मोहन
मोहन Aug 24, 2017

परमात्मा की प्राप्ति कैसे करे

परमात्मा की प्राप्ति कैसे करे

परमात्मा की प्राप्ति कैसे करे

प्यारे मित्रो , सभी महा पुरुष कहते है की मानव जीवन का एक मात्र उददेश्य  आत्मा का साक्षात्कार करना एवं परमात्मा की अनुभूति करना  है परन्तु बहुत कम लोग यह जानते है की आत्म साक्षात्कार कैसे किया जाता है ; एक बार एक जिज्ञासु व्यक्ति एक बहुत बड़े महापुरुष संत के पास पहुँचता  है और उनसे निवेदन करता है की हे गुरुदेव मैं वर्षो से पूजा पाठ कर रहा हूँ , मैं कर्म कांड  भी सभी करता हूँ , मैंने सारे तीर्थ  भी कर लिए है सत्संग में भी जाता हूँ परन्तु अभी तक मुझे परमात्मा की प्राप्ति नहीं हुई है , कृपया मेरा मार्गदर्शन करे मैं कैसे परमात्मा को प्राप्त करू , उन महापुरुष ने मुस्कुराते हुए कहा , जो भी व्यक्ति अपने जीवन में परमात्मा को प्राप्त करना चाहता है उसे अपने भीतर उतरना होगा , पूजा पाठ , कर्म कांड , तीर्थ , सत्संग करने से परमात्मा की प्राप्ति नहीं होगी हाँ  ये प्रारंभ हो सकते है , साधन हो सकते है , परन्तु परमात्मा की अनुभूति सिर्फ और सिर्फ अपने भीतर उतरने पर ही होगी ,उस व्यक्ति ने प्रशन किया " गुरुदेव अपने भीतर कैसे उतरते  है ? " महात्मा ने कहा अपने भीतर उतरने की सीढ़ियों का नाम है "  स्वास " यदि आप ध्यान दे तो परमात्मा ने यह शरीर बनाने  के बाद हमें पूरी तरह स्वतंत्र छोड़ दिया है की हम अपनी समस्त इन्द्रियो का जैसा चाहे उपयोग करे वो रोज़ - रोज़  हस्तछेप  नहीं करता , हम अपनी ज्ञान इन्द्रियों का कर्म इन्द्रियों का उपयोग करने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र है  वो नहीं रोकता की  हम आँखों  से क्या देखे , हाथों से क्या स्पर्श करे , कानो से क्या सुने हम पूरी तरह स्वतंत्र है , इतने सब कार्य के स्वतंत्र करने के बाद भी एक चीज परमात्मा ने सीधे अपने पास रखी है , और आदमी हो या औरत उसी काम के लिए दावा करते है की मैं कर रहा हूँ , या मैं कर रही हूँ  , और वो काम है स्वास लेना , हम कहते है मैं स्वास ले रहा हूँ , मैं स्वास ले रही हूँ , यदि ये बात सच है तो इस दुनिया में कोई मरता ही नहीं भला कौन स्वास लेना बंद करता बताइए ? तो हम स्वास नहीं ले रहे कोई दे रहा है , तो हम ले रहे है , जिस दिन उसने अंतिम डोर काट दी , जिस दिन उसने अंतिम स्वास पर हस्ताक्षर कर दिए उस दिन अपने आस पास दुनिया भर के धन्वन्तरी इकट्ठे कर लेना , अपनी सारी  दौलत लगा कर चिकित्सा की व्यवस्था जुटा लेना  अगर उसने अंतिम स्वास तय कर दी है तो जाना पड़ेगा , और जाते है लोग !बाकि वो रोज़ रोज़ हस्तक्षेप नहीं करता ,फिर भी हम कहते मैं स्वास ले रहा हूँ या  मैं स्वास ले रही हूँ , बस यही एक काम ऐसा है की हम स्वास नहीं ले रहे है कोई दे रहा है तो हम ले रहे है  , और जैसे ही हम स्वास से जुड़ते है परमात्मा से जुड़ जाते है , और स्वास लेने के विज्ञानं का नाम है प्राणायाम , " साइंस आफ ब्रीदिंग "
जैसे ही हम अपनी चेतना को आती हुई स्वास और जाती हुई स्वास से जोड़ते है हमारे विचार रुक जाते है - मन शांत होते लगता है और धीरे धीरे भीतर की यात्रा प्रारंभ हो जाती है फिर क्या अनुभूति होती है                   '' शिवोSम  शिवोSम शिवोSम शिवोSम वही  आत्मा सच्चिदानन्द  मैं हूँ अमर आत्मा सच्चिदानन्द  मैं हूँ "

Like Pranam Flower +130 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 72 शेयर

कामेंट्स

neeru gupta Aug 18, 2018

Like Flower Tulsi +52 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 211 शेयर
Anju Mishra Aug 18, 2018

🍃एक बात बताते हैं संतलोग बहुत ही रहस्यमय है।🍃
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
कहते हैं कि जब कोई रसिक भक्त,कृष्ण विरह में रोते हैं, तब हमारी आँख से निकले एक-एक आंसू रुपी मोती की श्री जी माला बनाती है और उस माला को कृष्ण जी को पहनात...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Jyot +112 प्रतिक्रिया 39 कॉमेंट्स • 225 शेयर

पत्नी क्या होती है।
एक बार जरूर पड़े।

🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔

"रामलाल तुम अपनी बीबी से इतना क्यों डरते हो?
"मैने अपने नौकर से पुछा।।

"मै डरता नही साहब उसकी कद्र करता हूँ
उसका सम्मान करता हूँ।"उसने जबाव दिया।

मैं हंसा और बोला-" ऐसा क्या है उसमें।

न...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Fruits Like +5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 125 शेयर
Anju Mishra Aug 18, 2018

जय श्री राधे कृष्णा

अंधेरा चाहे कितना भी घना हो लेकिन एक छोटा सा दीपक अंधेरे को चीरकर प्रकाश फैला देता है वैसे ही जीवन में चाहे कितना भी अंधेरा हो जाए विवेक रूपी प्रकाश अंधकार को मिटा देता है

शत्रु को सदैव भ्रम में रखना चाहिए जो उसका अप्रिय करना...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Fruits Pranam +294 प्रतिक्रिया 92 कॉमेंट्स • 456 शेयर
geeta rathi Aug 18, 2018

हिंदू धर्म की सबसे बड़ी गाथा, महाभारत(Mahabharat) उन कहानियों से भरी है जिनके पास एक व्यक्ति का जीवन उजागर करने की क्षमता है। अपने आंतरिक अर्थ से और प्रथाओं में इसके मूल्य से, महाभारत ने समाज के बीच अपनी संस्कृति विकसित की है। हालांकि, महाभारत में...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Like +340 प्रतिक्रिया 91 कॉमेंट्स • 127 शेयर

Jyot Like Pranam +206 प्रतिक्रिया 167 कॉमेंट्स • 844 शेयर
Shri Banke Bihari Aug 19, 2018

Water Jyot Pranam +17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 116 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB