0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

हल्दी (Turmeric) का इस्तेमाल हम सभी मसाले के रूप में करते हैं। वैसे इसमें कई औषधीय गुण भी होते हैं। मसलन कोरोना काल में हर कोई हल्दी वाला दूध (Turmeric milk) पी रहा है। ये आपको संक्रमण से बचाने में मदद करता है। इसके अलावा हल्दी का उपयोग पूजा पाठ और मांगलिक कार्यों में भी किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हल्दी आपके जीवन की कई परेशानियों को भी दूर कर सकती है। दरअसल ज्योतिष शास्त्र (Jyotish shastra) में हल्दी को काफी अहमियत दी गई है। ये ग्रहों से जुड़ी समस्या से लेकर आर्थिक तंगी, गृह कलेश, नेगेटिव एनर्जी का प्रकोप, मन चाहा जीवन साथी तक कई समस्याओं से निजात दिलाती है। ऐसे में आज हम आपको हल्दी के कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जो आपको दैनिक जीवन से जुड़ी समस्या दूर करने में मदद करेंगे। 1. वास्तु दोष (Vadstu dosh) और नकारात्मक ऊर्जा (Negative energy) के चलते घर में कई तरह की दिक्कतें आती है। यदि आप भी इस तरह की समस्या का सामना कर रहे हैं तो हल्दी आपकी मदद कर सकती है। आपको बस घर के सभी कोनों में हल्दी पाउडर का छिड़काव करना होगा। इससे घर में मौजूद सभी तरह के वास्तु दोष समाप्त हो जाएंगे। यह उपाय आपके घर सुख समृद्धि लाएगा। 2. जो लोग धन की समस्या से जूझ रहे हैं वे प्रत्येक गुरुवार घर में हल्दी के पानी का छिड़काव करें। इससे घर की नेगेटिव एनर्जी खत्म होगी और पॉजिटिव ऊर्जा आएगी। इसका फायदा ये होगा कि गुरुवार के अगले दिन यानि शुक्रवार आपके घर सकारात्मक ऊर्जा का स्तर अधिक होगा। यह चीज मां लक्ष्मी को अपनी ओर आकर्षित करेगी और वह आपके घर प्रवेश कर आपकी धन संबंधित समस्या दूर कर देगी। 3. यदि आप रात में आने वाले बुरे सपनों से परेशान है तो हल्दी की गांठ पर मौली बांधकर उसे तकिये के नीचे रख दें। बुरे सपने आना बंद हो जाएंगे। 4. यदि आपको अपने पति का प्यार नहीं मिल रहा है तो हल्दी आपकी सहायता कर सकती है। गुरुवार के दिन पीले वस्त्र पहनकर हल्दी की गांठ रखकर ‘ऊं रत्यै कामदेवायः नमः’ मंत्र का एक माला जाप करें। इसके बाद शाम को बेसन से बने व्यंजन बनाएं। आपको पति का प्यार मिलने लगेगा। 5. यदि आपको गुस्सा अधिक आता है तो रोज हल्दी का तिलक लगाकर घर से बाहर निकले। वहीं नहाते समय हल्दी पानी में मिला लेने से बंद किस्मत के ताले भी खुल जाते हैं। इससे आपको जॉब में भी फायदा मिलता है। समाज में मान सम्मान बढ़ता है। जय श्री महाकाली जय श्री लक्ष्मी माता की जय श्री सरस्वती माता की जय श्री अन्न 🍲 पूर्णा माता की 💐 👏 🐚 🚩 जय श्री राम जय श्री हनुमान जी जय श्री सिता माता की जय श्री गजानन जय श्री भोलेनाथ जय श्री पार्वती माता की जय श्री लक्ष्मी नारायण नमस्कार 🙏 🚩 आप का हर पल शुभ रहे नमस्कार 🙏 शुभ 🌅 👣 🌹 👏 शुभ मंगलवार सबका मंगल हो जय श्री राम 🌹 👏 🚩 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

+83 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Ravita Devi May 4, 2021

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
vinodkumar mahajan May 4, 2021

https://hinduismforworldvictory.blogspot.com/2021/05/blog-post_12.html माँ,तेरी बहुत याद आती है ---------------------------------- हिम्मत बढाने के लिए, हौसले बुलंद करने के लिए, आत्मविश्वास बढाने के लिए, उच्च मंझील तक पहुंचाने के लिए, मानसिक आधार देने के लिए, कठोर संघर्ष की घडी में थके हारे मन को दो प्रेम के शब्द देने के लिए, माँ,तेरी बहुत याद आती है। तेरी बहूत याद आती है। तेरे कंधे पे सर रखकर, मुसिबतों की भयंकर घडी में,भरपेट रोने के लिए, माँ,तेरी बहुत याद आती है। मेरी गलतीयों पर भी प्रेम के चार शब्दों से समझाने के लिए, माँ,तेरी बहुत याद आती है। जब मैं दो साल का बच्चा था, तभी तुने देहत्याग किया और मरने के बाद भी साक्षात देह धारण करके, मुझे साक्षात दर्शन दिया। और सर पर हाथ रखा। और मेरे सद्गुरू के गोद में मुझे रखकर तु ओझल होती गई, नजरों से सदा के लिए, दूर हटती गई। और मेरे सद्गुरू ने ही आजतक माँ जैसा पवित्र, स्वर्गीय ईश्वरी प्रेम दिया। मगर अब तो सद्गुरू का भी देहावसान हो गया। तो दुख के दो आँसू बहाने के लिए, कहाँ जगह ढुंड लूं माँ, कहाँ जगह ढुंड लूं। आँसू पोंछनेवाला प्रेम का सहारा कहाँ ढुंड लू माँ,कहाँ ढुंड लूं। जीवन का संघर्ष भयंकर है। मंझील तक पहुंचने का रास्ता भी आसान नही है। ऐसे में दो शब्द ममता के देनेवाले तेरे सहारे को कहाँ ढुंड लूं माँ, कहाँ ढुंड लूं। मोदिजी के माँ का वात्सल्य पूर्ण हाथ आज भी उनके सर पर होता है, शक्ती बढाने के लिए,प्रेरणा देने के लिए। ऐसी शक्ती बढाने का वात्सल्य पूर्ण हाथ ,प्रेरणा देनेवाला हाथ, कहाँ से ढुंड लावूं माँ। कहाँ से ढुंड लावूं। अकेले लडते लडते थक हार जाता हुं। फिर भी हिम्मत रखकर मंझील की ओर एकेक कदम बढाता हुं। और आखिर में आसमान में मेरी माँ का और मेरे सद्गुरू का साया देखता हुं, और फिर थके हारे उदास मन को, बडी उम्मीद से शांत करता हुं। और एकेक कदम निश्चल होकर आगे बढता हुं। फिर भी माँ, तेरी बहुत याद आती है। हरी ओम् ------------------------------------- विनोदकुमार महाजन

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
vinodkumar mahajan May 3, 2021

https://hinduismforworldvictory.blogspot.com/2021/05/blog-post_3.html कर्तव्य कठोर... सबका साथ ,सबका विकास, सबका विश्वास, बहुत महँगा पडेगा मोदिजी बहुत महँगा पडेगा बस्स...अब कठोर बनकर ही निर्णय लिजिए और देश को तथा देशवासियों को बचाईये साँपों का साथ,साँपों का विकास, साँपों पर विश्वास बहुत महँगा पडेगा मोदिजी भगवान श्रीकृष्ण और भगवान श्रीराम भी कर्तव्य कठोर थे जिन्होने दुष्ट,दुर्योधन, कँस,रावण पर कभी भी कभी भी विश्वास नही किया बल्की , उनको मृत्युदंड देकर सामाजिक संतुलन बनाये रखा कठोर बनीये मोदीजी कठोर बनिए,ह्रदय शून्य बनिए, कर्तव्य कठोर बनिए क्रूर शासक बनिए समय बहुत खराब ही नही अती भयावह है और समय बहुत कम भी है साँपों की चाल गहरी है अनेक जहरीले साँप ,जमीन के निचे, सत्य को बदनाम करने के लिए, बर्बाद करने के लिए,देश को तबाह करने के लिए, संधि का फायदा उठाकर, दंश करने के लिए समय का इंतजार कर रहे है समय सोचने का अथवा बर्बाद करने का नही है अर्जुन को गांडिव हाथ में लेकर एकेक बाण छोडने का है दुर्योधनी फौज को नेस्तनाबूद करने का है,तहस महस करने का है देश में जहर फैलाने वाले साँपों का सदा के लिए, कानून के दायरें में रहकर बंदोबस्त किजिए अन्यथा तबाही होगी,सर्वनाश होगा समय की यही पूकार, देशद्रोही शक्तियों का पर करो तुरंत जमकर प्रहार सत्य वादियों की सही पूकार हरी ओम् विनोदकुमार महाजन

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB