Gopalchandra porwal
Gopalchandra porwal Apr 15, 2021

https://www.mymandir.com/p/NGE19?ref=share

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

कामेंट्स

Gopalchandra porwal Apr 15, 2021
जय जय राधे कृष्ण जय राम सा राम सा राम सा राम सा

SunitaSharma May 16, 2021

+32 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 66 शेयर
sukhadev awari May 16, 2021

+110 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 15 शेयर

क्या यह आधुनिक तकनीकों वाला युग नींव खोदे बिना एक गगनचुंबी इमारत के निर्माण की कल्पना कर सकता है ? यह तमिलनाडु का बृहदेश्वर मंदिर है, यह बिना नींव का मंदिर है । इसे इंटरलॉकिंग विधि का उपयोग करके बनाया गया है इसके निर्माण में पत्थरों के बीच कोई सीमेंट, प्लास्टर या किसी भी तरह के चिपकने वाले पदार्थों का प्रयोग नहीं किया गया है इसके बावजूद पिछले 1000 वर्षों में 6 बड़े भूकंपो को झेलकर भी आज अपने मूल स्वरूप में है । 216 फीट ऊंचा यह मंदिर उस समय दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर था। इसके निर्माण के कई वर्षों बाद बनी पीसा की मीनार खराब इंजीनियरिंग की वजह से समय के साथ झुक रही है लेकिन बृहदेश्वर मंदिर पीसा की मीनार से भी प्राचीन होने के बाद भी अपने अक्ष पर एक भी अंश का झुकाव नहीं रखता । इस मंदिर के निर्माण के लिए 1.3 लाख टन ग्रेनाइट का उपयोग किया गया था जिसे 60 किलोमीटर दूर से 3000 हाथियों द्वारा ले जाया गया था। इस मंदिर का निर्माण पृथ्वी को खोदे बिना किया गया था यानी यह मंदिर बिना नींव का मंदिर है । मंदिर टॉवर के शीर्ष पर स्थित शिखर का वजन 81 टन है आज के समय में इतनी ऊंचाई पर 81 टन वजनी पत्थर को उठाने के लिए आधुनिक मशीनें फेल हो जाएंगी । बृहदीश्वर मंदिर के निर्माण के लिए प्रयोग किए गए इंजीनियरिंग के स्तर को दुनिया के सात आश्चर्यों में से किसी भी आश्चर्य के निर्माण की तकनीक मुकाबला नहीं कर सकती और आज की तकनीकों को देखकर भविष्य में भी कई सदियों तक ऐसा निर्माण सम्भव नहीं दिखता है ।

0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Tanu May 16, 2021

+33 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Tanu May 16, 2021

+29 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 10 शेयर

. "मीरा चरित" (पोस्ट-019) माँ ने मीरा से जब पूछा कि बेटी मायके से कुछ और चाहिए तो बता - तो मीरा ने कहा, "बस माँ मेरे ठाकुर जी दे दो। मुझे और किसी भी वस्तु की इच्छा नहीं है।" "ठाकुर जी को भले ही ले जा बेटा, पर उनके पीछे पगली होकर अपना कर्तव्य न भूल जाना। देख, इतने गुणवान और भद्र पति मिले हैं। सदा उनकी आज्ञा में रहकर ससुराल में सबकी सेवा करना" माँ ने कहा। बहनों ने मिल कर मीरा को पालकी में बिठाया। मंगला ने सिंहासन सहित गिरधरलाल को उसके हाथ में दे दिया। दहेज की बेशुमार सामग्री के साथ ठाकुर जी की भी पोशाकें और श्रृंगार सब सेवा का ताम-झाम भी साथ चला। वस्त्राभूषण से लदी एक सौ एक दासियाँ साथ गई। बड़ी धूमधाम से बारात चित्तौड़ पहुँची। राजपथ की शोभा देखते ही बनती थी। वाद्यों की मंगल ध्वनि में मीरा ने महल में प्रवेश किया। सब रीति-रिवाज सुन्दर ढंग से सहर्ष सम्पन्न हुये। देर सन्धया गये मीरा को उसके महल में पहुँचाया गया। मिथुला, चम्पा की सहायता से उसने गिरधरलाल को एक कक्ष में पधराया। भोग, आरती करके शयन से पूर्व वह ठाकुर के लिए गाने लगी.......... होता जाजो राज म्हाँरे महलाँ, होता जाजो राज। मैं औगुणी मेरा साहिब सौ गुणा, संत सँवारे काज। मीरा के प्रभु मन्दिर पधारो, करके केसरिया साज। मीरा के मधुर कण्ठ की मिठास सम्पूर्ण कक्ष में घुल गई। भोजराज ने शयन कक्ष में साफा उतारकर रखा ही था कि मधुर रागिनी ने कानों को स्पर्श किया। वे अभिमन्त्रित नाग से उस ओर चल दिये। वहाँ पहुँचकर उनकी आँखें मीरा के मुख-कंज की भ्रमर हो अटकी। भजन पूरा हुआ तो उन्हें चेत आया। प्रभु को दूर से प्रणाम कर वह लौट आये। अगले दिन मीरा की मुँह दिखाई और कई रस्में हुईं। पर मीरा सुबह से ही अपने ठाकुर जी की रागसेवा में लग जाती। अवश्य ही अब इसमें भोजराज की परिचर्या एवं समय पर सासुओं की चरण-वन्दना भी समाहित हो गई। नई दुल्हन के गाने की चर्चा महलों से निकल कर महाराणा के पास पहुँची। उनकी छोटी सास कर्मावती ने महाराणा से कहा, "यों तो बीणनी से गाने को कहे तो कहती है मुझे नहीं आता और उस पीतल की मूर्ति के समक्ष बाबाओं की तरह गाती है।" "महाराणा ने कहा, "वह हमें नहीं तीनों लोकों के स्वामी को रिझाने के लिए नाचती-गाती है। मैंने सुना है कि जब वह गाती है, तब आँखों से सहज ही आँसू बहने लगते हैं। जी चाहता है, ऐसी प्रेममूर्ति के दर्शन मैं भी कर पाता।" "हम बहुत भाग्यशाली हैं जो हमें ऐसी बहू प्राप्त हुई। पर अगर ऐसी भक्ति ही करनी थी तो फिर विवाह क्यों किया ? बहू भक्ति करेगी तो महाराज कुमार का क्या ?" "युवराज चाहें तो एक क्या दस विवाह कर सकते हैं। उन्हें क्या पत्नियों की कमी है ? पर इस सुख में क्या धरा है ? यदि कुमार में थोड़ी सी भी बुद्धि होगी तो वह बीनणी से शिक्षा ले अपना जीवन सुधार लेंगे। - पुस्तक- "मीरा चरित" लेखिका:- आदरणीय सौभाग्य कुँवरी राणावत ~~~०~~~ "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " *************************************************

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

. "मीरा चरित" (पोस्ट-020) मीरा को चित्तौड़ में आये कुछ मास बीत गये। गिरधर की रागसेवा नियमित चल रही है। मीरा अपने कक्ष में बैठे गिरधरलाल की पोशाक पर मोती टाँक रही थी। कुछ ही दूरी पर मसनद के सहारे भोजराज बैठे थे। "सुना है आपने योग की शिक्षा ली है। ज्ञान और भक्ति दोनों ही आपके लिए सहज है। यदि थोड़ी-बहुत शिक्षा सेवक भी प्राप्त हो तो यह जीवन सफल हो जाये।" भोजराज ने मीरा से कहा। ऐसा सुनकर मुस्कुरा कर भोजराज की तरफ देखती हुई मीरा बोली, "यह क्या फरमाते हैं आप ? चाकर तो मैं हूँ। प्रभु ने कृपा की कि आप मिले। कोई दूसरा होता तो अब तक मीरा की चिता की राख भी नहीं रहती। चाकर आप और मैं, दोनों ही गिरधरलाल के हैं।" "भक्ति और योग में से कौन श्रेष्ठ है ?" भोजराज ने पूछा। "देखिये, दोनों ही अध्यात्म के स्वतन्त्र मार्ग हैं। पर मुझे योग में ध्यान लगा कर परमानन्द प्राप्त करने से अधिक रूचिकर अपने प्राण-सखा की सेवा लगी।" "तो क्या भक्ति में, सेवा में योग से अधिक आनन्द है ?" "यह तो अपनी रूचि की बात है, अन्यथा सभी भक्त ही होते संसार में। योगी ढूँढे भी न मिलते कहीं।" "मुझे एक बात अर्ज करनी थी आपसे" मीरा ने कहा। "एक क्यों, दस कहिये। भोजराज बोले। "आप जगत-व्यवहार और वंश चलाने के लिए दूसरा विवाह कर लीजिए।" "बात तो सच है आपकी, किन्तु सभी लोग सब काम नहीं कर सकते। उस दिन श्याम कुन्ज में ही मेरी इच्छा आपके चरणों की चेरी बन गई थी। आप छोड़िए इन बातों में क्या रखा है ? यदि इनमें थोड़ा भी दम होता तो ............ "। बात अधूरी छोड़ कर वे मीरा की ओर देख मुस्कुराये। "रूप और यौवन का यह कल्पवृक्ष चित्तौड़ के राजकुवंर को छोड़कर इस मूर्ति पर न्यौछावर नहीं होता और भोज शक्ति और इच्छा का दमन कर इन चरणों का चाकर बनने में अपना गौरव नहीं मानता। जाने दीजिये - आप तो मेरे कल्याण का सोचिए। लोग कहते हैं - ईश्वर निर्गुण निराकार है। इन स्थूल आँखों से नहीं देखा जा सकता, मात्र अनुभव किया जा सकता है। सच क्या है, समझ नहीं पाया।" "वह निर्गुण निराकार भी है और सगुण साकार भी।" मीरा ने गम्भीर स्वर में कहा -"निर्गुण रूप में वह आकाश, प्रकाश की भांति है जो चेतन रूप से सृष्टि में व्याप्त है। वह सदा एकरस है। उसे अनुभव तो कर सकते हैं, पर देख नहीं सकते। और ईश्वर सगुण साकार भी है। यह मात्र प्रेम से बस में होता है, रूष्ट और तुष्ट भी होता है। ह्रदय की पुकार भी सुनता है और दर्शन भी देता है।" मीरा को एकाएक कहते-कहते रोमांच हुआ। यह देख भोजराज थोड़े चकित हुए। उन्होने कहा, "भगवान के बहुत नाम - रूप सुने जाते हैं। नाम - रूपों के इस विवरण में मनुष्य भटक नहीं जाता ?" "भटकने वालों को बहानों की कमी नहीं रहती। भटकाव से बचना हो तो सीधा उपाय है कि जो नाम - रूप स्वयं को अच्छा लगे, उसे पकड़ ले और छोड़े नहीं। दूसरे नाम-रूप को भी सम्मान दें। क्योंकि सभी ग्रंथ, सभी सम्प्रदाय उस एक ईश्वर तक ही पहुँचने का पथ सुझाते हैं। मन में अगर दृढ़ विश्वास हो तो उपासना फल देती है।" - पुस्तक- "मीरा चरित" लेखिका:- आदरणीय सौभाग्य कुँवरी राणावत ~~~०~~~ "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " *************************************************

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

. "दण्डी स्वामी श्रीकेवलाश्रमजी महाराज" दण्डी स्वामी श्रीकेवलाश्रमजी का जन्म एक अति निर्धन ब्राह्मण-परिवार में कुरुक्षेत्र भूमि के अन्तर्गत जिला जीन्द में रामहृद (रामराय) में हुआ था। वे बाल ब्रह्मचारी और बहुत कम पढ़े-लिखे थे, परंतु संतों के मुख से सुने शास्त्रों पर विश्वास करते थे। ब्रह्मचारी जीवन उन्होंने अपने जन्म-स्थान रामराय में ही माता कृष्णा देवी के आश्रम में बिताया। माताजी के देह त्याग देने के बाद उनको कृष्णाधाम आश्रम रामराय जिला जीन्द हरियाणा की गद्दी पर बिठा दिया गया, परंतु मात्र एक माह के बाद ही वे रात को आश्रम को छोड़ ऋषिकेश में आकर संन्यास लेकर मौन धारण करके रहने लगे। आश्रम के लोग ढूँढ़ते रहे। हरिद्वार में भी उनका कृष्णाधाम आश्रम 'खड़खड़ी' के नाम से प्रसिद्ध है। वहाँ पर उन्होंने देवीस्वरूप शास्त्रीजी को प्रबन्धक बनाया था। शास्त्रीजी ने उनको ढूँढ़ लिया तथा उनसे आग्रह किया, जैसे आप ऋषिकेश में रह रहे हैं, वैसे ही आप अपने आश्रम में रहिये। इसपर वे हरिद्वार आ गये। दुर्भाग्य से देवीस्वरूप शास्त्रीजी का निधन हो गया। शास्त्रीजी के निधन के बाद आश्रम को स्वामी केवलाश्रमजी महाराज को सँभालना पड़ा। वे नित्य-प्रति गंगा-स्नान करते थे। आश्रम के अधिष्ठाता होते हुए भी भिक्षा करके भोजन करते थे। उत्तरी हरिद्वार में उस समय पशु-अस्पताल नहीं था। जिस किसी आश्रम की गाय बीमार हो जाती, वे लोग स्वामीजी को बुलाकर ले जाते। वे गाय के स्वस्थ होने की दवाई एवं टोटके जानते थे। कोई भी व्यक्ति बीमार गाय के उपचार के लिये उन्हें बुलाने आता तो वे भजन छोड़कर तुरन्त उसके साथ चले जाते। एक दिन मैंने कहा, भजन करने के बाद चले जाना। उन्होंने कहा गोसेवा भी भजन ही है। वे आश्रम की गाय स्वयं चराने जाते थे। एक दिन उनको साँप ने काट लिया। आकर कहने लगे साँप ने मुँह लगा दिया। साँप का दोष नहीं था। मेरा ध्यान गाय की तरफ था। मेरा पैर साँप पर पड़ गया। हमने कहा, अस्पताल चलो। जहाँ सर्प ने काटा था, वहाँ नीला एवं बहुत बड़ा निशान पड़ गया था। कहा-ठीक हो जायगा। चिन्ता ना करो, बहुत आग्रह करने पर भी अस्पताल नहीं गये। कहने लगे, 'अभी मेरी मृत्यु नहीं है। तुम चिन्ता न करो'। कभी भी हमने उनको क्रोध आदि करते हुए नहीं देखा। गंगा-स्नान, गो-सेवा, भजन उनके नित्य के कार्य थे। आश्रम में अनेक दण्डी स्वामी महात्मा रहते थे। उनमें बहुत-से अतिवृद्ध महात्मा भी थे। वे उनकी नित्य-प्रति स्वयं सेवा करते थे। बीमार होने पर सभी महात्माओं की स्वयं सेवा करते थे। वर्ष १९८७ में श्रीस्वामीजी हरियाणा गये थे। वहाँ एक पागल कुत्ते ने काट लिया। उनको अस्पताल लेकर में गये, वहाँ पर संयोग से कुत्ते के काटने के उपचार सम्बन्धी इंजेक्शन नहीं मिले। दुबारा बहुत प्रयास किया गया, पर वे अस्पताल नहीं गये। कहा-यदि प्रभु चाहते तो मैं अस्पताल गया था। इंजेक्शन मिल जाता, उनकी अब यही इच्छा है। वे जीवन में बीमार पड़ते तो कभी दवाई नहीं लेते। अपने-आप ही काढ़ा आदि बनाकर पी लेते थे। दवाई कभी नहीं ली। महीनों के बाद मैं हरियाणा से आया था। जैसे मेरी आवाज सुनी, कमरे से बाहर आकर कहने लगे-भाई, आज जितनी दवाई देनी है, दे दे। जिस डॉक्टर को दिखाना हो दिखा ले। नहीं तो कहेगा कि स्वामीजी को दवाई दिला देते तो बच जाते। अब तू अपने मन की कर ले। उस समय आश्रम में गाड़ी नहीं थी। हम टैम्पो करके उनको जी०डी० अस्पताल में ले गये। डॉक्टर ने देखते ही कह दिया पागल कुत्ते के काटने से होने वाली बीमारी हो गयी है। अब ये बच नहीं सकते। हम वापस आश्रम में ले आये और सबसे पीछे के कमरे में लिटा दिया। सभी आश्रम वाले पता लगते ही आ गये। उनके प्रति सभी लोग श्रद्धा रखते थे। तीन-चार आश्रमवालों ने अपने स्तर से तीन-चार डॉक्टर, जो उस समय बहुत प्रसिद्ध थे, बुला लिये। सभी डॉक्टरों ने एक मत से कहा ये ७२ घण्टे तड़पेगे, दीवारों पर सिर पारेंगे, काटने दौड़ेंगे, जिसको भी इनके नाखून लार या दाँत लगा जायगा, वे भी ऐसे ही मरेंगे। अतः तुरन्त इनको जी०डी० अस्पतालय दाखिल कराओ। जब डॉक्टर लोग इस प्रकार की बात कर रहे थे, तो श्रीस्वामी जी ने एक छात्र को भेजकर मुझे बुलवाया तथा कहा- भाई, इन डॉक्टरों की बातों में नहीं आना, मेरे कारण आश्रय में कोई हानि नहीं होगी। मुझे सायं ०५ बजे तक जीना है। अगर तेरा दिल मानता है तो मुझको आश्रय में ही मरने दें, नहीं तो मेरे को गंगाजी के किनारे डाल दो। अस्पताल नहीं भेजना। वे मात्र 'ओम् ओम् ' बोल रहे थे। जब उनको बहुत अधिक कष्ट होता था तो 'ओम् ओम्' करके दीवार की तरफ मुख कर लेते, फिर दर्द कम होते ही 'ओम-ओम' करके मुँह इधर कर लेते। डॉक्टरों ने कहा था कि पानी देखते ही बेहोश हो जायेंगे, परंतु उन्होंने एक कमण्डलु गंगाजल पीया उसी दिन परम पूज्य शंकराचार्य दण्डी स्वामी माधवाश्रमजी महाराज हरिद्वार में भागवत की कथा कर रहे थे। वे भी इनके अन्तिम दर्शनों के लिये आये और उन्होंने कथा में कह दिया ओ समाज के लोगों! अगर तुम्हें भजन का प्रभाव देखना है तो कृष्णाधाम आश्रम खड़खड़ी हरिद्वार में चले जाओ। अगर ये बीमारी तुम किसी को भी होती तो तड़पते, रोते, बिलखते, परंतु एक सन्त इस बीमारी से संघर्ष कर रहे हैं। सिवाय 'ओम्' के एक शब्द नहीं बोल रहे। शंकराचार्यजी के इतना कहने के बाद कृष्णाधाम में मेला लग गया। हजारों लोग आते उनके दर्शन करके चले जाते, उनका कमरा अन्तिम समय तक खुला रहा। दो महात्मा उनकी सेवा के लिये उनके पास रहे, जो लोग आ रहे थे। उनके पैर छूकर जाते, उनसे किसी को भय नहीं लगा और ना ही वे 'ओम् ओम् के सिवाय कुछ बोले और उन्होंने आने-जाने वालो का ध्यान भी नहीं किया। उस समय मेरठ से पं० फूलचन्दजी आये हुए थे। उनको बुलाकर कहने लगे पण्डितजी मुहूर्त देखो। पण्डितजी ने कहा-किसी विषय का मुहूर्त देखूँ ? कहने लगे, मेरा मुहूर्त तो ५ बजे का है। इससे पहले मरने का मुहूर्त बनता हो तो मैं पहले चला जाऊँ। जागेराम शास्त्री बहुत दुखी हो रहा है। पण्डितजी कुछ नहीं बोले, रोने लग गये, ठीक ५ बजे एक सन्त आये। वे आकर रोने लगे। स्वामी जी कहने लगे, सन्तजी! क्यों रोते हो, मुझे कहने लगे तेरे आश्रम में सन्तजी आये हैं। इसको दूध पिला। यह कहकर फिर 'ओम ओम' कहने लगे। इतने में सन्त को गेट तक छोड़कर आया। उस समय उनके पास दण्डी स्वामी श्रीमुरारी आश्रम तथा दण्डी स्वामी श्रीरामानन्द आश्रम सेवा में थे। स्वामी जी के कहने पर उन्होंने उन्हें नीचे आसन बिछाकर बैठाया। पद्मासन उन्होंने स्वयं लगा लिया। जब कमण्डलु से उनको गंगाजल पिला रहे थे तब मैंने कहा-नीचे क्यों बैठाया ? अभी मैं पूरा बोल भी नहीं पाया कि उन्होंने 'ओम ओम्' का उच्चारण किया और गंगाजल मुख में लेते ही उन्होंने प्राण छोड़ दिये। स्वामी मुरारी आश्रमजी कहने लगे-ये तो सदा के लिये ही बैठ गये। उस समय तक तीनों डॉक्टर आश्रम में ही थे। डॉक्टरों ने स्वयं कहा कि ये हमारे मेडिकल साइंस के एकदम विपरीत अद्भुत घटना घटी है। एक डॉक्टर बंगाली सिपाहा नाम से थे। कहने लगे-मैंने जीवन में ऐसी घटना कभी नहीं देखी। तीनों डॉक्टरों ने स्वामीजी के शरीर को प्रणाम किया। उस घटना से यह सिद्ध होता है। कर्म के भोग तो हर हालत में सभी महापुरुषों को भोगने पड़ते हैं। कुत्ते का काटना तथा वह बीमारी होना तो कर्म के भोग निश्चित थे। परंतु गौसेवा, श्रीगंगासेवा, सन्त सेवा, भगवद्धजन डॉक्टरों के अनुसार मेडिकल साइंस को मात दे सकते हैं। आज श्रीदण्डी स्वामी केवलाश्रमजी महाराज के मात्र आशीर्वाद से कृष्णाधाम अन्नक्षेत्र में सैकड़ों महात्मा और जरूरतमन्द निशुल्क भोजन करते हैं। दान देने वाले भी स्वतः आते हैं और खाने वाले भी स्वत: आते हैं। यह भगवान् के भजन, गोसेवा, गंगासेवा, सन्तसेवा का अनुपम प्रभाव है। ----------:::×:::---------- पत्रिका: कल्याण (९३।८) गीताप्रेस (गोरखपुर) "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " *******************************************

0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

. “परीक्षण" साधन का उपदेश होता है अधिकारी को। जिस प्रकार डाक्टर मरीज की परीक्षा करके निदान करता है कि उसे क्या रोग है ? तब दवा सोचता है। उसी प्रकार गुरु शिष्य की परीक्षा करता है तब उसे यथाधिकार उपदेश देता है। एक सज्जन गये गुरु के पास और बोले--मुझे उपदेश दीजिये। गुरु ने कहा तुम्हें क्रोध बहुत आता है। तुम एक वर्ष तक क्रोध पर विजय प्राप्त करो फिर आओ। और हाँ, नहा कर आना। एक वर्ष बाद वे आये। गुरुजी ने मेहतरानी से कह दिया कि देखो, एक काम करना। यह सज्जन जब स्नान करके आयें तो इनके बगल से झाडू देना जिससे थोड़ी गर्द उड़े। इन्हें छूना नहीं। जब वे स्नान करके तैयार होकर गुरुजी के पास उपदेश प्राप्त करने के लिये आने लगे तब मेहतरानी ने गर्द उड़ा दी। इनको थोड़ी गर्द लगी तो ये गुस्सा हो गये। उसे मारने दौड़े तो वो भाग गयी। फिर गुरुजी के पास आये तो गुरुजी ने कहा--तुम्हें अभी क्रोध आता है। तुम मारने के लिये दौड़ते हो। अभी एक वर्ष और अभ्यास करो। अपने को अधिकारी बनाओ। पुनः एक वर्ष बाद वे फिर वहाँ आये। इस बार गुरुजी ने मेहतरानी से कह रखा था कि वे जब आयें तो जरा-सा झाडू स्पर्श करा देना। मेहतरानी बोली--वह मारेगा। गुरुजी बोले-- मारेगा नहीं। तुम ऐसा करना। जब वे स्नान करके तैयार होकर आये तो मेहतरानी वहाँ खड़ी थी। उसने झाडू छुआ दिया। वे उसे मारने को उद्यत तो नहीं हुए पर दुर्वचन बोले। उन्होंने कहा--तुमने मेरी दो साल की मेहनत बेकार कर दी। फिर गुरुजी के पास आये और बोले--महाराज ! बोध प्राप्त कराइये। गुरुजी बोले--अभी बोध प्राप्त करोगे ? अभी तो तुम गाली बकते हो। एक वर्ष और अभ्यास करो, तैयारी करो। क्रोध नाश होने पर उपदेश मिलेगा। वह व्यक्ति सच्चा था, अन्यथा कहता--छोड़ो ऐसे गुरु को, आते हैं उपदेश प्राप्त करने को और साल-साल भर तक नाक रगड़ाता है। हमें तो अभी ब्रह्मज्ञान चाहिये। ऐसे लोगों को ब्रह्मज्ञान मिल भी जाता है और वे मान भी लेते हैं परन्तु वह होता है-- भ्रमज्ञान। ब्रह्म के बदले भ्रम होता है। तीसरे साल जब वे सज्जन आये तो गुरुजी ने मेहतरानी से कहा कि जब वे मेरे पास आने लगें तो इनके ऊपर कूड़े की टोकरी उड़ेल देना। वह बोली--मारेगा। गुरुजी बोले--आज तो बिल्कुल नहीं मारेगा। इसकी तीन वर्ष की साधना हो गयी है। वे बेचारे जब गंगा स्नान करके आने लगे तो मेहतरानी भी तैयार खड़ी थी। गुरुजी ने उससे कह रखा था कि डरना नहीं, आज कुछ नहीं करेगा। उसने उनके ऊपर कूड़े की टोकरी उड़ेल दी। उसके टोकरी उड़ेलते ही वे दण्डवत गिर पड़े और बोले--मैया ! तुम ही मेरी गुरु हो। तीन वर्ष तक तुम्हीं ने परीक्षा करके मुझको इस योग्य बनाया। मैं तुम्हारा कृतज्ञ हूँ। माँ ! मैं तेरा ऋणी हूँ। वह गदगद हो उठी। ये सज्जन फिर स्नान करने गये और तैयार होकर गुरुजी के पास आये और निवेदन किया। गुरुजी ने कहा--अब तुम योग्य हो गये। आज तुम अधिकारी हुए। आज तुम्हें ज्ञान देंगे। ----------:::×:::---------- - श्रीहनुमानप्रसादजी पोद्दार (श्रीभाईजी) 'सरस प्रसंग' "जय जय श्री राधे" "कुमार रौनक कश्यप " ******************************************

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

. ॥हरि ॐ तत्सत्॥ श्रीमद्भागवत-कथा श्रीमद्भागवत-महापुराण पोस्ट - 209 स्कन्ध - 10 अध्याय - 02 इस अध्याय में:- भगवान का गर्भ-प्रवेश और देवताओं द्वारा गर्भ-स्तुति श्री शुकदेव जी कहते हैं - परीक्षित! कंस एक तो स्वयं ही बड़ा बली था और दूसरे मगध नरेश जरासन्ध की उसे बहुत बड़ी सहायता प्राप्त थी। तीसरे उसके साथ थे - प्रलम्बासुर, बकासुर, चाणूर, तृणावर्त, अघासुर, मुष्टिक, अरिष्टासुर, द्विविद, पूतना, केशी, धेनुक, बाणासुर और भौमासुर आदि बहुत से दैत्य राजा उसके सहायक थे। उनको साथ लेकर वह यदुवंशियों को नष्ट करने लगा। वे लोग भयभीत होकर कुरु, पंचाल, केकय, शाल्व, विदर्भ, निषध, विदेह और कोसल आदि देशों में जा बसे। कुछ लोग ऊपर-ऊपर से उसके मन के अनुसार काम करते हुए उसकी सेवा में लगे रहे। जब कंस ने एक-एक करके देवकी के छः बालक मार डाले, तब देवकी के सातवें गर्भ में भगवान के अंशस्वरूप श्रीशेष जी, जिन्हें अनंत कहते हैं, पधारे। आनन्दस्वरूप शेष जी के गर्भ में आने के कारण देवकी को स्वाभाविक ही हर्ष हुआ। परन्तु कंस शायद इसे भी मार डाले, इस भय से उनका शोक भी बढ़ गया । विश्वात्मा भगवान ने देखा कि मुझे ही अपना स्वामी और सर्वस्व मानने वाले यदुवंशी कंस के द्वारा बहुत ही सताये जा रहे हैं। तब उन्होंने अपनी योगमाया को यह आदेश दिया - 'देवि ! कल्याणी ! तुम ब्रज में जाओ ! वह प्रदेश ग्वालों और गौओं से सुशोभित है। वहाँ नन्दबाबा के गोकुल में वसुदेव की पत्नी रोहिणी निवास करती है। उसकी और भी पत्नियाँ कंस से डरकर गुप्त स्थानों में रह रहीं हैं। इस समय मेरा वह अंश जिसे शेष कहते हैं, देवकी के उदर में गर्भ रूप से स्थित है। उसे वहाँ से निकालकर तुम रोहिणी के पेट में रख दो, कल्याणी! अब मैं अपने समस्त ज्ञान, बल आदि अंशों के साथ देवकी का पुत्र बनूँगा और तुम नन्दबाबा की पत्नी यशोदा के गर्भ से जन्म लेना। तुम लोगों को मुँह माँगे वरदान देने में समर्थ होओगी। मनुष्य तुम्हें अपनी समस्त अभिलाषाओं को पूर्ण करने वाली जानकर धूप-दीप, नैवेद्य एवं अन्य प्रकार की सामग्रियों से तुम्हारी पूजा करेंगे। पृथ्वी में लोग तुम्हारे लिए बहुत से स्थान बनायेंगे और दुर्गा, भद्रकाली, विजया, वैष्णवी, कुमुदा, चण्डिका, कृष्णा, माधवी, कन्या, माया, नारायणी, ईशानी, शारदा और अम्बिका आदि बहुत से नामों से पुकारेंगे। देवकी के गर्भ से खींचे जाने के कारण शेष जी को लोग संसार में ‘संकर्षण’ कहेंगे, लोकरंजन करने के कारण ‘राम’ कहेंगे और बलवानों में श्रेष्ठ होने कारण ‘बलभद्र’ भी कहेंगे।' जब भगवान ने इस प्रकार आदेश दिया, तब योगमाया ने ‘जो आज्ञा’, ऐसा कहकर उनकी बात शिरोधार्य की और उनकी परिक्रमा करके वे पृथ्वी-लोक में चली आयीं तथा भगवान ने जैसा कहा था वैसे ही किया। जब योगमाया ने देवकी का गर्भ ले जाकर रोहिणी के उदर में रख दिया, तब पुरवासी बड़े दुःख के साथ आपस में कहने लगे - 'हाय ! बेचारी देवकी का यह गर्भ तो नष्ट ही हो गया।' भगवान भक्तों को अभय करने वाले हैं। वे सर्वत्र सब रूप में हैं, उन्हें कहीं आना-जाना नहीं है। इसलिए वे वसुदेव जी के मन में अपनी समस्त कलाओं के साथ प्रकट हो गये। उसमें विद्यमान रहने पर भी अपने को अव्यक्त से व्यक्त कर दिया। भगवान की ज्योति को धारण करने के कारण वसुदेव सूर्य के सामान तेजस्वी हो गये, उन्हें देखकर लोगों की आँखें चौंधियां जातीं। कोई भी अपने बल, वाणी प्रभाव से उन्हें दबा नहीं सकता था। भगवान के उस ज्योतिर्मय अंश को, जो जगत का परम मंगल करने वाला है, वसुदेव जी के द्वारा आधान किये जाने पर देवी देवकी ने ग्रहण किया। जैसे पूर्व दिशा चन्द्रदेव को धारण करती है, वैसे ही शुद्ध सत्त्व से संपन्न देवी देवकी ने विशुद्ध मन से सर्वात्मा एवं आत्मस्वरूप भगवान को धारण किया। भगवान सारे जगत के निवास स्थान हैं। देवकी उनका भी निवास स्थान बन गयी। परन्तु घड़े आदि के भीतर बंद किये हुए दीपक का और अपनी विद्या दूसरे को न देने वाले ज्ञानखल की श्रेष्ठ विद्या का प्रकाश जैसे चारों ओर नहीं फैलता, वैसे ही कंस के कारागार में बंद देवकी की भी उतनी शोभा नहीं हुई। देवकी के गर्भ में भगवान विराजमान हो गये थे। उसके मुख पर पवित्र मुस्कान थी और उसके शरीर की कान्ति से बंदीगृह जगमगाने लगा था। जब कंस ने उसे देखा, तब वह मन-ही-मन कहने लगा - अबकी बार मेरे प्राणों के ग्राहक विष्णु ने इसके गर्भ में अवश्य ही प्रवेश किया है; क्योंकि इससे पहले देवकी कभी ऐसी न थी। अब इस विषय में शीघ्र-से-शीघ्र मुझे क्या करना चाहिए? देवकी को मारना तो ठीक न होगा; क्योंकि वीर पुरुष स्वार्थवश अपने पराक्रम को कलंकित नहीं करते। एक तो यह स्त्री है, दूसरे बहिन और तीसरे गर्भवती है। इसको मारने से तो तत्काल ही मेरी कीर्ति, लक्ष्मी और आयु नष्ट हो जायेगी। वह मनुष्य तो जीवित रहने पर भी मरा हुआ ही है, जो अत्यंत क्रूरता का व्यवहार करता है। उसकी मृत्यु के बाद लोग उसे गाली देते हैं। इतना ही नही, वह देहाभिमानियों के योग्य घोर नरक में भी अवश्य जाता है। यद्यपि कंस देवकी को मार सकता था, किन्तु स्वयं ही वह इस अत्यन्त क्रूरता के विचार से निवृत हो गया अब भगवान के प्रति दृढ़ वैर का भाव मन में गाँठकर उनके जन्म की प्रतीक्षा करने लगा। वह उठते-बैठते, खाते-पीते, सोते-जागते और चलते-फिरते-सर्वदा ही श्रीकृष्ण के चिन्तन में लगा रहता। जहाँ उसकी आँख पड़ती, जहाँ कुछ खड़का होता, वहाँ उसे श्रीकृष्ण दीख जाते। इस प्रकार उसे सारा जगत ही श्रीकृष्णमय दीखने लगा। परीक्षित ! भगवान शंकर और ब्रह्मा जी कंस के क़ैदखाने में आये। उनके साथ नारद आदि ऋषि भी थे। वे लोग सुमधुर वचनों से सबकी अभिलाषा पूर्ण करने वाले श्रीहरि की इस प्रकार स्तुति करने लगे - 'प्रभो ! आप सत्यसंकल्प हैं। सत्य ही आपकी प्राप्ति का श्रेष्ठ साधन है। सृष्टि के पूर्व, प्रलय के पश्चात और संसार की स्थिति के समय - इन असत्य अवस्थाओं में भी आप सत्य हैं। पृथ्वी, जल, तेज, वायु और आकाश इन पाँच दृश्यमान सत्यों के आप ही कारण हैं और उनमें अन्तर्यामी रूप से विराजमान भी हैं। आप इस दृश्यमान जगत के परमार्थस्वरूप हैं। आप ही मधुर वाणी और समदर्शन के प्रवर्तक हैं। भगवन! आप बस, सत्यस्वरूप ही हैं। हम सब आपकी शरण में आये हैं। यह संसार क्या है- एक सनातन वृक्ष। इस वृक्ष का आश्रय है - प्रकृति। इसके दो फल हैं - सुख और दुःख; तीन जड़ें हैं - सत्त्व, रज और तम; चार रस हैं - धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष। इसके जानने के पाँच प्रकार हैं- श्रोत्र, त्वचा, नेत्र, रसना और नासिका। इसके छः स्वभाव हैं - पैदा होना, रहना, बढ़ना, बदलना, घटना और नष्ट हो जाना। इस वृक्ष की छाल हैं सात धातुएँ - रस, रुधिर, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा और शुक्र। आठ शाखाएँ हैं - पाँच महाभूत, मन, बुद्धि और अहंकार। इसमें मुख आदि नवों द्वार खोड़र हैं। प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान, नाग, कूर्म, कृकल, देवदत्त और धनंजय - ये दस प्राण ही इसके दस पत्ते हैं। इस संसार रूपी वृक्ष पर दो पक्षी हैं - जीव और ईश्वर। इस संसार रूप वृक्ष की उत्पत्ति के आधार एकमात्र आप ही हैं। आपमें ही इसका प्रलय होता है और आपके ही अनुग्रह से इसकी रक्षा भी होती है। जिनका चित्त आपकी माया से आवृत हो रहा है, इस सत्य को समझने की शक्ति खो बैठा है - वे ही उत्पत्ति, स्थिति और प्रलय करने वाले ब्रह्मादि देवताओं को अनेक देखते हैं। तत्त्वज्ञानी पुरुष तो सबके रूप में केवल आपका ही दर्शन करते हैं। आप ज्ञानस्वरूप आत्मा हैं। चराचर जगत के कल्याण के लिए ही अनेकों रूप धारण करते हैं। आपके वे रूप विशुद्ध अप्राकृत सत्त्वमय होते हैं और संत पुरुषों को बहुत सुख देते हैं। साथ ही दुष्टों को उनकी दुष्टता का दण्ड भी देते हैं। उनके लिए अमंगलमय भी होते हैं। कमल के सामान कोमल अनुग्रह भरे नेत्रों वाले प्रभो ! कुछ बिरले लोग ही आपके समस्त पदार्थों और प्राणियों के आश्रयस्वरूप रूप में पूर्ण एकाग्रता से अपना चित्त लगा पाते हैं और आपके चरणकमल रूपी जहाज का आश्रय लेकर इस संसार सागर को बछड़े के खुर के गड्ढे के समान अनायास ही पार कर जाते हैं। क्यों न हो, अब तक के संतों ने इसी जहाज से संसार-सागर को पार जो किया है। परम प्रकाशस्वरूप परमात्मन! आपके भक्तजन सारे जगत के निष्कपट प्रेमी, सच्चे हितैषी होते हैं। वे स्वयं तो इस भयंकर और कष्ट से पार करने योग्य संसार सागर को पार कर ही जाते हैं, किन्तु औरों के कल्याण के लिए भी वे यहाँ आपके चरण-कमलों की नौका स्थापित कर जाते हैं। वास्तव में सत्पुरुषों पर आपकी महान कृपा है। उनके लिये आप अनुग्रहस्वरूप ही हैं। कमलनयन! जो लोग आपके चरणकमलों की शरण नहीं लेते तथा आपके प्रति भक्तिभाव से रहित होने के कारण जिनकी बुद्धि भी शुद्ध नहीं है, वे अपने को झूठ-मूठ मुक्त मानते हैं। वास्तव में तो वे बद्ध ही हैं। वे यदि बड़ी तपस्या और साधना का कष्ट उठाकर किसी प्रकार ऊँचे-से-ऊँचे पद पर भी पहुँच जायँ, तो भी वहाँ से नीचे गिर जाते हैं। परन्तु भगवन! जो आपके अपने निज जन हैं, जिन्होंने आपके चरणों में अपनी सच्ची प्रीति जोड़ रखी है, वे कभी उन ज्ञानाभिमानियों की भाँति अपने साधन मार्ग से गिरते नहीं। प्रभो! वे बड़े-बड़े विघ्न डालने वालों की सेना के सरदारों के सर पर पैर रखकर निर्भय विचरते हैं, कोई भी विघ्न उनके मार्ग में रुकावट नहीं डाल सकते; क्योंकि उनके रक्षक आप जो हैं। आप संसार की स्थिति के लिये समस्त देहधारियों को परम कल्याण प्रदान करने वाला विशुद्ध सत्त्वमय, सच्चिदानन्दमय, परम दिव्य मंगल-विग्रह प्रकट करते हैं। उस रूप के प्रकट होने से ही आपके भक्त वेद, कर्मकाण्ड, अष्टांगयोग, तपस्या और समाधि के द्वारा आपकी आराधना करेंगे? प्रभो! आप सबके विधाता हैं। यदि आपका यह विशुद्ध सत्त्वमय निज स्वरूप न हो, तो अज्ञान और उसके द्वारा होने वाले भेदभाव को नष्ट करने वाला अपरोक्ष ज्ञान ही किसी को न हो। जगत में दिखने वाले तीनों गुण आपके हैं और आपके द्वारा ही प्रकाशित होते हैं, यह सत्य है। परन्तु इन गुणों की प्रकाशक वृत्तियों से आपके स्वरूप का केवल अनुमान ही होता है, वास्तविक स्वरूप का साक्षात्कार नहीं होता। भगवन! मन और वेद-वाणी के द्वारा केवल आपके स्वरूप का अनुमान मात्र होता है। क्योंकि आप उनके द्वारा दृश्य नहीं; उनके साक्षी हैं। इसलिए आपके गुण, जन्म और कर्म आदि के द्वारा आपके नाम और रूप का निरूपण नहीं किया जा सकता। फिर भी प्रभो! आपके भक्तजन उपासना आदि क्रियायोगों के द्वारा आपका साक्षात्कार तो करते ही हैं। जो पुरुष आपके मंगलमय नामों और रूपों का श्रवण, कीर्तन, स्मरण और ध्यान करता है और आपके चरणकमलों की सेवा में ही अपना चित्त लगाये रहता है - उसे फिर जन्म-मृत्यु-रूप संसार के चक्र में नहीं आना पड़ता है। सम्पूर्ण दुःखों को हरने वाले भगवन आप सर्वेश्वर हैं। यह पृथ्वी तो आपका चरणकमल ही है। आपके अवतार से इसका भार दूर हो गया। धन्य हैं! प्रभो! हमारे लिए यह बड़े सौभाग्य की बात है कि हम लोग आपके सुन्दर-सुन्दर चिह्नों से युक्त चरणकमलों के द्वारा विभूषित पृथ्वी को देखेंगे और स्वर्गलोक को भी आपकी कृपा से कृतार्थ देखेंगे। प्रभो! आप अजन्मा हैं। यदि आपके जन्म के कारण के सम्बन्ध में हम कोई तर्क न करें, तो यही कह सकते हैं कि यह आपका लीला-विनोद है। ऐसा कहने का कारण यह है कि आप तो द्वैत के लेश से रहित सर्वाधिष्ठानस्वरूप हैं और इस जगत की उत्पत्ति, स्थिति तथा प्रलय अज्ञान के द्वारा आप में आरोपित हैं। प्रभो! आपने जैसे अनेकों बार मत्स्य, हयग्रीव, कच्छप, नृसिंह, वराह, हंस, राम, परशुराम और वामन अवतार धारण करके हम लोगों की और तीनों लोकों की रक्षा की है - वैसे ही आप इस बार भी पृथ्वी का भार हरण कीजिये। यदुनन्दन! हम आपके चरणों में वन्दना करते हैं। देवकीजी को संबोधित करके - 'माताजी! यह बड़े सौभाग्य की बात है कि आपकी कोख में हम सबका कल्याण करने के लिये स्वयं भगवान पुरुषोत्तम अपने ज्ञान, बल आदि अंशों के साथ पधारे हैं। अब आप कंस से तनिक भी मत डरिये। अब तो वह कुछ ही दिनों का मेहमान है। आपका पुत्र यदुवंश की रक्षा करेगा।' श्री शुकदेव जी कहते हैं— परीक्षित! ब्रह्मादि देवताओं ने इस प्रकार भगवान की स्तुति की। उनका रूप ‘यह है’ इस प्रकार निश्चित रूप से तो कहा नहीं जा सकता, सब अपनी-अपनी मति के अनुसार उनका निरूपण करते हैं। इसके बाद ब्रह्मा जी और शंकर जी को आगे करके देवगण स्वर्ग में चले गये। ~~~०~~~ श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय॥ "जय जय श्री हरि" "कुमार रौनक कश्यप " ********************************************

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB