PDJOSHI
PDJOSHI Jun 8, 2018

EK BAR SAAWAREEYA

+46 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 495 शेयर

कामेंट्स

Shanti Pathak Aug 8, 2020

+160 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 80 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Shanti Pathak Aug 7, 2020

+86 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 108 शेयर
Shanti Pathak Aug 6, 2020

+135 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 97 शेयर

+114 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Manoj Kumar dhawan Aug 8, 2020

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Shanti Pathak Aug 7, 2020

****जय श्री कृष्ण********** *****शुभरात्रि जी ************** *प्रसन्नता* *वो औषधि है* *जो दुनिया के किसी भी* *बाजार में नहीं* *सिर्फ अपने अंदर ही* *मिलती है* *खुश रहें स्वस्थ रहें मस्त रहें।।* 🙏 *🌹🙏 जय श्री कृष्ण🙏🌹* (((( कंजूस सेठ की पूर्ण निष्ठा )))) . एक कंजूस सेठ था। वह अपना जीवन बहुत ही कंजुसी से जिया करता था। .*👌🌻‼श्रीकृष्ण ‼🌻👌* जितनी आवश्यकता होती है उससे भी कम वो खर्चा किया करता था। . एक दिन उसके मन में आया कि पूजा पाठ करना चाहिए। पर उसको फिर विचार आया कि यदि वो पूजा पाठ करेगा तो उसके लिए भी खर्चा करना होगा। . फिर उसने सोचा क्यों न पूजा पाठ मानसिक रूप से कर लिया जाय जिसमें कोई खर्चा नही आएगा। . उसने नित्य सुबह बाल कृष्ण को मानसिक रूप से स्नान करवाता उनको आसान पर विराजमान करता। . उनकी आरती उतारता और उनके लिए दूध गर्म करता और उसमें शक्कर मिला कर उनको भोग लगाता। . उसका ये नित्य का नियम था, इसमें वो किसी प्रकार की लापरवाही नही करता था। . वो सुबह उठ जाता और ये नित्य बाल कृष्णजी की मानसिक रूप से पूजा करता। . उसको बहुत ही बढ़िया लग रहा था क्योंकि उसको किसी भी प्रकार का कोई खर्चा नही लग रहा था और पूजा भी हो रही थी। . इस प्रकार उसको पूजा करते हुए काफी वर्ष बीत गए। कोई भी अपना दृढ़तापूर्वक अपने नियम का पालन करते है तो वो नियम सिद्ध हो जाता हैं। . एक दिन सेठजी को सुबह उठने में देरी हो गयी, अब वो जल्दबाजी में उठा और वो चिंतित हो उठा कि अभी तक भगवान को भोग नही लगाया। . उसने जल्दी से स्नान आदि से निवर्त हुआ और बालकृष्ण जी को मानसिक रूप से स्नान करवाया। . फिर उनको आसान दिया और मन ही मन उनको धूपबत्ती दिया आदि किया। . फिर मन ही मन रसोई में गया और दूध गर्म किया जल्दी से गिलास में रखा और उसमें शक्कर डाला। . वो सेठ जी रोज एक चम्मच शक्कर डालते थे लेकिन उस दिन जल्दबाजी के कारण 1 चम्मच की जगह 2 चम्मच शकर डाल दी। . अब सेठजी चिंतित होने लगे कि एक चम्मच की जगह दो चम्मच डाल दी, एक चम्मच का नुकसान हो गया, जबकि ये सब वो मन ही मन कर रहा था। . मानसिक पूजा में भी उसको एक चम्मच ज्यादा लग रहा था। अब वो मन ही मन उस एक चम्मच शकर को दूध से निकाल रहा था, और बालकृष्ण जी ये सब देख रहे थे थे। . अब बालकृष्ण जी से रहा नही गया और वो प्रकट हो गए, और उन्होंने सेठजी का हाथ पकड़ लिया और कहा.. . "अरे भई तेरा जैसे भक्त मैने देखा नही जो मन ही मन भोग लगा रहा हैं और उसमें भी इतनी कंजुसी कर रहा है। . डाल दे 2 चम्मच शकर इसमें तेरा क्या जाता हैं" लेकिन मै तेरी भक्ति और पूर्ण विश्वास के कारण तुझ से प्रसन्न हूँ, तुझे अपनी पूर्णा भक्ति देता हूँ। . इस प्रकार उस सेठजी का जीवन धन्य हो गया और सेठ जी को भगवान की प्राप्ति हो गयी। क्योंकि सेठ जी को पूर्ण निष्ठा थी की भगवान ये दूध पीते हैं।

+262 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 217 शेयर
Payal Gupta Aug 7, 2020

+93 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 94 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB