आपने उत्तरी भारत में देखा होगा कि कई महिलाएं सुबह अंधेरे में मीठे चावल, हल्दी, चने की दाल और जल लेकर मंदिर जाती हैं। इस पूजा को बसौड़ा या फिर शीतला सप्तमी(Sheetla Saptami) कहा जाता है। इस पूजा में सबसे खास होते हैं बासी मीठे चावल, जिन्हें गुड़ या गन्ने के रस से बनाया जाता है। यही मीठे चावल माता को भी चढ़ाए जाते हैं और यही अगले पूरे दिन खाए जाते हैं। यहां जाने क्यों मनाया जाता है बसौड़ा और कैसे की जाती है पूजा। बसौड़ा की तिथि और समय शीतला सप्तमी (Sheetla Saptami) या बसौड़ा 27 मार्च 2019 को है। यह हर साल होली के बाद आने वाली सप्तमी या अष्टमी के दिन मनाई जाती है। इस साल बसौड़ा अष्टमी को मनाई जा रही है, जो 8 मार्च को है और इसी दिन शीतला माता का व्रत भी रखा जाएगा। शीतला सप्तमी पूजा मुहूर्त – सुबह 06:21 से शाम 18:32 तक कैसे की जाती है बासौड़ा पूजा सबसे पहले जल्दी सुबह उठकर ठंडे पानी से नहाएं। व्रत का संकल्प लें और शीतला माता की पूजा करें। पूजा और स्नान के वक्त ‘हृं श्रीं शीतलायै नमः’ मंत्र का मन में उच्चारण करते रहें, बाद में कथा भी सुनें। माता को भोग के तौर पर रात को बनाए मीठे चावल चढ़ाएं। रात में माता के गीत गाए जाएं तो और भी बेहतर।  ये है कथा एक प्रचलित कथा के अनुसार एक बार शीतला सप्तमी के दिन एक परिवार में बूढ़ी औरत और उनकी दो बहुओं ने शीतला माता का व्रत रखा। मान्यता के अनुसार इस दिन सिर्फ बासी भोजन की खाया जाता है, इसी वजह से रात को ही माता का भोग सहित अपने लिए भी भोजन बना लिया। लेकिन बूढ़ी औरत की दोनों बहुओं ने ताज़ा खाना बनाकर खा लिया। क्योंकि हाल ही में उन दोनों को संतान हुई थीं, इस वजह से दोनों को डर था कि बासी खाना उन्हें नुकसान ना करे। यह बात उनकी सास को मालूम चली कि दोनों ने ताज़ा खाना खा लिया, इस बात को जान वह नाराज हुई। थोड़ी देर बाद पता चला कि उन दोनों बहुओं के नवजात शिशुओं की अचानक मृत्यु हो गई। अपने परिवार में बच्चों की मौत के बाद गस्साई सास ने दोनों बहुओं को घर से बाहर निकाल दिया। दोनों अपने बच्चों के शवों के लेकर जाने लगी कि बीच रास्ते कुछ देर विश्राम के लिए रूकीं। वहां उन दोनों को दो बहनें ओरी और शीतला मिली। दोनों ही अपने सिर में जूंओं से परेशान थी। उन बहुओं को दोनों बहनों को ऐसे देख दया आई और वो दोनों के सिर को साफ करने लगीं। कुछ देर बाद दोनों बहनों को आराम मिला, आराम मिलते ही दोनों ने उन्हें आशार्वाद दिया और कहा कि तुम्हारी गोद हरी हो जाए। इस बात को सुन दोनों बहुएं रोने लगी और अपने बच्चों के शव दिखाए। ये सब देख शीतला ने दोनों से कहा कि कर्मों का फल इसी जीवन में मिलता है। ये बात सुनकर वो दोनों समझ गई कि ये कोई और नहीं बल्कि स्वंय शीतला माता हैं। ये सब जान दोनों ने माता से माफी मांगी और कहा कि आगे से शीतला सप्तमी के दौरान वो कभी भी ताज़ा खाना नहीं खाएंगी। इसके बाद माता ने दोनों बच्चों को फिर से जीवित कर दिया। इस दिन के बाद पूरे गांव में शीतला माता का व्रत धूमधाम से मनाए जाने लगा।

आपने उत्तरी भारत में देखा होगा कि कई महिलाएं सुबह अंधेरे में मीठे चावल, हल्दी, चने की दाल और जल लेकर मंदिर जाती हैं। इस पूजा को बसौड़ा या फिर शीतला सप्तमी(Sheetla Saptami) कहा जाता है।

इस पूजा में सबसे खास होते हैं बासी मीठे चावल, जिन्हें गुड़ या गन्ने के रस से बनाया जाता है। यही मीठे चावल माता को भी चढ़ाए जाते हैं और यही अगले पूरे दिन खाए जाते हैं। यहां जाने क्यों मनाया जाता है बसौड़ा और कैसे की जाती है पूजा।


बसौड़ा की तिथि और समय

शीतला सप्तमी (Sheetla Saptami) या बसौड़ा 27 मार्च 2019 को है। यह हर साल होली के बाद आने वाली सप्तमी या अष्टमी के दिन मनाई जाती है। इस साल बसौड़ा अष्टमी को मनाई जा रही है, जो 8 मार्च को है और इसी दिन शीतला माता का व्रत भी रखा जाएगा।

शीतला सप्तमी पूजा मुहूर्त – सुबह 06:21 से शाम 18:32 तक

कैसे की जाती है बासौड़ा पूजा

सबसे पहले जल्दी सुबह उठकर ठंडे पानी से नहाएं। व्रत का संकल्प लें और शीतला माता की पूजा करें। पूजा और स्नान के वक्त ‘हृं श्रीं शीतलायै नमः’ मंत्र का मन में उच्चारण करते रहें, बाद में कथा भी सुनें। माता को भोग के तौर पर रात को बनाए मीठे चावल चढ़ाएं। रात में माता के गीत गाए जाएं तो और भी बेहतर।



ये है कथा

एक प्रचलित कथा के अनुसार एक बार शीतला सप्तमी के दिन एक परिवार में बूढ़ी औरत और उनकी दो बहुओं ने शीतला माता का व्रत रखा। मान्यता के अनुसार इस दिन सिर्फ बासी भोजन की खाया जाता है, इसी वजह से रात को ही माता का भोग सहित अपने लिए भी भोजन बना लिया। लेकिन बूढ़ी औरत की दोनों बहुओं ने ताज़ा खाना बनाकर खा लिया। क्योंकि हाल ही में उन दोनों को संतान हुई थीं, इस वजह से दोनों को डर था कि बासी खाना उन्हें नुकसान ना करे।

यह बात उनकी सास को मालूम चली कि दोनों ने ताज़ा खाना खा लिया, इस बात को जान वह नाराज हुई। थोड़ी देर बाद पता चला कि उन दोनों बहुओं के नवजात शिशुओं की अचानक मृत्यु हो गई। अपने परिवार में बच्चों की मौत के बाद गस्साई सास ने दोनों बहुओं को घर से बाहर निकाल दिया। दोनों अपने बच्चों के शवों के लेकर जाने लगी कि बीच रास्ते कुछ देर विश्राम के लिए रूकीं। वहां उन दोनों को दो बहनें ओरी और शीतला मिली।

दोनों ही अपने सिर में जूंओं से परेशान थी। उन बहुओं को दोनों बहनों को ऐसे देख दया आई और वो दोनों के सिर को साफ करने लगीं। कुछ देर बाद दोनों बहनों को आराम मिला, आराम मिलते ही दोनों ने उन्हें आशार्वाद दिया और कहा कि तुम्हारी गोद हरी हो जाए। इस बात को सुन दोनों बहुएं रोने लगी और अपने बच्चों के शव दिखाए। ये सब देख शीतला ने दोनों से कहा कि कर्मों का फल इसी जीवन में मिलता है। ये बात सुनकर वो दोनों समझ गई कि ये कोई और नहीं बल्कि स्वंय शीतला माता हैं।

ये सब जान दोनों ने माता से माफी मांगी और कहा कि आगे से शीतला सप्तमी के दौरान वो कभी भी ताज़ा खाना नहीं खाएंगी। इसके बाद माता ने दोनों बच्चों को फिर से जीवित कर दिया। इस दिन के बाद पूरे गांव में शीतला माता का व्रत धूमधाम से मनाए जाने लगा।

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anita Mittal Apr 17, 2019

🌷🌷माँ ! तेरे सहारे जीवन चलता , तेरे सहारे भोजन । हम तो दास हैं मैया ! तेरे दरबार के , करते हैं खुद को तेरे चरणों में अर्पण 🌷🌷 🌹🌹जय णाँ काली जी 🌹🌹 🌻🌻प्राणी मात्र में ईश्वर - दर्शन 🌻🌻 -------------------------------------- स्वामी विवेकानंद नये - 2 संन्यासी बने थे ।वह तब तक प्राणी मात्र में ईश्वर के दर्शन के संदेश को समझ नहीं पाये थे । युवावस्था में वह काफी समय तक ग्रामीण अंचलों का भ्रमण करने लगे रहे । वह गाँवों की स्थिति का अध्ययन करते और लोगों को सदाचारी बनने और दुर्व्यसनों से दूर रहने का उपदेश दिया करते थे । एक दिन भीषण गर्मी में स्वामी जी एक गाँव से गुजर रहे थे । प्यास लगी , तो खेत की मेड़ पर बैठे एक व्यक्ति को लोटे से पानी पीते देखकर कहा , भैया ! मुझे भी थोड़ा पानी पिला दें । उस ग्रामीण ने भगवा वस्त्रधारी संन्यासी को देखकर सिर झुकाया और बोला , महाराज ! मैं निम्न जाति का व्यक्ति आपको अपने हाथों से पानी पिलाकर पाप मोल नहीं ले सकता । स्वामी जी यह सुनकर आगे बढ़ गये । कुछ ही क्षणों में उन्हें लगा कि मैंने साधु बनने के लिये जाति , परिवार तथा पुरानी प्रचलित गलत मान्यताओं का परित्याग कर दिया , फिर आग्रह करके उस निश्छल ग्रामीण का पानी क्यों नहीं स्वीकार किया ? मेरा सोया हुआ जाति अभिमान क्यों जाग उठा ? यह तो अधर्म हो गया । वह तुरंत उस ग्रामीण के पास लौटकर बोले , भैया ! मुझे क्षमा करना । मैंने तुम जैसे निश्छल परिश्रमी व्यक्ति के हाथों पानी ना पीकर घोर पाप किया है । निम्न जाति तो उसकी होती है , जो दुर्व्यसनी और अपराधी होता है । स्वामी जी ने उसके हाथ से लोटा लेकर पानी ग्रहण किया । बाद में वे खुलकर ऊँच - नीच की भावना पर प्रहार करते रहे । 🌲🌲माँ काली का शुभाशीष आजीवन आपके साथ बना रहे 🌲🌲 🌹🌹जय माँ काली जी.🌹🌹

+475 प्रतिक्रिया 180 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Naval Sharma Apr 17, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Rajeev Thapar Apr 17, 2019

+8 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 6 शेयर
PRAMIL KUMAR SHARMA Apr 17, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Amar Rajak Apr 17, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+122 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 9 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB