मीनाक्षी अम्मन मंदिर Meenakshi Amman temple

मीनाक्षी अम्मन मंदिर 
Meenakshi Amman temple
मीनाक्षी अम्मन मंदिर 
Meenakshi Amman temple

#देवीदर्शन
#ज्ञानवर्षा #मंदिर
मीनाक्षी अम्मन मंदिर एक इतिहासिक हिन्दू मंदिर है जो भारत के तमिलनाडु राज्य के मदुराई शहर की वैगई नदी के दक्षिण किनारे पर स्थित है। यह मंदिर माता पार्वती को समर्पित है जो मिनाक्षी के नाम से जानी जाती है और शिव जो सुन्दरेश्वर के नाम से जाने जाते है। यह मंदिर 2500 साल पुराने शहर मदुराई का दिल और जीवन रेखा है और साथ ही तमिलनाडु के मुख्य आकर्षणों में से भी एक है।

मीनाक्षी अम्मन मंदिर का इतिहास
Meenakshi Amman Temple History

कहा जाता है की इस मंदिर की स्थापना इंद्र ने की थी। जब वे अपने कुकर्मो की वजह से तीर्थयात्रा पर जा रहे थे तभी उन्होंने इस मंदिर का निर्माण करवाया था। जैसे ही वे मदुराई के स्वयंभू लिंग के पास पहुचे वैसे ही उन्हें लगा की उनका बोझ कोई उठाने लगा है। इसके बाद उन्होंने इस चमत्कार को देखते हुए स्वयं ही मंदिर में लिंग को प्रति प्रतिष्टापित किया। इंद्र भगवान शिव की पूजा करते थे और इसीलिए वहा पूल के आस-पास हमें कमल के फुल दिखाई देते है। तमिल साहित्य पिछली दो सदियों से इस मंदिर की बाते करते आ रहे है। सेवा दर्शनशास्त्र के प्रसिद्ध हिन्दू संत थिरुग्ननासम्बंदर ने इस मंदिर का वर्णन 7 वी शताब्दी से पहले ही कर दिया था और खुद को अलावी इरावियन का भक्त माना था। 1560 में विश्वनाथ नायक के वास्तविक आकार को थिरुमलाई नायक के अधीन विकसित किया गया था। उन्होंने मंदिर के अंदर दूसरी बहुत सी चीजो का निर्माण भी किया। उनका मुख्य सहयोगो में वसंत उत्सव मनाने के लिये वसंता मंडपम और किलिकूंदु मंडपम था। मंदिर के गलियारे में रानी मंगम्मल द्वारा मीनार्ची नायकर मंडपम का निर्माण किया गया था।

प्राचीन पांडियन राजा, मंदिर के निर्माण के लिये लोगो से कर (टैक्स) की वसूली करते थे। उस समय लोग सोने और चांदी के रूप में दान करते थे। लेकिन राजा भी स्थानिक लोगो से ज्यादा दान नही लेते थे, वे उतना ही दान दिया करते थे जीतना मंदिर बनाने वाले लोगो के खाने के लिये लगता हो। इसीलिए राजा हर दिन स्थानिक लोगो के घर जाकर चावल इकठ्ठा करते थे। ऐसा करने से महीने के अंत में उनके बाद चावल के बहुत से गट्ठे जमा हो जाते थे। और इसीलिए वहाँ के स्थानिक लोग मंदिर से भावनात्मक रूप से भी जुड़े हुए है।

इस मंदिर के वर्तमान स्वरुप को 1623 और 1655 CE के बीच बनाया गया था। कहा जाता है की असल में इस मंदिर का निर्माण छठी शताब्दी में कुमारी कंदम के उत्तरजीवी द्वारा बनाया गया था। 14 वी शताब्दी में मुघल मुस्लिम कमांडर मलिक काफूर ने मंदिर की लूट की थी और मंदिर से मूल्यवान आभूषण और रत्न लूटकर ले गया था।

बाद में 16 वी शताब्दी के आस-पास नायक शासक विश्वनाथ नायकर द्वारा इसे पुनर्निर्मित किया गया। विश्वनाथ नायक ने ही इसे शिल्प शास्त्र के अनुसार पुनः बनवाया था। जिनमे 14 प्रवेश द्वार, 45-50 मीटर की ऊँचाई के थे। जिसमे सबसे लंबा टावर दक्षिणी टावर था, जो 51.9 मीटर ऊँचा था और साथ ही मंदिर में दो तराशे गए प्राचीन विमान भी बनाये गए थे, और मुख्य देवी-देवताओ की मूर्तियाँ भी पुनर्स्थापित की गयी थी।

मीनाक्षी अम्मन मंदिर त्यौहार
Meenakshi amman temple festival

मंदिर से जुड़ा हुआ सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार “मीनाक्षी थिरुकल्याणम (मीनाक्षी का दिव्य विवाह)” है, जिसे स्थानिक लोग हर साल अप्रैल के महीने में मनाते है। दिव्य जोड़ो के इस विवाह प्रथा को अक्सर दक्षिण भारतीय लोग अपनाते है और इस विवाह प्रथा को “मदुराई विवाह” का नाम भी दिया गया है। पुरुष प्रधान विवाह को “चिदंबरम विवाह” कहा जाता है, जो भगवान शिव के चिदंबरम के प्रसिद्ध मंदिर के प्रभुत्व, अनुष्ठान और कल्पित कथा को दर्शाता है। इस विवाह के दौरान ग्रामीण और शहरी, देवता और मनुष्य, शिवास (जो भगवान शिव को पूजते है) और वैष्णव (जो भगवान विष्णु को पूजते है) वे सभी मीनाक्षी उत्सव मनाने के लिये एकसाथ आते है। इस एक महीने की कालावधि में, बहुत सारे पर्व होते है जैसे की “थेर थिरुविजहः” और “ठेप्पा थिरुविजहः” । महत्वपूर्ण हिन्दू त्यौहार जैसे की नवरात्री और शिवरात्रि का आयोजन भी बड़ी धूम-धाम से मंदिर में किया जाता है। तमिलनाडु के बहुत से शक्ति मंदिरों की तरह ही, तमिल आदी (जुलाई-अगस्त) और थाई (जनवरी-फरवरी) महीने के शुक्रवार को यहाँ श्रद्धालुओ की भारी मात्रा में भीड़ उमड़ी होती है।

हिन्दू पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव अत्यन्त सुन्दर रूप में देवी मीनाक्षी से विवाह की इच्छा से पृथ्वीलोक पर आए थे। देवी मीनाक्षी पहले ही मदुराई के राजा की तपस्या से खुश होकर मदुराई में अवतार ले चुकीं थीं। भगवान शिव वहाँ प्रकट हुए और उन्होंने देवी मीनाक्षी से विवाह करने का प्रस्ताव रखा और उन्होंने स्वीकार किया।

हर दिन तक़रीबन 20,000 लोगो को यह मंदिर आकर्षित करता है और विशेषतः शुक्रवार के दिन 30,000 लोगो को आकर्षित करता है और मंदिर को इससे तक़रीबन 60 मिलियन रुपये सालाना मिलते है। कहा जाता है की मंदिर में कुल 33,000 मूर्तियाँ है। “न्यू सेवन वंडर्स ऑफ़ द वर्ल्ड” के लिये नामनिर्देशित की गयी 30 मुख्य जगहों की सूचि में यह मंदिर भी शामिल था। यह मंदिर शहर का सबसे मुख्य केंद्र और आकर्षण का केंद्र बिंदु रहा है। हर साल अप्रैल और मई के महीने में यहाँ 10 दिनों तक चलने वाला मीनाक्षी तिरुकल्याणम महोत्सव मनाया जाता है, जिसमे तक़रीबन 1 मिलियन से भी ज्यादा लोग आते है।

+266 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 29 शेयर

+25 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 75 शेयर
Neha Sharma, Haryana Nov 23, 2020

🌸*श्री मद् देवी भागवत महापुराण ( उनतीसवां अध्याय )*🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🌸🙏*ओम् गं गणपतये नमः*🙏🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🌸🙏*ओम् ह्रीं श्रीं नमः*🙏🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *इस अध्याय में शिव-पार्वती का एकान्त-विहार है, पृथ्वी देवी का गोरूप धारण कर देवताओं के साथ ब्रह्माजी के पास जाना, ब्रह्माजी का उन्हें आश्वस्त करना और कुमार कार्तिकेय के प्रादुर्भाव होने की बात बताने का वर्णन है. "श्रीमहादेव जी बोले – (मुने !) पार्वती को प्राप्त करने के उद्देश्य से की गई तपस्या के क्लेश का दिन-रात स्मरण करके महादेवजी उन पार्वती में प्रेमासक्त हो गये।।1।। *भगवती के वचन को सुनने में ही अपने कानों को निरन्तर नियुक्त कर दिया था. आँखें उनके रूप्-दर्शन में समर्पित थीं, उनके मन को प्रसन्न करने के लिए उनके चित्त की सारी चेष्टाएँ निरन्तर नियोज्य थीं. इस प्रकार पार्वती में प्रेमासक्त भगवान ने उनमें प्रीति उत्पन्न की।।2।। *एक समय की बात है – महेश्वर ने वन से पुष्प लाकर एक सुन्दर माला बनायी और उसे कपूर तथा अगरु से विलेपित करके पार्वती के गले में डाल दी. पुन: प्रेमपूर्वक भगवान महादेव ने पुत्र प्राप्ति की कामना से पार्वती के प्रति अपने मन में आदरपूर्वक सहधर्मिता की भावना धारण की।।3-4।। *भगवान शिव ने नन्दी से कहा – “तुम सभी प्रमथगणों के साथ पुर की इस प्रकार रखवाली करो कि मेरी आज्ञा के बिना यहाँ कोई भी प्राणी न आ सके, चाहे वह कोई देवता हो अथवा देववन्द्य ही क्यों न हो”।।5-6।। *यह सुनकर देवाधिदेव की आज्ञा से वे नन्दी समस्त प्रमथगणों के साथ उस पुर के द्वार की रक्षा में तत्पर हो गये।।7।। *तदनन्तर भगवान शिव पार्वती के साथ दीर्घकाल तक विहार करते रहे. उस समय स्नेहयुक्त मनवाले शिव को प्रेम के आनन्द में निमग्न रहने के कारण न तो दिन अथवा रात का भान ही रहा और न शान्ति ही मिली।।8-10।। *मुनिश्रेष्ठ ! उनके पैर के प्रहार से पीड़ित हुई पृथ्वी गाय का रूप धारण करके सूर्य के पास गई और आँखों में आँसू भरकर रोते हुए उसने महेश के पादप्रहार से उत्पन्न हुए अपने प्रति किये गये उपद्रव के विषय में सूर्य से इस प्रकार निवेदन किया -।।11-12।। *दिवाकर ! जगत के स्वामी भगवान शिव हिमालय के शिखर पर पार्वती के साथ दीर्घकाल से लीला-विहार में स्थित हैं. शिव तथा शक्ति के भार से दिन-रात व्यथित मैं अब उसे सहन करने में असमर्थ हूँ, अत: आप मेरे कष्ट के निवारणार्थ शीघ्र ही कोई उपाय बताइये. पार्वती को प्राप्त करके उन जगत्पति महादेव को न तो रात का ज्ञान रह गया है और न दिन का. वे महेश क्षण भर के लिये भी पार्वती से विरत नहीं हो रहे हैं, तथापि उन्हें शान्ति नहीं मिल रही है।।13-16।। *श्रीमहादेवजी बोले – इस प्रकार पृथ्वी का वचन सुनकर भगवान सूर्य उस पृथ्वी के साथ वहाँ गये, जहाँ इन्द्र आदि प्रधान देवता विद्यमान थे. वहाँ पर उन्होंने उनसे वह सब घटना बतायी, जैसा पृथ्वी ने उनसे निवेदन किया था. महामुने ! उसे सुनकर सभी देवतागण पृथ्वी को साथ लेकर तत्काल ब्रह्माजी के पास पहुँचे।।17-18।। *मुनिश्रेष्ठ ! तत्पश्चात उन देवताओं ने गोरूप धारण की हुई पृथ्वी को आगे करके जगत के पति उन ब्रह्माजी से कहा – ब्रह्मन् ! सुनिए, महादेव हिमालय के शिखर पर जगद्धात्री पार्वती के साथ दीर्घकाल से विहार कर रहे हैं फिर भी उन्हें शान्ति नहीं मिल रही है. इस प्रकार वे महेश्वर किसी भी प्रकार धैर्य धारण नहीं कर पा रहे हैं।।19-22।। *शिव तथा शक्ति के भार से पीड़ित यह वसुन्धरा रसातल जाने की स्थिति बनने पर हम लोगों के पास आयी है. त्रिजगत्पते ! इस स्थिति में क्या किया जाए, वह हमें बताइये।।23-24।। *उनका यह वचन सुनकर लोकपितामाह ब्रह्मा ने देवताओं को बार-बार सान्त्वना देकर उनसे कहा – वे महेश्वर देवताओं का कार्य सिद्ध करने के लिए ही लीला-विहार में संलग्न हैं. इससे स्खलित तेज के प्रभाव से जो पुत्र उत्पन्न होगा, वही तारकासुर का संहारक होगा, इसमें संशय नहीं है. किंतु यदि पार्वती के गर्भ से शम्भु का पुत्र उत्पन्न होगा तो वह देवता तथा असुर – इन दोनों का विनाश कर देगा. उसके इस पराक्रम को संसार भी सहन नहीं कर पाएगा. अत: देवतागण ! जिस किसी भी तरह से सम्भव हो, शम्भु के इस रेत से किसी अन्य स्थान में एक पुत्र उत्पन्न हो – वैसी चेष्टा आप लोग करें।।25-28।। *मैं वहीं चल रहा हूँ, जहाँ वे महेश्वर विराजमान हैं और पार्वती के साथ स्थित हैं. शम्भु के संसर्ग से विलग रहने के लिए महेश्वरी पार्वती से प्रार्थना करते हुए आप सभी लोग भी मेरे साथ वहाँ तत्काल चलिए।।29-31।। *नारद ! देवताओं से ऎसा कहकर ब्रह्माजी तत्काल वहाँ के लिए प्रस्थित हो गये, जहाँ देवेश्वर शिव उमा के साथ विहार कर रहे थे।।32।। महामते ! तत्पश्चात सभी देवता भी वहाँ पहुँच गये और उन्होंने पार्वती तथा शिवजी को आनन्द में निमग्न देखा।।33।। *उनके आ जाने पर भी भगवान शिव विरत नहीं हुए, पार्वती देवी भी संकुचित नहीं हुई और उन्होंने भगवान महेश्वर का परित्याग नहीं किया।।34-35।। ।। इस प्रकार श्रीमहाभागवतमहापुराण के अन्तर्गत *श्रीमहादेव-नारद-संवाद में “श्रीशिवपार्वतीविहारवर्णन” नामक उनतीसवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ।।29।। ।। जय माता दी ।। 🌸🌸🙏🌸🌸 ~~~~~~~~~

+134 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 26 शेयर
Neha Sharma, Haryana Nov 23, 2020

🌸*श्री मद् देवीभागवत महापुराण ( अठ्ठाईसवां अध्याय )*🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🌸🙏*ॐ श्री गणेशाय नम:*🙏🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 🌸🙏*महादेव्यै नमः*🙏🌸 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁 *इस अध्याय में हिमालय द्वारा बारात का यथोचित सत्कार करना है, शिव-पार्वती के मांगलिक विवाहोत्सव का वर्णन है, शिव-पार्वती के विवाहोत्सव के पाठ की महिमा का वर्णन है। *श्रीमहादेवजी बोले – इसके बाद महेश्वर को आया हुआ जानकर गिरिराज हिमालय ने वहाँ आकर उनकी विधिवत पूजा की और उन्हें स्वयं पुर में प्रवेश कराया, साथ ही हिमालय ने ब्रह्मा, विष्णु और इन्द्र आदि श्रेष्ठ देवताओं की यथोचित पूजा करके उन्हें भी अपने पुर में प्रवेश कराया, इसी प्रकार प्रसन्नचित गिरिराज हिमालय मरीचि आदि महर्षियों की भी यथोचित पूजा करके उन्हें अपने पुर ले गये।।1-3।। *रत्नों के आभूषणों से अलंकृत, सोने के दिव्य मुकुट से सुशोभित, दो भुजाओं तथा अत्यन्त सुन्दर मुख वाले, चन्द्रमा से सुशोभित सिर वाले और सैकड़ों सूर्यों की प्रभा के तुल्य प्रतीत होने वाले शान्तस्वभाव पार्वतीनाथ शिव को देखकर मेनका और उसी तरह गिरिराज हिमालय भी अत्यन्त आनन्दित हुए।।4-5।। *उस अवसर पर जो अन्य देव, गन्धर्व तथा किन्नर आये हुए थे, वे एकटक पार्वतीनाथ शिवजी को ही देख रहे थे और अन्यत्र कहीं भी दृष्टि नहीं ले जा रहे थे. सभी लोग आपस में यह कहते थे कि जैसे गौरी रूपवती हैं, वैसे ही जगत्पति महादेव भी रूपसम्पन्न हैं।।6-7।। *इसके बाद सुन्दर लक्षणों से युक्त मुहूर्त आने पर गिरिराज हिमालय ने पार्वती का पूजन करके वैवाहिक विधि से देवाधिदेव शिव को प्रदान कर दी और प्रसन्न मन शम्भु ने जगत का सृजन, पालन एवं संहार करने वाली उन हिमालय पुत्री पार्वती का पत्नीरूप पाणिग्रहण किया।।8-9।। *उस समय गिरीन्द्र हिमालय के नगर में ऎसा महान उत्सव सम्पन्न हुआ, जैसा कभी हुआ नहीं था और आगे कहीं होने वाला भी नहीं है. महामते ! उस समय सभी देवताओं के मन में प्रसन्नता छायी हुई थी।।10½।। *इस प्रकार पार्वती के साथ महादेव का विवाह सम्पन्न हो जाने पर देवताओं का मनोरथ पूर्ण हो गया और वे महादेव को मुग्ध करने वाले कामदेव की बार-बार प्रशंसा करने लगे।।11।। *वहाँ पर पार्वती सहित भगवान शंकर को देखकर सभी देवता, गन्धर्व और ऋषिगण परस्पर कहने लगे – “अहो, बुद्धिसम्पन्न गिरिराज हिमालय का महान सौभाग्य है कि साक्षात जगज्जननी भगवती उन्हें कन्यारूप में प्राप्त हुई हैं।।12-13।। *जो परा प्रकृति अपनी इच्छा से सम्पूर्ण विश्व का सृजन करती हैं, उन्होंने जो हिमालय के घर में लीलापूर्वक कन्यारूप में जन्म लिया है, वह इन गिरिराज हिमालय की अल्प तपस्या का फल नहीं है. मेना के पूर्वजन्म के संचित अतुलनीय भाग्य का क्या वर्णन किया जाए जो कि ये जगज्जननी इन पार्वती की भी माता के रूप में प्रतिष्ठित हुई हैं. लोक में ऎसा कौन है जो वाणी से परे तथा मन के लिए अत्यन्त दुर्गम महेश्वर के प्रभाव, रूप तथा वैभव का वर्णन करने में समर्थ है? इस प्रकार रूप से सम्पन्न पार्वती तथा परमेश्वर को देखकर सभी लोग आपस में अन्य प्रकार की बहुत-सी बातें कर रहे थे।।14-18।। *ब्रह्मा और भगवान विष्णु पार्वती सहित हर्षयुक्त तथा शान्त भगवान महेश्वर से इस प्रकार कहने लगे – ।।19।। *ब्रह्मा और विष्णु बोले – प्रभो ! देव ! आपकी भार्या ये पार्वती वे ही सती हैं, जिनके वियोगजनित दु:ख से व्यथित होकर आप पूर्वकाल में तपस्या में लीन हो गये थे. ये वे ही जगत की आदिस्वरुपिणी सनातनी भगवती देवी हैं।।20।। *श्रीमहादेवजी बोले – [मुने !] तदनन्तर हिमालय भक्तिपूर्वक शम्भु की स्तुति करने लगे।।21।। *हिमालय बोले – भक्तों पर दया करने वाले देवदेव ! महादेव ! शंकर ! आपको नमस्कार है, आपको नमस्कार है, आपको नमस्कार है, आपको बार-बार नमस्कार है. आज मेरा जन्म सफल हो गया और मेरा जीवन सज्जीवन बन गया जो कि मैं अपने नेत्रों से जगज्जननी सहित जगन्नाथ शिव को देख रहा हूँ।।22-23।। *श्रीमहादेवजी बोले – महामुने ! इस प्रकार परा भक्ति से स्तुति करते हुए गिरिराज हिमालय से भगवान शंकर ने अपनी अमृतरूपी वाणी से उन्हें प्रसन्न करते हुए कहा – गिरीन्द्र ! महाप्राज्ञ ! आप स्वयं मेरे ही अन्य विग्रह के रूप में हैं, आप भाग्यशाली हैं और देवताओं के लिए भी विशेषरूप से आदरणीय हैं. आज से मैं आपके लिए यज्ञभाग सुनिश्चित कर दे रहा हूँ. गिरीश्वर ! मृत्युलोक में आपके बिना लोग यज्ञ सम्पन्न नहीं करेंगे. गिरे ! जिस प्रकार सभी हविभोक्ता देवतागण यज्ञोत्सव में अपना-अपना भाग प्राप्त करते हैं, उसी प्रकार आप भी मृत्युलोक में सम्पन्न होने वाले यज्ञों में भाग प्राप्त करेंगे।।24-27।। *हिमालय बोले – प्रभो ! जगद्गुरो ! आपके वरदान से मैं कृतार्थ हो गया हूँ. शम्भो ! कृपानिधे ! अब मैं एक अन्य वरदन के लिए प्रार्थना कर रहा हूँ. शरणागतों पर वात्सल्यभाव रखने वाले महेश्वर ! देव ! इस पार्वती के साथ आप यहीं पर रमण कीजिए और मुझे पवित्र कर दीजिए।।28-29।। *श्रीमहादेवजी बोले – पर्वतराज ! मैं देवी पार्वती सहित प्रसन्नचित रहते हुए आपके इस पुर के समीप में आपके शिखर पर वास करूँगा. गिरे ! इसी कारण से लोग मुझे गिरीश के नाम से जानेंगे।।30-31।। *श्रीमहादेवजी बोले – (मुने !) इस प्रकार उन हिमालय को यह वर प्रदान करके भगवान शिव उसी उत्तम हिमालय पर्वत पर सुरम्य नगर का निर्माण कर पार्वती के साथ वहाँ रहने लगे. इसके बाद ब्रह्मा आदि सभी देवता अपने-अपने स्थान को चले गए।।32।। *जो प्राणी पार्वती के शुभ विवाहोत्सव संबंधी इस मांगलिक अध्याय का श्रवण या पाठ करता है, वह भगवती के चरणों की सन्निधि प्राप्त कर लेता है और उसे शत्रु या राजा का भी भय नहीं रह जाता है. इसका एक बार भी श्रवण कर लेने पर मनुष्य मनोवांछित फल प्राप्त करता है और देवी की कृपा से वह सभी पापों से मुक्त हो जाता है।।33-35।। *मुनिश्रेष्ठ ! इस प्रकार मैंने आपको वह सब बता दिया, जिस प्रकार भगवान महेश्वर ने पूर्णाप्रकृति दक्षकन्या सती को फिर से प्राप्त किया था।।36।। *अब आप वह कथा सुनिए, जिस प्रकार देवताओं के रक्षक, तारक का वध करने वाले तथा विशाल भुजाओं वाले शिवपुत्र कार्तिकेय उत्पन्न हुए, जिनके समान महान बलशाली, पराक्रमी तथा धनुर्धर तीनों लोकों में भी न कोई है और न होगा ही।।37-38।। ।। इस प्रकार श्रीमहाभागवतमहापुराण के अन्तर्गत *श्रीमहादेव-नारद-संवाद में “पार्वतीविवाहमंगल” नामक अठ्ठाईसवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ।।28।। ।। जय माता दी ।। 🌸🌸🙏🌸🌸 ~~~~~~~~~

+106 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 28 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Garima Gahlot Rajput Nov 23, 2020

+49 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Garima Gahlot Rajput Nov 23, 2020

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Gopal Jalan Nov 23, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Jagdish Raj Nov 23, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Garima Gahlot Rajput Nov 23, 2020

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB