Atul s petare
Atul s petare Apr 11, 2021

Om Shree suryadevay namah.

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

पत्नियों के आदेश और सख्त ऑर्डर :— रसोई सुबह 7:00 से 8:00 तक दोपहर 12:00 से 1:00 और रात 8:00 से 9:00 तक ही खुली रहेगी । बाकी समय लॉकडाउन रहेगा । बार-बार फरमाइशें करके लॉकडाउन ना तोड़े अन्यथा 11,000 rs का जुर्माना और 8 दिन के लिए रसोई सील कर दी जाएगी । महिला एसोसिएशन द्वारा जनहित में जारी🙏🏻पत्नी क्या होती हैं ??? एक बार जरूर पढ़े... "मैं डरता नहीं उसकी कद्र करता हूँ उसका सम्मान करता हूँ |" "कोई फर्क नहीं पड़ता कि वो कैसी हैं पर मुझे सबसे प्यारा रिश्ता उसी का लगता हैं |" माँ बाप रिश्तेदार नहीं होते, वो भगवान होते हैं, उनसे रिश्ता नहीं निभाते उनकी पूजा करते हैं | भाई बहन के रिश्ते जन्मजात होते हैं, दोस्ती का रिश्ता भी मतलब का ही होता हैं, आपका मेरा रिश्ता भी जरूरत और पैसे का हैं | पर, पत्नी बिना किसी करीबी रिश्ते के होते हुए भी हमेशा के लिए हमारी हो जाती हैं, अपने सारे रिश्ते को पीछे छोड़कर, और हमारे हर सुख दुख की सहभागी बन जाती हैं आखिरी साँसो तक |" पत्नी अकेला रिश्ता नहीं हैं, बल्कि वो पूरा रिश्तों का भंडार हैं | ज़ब वो हमारी सेवा करती हैं, हमारी देखभाल करती हैं, हमसे दुलार करती हैं तो एक माँ जैसी होती हैं | ज़ब वो हमें ज़माने के उतार चढ़ाव से आगाह करती हैं और मैं अपनी कमाई उसके हाथ में रख देता हूँ क्यूंकि जनता हूँ वह हर हाल में मेरे घर का भला करेगी तब पिता जैसी होती हैं | ज़ब हमारा ख्याल रखती हैं, हमसे लाड़ करती हैं, हमारी गलती पर डांटती हैं, हमारे लिए ख़रीदारी करती हैं तब बहन जैसी होती हैं | ज़ब हमसे नयी नयी फरमाइस करती हैं, नखरे करती हैं, रूठती हैं, अपनी बात मनवाने की जिद करती हैं तब बेटी जैसी होती हैं | ज़ब हमसे सलाह करती हैं, मशवारा देती हैं,परिवार चलाने के लिए नसीहते देती हैं, झगडे करती हैं तब एक दोस्त जैसी होती हैं | ज़ब वह सारे घर का लेन देन, खरीदारी, घर चलाने की जिम्मेदारी उठाती हैं तो एक मालकिन जैसी होती हैं | और ज़ब वही सारी दुनिया को यहाँ तक की अपने बच्चों को भी छोड़कर हमारे बांहो में आती हैं तब वह पत्नी, प्रेमिका, अर्धांगिनी, हमारी प्राण और आत्मा होती हैं जो अपना सब कुछ सिर्फ हम पर न्योछावर करती हैं | मैं उसकी इज्जत करता हूँ तो गलत क्या करता हूँ...??? ❤❤❤🤗🤗🤗🥰🥰🥰😘😘😘❤❤❤🌹🌹🌹ਜੈ ਮਾਤਾ ਦੀ 🌹🌹🌹"ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु‍ते।।" || ओम ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै: || 🙏🌺#_जय_श्री_महाकाली_माँ सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार वान_प्रस्थ ऋषिकेश,हरिद्वार ।

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
atul tiwari May 12, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
X7skr May 12, 2021

🕉️ namah shivay 🙏 @🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 13 मई 2021 ⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - द्वितीया 14 मई प्रातः 05:38 तक तत्पश्चात तृतीया ⛅ नक्षत्र - रोहिणी 14 मई प्रातः 05:45 तक तत्पश्चात मॄगशिरा ⛅ योग - अतिगण्ड रात्रि 12:51 तक तत्पश्चात सुकर्मा ⛅ राहुकाल - दोपहर 02:14 से शाम 03:52 तक ⛅ सूर्योदय - 06:02 ⛅ सूर्यास्त - 19:07 ⛅ दिशाशूल - दक्षिण दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - 💥 विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 समस्याओं के समाधान का बढिया उपाय 🌷 👉🏻 कोई भी समस्या आये तो बड़ी ऊँगली (मध्यमा) और अँगूठा मिलाकर भ्रूमध्य के नीचे और तर्जनी ( अँगूठे के पासवाली पहली ऊँगली) ललाट पर लगा के शांत हो जायें | श्वास अंदर जाय तो ‘ॐ’ , बाहर आये तो ‘शांति’ – ऐसा कुछ समय तक करें | आपको समस्याओं का समाधान बढिया मिलेगा | 🙏🏻 ऋषिप्रसाद – मई २०२१ से 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 ससुराल मे कोई तकलीफ 🌷 👩🏻 किसी सुहागन बहन को ससुराल में कोई तकलीफ हो तो शुक्ल पक्ष की तृतीया को उपवास रखें …उपवास माने एक बार बिना नमक का भोजन कर के उपवास रखें..भोजन में दाल चावल सब्जी रोटी नहीं खाए, दूध रोटी खा लें..शुक्ल पक्ष की तृतीया को..अमावस्या से पूनम तक की शुक्ल पक्ष में जो तृतीया आती है उसको ऐसा उपवास रखें …नमक बिना का भोजन(दूध रोटी) , एक बार खाए बस……अगर किसी बहन से वो भी नहीं हो सकता पूरे साल का तो केवल 🙏🏻 माघ महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया, 🙏🏻 वैशाख शुक्ल तृतीया और 🙏🏻 भाद्रपद मास की शुक्ल तृतीया जरुर ऐसे ३ तृतीया का उपवास जरुर करें …नमक बिना का भोजन करें ….जरुर लाभ होगा… 🙏🏻 ..ऐसा व्रत वशिष्ठ जी की पत्नी अरुंधती ने किया था…. ऐसा आहार नमक बिना का भोजन…. वशिष्ठ और अरुंधती का वैवाहिक जीवन इतना सुंदर था कि आज भी सप्त ऋषियों में से वशिष्ठ जी का तारा होता है , उनके साथ अरुंधती का तारा होता है…आज भी आकाश में रात को हम उन का दर्शन करते हैं … 🙏🏻 .शास्त्रों के अनुसार शादी होती तो उनका दर्शन करते हैं ….. जो जानकार पंडित होता है वो बोलता है…शादी के समय वर-वधु को अरुंधती का तारा दिखाया जाता है और प्रार्थना करते हैं कि , “जैसा वशिष्ठ जी और अरुंधती का साथ रहा ऐसा हम दोनों पति पत्नी का साथ रहेगा..” ऐसा नियम है…. 🙏🏻 चन्द्रमा की पत्नी ने इस व्रत के द्वारा चन्द्रमा की यानी २७ पत्नियों में से प्रधान हुई….चन्द्रमा की पत्नी ने तृतीया के व्रत के द्वारा ही वो स्थान प्राप्त किया था…तो अगर किसी सुहागन बहन को कोई तकलीफ है तो ये व्रत करें ….उस दिन गाय को चंदन से तिलक करें … कुम-कुम का तिलक ख़ुद को भी करें उत्तर दिशा में मुख करके …. उस दिन गाय को भी रोटी गुड़ खिलाये॥ 🙏🏻 सुरेशानंदजी -19th May 08, Haridwar 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🙏🏻🌷🌻🍀🌹🌼💐🌸🌺🙏🏻 http://T.me/Hindupanchang

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
uma prem singh verma May 12, 2021

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 15 शेयर
pooja Sharma May 12, 2021

+26 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 36 शेयर
Beena Rani May 12, 2021

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Namrata chhabra May 12, 2021

+26 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Rakesh Singh May 12, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
vandana May 12, 2021

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB