sn.vyas
sn.vyas Oct 15, 2017

हमारी संस्कृति हमारी विरासत

हमारी संस्कृति हमारी विरासत
हमारी संस्कृति हमारी विरासत

धर्म यात्रा
भादरिया राय मन्दिर , भादरिया

आवड़ माता का यह मन्दिर , जोधपुर-जैसलमेर मार्ग पर धोलिया गाँव से 9 कि.मी. उत्तर में स्थित है। आवड़जी आदि कन्याएँ विचरण करती हुई भादरिया गाँव के एक टीले पर पहुँची। वहाँ पर राव तणु भाटी ने पहुँचकर उनके दर्शन किये और लकड़ी के बने हुए आसन ( संहगे ) पर आवड़जी को विराजमान किया। तीन बहनों को दाईं तरफ तथा तीन बहनों को बाईं तरफ खड़ा किया और अपने हाथ से चँवर ढुलाए। संहगे पर बैठने के कारण आवड़जी स्वांगियाँ कहलाई।यह स्थान यहाँ के शासकों और जनता के लिए श्रद्धा का केंद्र बन गया। माता ने जैसलमेर की रक्षा के लिए कई चमत्कार दिखाए। संवत् 1885 में बीकानेर और जैसलमेर की सेनाओं के बीच वासनपी में लड़ाई हुई। *उसमें स्वाँगियाँ जी के अदृश्य चक्रों से बीकानेर के अनेक सैनिक मारे गए तथा बाकी बचे सैनिकों को अपने प्राण बचाकर भागना पड़ा।* वर्तमान में माता स्वांगियां का साक्षात चमत्कार तन्नोटराय में भी हुआ जिसके गवाह पाकिस्तान के सैनिक भी रहे हैं।

+84 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 15 शेयर
white beauty Apr 15, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
suresh joshi Apr 15, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB