Raj Rani Bansal
Raj Rani Bansal Jun 11, 2018

सुन्दर प्राथना सुप्रभात

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Mamta Chauhan Feb 27, 2020

+66 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Parmanand Ahuja Feb 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
siva siva Feb 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sandip Feb 27, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Deepesh Nigam Feb 27, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sanjay Singh Feb 27, 2020

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

राधे राधे ॥ आज का भगवद चिन्तन ॥ 25-02-2020 ♦संसार में बहुधा यह बात कही और सुनी जाती है कि व्यक्ति को ज्यादा सीधा और सरल नहीं होना चाहिए। सीधे और सरल व्यक्ति का हर कोई फायदा उठाता है। यह भी लोकोक्ति कही जाती है कि टेढे वृक्ष को कोई हाथ भी नहीं लगाता सीधा वृक्ष ही काटा जाता है। ♦टेढ़े लोगों से दुनिया दूर भागती हैं वहीँ सीधों को परेशान किया जाता है। तो क्या फिर सहजता और सरलता का त्याग कर टेढ़ा हुआ जाए ? पर यह बात जरूर समझ लेना दुनिया में जितना भी सृजन हुआ है वह टेढ़े लोगों से नहीं सीधों से ही हुआ है। ♦कोई सीधा पेड़ कटता है तो लकड़ी भी भवन निर्माण में या भवन श्रृंगार में उसी की ही काम आती है। मंदिर में भी जिस शिला में से प्रभु का रूप प्रगट होता है वह टेढ़ी नहीं कोई सीधी शिला ही होती है। जिस वंशी की मधुर स्वर को सुनकर हमें आंनद मिलता है वो भी किसी सीधे बांस के पेड़ से ही बनती है। सीधे लोग ही गोविंद के प्रिय होते हैं। ♦♦♦♦♦♦♦♦

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Hima Hima Feb 27, 2020

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB