनाएं दुआओं के ज़रिए पूरी होंगी और सौभाग्य आपकी तरफ़ आएगा- और साथ ही पिछले दिन की मेहनत भी रंग लाएगी। कोशिश करें की कोई आपकी बातों या काम से आहत न हो और पारिवारिक ज़रूरतों को समझें। विवाहेतर प्रेम संबंध आपकी प्रतिष्ठा धूमिल कर सकते हैं। आज इस राशि के कुछ छात्र लेपटॉप या टीवी पर कोई मूवी देखकर अपना कीमती समय जाया कर सकते हैं। आस-पड़ोस की किसी सुनी-सुनाई बात को लेकर आपका जीवनसाथी तिल-का-ताड़ बना सकता है।सफर करते दौरान आज किसी विपरीत लिंगी शख्स से आपकी आंखें चार हो सकती हैं। __________________________________ 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ - संकलनकर्त्ता- ज्योतिर्विद् पं. रामपाल भट्ट श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ __________________________________

+32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 102 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 15, 2021

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 16 मई 2021 ⛅ दिन - रविवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म  ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल  ⛅ तिथि - चतुर्थी सुबह 10:00 तक तत्पश्चात पंचमी ⛅ नक्षत्र - आर्द्रा सुबह 11:14 तक तत्पश्चात पुनर्वसु ⛅ योग - शूल 17 मई रात्रि 02:52 तक तत्पश्चात गण्ड ⛅ राहुकाल - शाम 05:31 से शाम 07:10 तक  ⛅ सूर्योदय - 06:01  ⛅ सूर्यास्त - 19:08  ⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में   💥 विशेष - चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌷 धन और स्वास्थ्य की कमी दूर करने के लिए 🌷 🙏🏻 जिन लोगों के घर में धन और स्वास्थ्य सम्बन्धी कमी का एहसास नित्य होता है, पैसों की भी कमी रहती है और स्वास्थ्य में भी कभी कोई बीमार तो कभी कोई बीमार रहता हो उनके लिए पद्म पुराण में बताया है- वैशाख मास का एक प्रयोग। वैशाख मास की बहुत महिमा बताई है। वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को पद्म पुराण में उसको शर्करा सप्तमी कहा गया है। उस दिन पानी में सफ़ेद तिल मिलाकर भगवन्नाम सुमिरन करते हुए स्नान करें। फिर सूर्य भगवान की ओर मुख करके सूर्यदेव और माँ गायत्री को प्रणाम करें। सूर्य भगवान को इन मंत्रों से प्रणाम करें- 🌷 ॐ नम: सवित्रे। ॐ नम: सवित्रे। ॐ नम: सवित्रे।  विश्व देव मयो यस्मात वेदवादी ति पठ्यसे। त्वमेवा मृतसर्वस्व मत: पाहि सनातन।। 🌞 ये मंत्र बोलकर सूर्यनारायण को व अन्य देवों को मन ही मन प्रणाम करें। अर्घ्य तो देते ही हैं। सूर्य भगवान को जो अर्घ्य ना दें वो आदमी हिंदू कहलाने के लायक नहीं है। ➡ ये कर लिया फिर दूसरे दिन हो सके तो अपने हाथों से दूध चावल की खीर बनाकर उसमें थोड़ा घी डालकर.. थोड़ा-सा भले ज्यादा ना डाल सके एक चम्मच डाल दें और किसी को .. १-२ व्यक्तियों को खिला दें। कोई ब्राह्मण हो, कोई साधू-महात्मा हो। खीर के साथ थोड़ा रोटी सब्जी दे दें किसी १ व्यक्ति को भी। 🙏🏻 अगर ब्राह्मण न मिले, कोई साधू ना मिले तो छोटी बच्चियों को खिला दें। कन्या को खिला दो तो भी अच्छा है। ऐसा करने से ऐश्वर्य और आरोग्य दोनों की वृद्धि होती है। 🙏🏻 वैशाख शुक्ल सप्तमी को ही सुख और आरोग्य की वृद्धि के लिए पद्म पुराण में इस सप्तमी को 'कमल सप्तमी' भी कहा गया है। हो सके तो उस दिन १ कमल का फूल मिल जाये तो लोटे में जल भरा और कमल का पुष्प लोटे में डाल दिया और सूर्य भगवान को अर्घ्य दिया। कमल ना मिले तो कमल की जगह अक्षत भी डाल सकते हैं। कुम - कुम वाले अक्षत कर लिए और लोटे में डाल दिए क्योंकि वैदिक कर्मकांड में जो भी वस्तु उपलब्ध ना हो उस स्थान पर अक्षत लेने का विधान है। ये अपने देश के ग्रंथो की बड़ी दया है हम पर। ग्रंथो के रचयिता भगवान वेदव्यासजी की भी बड़ी कृपा है हम पर। इस तीर्थ धाम में हम भगवान वेदव्यासजी को भी बार-बार प्रणाम करते हैं। तो कमल ना मिला तो चावल तो सबके घर में होते ही है। कुम -कुम वाले चावल लोटे में डाल दिए और सूर्य भगवान को जल देते समय ये मंत्र बोलेंगे, साथ में सब बोलना - 🌷 नमस्ते पद्म हस्ताय नमस्ते विश्व धारणे।। दिवाकर नमस्तुभ्यम प्रभाकर नमोस्तुते।। ➡ वैशाख शुक्ल सप्तमी का खूब-खूब फायदा उठाइये और उस दिन जप भी खूब करिये गुरु मंत्र का। 🙏🏻 भविष्योत्तर पुराण में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को 'निम्ब सप्तमी' भी कहते हैं। उस दिन सूर्य देव को प्रणाम करके नीम् के पत्ते भी खाएं तो रोगों से मुक्ति प्राप्त होती है। जिनके शरीर में बीमारियाँ रहती हो पेट की, सिर दर्द की कोई भी तकलीफ रहती हो और वो कमबख्त मिट नहीं रही है, बड़ा परेशान कर रही है वो तकलीफ तो आप नीम के पत्ते वैशाख शुक्ल सप्तमी को सूर्य भगवान को अर्घ्य देकर प्रणाम करके फिर ये मंत्र बोलते हुए नीम के पत्ते खाएं। ये मंत्र बोलकर नीम के पत्ते खाने से आरोग्य की प्राप्ति हो सकती है हम दृढता से करें - 👉🏻 आजकल लोग अंग्रेजी बडबड करते हैं पर देव भाषा संस्कृत है। वो घर में बोली जानी चाहिए थी पर अब संस्कृत में आप और हम नहीं बोल सकते तो कम से कम ये संस्कृत के वैदिक-पौराणिक मंत्र बोलते हुए ये नियम करें तो घर में भी सुख-शांति बढती है। 🌷 निम्ब पल्लव भद्रनते सुभद्रं तेस्तुवई सदा। ममापि कुरु भद्रं वै त्राशनाद रोगा: भव।। 🌿 ये बोलकर नीम के पत्ते खा लेना। कोमल-कोमल धो कर खाना और उस दिन हो सके तो रात को पलंग पर नहीं धरती पर बिस्तर बिछाकर कम्बल आदि बिछाकर उस पर आराम करना। जिनको कोई भी रोग है वो यह करें। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+28 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 72 शेयर
Ajay Awasthi May 16, 2021

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-:16/05/2021,रविवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष वैशाख """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------- चतुर्थी 10:00:27 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र----------------आर्द्रा11:12:45 योग-------------- शूल 26:49:27 करण--------- विष्टि भद्र 10:00:27 करण---------------- बव 22:51:12 वार------------------------- रविवार माह--------------------------वैशाख चन्द्र राशि------------------- मिथुन सूर्य राशि------------------- वृषभ रितु---------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत-----------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:31:08 सूर्यास्त----------------- 19:00:20 दिन काल--------------- 13:29:12 रात्री काल-------------- 10:30:15 चंद्रोदय---------------- 08:42:07 चंद्रास्त------------------ 23:07:11 लग्न---- वृषभ 1°13' , 31°13' सूर्य नक्षत्र----------------- कृत्तिका चन्द्र नक्षत्र-------------------आर्द्रा नक्षत्र पाया-------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* छ---- आर्द्रा 11:12:45 के---- पुनर्वसु 17:47:35 को---- पुनर्वसु 24:20:35 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= वृषभ 01°52 ' कृतिका , 2 ई चन्द्र = मिथुन 17°23 ' आर्द्रा , 4 छ बुध = वृषभ 23°57' रोहिणी' 4 वु शुक्र= वृषभ 14°55, रोहिणी ' 2 वा मंगल=मिथुन 19°30 ' आर्द्रा ' 4 छ गुरु=कुम्भ 05°22 ' धनिष्ठा , 4 गे शनि=मकर 19°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 17°38 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 17°38 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 17:19 - 19:00 अशुभ यम घंटा 12:16 - 13:57 अशुभ गुली काल 15:38 - 17:19 अशुभ अभिजित 11:49 -12:43 शुभ दूर मुहूर्त 17:12 - 18:06 अशुभ 💮चोघडिया, दिन उद्वेग 05:31 - 07:12 अशुभ चर 07:12 - 08:53 शुभ लाभ 08:53 - 10:35 शुभ अमृत 10:35 - 12:16 शुभ काल 12:16 - 13:57 अशुभ शुभ 13:57 - 15:38 शुभ रोग 15:38 - 17:19 अशुभ उद्वेग 17:19 - 19:00 अशुभ 🚩चोघडिया, रात शुभ 19:00 - 20:19 शुभ अमृत 20:19 - 21:38 शुभ चर 21:38 - 22:57 शुभ रोग 22:57 - 24:15* अशुभ काल 24:15* - 25:34* अशुभ लाभ 25:34* - 26:53* शुभ उद्वेग 26:53* - 28:12* अशुभ शुभ 28:12* - 29:31* शुभ 💮होरा, दिन सूर्य 05:31 - 06:39 शुक्र 06:39 - 07:46 बुध 07:46 - 08:53 चन्द्र 08:53 - 10:01 शनि 10:01 - 11:08 बृहस्पति 11:08 - 12:16 मंगल 12:16 - 13:23 सूर्य 13:23 - 14:31 शुक्र 14:31 - 15:38 बुध 15:38 - 16:45 चन्द्र 16:45 - 17:53 शनि 17:53 - 19:00 🚩होरा, रात बृहस्पति 19:00 - 19:53 मंगल 19:53 - 20:45 सूर्य 20:45 - 21:38 शुक्र 21:38 - 22:30 बुध 22:30 - 23:23 चन्द्र 23:23 - 24:15 शनि 24:15* - 25:08 बृहस्पति 25:08* - 26:01 मंगल 26:01* - 26:53 सूर्य 26:53* - 27:46 शुक्र 27:46* - 28:38 बुध 28:38* - 29:31 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान--------------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा चिरौंजी खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 1 + 1 = 6 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 10:00 तक समाप्त स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* एकाकिना तपो द्वाभ्यां पठनं गायनं त्रिभिः । चतुर्भिर्गमनं क्षेत्रं पंचभिर्बहुभी रणम् ।। ।।चा o नी o।। जब आप तप करते है तो अकेले करे. अभ्यास करते है तो दुसरे के साथ करे. गायन करते है तो तीन लोग करे. कृषि चार लोग करे. युद्ध अनेक लोग मिलकर करे. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 यज्ज्ञात्वा न पुनर्मोहमेवं यास्यसि पाण्डव ।, येन भुतान्यशेषेण द्रक्ष्यस्यात्मन्यथो मयि ॥, जिसको जानकर फिर तू इस प्रकार मोह को नहीं प्राप्त होगा तथा हे अर्जुन! जिस ज्ञान द्वारा तू सम्पूर्ण भूतों को निःशेषभाव से पहले अपने में (गीता अध्याय 6 श्लोक 29 में देखना चाहिए।,) और पीछे मुझ सच्चिदानन्दघन परमात्मा में देखेगा।, (गीता अध्याय 6 श्लोक 30 में देखना चाहिए।,)॥,35॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष नवीन वस्त्राभूषण की प्राप्ति होगी। यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। परीक्षा आदि में सफलता मिलेगी। पारिवारिक कष्ट एवं समस्याओं का अंत संभव है। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। आय से अधिक व्यय न करें। परोपकार में रुचि बढ़ेगी। 🐂वृष शत्रु सक्रिय रहेंगे। कुसंगति से हानि होगी। व्ययवृद्धि होगी। लेन-देन में सावधानी रखें, जोखिम न लें। किसी शुभचिंतक से मेल-मुलाकात का हर्ष होगा। संतान की आजीविका संबंधी समस्या का हल निकलेगा। लापरवाही से काम न करें। 👫मिथुन यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। डूबी हुई रकम प्राप्त होगी। आय में वृद्धि होगी। प्रमाद न करें। आकस्मिक लाभ व निकटजनों की प्रगति से मन में प्रसन्नाता रहेगी। परिश्रम से स्वयं के कार्यों में भी शुभ परिणाम आएँगे। क्रोध एवं उत्तेजना पर संयम रखें। 🦀कर्क कार्यस्थल पर परिवर्तन लाभ में वृद्धि करेगा। योजना फलीभूत होगी। नए अनुबंध होंगे। कष्ट होगा। पारिवारिक जिम्मेदारी बढ़ने से व्यस्तता बढ़ेगी। कार्य में नवीनता के भी योग हैं। संतान के व्यवहार से समाज में सम्मान बढ़ेगा। स्वास्थ्य खराब हो सकता है। 🐅सिंह कानूनी अड़चन दूर होगी। अध्यात्म में रुचि रहेगी। यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। रुके धन के लिए प्रयत्न जरूर करें। कार्य का विस्तार होगा। दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप से बचें। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। विलासिता के प्रति रुझान बढ़ेगा। 🙍‍♀️कन्या चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें, बाकी सामान्य रहेगा। प्रयास अधिक करने पर भी उचित सफलता मिलने में संदेह है। कार्य में विलंब के भी योग हैं। आर्थिक हानि हो सकती है। पारिवारिक जीवन तनावपूर्ण रहेगा। ⚖️तुला जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। राजकीय बाधा दूर होगी। बेचैनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। अर्थ प्राप्ति के योग बनेंगे। विवादों से दूर रहना चाहिए। पिता से व्यापार में सहयोग मिल सकेगा। सरकारी मसले सुलझेंगे। सकारात्मक सोच बनेगी। 🦂वृश्चिक बेरोजगारी दूर होगी। विवाद न करें। संपत्ति की खरीद-फरोख्त हो सकती है। आय बढ़ेगी। मन में उत्साहपूर्ण विचारों के कारण समय सुखद व्यतीत होगा। मकान व जमीन संबंधी कार्य बनेंगे। अनायास धन लाभ के योग हैं। व्यापार में वांछित उन्नति होगी। 🏹धनु रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी बड़े कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। प्रसन्नता बनी रहेगी। नए कार्यों से जुड़ने का योग बनेगा। पारिवारिक जीवन सुखद नहीं रहेगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। इच्छित लाभ होगा। नौकरी में कार्य की प्रशंसा हो सकती है। 🐊मकर बुरी खबर मिल सकती है। विवाद को बढ़ावा न दें। भागदौड़ रहेगी। आय में कमी होगी। किसी कार्य में प्रतिस्पर्धात्मक तरीके से जुड़ने की प्रवृत्ति आपके लिए शुभ रहेगी। राज्यपक्ष से लाभ होगा। अपने काम से काम रखें। दांपत्य सुख प्राप्त होगा। 🍯कुंभ मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। मान-सम्मान मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा। दूर रहने वाले व्यक्तियों से संपर्क के कारण लाभ हो सकता है। नई योजनाओं का सूत्रपात होने के योग हैं। कार्यक्षमता में वृद्धि होगी। व्यर्थ संदेह न करें। 🐟मीन मेहमानों का आवागमन होगा। व्यय होगा। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। अपने प्रयासों से उन्नति पथ प्रशस्त करेंगे। बुद्धि चातुर्य से कठिन कार्य भी आसानी से बनेंगे। व्यापार अच्छा चलेगा। व्यर्थ समय नष्ट न करें। रुका पैसा मिलेगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Ajay Awasthi May 15, 2021

*🕉️।।जय श्री राम।।🕉️* *🕉️।।अथ पंचांगम्।।🕉️* *🕉️।।दि. 15 मई 2021शनिवार।।🕉️* *शालिवाहन शके -1943* *अयन -* उत्तरायण *ऋतु -* ग्रीष्म *मास -* वैशाख *पक्ष -* शुक्ल *सुर्योदय -* 05.39 *सुर्यास्त -* 18.42 *तिथी -* तृतीया ( 07.59 तक बादमें चतुर्थी ) *वार -* शनिवार *नक्षत्र -* मृग ( 08.38 तक बादमें आर्द्रा ) *योग -* धृती ( 26.27 तक बादमें शुल ) *करण -* गरज ( 07.59 तक बादमें वणिज ) *।।दिन विशेष।।* *सभी कार्यो के लिए शुभ दिन है.* *।।ग्रह गोचर।।* *1 चंद्र -* मिथुन ( अहोरात्र ) *2 सुर्य -* वृषभ *3 मंगल -* मिथुन *4 बुध -* वृषभ *5 गुरू -* कुंभ *6 शुक्र -* वृषभ *7 शनि -* मकर *8 राहु -* वृषभ *9 केतु -* वृश्चिक *10 हर्षल -* मेष *11 नेपच्यून -* कुंभ *12 प्ल्युटो -* मकर *विशेष* इस दिन शनिवज्रपंजर कवच स्तोत्राका पठण करे और *"ॐ शं शनैश्चराय नमः"* अथवा *ॐ नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम् ।* *छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम् ॥* इस मंत्रका किमान 108 बार जप करे. पाणीमे काले तील डालकर स्नान करे.सत्पात्री व्यक्तिको तेल दान करे. घरसे बाहर निकलते समय उडिद दाल खाकर बाहर निकलने पर ग्रहोकी अनुकूलता रहेगी. **आज के दिन मूली की सब्जी ना खावे. **आज के दिन नीला वस्त्र धारण करे. *।।विशेष मुहुर्त।।* लाभ मुहूर्त-- दोपहर 01.45 से दोपहर 03.15 पर्यंत  अमृत मुहूर्त-- दोपहर 03.15 से श्याम 04.45 तक राहु काल - 09.00 से 10.30 तक. *।।अथ राशि फलम्।।* *🐏मेष राशि- ( ARIES )* *( जन्माक्षर - चुे, चो, ला,ली, लु,ले,लो,आ)* *अश्वनी(4),भरणी(4),कृतिका(1)* आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-सुविधा संबंधी वस्तुओं की खरीदारी में भी परिवार के साथ समय व्यतीत होगा। *🐂 वृषभ राशि- ( TAURUS )* *( जन्माक्षर - ई,उ,ए,ओ,वा,वी,वु,वे,वो)* *कृतिका(3),रोहिणी(4),मृगशिरा(2)*  आज दिनचर्या की गतिविधियों से हटकर किसी विशेष बात को गहराई से जानने के लिए समय व्यतीत करेंगे। तथा अध्यात्म से जुड़े विषयों में विशेष रूचि रहेगी। अगर पैतृक संबंधी कोई मामला रुका हुआ है, तो आज किसी की मध्यस्थता से हल हो सकता है। *👫 मिथुन राशि-( GEMINI )* *( जन्माक्षर -का,की,कु,घ,ङ,,छ,के,को,हा)* *मृगशिरा(2)आर्द्रा(4),पुनर्वसु(3)*  किसी को उधार दिया हुआ या रुका हुआ पैसा मिलने की संभावना है, इसलिए उसे वसूल करने में अपना विशेष रुप से ध्यान केंद्रित रखें। आज रिश्तेदारों अथवा पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा हो सकती हैं। इस चर्चा में आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। *🦀 कर्क राशि-( CANCER )* *( जन्माक्षर ही,हू,हे,हो,डा,डी डू,डे,डो,)* *पुनर्वसु(1)पुष्य(4)अश्लेषा(4)* कार्यक्षेत्र में काम की अधिकता रहेगी। परंतु जल्दबाजी की बजाय गंभीरता व सावधानी पूर्वक कार्य करने की आवश्यकता है। अपने कर्मचारियों के साथ संबंध खराब ना होने दें अन्यथा काम की गति धीमी हो सकती हैं। नौकरी पेशा व्यक्तियों को भी अपने काम को पूरी लगन से करने की जरूरत है। *🐆 सिंह राशि-( LEO )* *( जन्माक्षर -मा,मी,मू,में,मो,टा,टी,टू,टे,)* *मघा(4)पूर्वा.फा.(4)उ.फाल्गुनी(1)*  पारिवारिक लोगों की जरूरतों को पूरा करने तथा शॉपिंग वगैराह करने में समय व्यतीत होगा। आज रोजमर्रा की व्यस्ततम दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौज मस्ती के लिए भी निकालेंगे। घर में रिश्तेदारों का भी आगमन होगा। *👩‍🦰 कन्या राशि-( VIRGO )* *( जन्माक्षर - टो,पा,पी,पू,ष,ण,ठ,पे,पो,)* *उ.फा(3)हस्त(4)चित्रा(2)* आज दोपहर बाद लाभदायक स्थितियां बन रही है, इसलिए दिन की शुरुआत में ही अपने महत्वपूर्ण काम पूरे करने संबंधी रूपरेखा बना लें। रियल एस्टेट से जुड़े लोगों की आज फायदेमंद डील हो सकती हैं। ऑफिस में अपने सहयोगियों के साथ किसी विशेष कार्य को लेकर विचार-विमर्श होगा। *⚖️ तुला राशि-( LIBRA )* *( जन्माक्षर - रा,री,रु,रे,रो,ता,ती,तू,ते,)* *चित्रा(2)स्वाती(4)विशाखा(3)*  कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से राहत मिलेगी और आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी। धार्मिक संस्थाओं के सेवा संबंधी कार्यों में आपका विशेष योगदान रहेगा। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में भी व्यस्तता बनी रहेगी। *🦂 वृश्चिक राशि-( SCORPIO )* *( जन्माक्षर - तो,ना,नी,नू,ने,नो,या,यी,यू,)* *विशाखा(1)अनुराधा(4)ज्येष्ठा( 4)* आयात निर्यात संबंधी व्यवसाय में विशेष अनुबंध प्राप्त होंगे। किसी भी प्रकार का व्यवसायिक कर्जा ना लें, नहीं तो आप किसी मुसीबत में पड़ सकते हैं। सरकारी नौकरी में वर्तमान परिस्थितियों की वजह से अधिक कार्यभार रहेगा। *🏹 धनु राशि-( SAGITTARIUS )* *( जन्माक्षर - ये,यो,भा,भी,भू,ध,फ,ढ,भे,)* *मूल(4)पूर्वा.आषाढ(4)उ.षा(1)* पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का निवारण होने से आप स्वयं को तनाव मुक्त महसूस करेंगे। नजदीकी रिश्तेदारों तथा मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। और उनके साथ किसी विशेष मुद्दे पर विचार विमर्श भी होगा। *🐊 मकर राशि-( CAPRICORN )* *( जन्माक्षर - भो,जा,जी,खी, खू,खे, खो,गा,गी,)* *उ.षा(3)श्रवण(4)धनिष्ठा(2)* व्यापार में कार्यभार की बहुत अधिकता रहेगी। और अधिक मेहनत तथा परिणाम कम ही हासिल होंगे। अभी ज्यादा मुनाफे की उम्मीद ना रखें। नौकरीपेशा व्यक्तियों को अपना काम समय पर पूरा ना होने की वजह से उच्च अधिकारियों की नाराजगी सहनी पड़ सकती हैं। *🏺 कुम्भ राशि-( AQUARIUS )* *( जन्माक्षर - गु,गे,गो,सा,सी,सू,से,सो,दा,)* *धनिष्ठा(2)शतभिषा(4)पू.भाद्र(3)* आपके सकारात्मक तथा सहयोगात्मक व्यवहार की वजह से परिवार तथा समाज में विशेष मान-सम्मान प्राप्त होगा। अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज उसे किसी अनुभवी व्यक्ति की सलाह से हल करने की कोशिश करें, अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। *🦈 मीन राशि-( PISCES )* *( जन्माक्षर - दी, दू,थ,झ,ञ,दे,दो,चा,फची,)* *पू.भाद्र(1)उ.भाद्रपद(4)रेवती(4)* आज आपको नए व्यवसायिक अनुबंध मिलने की पूरी संभावना है। अपना अधिक समय मार्केटिंग तथा प्रोडक्ट की क्वालिटी को बढ़ाने में लगाएं। नौकरी पेशा व्यक्तियों के अपने बॉस व उच्चाधिकारियों के साथ संबंध मजबूत बनेंगे। *🕉️।।जय माता दी।।🕉️* *🕉️।।आप सबका दिन मंगलमय हो।।🕉️* *🕉️।।भारत माता की जय।।🕉️*

+47 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 77 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB