amarjit kumar
amarjit kumar Feb 24, 2021

I

+11 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

कामेंट्स

🏵️Minakshi Tiwari🏵️ Feb 24, 2021
*कमाई की परिभाषा* *सिर्फ धन से ही तय नहीं होती,* *इसमें* *तजुर्बा, रिश्ते, प्रेम, सम्मान* *और सबक,* *सब कमाई के ही रूप हैं।* 🙏🏻🙏🏻 *शुभ दिवस* 🙏🏻🙏🏻 *आपका दिन मंगलमय हो*🙏🏻🙏🏻

Sonu Pathak (Jai Mata Di) Mar 16, 2021
जय श्री राम 🚩जय बजरंगबली 🚩 🙏🌹🌹जय माता रानी दी प्रभु कृपा से आप सभी का दिन सुखद मंगलमय हो इन्ही मंगल कामनाओ के साथ🌹🙏 सुप्रभात वंदन जी 🌷🙏🌷

Sonu Pathak (Jai Mata Di) Mar 18, 2021
🙏🌺 ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नमः जय माता रानी दी 🌺🙏 प्रभु श्री नारायण हरि की कृपा दृष्टि आप व आपके परिवार पर सदैव बनी रहे आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो🌹 नमस्कार शुभ दोपहर वंदन जी 🌷🌷🙏🙏🌷🌷

RamniwasSoni Apr 13, 2021

+31 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 154 शेयर
Amita ojha Apr 14, 2021

+17 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 39 शेयर
Sarita Choudhary Apr 13, 2021

+101 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 73 शेयर
R Vij Apr 13, 2021

राधे - राधे ॥आज का भगवद् चिंतन॥ आचार्य चाणक्य कहते हैं कि "मेहनत करने से दरिद्रता, धर्म करने से पाप और मौन धारण करने से कभी भी कलह नहीं रहता है।" मेहनत - जिस प्रकार से दस - दस फुट के दस अथवा तो बीस गड्ढे अलग - अलग जगहों पर खोदने पर भी जल की प्राप्ति नहीं हो सकती है। मगर 70 - 80 फुट का गड्ढा एक ही जगह पर खोदा जाए तो जल की प्राप्ति अवश्य हो जाती है। ठीक इसी प्रकार मेहनत करना ही पर्याप्त नहीं अपितु उचित दिशा में अथवा तो एक ही दिशा में मेहनत करना भी अनिवार्य हो जाता है। धर्म - निसंदेह धर्ममय आचरण ही पापों से मुक्त करता है। सत्य, प्रेम और करुणा ये धर्म का मूल है। धर्म को समग्रता की दृष्टि से देखा जाए तो परोपकार, परमार्थ, प्राणीमात्र की सेवा, सद्कर्म, श्रेष्ठ कर्म, सद ग्रंथ अथवा तो सत्संग का आश्रय, ये सभी धर्म के ही रूप हैं। जब व्यक्ति द्वारा इन दैवीय गुणों को जीवन में उतारा जाता है तो उसकी पाप की वृत्तियां स्वतः नष्ट होने लगती हैं। मौन - परिवार अथवा समाज में जब तक दो लोगों में अथवा दो पक्षों में से एक मौन रहता है, तब तक संभव ही नहीं कि कोई विवाद हो। मौन का टूटना ही परिवार में अथवा तो समाज में कलह को जन्म देता है। विवाद रूपी विष की बेल काटने के लिए मौन एक प्रबल हथियार है। आवेश के क्षणों में यदि मौन रुपी औषधि का पान किया जाए तो विवाद रुपी रोग का जन्म संभव ही नहीं। आवेश के क्षणों में मौन धारण करते हुए धर्म मार्ग का आश्रय लेकर पूरे मनोयोग से मेहनत करो, यही सफलतम जीवन का सूत्र है। 🙏 *जय श्री राधे कृष्ण* 🙏

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Praveen Goyal Apr 14, 2021

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Praveen Goyal Apr 14, 2021

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB