Dhananjay Khanna
Dhananjay Khanna Mar 5, 2021

🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ ▬▬▬🛑🔔ஜ۩۞۩ஜ🔔🛑▬▬▬ 🌴💦आज 05-03-2021 प्रातःकाल(सुबह) *🍁♦️ माँ वैष्णों देवी दरबार से* ♦️🍁 🏮🙏भेंट श्री जयपाल जी द्वारा🌴🙏 ▬▬▬🛑🔔ஜ۩۞۩ஜ🔔🛑▬▬▬ 🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ *🚩🔱माँ वैष्णों दरबार आरती भेंटे🔱🚩* *🔆मेरी प्यारी-प्यारी माँ🔆* केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा.... जद दा जन्म जग विच लित्ता चगां कर्म ता कोई वी ना कित्ता ताहियो पया शर्मावां दातीऐ ताहियो पया शर्मावां केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ.... मोह ममता विच फस गई जिन्द मेरी मेंत्थो नही हुंदी मैया ऐ भक्ति तेरी किस तरह दर्शन पावां दातीऐ किस तरह दर्शन पावां केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ.... चिन्ता ना मेरी ईक पल हटदी विच सोचा दे उमर पई घटदी रो रो वक्त लघांवा दातीऐ रो रो वक्त लघांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ.... तू मैया मेरी बिगड़ी बना दे दुनिया दी सारी फिकर हटा दे ईक पल चैन ना पावां दातीऐ इक पल चैन ना पावां केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ.... दुनिया नाल मै प्रीत लगा लई फाही दुखा वाली गल विच पा लई अवगुण की की सुनांवा दातीऐ अवगुण की की सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ.... सुहे सुहे चोलेयां वालिऐ आजा आजा तू बच्चेयां दी बिगड़ी बना जा सुऐ सुऐ चोलेयां वालिऐ आजा आजा चमन दी बिगड़ी बना जा द्वारे खड़ा कुरलांवा दातीऐ द्वारे खड़ा कुरलांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आंवा दातीऐ....ⓃⓈ केड़े वेले दर तेरे आवां दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा केड़े वेले दर तेरे आवां दातीऐ केड़े वेले दुखड़े सुनांवा जय जय माँ🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ ▬▬▬🛑🔔ஜ۩۞۩ஜ🔔🛑▬▬▬ 🌴💦आज 05-03-2021 प्रातःकाल(सुबह) *🍁♦️ माँ वैष्णों देवी दरबार से* ♦️🍁 🏮🙏भेंट श्री सुरेश जी द्वारा🌴🙏 🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ *🚩🔱माँ वैष्णों दरबार आरती भेंटे🔱🚩* *🔆मेरी प्यारी-प्यारी माँ🔆* मैने दर्शन की आस लगाई पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ मैने चरणो मे प्रीत लगाई पधारो अम्बे माँ, पधारो अम्बे माँ मैने दर्शन की आस लगाई... बड़े बड़े निशाचर मारे तूने एक पलके मे तूने एक पलके मे, तूने एक पलके मे तीनो लोको मे प्रकाशित हो गए तेरी एक झलक मे तेरी एक झलक मे माँ तेरी एक झलक मे तुने लाखो की, तुने लाखो की, तुने लाखो की तुने लाखो की बिगड़ी बनाई पधारो अम्बे माँ, पधारो अम्बे माँ मैने दर्शन की आस लगाई... जब-जब पाप बढा धरती पर तूने भार उतारा माँ तूने भार उतारा माँ तूने भार उतारा तेरे नाम का गूँज रहा है दुनिया मे जयकारा माँ दुनिया मे जयकारा माँ दुनिया मे जयकारा तेरे द्वारे पे, तेरे द्वारे पे, तेरे द्वारे पे तेरे द्वारे पे अलख जगाई पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ मैने दर्शन की आस लगाई... लोभ मोह मे डूब रहे है पकड़ो बाँह हमारी माँ पकड़ो बाँह हमारी माँ, पकड़ो बाँह हमारी हम भी तेरे लाल कहाये राखो लाजो हमारी माँ राखो लाजो हमारी माँ राखो लाजो हमारी मैया आ करके, मैया आ करके, मैया आ करके मैया आ करके बनो सहाई पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ मैने दर्शन की आस लगाई...ⓃⓈ मैने दर्शन की आस लगाई पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ पधारो अम्बे माँ मैने चरणो मे प्रीत लगाई पधारो अम्बे माँ, पधारो अम्बे माँ जय जय अम्बे🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ ▬▬▬🛑🔔ஜ۩۞۩ஜ🔔🛑▬▬▬ 🌴💦आज 05-03-2021 प्रातःकाल(सुबह) *🍁♦️ माँ वैष्णों देवी दरबार से* ♦️🍁 🏮🙏भेंट श्री विजय जी द्वारा🌴🙏 🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️🍁🔮♦️ *🚩🔱माँ वैष्णों दरबार आरती भेंटे🔱🚩* *🔆मेरी प्यारी-प्यारी माँ🔆* सारी दुनिया मे गूंजे शेरोंवाली की जयकार शेरोंवाली की जयकार माँ का सच्चा है दरबार सारी दुनिया मे गूंजे.... ज्योति रूप माँ पूजी जाए-2 कन्या रूप में दर्श दिखाए-2 नवरातों का त्योहार माँ की हो रही जय जयकार सारी दुनिया मे गूंजे.... माँ गंगा की शीतल धारा-2 सबसे मीठा नाम प्यारा-2 तेरा ध्यानु सेवादार तेरी हो रही जय जयकार सारी दुनिया मे गूंजे.... माँ के नाम की ज्योत जगा लो-2 तन मन माँ के रंग रंगवा लो-2 चाहे बैरी हो संसार माँ की हो रही जय जयकार सारी दुनिया मे गूंजे.... सारे जग को रचने वाली-2 माँ ही दुर्गा माँ ही काली-2 माँ की लीला अपरम्पार माँ की हो रही जय जयकार सारी दुनिया मे गूंजे....ⓃⓈ सारी दुनिया मे गूंजे शेरोंवाली की जयकार शेरोंवाली की जयकार माँ का सच्चा है दरबार *जय जय अम्बे*

+124 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 43 शेयर

कामेंट्स

मेरे साईं (indian women) Mar 5, 2021
👏🌹🕉️ जय माता संतोषी शुभ शुक्रवार आप सब का दिन मंगलमय हो और खुशियों से भरा रहे माता संतोषी की कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे 🕉️🌹👏

kamala Maheshwari Mar 5, 2021
🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹

kamala Maheshwari Mar 5, 2021
🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹🙏🙏🌹Jai Mata Di 🌹

Radhe Krishna Mar 5, 2021
जय माता दी🙏🙏 शुभ प्रभात वंदन🌹🌹 जी🌹🌹

sanjay choudhary Mar 5, 2021
🙏🙏 जय माता दी 🙏🙏 ।।।। शुभं प्र्भात् जी।।।। : *"रास्ते" पर "गति" की सीमा है,* *"बैंक" में "पैसों" की सीमा है,* *"परीक्षा" में "समय" की सीमा है,* *परन्तु* *हमारे "सोच" की कोई सीमा नहीं,* *इसलिए "सदा" "श्रेष्ठ" "सोचें" और* *"श्रेष्ठ" पाएं..* 🌹 *सुप्रभात* 🌹

Poonam Aggarwal Mar 5, 2021
🙏🚩 जय माता दी 🚩🙏 *🌷 मां लक्ष्मी का हाथ हो, सरस्वती का साथ हो, गणेश का निवास हो, और मां दुर्गा के आशीर्वाद से आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो*🌷 🌹 सुप्रभात वंदन,,,,,,, आपका हर पल शुभ मंगलमय हो 🌹🙏 💞 राधे राधे जी 💞🙏

Sonu Pathak (Jai Mata Di) Mar 5, 2021
🚩जय माता रानी दी🚩 माता रानी की कृपा से आपका हर पल सुखद मंगलमय हो 🌹🙏आप स्वस्थ रहे सुखी रहे सुख समृद्धि की मंगल कामना के साथ 🌹🙏 सुप्रभात वंदन जी 🌷🙏🌷

Shanti Pathak Mar 5, 2021
🌷🙏जय माता दी ,जय मां शेरावाली🙏शुभ प्रभात वंदन जी🌷 मातारानी की असीम कृपादृष्टि आप एवं आपके परिवार पर सदैव बनी रहे🌷आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो 🌷मातारानी आपकी हर मनोकामना पूरी करें 🌷🙏🌷

Dharma Saini Mar 5, 2021
🌼🌷या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम🌼🌷 🌼🌷या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम🌼🌷 🌼🌷या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम🌼🌷 🌼🌷जय माता दी 🌼🌷

🌹bk preeti 🌹 Mar 5, 2021
सिफारिशें इसी दुनिया🙏🌹🙏🌹 में लगती हैं भगवान के दरबार में कोई सिफारिश नहीं लगती जैसा कर्म वैसा ही फल मिलेगा ! 🌹🌹🌹🌹👌🙏 Jai mata di mata rani ka Kirpa sada aap aur aap ke family pe bani rahe aap ka har pal Shubh aur mangalmay Ho shubh Prabhat ji Jai jinendra jii maa aap ko sada khushiyan de ji 🙋‍♀️🍫🍫🌹🌹👌🙏❤️🙋‍♀️🙋‍♀️🙋‍♀️🍵

Madhuben patel Mar 5, 2021
जय माता दी स्नेहनुराग प्रभात की स्नेहवंदन भाईजी आपका हर पल मंगलमय हो भाईजी

Renu Singh Mar 5, 2021
Jai Mata Di 🚩🙏 Shubh Prabhat Vandan Bhai Ji 🙏🌹 Mata Rani ki Anant kripa Aap aur Aàpke Pariwar pr Sadaiv Bni rhe Aàpka Din Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

JAI MAA VAISHNO Mar 5, 2021
JAI MAA VAISHNO DEVI KIRPA KARO MAA VAISHNO DEVI KIRPA KARO MAA

Vanita kale Mar 5, 2021
🙏🚩!!जय माता दी!! 🚩🙏🙏🍁माताराणी की कृपा बरसाती रहे.!! हर दम..सुख शांति समृद्धि मिले. ...जीवन में ना आऐ.. काेई गम 🙏मेरे आदरणीय आप का दिन और मंगलमय हाे...!!

Neeta Trivedi Mar 5, 2021
jay Mata Rani ki subh dopher vandan ji Aapka har ek Pal subh or mangalmay ho Mata Rani ki kripa sda Aapke uper bani rahe ji 🙏🌹🙏

🙋🅰NJALI 😊ⓂISHRA 🙏 Mar 5, 2021
🚩जय माता दी🙏 शुभरात्रि नमस्ते मेरे आदरणीय भाई जी 🙏माता जगत जननी मांँ भवानी की कृपा आप एवं आपके समस्त👨‍👩‍👧‍👧 परिवार पर सदा बनी रहे.. माता रानी के आशीर्वाद से आप की झोली हमेशा खुशियों से भरी रहे💰...🙌🙏🌹माता रानी वरदान ना देना हमें, बस थोडा सा प्यार देना हमें, तेरे चरणों में बीते ये जीवन सारा, एक बस यही आशीर्वाद देना हमें। जिसने सच्चे मन से.. जय माता की बोल दिया… समझो माता रानी ने उसके लिए, कुबेर का खजाना खोल दिया..💰💐🌾🎋🙏 🙏जय माता दी🚩🙏

Brajesh Sharma Mar 5, 2021
प्रेम से बोलो जय माता दी जय श्री राधे कृष्णा जी... ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव..

Mamta Chauhan Mar 5, 2021
Radhe radhe ji🌷🙏Shubh ratri vandan bhai ji aapka har pal khushion bhra ho aapki sbhi manokamna puri ho 🌷🌷🙏🙏

Sukanya Sharan Mar 9, 2021
🌹🙏 Jai Sri Krishna ji 🌹God Bless You Always Be Happy & Blessed 🌹Dear Brother 🌹

+71 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+22 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 37 शेयर
Kamlesh Apr 17, 2021

+53 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 45 शेयर
deraj Sharma Apr 17, 2021

+121 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 164 शेयर
🌹bk preeti 🌹 Apr 16, 2021

Jai mata di 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩✍️✍️🙏 नवरात्र व्रत की कथा 〰️〰️🔸🔸〰️〰️ प्राचीन काल में एक सुरथ नाम का राजा हुआ करता था । उसके राज्य पर एक बार शत्रुओं ने चढ़ाई कर दी । मंत्री गण भी राजा के साथ विश्वासघात करके शत्रु पक्ष के साथ जा मिले । मंत्जिसका परिणाम यह हुआ कि राजा परास्त हो गया, और वे दु:खी और निराश होकर तपस्वी वेष धारण करके वन में ही निवास करने लगा । उसी वन में उन्हें समाधि नाम का वैश्य मिला, जो अपनी स्त्री एवं पुत्रों के दुर्व्यवहार से अपमानित होकर वहां पर रहता था । दोनों में परस्पर परिचय हुआ । वे महर्षि मेधा के आश्रम में जा पहुंचे । महामुनि मेधा के द्वारा आने का कारण पूछने पर दोनों ने बताया कि, हम दोनों अपनों से ही अत्यंत अपमानित तथा तिरस्कृत है । फिर भी उनके प्रति मोह नहीं छूटता, इसका क्या कारण है ? उन दोनों ने मुनि से पूछा । महर्षि मेधा ने बताया कि मन शक्ति के अधीन होता है । आदिशक्ति भगवती के दो रूप हैं - विद्या और अविद्या । प्रथम ज्ञान स्वरूपा हैं तथा दूसरी अज्ञान स्वरूपा । जो अविद्या (अज्ञान) के आदिकारण रूप से उपासना करते हैं, उन्हें विद्या - स्वरूपा प्राप्त होकर मोक्ष प्रदान करती हैं । राजा सुरथ ने पूछा - देवी कौन हैं और उनका जन्म कैसे हुआ ? महामुनि ने कहा - हे राजन ! आप जिस देवी के विषय में प्रश्न कर रहे हैं, वह नित्य - स्वरूपा तथा विश्वव्यापिनी हैं । उसके प्रादुर्भाव के कई कारण हैं । ‘कल्पांत में महा प्रलय के समय जब विष्णु भगवान क्षीर सागर में अनंत शैय्या पर शयन कर रहे थे तभी उनके दोनों कर्ण कुहरों से दो दैत्य मधु तथा कैटभ उत्पन्न हुए । धरती पर चरण रखते ही दोनों विष्णु की नाभि कमल से उत्पन्न होने वाले ब्रह्मा को मारने दौड़े । उनके इस विकराल रूप को देखकर ब्रह्मा जी ने अनुमान लगाया कि विष्णु के सिवा मेरा कोई शरण नहीं । किंतु भगवान इस अवसर पर सो रहे थे । तब विष्णु भगवान हेतु उनके नयनोंमें रहने वाली योगनिंद्रा की स्तुति करने लगे । परिणामस्वरूप तमोगुण अधिष्ठात्री देवी विष्णु भगवान के नेत्र, नासिका, मुख तथा हृदय से निकलकर आराधक (ब्रह्मा) के सामने खड़ी हो गई । योगनिद्रा के निकलते ही भगवान विष्णु जाग उठे । भगवान विष्णु तथा उन राक्षसों में पांच हजार वर्षों तक युद्ध चलता रहा । अंत में वे दोनों भगवान विष्णु के हाथों मारे गये ।’ ऋषि बोले - अब ब्रह्मा जी की स्तुति से उत्पन्न महामाया देवी की वीरता सुनो । एक बार देवलोक के राजा इंद्र और दैत्यों के स्वामी महिषासुर सैकड़ों वर्षों तक घनघोर संग्राम हुआ । इस युद्ध में देवराज इंद्र परास्त हुए और महिषासुर इंद्रलोक का राजा बन बैठे । तब हारे हुए देवगण ब्रह्मा जी को आगे करके भगवान शंकर तथा विष्णु के पास गये और उनसे अपनी व्यथा कथा कही । देवताओं की इस निराशापूर्ण वाणी को सुनकर भगवान विष्णु तथा भगवान शंकर को अत्यधिक क्रोध आया । भगवान विष्णु के मुख तथा ब्रह्मा, शिव, इंद्र आदि के शरीर से एक पूंजीभूत तेज निकला, जिससे दिशाएं जलने लगीं । अंत में यहीं तेज एक देवी के रूप में परिणत हो गया । देवी ने देवताओं से आयुध, शक्ति तथा आभूषण प्राप्त कर उच्च स्वर से अट्टाहासयुक्त गगनभेदी गर्जना की जिससे तीनों लोकों में हलचल मच गई । क्रोधित महिषासुर दैत्य सेना का व्यूह बनाकर इस सिंहनाद की ओर दौड़ा । उसने देखा कि देवी की प्रभा में तीनों देव अंकित हैं । महिषासुर अपना समस्त बल, छल - छद्म लगाकर भी हार गया और देवी के हाथों मारा गया । इसके पश्चात् यहीं देवी आगे चलकर शुम्भ - निशुम्भ नामक असुरों का वध करने के लिए गौरी देवी के रूप में उत्पन्न हुई । इन सब गरिमाओं को सुनकर मेधा ऋषि ने राजा सुरथ तथा वणिक समाधि से देवी स्तवन की विधिवत् व्याख्या की । इसके प्रभाव से दोनों एक नदी तट पर जाकर तपस्या में लीन हो गये । तीन वर्ष बाद दुर्गा मां ने प्रकट होकर उन दोनों को आशिर्वाद दिया । जिससे वणिक सांसारिक मोह से मुक्त होकर आत्म चिंतन में लीन हो गया और राजा ने शत्रु जीतकर अपना खोया सारा राज्य और वैभव की पुन: प्राप्ति कर ली । 〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️ आचार्य गिरीश चंद्र मिश्र 1 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻 *संकलित*

+236 प्रतिक्रिया 73 कॉमेंट्स • 99 शेयर
Meenu Apr 16, 2021

+74 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 63 शेयर
Meenu Apr 16, 2021

+50 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 62 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB