Bina Aggarwal
Bina Aggarwal Oct 3, 2017

🌹🌹 Jai Shree KRISHNA 🌹🌹

🌹🌹 Jai Shree KRISHNA 🌹🌹

Aaj KE SHREE SINGOLEE SHYAM DARSHAN 🌹🌹🌷🌷

+126 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर

कामेंट्स

+4 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Radha Bansal Feb 24, 2021

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Radha Bansal Feb 22, 2021

+87 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Radha Bansal Feb 23, 2021

+24 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Radha Bansal Feb 23, 2021

+17 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 3 शेयर

#प्रभु_श्रीकृष्ण_की_16_कलाएं कौन कौन सी थीं भगवान श्री कृष्ण की वो #16_कलाऐं #सोलह_कला_पूर्ण कहा जाता है #भगवान_श्रीकृष्ण को इसीलिए वे पूर्ण पुरुष भी कहलाए। वे विष्णु के अवतार ,युग पुरुष , गीता- ज्ञान देकर समस्त मानव-जाति एवं सभी देश-काल के लिए पथ-प्रदर्शक हैं श्री कृष्‍ण। वे सोलह कलाऐं कौन कौन सी हैं जिनके बल पर श्रीकृष्ण नटखट बालक, विशुद्ध प्रेमी, ज्ञान के आधार और तर्कयोद्धा कहलाए तो आइए जानते हैं उन सोलह कलाओं के बारे में जिनमें भगवान श्रीकृष्ण निपुण थे। 🕉️🚩पहली कला- #श्रीधन (संपदा) प्रथम कला के रूप में धन संपदा को स्थान दिया गया है। जिस व्यक्ति के पास अपार धन हो और वह आत्मिक रूप से भी धनवान हो। जिसके घर से कोई भी खाली हाथ नहीं जाए वह प्रथम कला से संपन्न माना जाता है। यह कला भगवान श्री कृष्ण में मौजूद है। 🕉️🚩दूसरी कला- #भू_अचल_संपत्ति जिस व्यक्ति के पास पृथ्वी का राज भोगने की क्षमता है। पृथ्वी के एक बड़े भू-भाग पर जिसका अधिकार है और उस क्षेत्र में रहने वाले जिसकी आज्ञाओं का सहर्ष पालन करते हैं वह अचल संपत्ति का मालिक होता है। भगवान श्री कृष्ण ने अपनी योग्यता से द्वारिका पुरी को बसाया। इसलिए यह कला भी इनमें मौजूद है। 🚩🕉️तीसरी कला- #कीर्ति (यश-प्रसिद्धि) जिसके मान-सम्मान व यश की कीर्ति से चारों दिशाओं में गूंजती हो। लोग जिसके प्रति स्वत: ही श्रद्घा व विश्वास रखते हों वह तीसरी कला से संपन्न होता है। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद है। लोग सहर्ष श्री कृष्ण की जयकार करते हैं। 🕉️🚩चौथी कला- #इला (वाणी की सम्मोहकता) चौथी कला का नाम इला है जिसका अर्थ है मोहक वाणी। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद है। पुराणों में भी ये उल्लेख मिलता है कि श्री कृष्ण की वाणी सुनकर क्रोधी व्यक्ति भी अपना सुध-बुध खोकर शांत हो जाता था। मन में भक्ति की भावना भर उठती थी। यशोदा मैया के पास शिकायत करने वाली गोपियां भी कृष्ण की वाणी सुनकर शिकायत भूलकर तारीफ करने लगती थी। 🕉️🚩पांचवीं कला- #लीला (आनंद उत्सव) पांचवीं कला का नाम है लीला। इसका अर्थ है आनंद। भगवान श्री कृष्ण धरती पर लीलाधर के नाम से भी जाने जाते हैं क्योंकि इनकी बाल लीलाओं से लेकर जीवन की घटना रोचक और मोहक है। इनकी लीला कथाओं सुनकर कामी व्यक्ति भी भावुक और विरक्त होने लगता है। 🕉️🚩छठवीं कला- #कांति (सौदर्य और आभा) जिनके रूप को देखकर मन स्वत: ही आकर्षित होकर प्रसन्न हो जाता है। जिसके मुखमंडल को देखकर बार-बार छवि निहारने का मन करता है वह छठी कला से संपन्न माना जाता है। भगवान राम में यह कला मौजूद थी। कृष्ण भी इस कला से संपन्न थे। कृष्ण की इस कला के कारण पूरा ब्रज मंडल कृष्ण को मोहिनी छवि को देखकर हर्षित होता था। गोपियां कृष्ण को देखकर काम पीडि़त हो जाती थीं और पति रूप में पाने की कामना करने लगती थीं। 🚩🕉️सातवीं कला- #विद्या (मेधा बुद्धि) सातवीं कला का नाम विद्या है। भगवान श्री कृष्ण में यह कला भी मौजूद थी। कृष्ण वेद, वेदांग के साथ ही युद्घ और संगीत कला में पारंगत थे। राजनीति एवं कूटनीति भी कृष्ण सिद्घहस्त थे। 🕉️🚩कला आठवीं- #विमला (पारदर्शिता) जिसके मन में किसी प्रकार का छल-कपट नहीं हो वह आठवीं कला युक्त माना जाता है। भगवान श्री कृष्ण सभी के प्रति समान व्यवहार रखते हैं। इनके लिए न तो कोई बड़ा है और न छोटा। महारास के समय भगवान ने अपनी इसी कला का प्रदर्शन किया था। इन्होंने राधा और गोपियों के बीच कोई फर्क नहीं समझा। सभी के साथ सम भाव से नृत्य करते हुए सबको आनंद प्रदान किया था। 🕉️🚩नौवीं कला- #उत्कर्षिणि (प्रेरणा और नियोजन) महाभारत के युद्घ के समय श्री कृष्ण ने नौवी कला का परिचय देते हुए युद्घ से विमुख अर्जुन को युद्घ के लिए प्रेरित किया और अधर्म पर धर्म की विजय पताका लहराई। नौवीं कला के रूप में प्रेरणा को स्थान दिया गया है। जिसमें इतनी शक्ति मौजूद हो कि लोग उसकी बातों से प्रेरणा लेकर लक्ष्य भेदन कर सकें। 🕉️🚩दसवीं कला- #ज्ञान (नीर क्षीर विवेक) भगवान श्री कृष्ण ने जीवन में कई बार विवेक का परिचय देते हुए समाज को नई दिशा प्रदान की जो दसवीं कला का उदाहरण है। गोवर्धन पर्वत की पूजा हो अथवा महाभारत युद्घ टालने के लिए दुर्योधन से पांच गांव मांगना यह कृष्ण के उच्च स्तर के विवेक का परिचय है। 🕉️🚩ग्‍यारहवीं कला- #क्रिया (कर्मण्यता) ग्यारहवीं कला के रूप में क्रिया को स्थान प्राप्त है। भगवान श्री कृष्ण इस कला से भी संपन्न थे। जिनकी इच्छा मात्र से दुनिया का हर काम हो सकता है वह कृष्ण सामान्य मनुष्य की तरह कर्म करते हैं और लोगों को कर्म की प्रेरणा देते हैं। महाभारत युद्घ में कृष्ण ने भले ही हाथों में हथियार लेकर युद्घ नहीं किया लेकिन अर्जुन के सारथी बनकर युद्घ का संचालन किया। 🚩🕉️बारहवीं कला- #योग (चित्तलय) जिनका मन केन्द्रित है, जिन्होंने अपने मन को आत्मा में लीन कर लिया है वह बारहवीं कला से संपन्न श्री कृष्ण हैं। इसलिए श्री कृष्ण योगेश्वर भी कहलाते हैं। कृष्ण उच्च कोटि के योगी थे। अपने योग बल से कृष्ण ने ब्रह्मास्त्र के प्रहार से माता के गर्भ में पल रहे परीक्षित की रक्षा की। मृत गुरू पुत्र को पुर्नजीवन प्रदान किया। 🚩🕉️तेरहवीं कला- #प्रहवि (अत्यंतिक विनय) तेरहवीं कला का नाम प्रहवि है। इसका अर्थ विनय होता है। भगवान कृष्ण संपूर्ण जगत के स्वामी हैं। संपूर्ण सृष्टि का संचलन इनके हाथों में है फिर भी इनमें कर्ता का अहंकार नहीं है। गरीब सुदामा को मित्र बनाकर छाती से लगा लेते हैं। महाभारत युद्घ में विजय का श्रेय पाण्डवों को दे देते हैं। सब विद्याओं के पारंगत होते हुए भी ज्ञान प्राप्ति का श्रेय गुरू को देते हैं। यह कृष्ण की विनयशीलता है। 🕉️🚩चौदहवीं कला- #सत्य (यर्थाथ) भगवान श्री कृष्ण की चौदहवीं कला का नाम सत्य है। श्री कृष्ण कटु सत्य बोलने से भी परहेज नहीं रखते और धर्म की रक्षा के लिए सत्य को परिभाषित करना भी जानते हैं यह कला सिर्फ कृष्ण में है। शिशुपाल की माता ने कृष्ण से पूछा की शिशुपाल का वध क्या तुम्हारे हाथों होगी। कृष्ण नि:संकोच कह देते हैं यह विधि का विधान है और मुझे ऐसा करना पड़ेगा। 🕉️🚩पंद्रहवीं कला- #इसना (आधिपत्य) पंद्रहवीं कला का नाम इसना है। इस कला का तात्पर्य है व्यक्ति में उस गुण का मौजूद होना जिससे वह लोगों पर अपना प्रभाव स्थापित कर पाता है। जरूरत पडऩे पर लोगों को अपने प्रभाव का एहसास दिलाता है। कृष्ण ने अपने जीवन में कई बार इस कला का भी प्रयोग किया जिसका एक उदाहरण है मथुरा निवासियों को द्वारिका नगरी में बसने के लिए तैयार करना। 🕉️🚩सोलहवीं कला- #अनुग्रह (उपकार) बिना प्रत्युकार की भावना से लोगों का उपकार करना यह सोलवीं कला है। भगवान कृष्ण कभी भक्तों से कुछ पाने की उम्मीद नहीं रखते हैं लेकिन जो भी इनके पास इनका बनाकर आ जाता है उसकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। जय जय श्री राधे जय जय श्री हरि मुरारी🚩🌷🌺🌹🍁🌻🌸🙏

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+239 प्रतिक्रिया 50 कॉमेंट्स • 129 शेयर

. ॥हरि ॐ तत्सत्॥ श्रीमद्भागवत-कथा श्रीमद्भागवत-महापुराण पोस्ट - 133 स्कन्ध - 06 अध्याय - 08 इस अध्याय में:- नारायण कवच का उपदेश राजा परीक्षित ने पूछा- भगवन्! देवराज इन्द्र ने जिससे सुरक्षित होकर शत्रुओं की चतुरंगिणी सेना को खेल-खेल में- अनायास ही जीतकर त्रिलोकी की राजलक्ष्मी का उपभोग किया, आप उस नारायण कवच को मुझे सुनाइये और यह भी बतलाइये कि उन्होंने उससे सुरक्षित होकर रणभूमि में किस प्रकार आक्रमणकारी शत्रुओं पर विजय प्राप्त की। श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! जब देवताओं ने विश्वरूप को पुरोहित बना लिया, तब देवराज इन्द्र के प्रश्न करने पर विश्वरूप ने उन्हें नारायण कवच का उपदेश किया। तुम एकाग्रचित्त से उसका श्रवण करो। विश्वरूप ने कहा- देवराज इन्द्र! भय का अवसर उपस्थित होने पर नारायण कवच धारण करके अपने शरीर की रक्षा कर लेनी चाहिये। उसकी विधि यह है कि पहले हाथ-पैर धोकर आचमन करे, फिर हाथ में कुश की पवित्री धारण करके उत्तर मुँह बैठ जायें। इसके बाद कवच धारणपर्यन्त और कुछ न बोलने का निश्चय करके पवित्रता से ‘ॐ नमो नारायणाय’ और ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’- इन मन्त्रों के द्वारा हृदयादि अंगन्यास तथा अंगुष्ठादि करन्यास करे। पहले ‘ॐ नमो नारायणाय’ इस अष्टाक्षर मन्त्र के ॐ आदि आठ अक्षरों का क्रमशः पैरों, घुटनों, जाँघों, पेट, हृदय, वक्षःस्थल, मुख और सिर में न्यास करे अथवा पूर्वोक्त मन्त्र के मकार से लेकर ॐकार पर्यन्त आठ अक्षरों का सिर से आरम्भ करके उन्हीं आठ अंगों में विपरीत क्रम से न्यास करे। तदनन्तर ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’- इस द्वादशाक्षर मन्त्र के ॐ आदि बारह अक्षरों का दायीं तर्जनी से बायीं तर्जनी तक दोनों हाथ की आठ अँगुलियों और दोनों अँगूठों की दो-दो गाँठों में न्यास करे। फिर ’ॐ विष्णवे नमः’ इस मन्त्र के पहले अक्षर ‘ॐ’ का हृदय में ‘वि’ का ब्रह्मरन्ध्र में, ‘ष्’ का भौंहों के बीच में, ‘ण’ का चोटी में, ‘वे’ का दोनों नेत्रों में और ‘न’ का शरीर की सब गाँठों में न्यास करे। तदनन्तर ‘ॐ मः अस्त्राय फट्’ कहकर दिग्बन्ध करे। इस प्रकार न्यास करने से इस विधि को जानने वाला पुरुष मन्त्रस्वरूप हो जाता है। इसके बाद समग्र, ऐश्वर्य, धर्म, यश, लक्ष्मी, ज्ञान और वैराग्य से परिपूर्ण इष्टदेव भगवान् का ध्यान करे और अपने को भी तदरूप ही चिन्तन करे। तत्पश्चात् विद्या, तेज और तपःस्वरूप इस कवच का पाठ करे- ‘भगवान् श्रीहरि गरुड़ जी की पीठ पर अपने चरणकमल रखे हुए हैं। अणिमादि आठों सिद्धियाँ उनकी सेवा कर रही हैं। आठ हाथों में शंख, चक्र, ढाल, तलवार, गदा, बाण, धनुष और पाश (फंदा) धारण किये हुए हैं। वे ही ॐकारस्वरूप प्रभु सब प्रकार से, सब ओर से मेरी रक्षा करें। मत्स्यमूर्ति भगवान् जल के भीतर जलजन्तुओं से और वरुण के पाश से मेरी रक्षा करें। माया से ब्रह्मचारी का रूप धारण करने वाले वामन भगवान् स्थल पर और विश्वरूप श्रीत्रिविक्रम भगवान् आकाश में मेरी रक्षा करें। जिनके घोर अट्टहास से सब दिशाएँ गूँज उठी थीं और गर्भवती दैत्यपत्नियों के गर्भ गिर गये थे, वे दैत्य-यूथपतियों के शत्रु भगवान् नृसिंह किले, जंगल, रणभूमि आदि विकट स्थानों में मेरी रक्षा करें। अपनी दाढ़ों पर पृथ्वी को धारण करने वाले यज्ञमूर्ति वराह भगवान् मार्ग में, परशुराम जी पर्वत के शिखरों पर और लक्ष्मण जी के सहित भरत के बड़े भाई भगवान् रामचन्द्र प्रवास के समय मेरी रक्षा करें। भगवान् नारायण मारण-मोहन आदि भयंकर अभिचारों और सब प्रकार के प्रमादों से मेरी रक्षा करें। ऋषिश्रेष्ठ नर गर्व से, योगेश्वर भगवान् दत्तात्रेय योग के विघ्नों से और त्रिगुणाधिपति भगवान् कपिल कर्म बन्धनों से मेरी रक्षा करें। परमर्षि सनत्कुमार कामदेव से, हयग्रीव भगवान् मार्ग में चलते समय देवमूर्तियों को नमस्कार आदि न करने से अपराध से, देवर्षि नारद सेवापराधों से* और भगवान् कच्छप सब प्रकार के नरकों से मेरी रक्षा करें। भगवान् धन्वन्तरि कुपथ्य से, जितेन्द्रिय भगवान् ऋषभदेव सुख-दुःख आदि भयदायक द्वन्दों से, यज्ञ भगवान् लोकापवाद से, बलराम जी मनुष्यकृत कष्टों से और श्रीशेषजी क्रोधवश नामक सर्पों के गण से मेरी रक्षा करें। भगवान् श्रीकृष्णद्वैपायन व्यासजी अज्ञान से ततः बुद्धिदेव पाखण्डियों से और प्रमाद से मेरी रक्षा करें। धर्म रक्षा के लिये महान् अवतार धारण करने वाले भगवान् कल्कि पापबहुल कलिकाल के दोषों से मेरी रक्षा करें। प्रातःकाल भगवान् केशव अपनी गदा लेकर, कुछ दिन चढ़ आने पर भगवान् गोविन्द अपनी बाँसुरी लेकर, दोपहर के पहले भगवान् नारायण अपनी तीक्ष्ण शक्ति लेकर और दोपहर को भगवान् विष्णु चक्रराज सुदर्शन लेकर मेरी रक्षा करें। तीसरे पहर में भगवान् मधुसूदन अपना प्रचण्ड धनुष लेकर मेरी रक्षा करें। सायंकाल में ब्रह्मा आदि त्रिमूर्तिधारी माधव, सूर्यास्त के बाद हृषीकेश, अर्धरात्रि के पूर्व तथा अर्धरात्रि के समान अकेले भगवान् पद्मनाभ मेरी रक्षा करें। रात्रि के पिछले प्रहार में श्रीवत्सलांछन श्रीहरि, उषाकाल में खड्गधारी भगवान् जनार्दन, सूर्योदय से पूर्व श्रीदामोदर और सम्पूर्ण सन्ध्याओं में कालमूर्ति भगवान् विश्वेश्वर मेरी रक्षा करें। सुदर्शन! आपका आकार चक्र (रथ के पहिये) की तरह है। आपके किनारे का भाग प्रलयकालीन अग्नि के समान अत्यन्त तीव्र है। आप भगवान् की प्रेरणा से सब ओर घूमते रहते हैं। जैसे आग वायु की सहायता से सूखे घास-फूस को जला डालती है, वैसे ही आप हमारी शत्रु-सेना को शीघ्र-से-शीघ्र जला दीजिये, जला दीजिये। कौमोदकी गदा! आपसे छूटने वाली चिनगारियों का स्पर्श वज्र के समान असह्य है। आप भगवान् अजित की प्रिया है और मैं उनका सेवक हूँ। इसलिये आप कूष्माण्ड, विनायक, यक्ष, राक्षस, भूत और प्रेतादि ग्रहों को अभी कुचल डालिये, कुचल डालिये तथा मेरे शत्रुओं को चूर-चूर कर दीजिये। शंखश्रेष्ठ! आप भगवान् श्रीकृष्ण के फूँकने से भयंकर शब्द करके मेरे शत्रुओं का दिल दहला दीजिये एवं यातुधान, प्रमथ, प्रेत, मातृ का, पिशाच तथा ब्रह्मराक्षस आदि भयावने प्राणियों को यहाँ से झटपट भगा दीजिये। भगवान् की प्यारी तलवार! आपकी धार बहुत तीक्ष्ण है। आप भगवान् की प्रेरणा से मेरे शत्रुओं को छिन्न-भिन्न कर दीजिये। भगवान् की प्यारी ढाल! आपमें सैकड़ों चन्द्राकार मण्डल हैं। आप पाप-दृष्टि पापात्मा शत्रुओं की आँखें बंद कर दीजिये और उन्हें सदा के लिये अंधा बना दीजिये। सूर्य आदि ग्रह, धूमकेतु (पुच्छलतारे) आदि केतु, दुष्ट मनुष्य, सर्पादि रेंगने वाले जन्तु, दाढ़ों वाले हिंसक पशु, भूत-प्रेत आदि तथा पापी प्राणियों से हमें जो-जो भय हों और जो-जो हमारे मंगल के विरोधी हों-वे सभी भगवान् के नाम, रूप तथा आयुधों का कीर्तन करने से तत्काल नष्ट हो जायें। बृहद्, रथन्तर आदि सामवेदीय स्तोत्रों से जिनकी स्तुति की जाती है, वे वेदमूर्ति भगवान् गरुड़ और विष्वक्सेनजी अपने नामोच्चारण के प्रभाव से हमें सब प्रकार की विपत्तियों से बचायें। श्रीहरि के नाम, रूप, वाहन, आयुध और श्रेष्ठ पार्षद हमारी बुद्धि, इन्द्रिय, मन और प्राणों को सब प्रकार की आपत्तियों से बचायें। ‘जितना भी कार्य अथवा कारणरूप जगत् है, वह वास्तव में भगवान् ही हैं’-इस सत्य के प्रभाव से हमारे सारे उपद्रव नष्ट हो जायें। जो लोग ब्रह्म और आत्मा की एकता का अनुभव कर चुके हैं, उनकी दृष्टि में भगवान् का स्वरूप समस्त विकल्पों-भेदों से रहित है; फिर भी वे अपनी माया-शक्ति के द्वारा भूषण, आयुध और रूप नामक शक्तियों को धारण करते हैं, यह बात निश्चित रूप से सत्य है। इस कारण सर्वज्ञ, सर्वव्यापक भगवान् श्रीहरि सदा-सर्वत्र सब स्वरूपों से हमारी रक्षा करें। जो अपने भयंकर अट्टहास से सब लोगों के भय को भगा देते हैं और अपने तेज से सबका तेज ग्रस लेते हैं, वे भगवान् नृसिंह दिशा-विदिशा में, नीचे-ऊपर, बाहर-भीतर-सब ओर हमारी रक्षा करें’। देवराज इन्द्र! मैंने तुम्हें यह नारायण कवच सुना दिया। इस कवच से तुम अपने को सुरक्षित कर लो। बस, फिर तुम अनायास ही सब दैत्य-यूथपतियों को जीत लोगे। इस नारायण कवच को धारण करने वाला पुरुष जिसको भी अपने नेत्रों से देख लेता अथवा पैर से छू देता है, वह तत्काल समस्त भयों से मुक्त हो जाता है। जो इस वैष्णवी विद्या को धारण कर लेता है, उसे राजा, डाकू, प्रेत-पेशाचादि और बाघ आदि हिंसक जीवों से कभी-किसी प्रकार का भय नहीं होता। देवराज! प्राचीनकाल की बात है, एक कौशिक गोत्री ब्राह्मण ने इस विद्या को धारण करके योगधारणा से अपना शरीर मरूभूमि में त्याग दिया। जहाँ उस ब्राह्मण का शरीर पड़ा था, उसके ऊपर से एक दिन गन्धर्वराज चित्ररथ अपनी स्त्रियों के साथ विमान पर बैठकर निकले। वहाँ आते ही वे नीचे की ओर सिर किये विमान सहित आकाश से पृथ्वी पर गिर पड़े। इस घटना से उनके आश्चर्य की सीमा न रही। जब उन्हें वालखिल्य मुनियों ने बतलाया कि यह नारायण कवच धारण करने का प्रभाव है, तब उन्होंने उस ब्राह्मण देवता की हड्डियों को ले जाकर पूर्ववाहिनी सरस्वती नदी में प्रवाहित कर दिया और फिर स्नान करके वे अपने लोक को गये। श्रीशुकदेव जी कहते हैं- परीक्षित! जो पुरुष इस नारायण कवच को समय पर सुनता है और जो आदरपूर्वक इसे धारण करता है, उसके सामने सभी प्राणी आदर से झुक जाते हैं और वह सब प्रकार के भयों से मुक्त हो जाता है। परीक्षित! शतक्रतु इन्द्र ने आचार्य विश्वरूप जी से यह वैष्णवी विद्या प्राप्त करके रणभूमि में असुरों को जीत लिया और वे त्रैलोक्यलक्ष्मी का उपभोग करने लगे। ० ० ० *(बत्तीस प्रकार के सेवापराध माने गये हैं- 1. सवारी पर चढ़कर अथवा पैरों में खड़ाऊँ पहनकर श्रीभगवान् के मन्दिर जाना। 2. रथ यात्रा, जन्माष्टमी आदि उत्सवों का न करना या उसके दर्शन न करना। 3. श्रीमूर्ति के दर्शन करके प्रणाम न करना। 4. अशुचि-अवस्थाओं में दर्शन करना। 5. एक हाथ से प्रणाम करना। 6. परिक्रमा करते समय भगवान् के सामने आकर कुछ न रुककर फिर परिक्रमा करना अथवा केवल सामने ही परिक्रमा करते रहना। 7. श्रीभगवान् श्रीविग्रह के सामने झूठ बोलना। 8. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने जोर से बोलना। 9. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने आपस में बातचीत करना। 10. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने चिल्लाना। 11. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने कलह करना। 12. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने किसी को पीड़ा देना। 13. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने किसी पर अनुग्रह करना। 14. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने किसी को निष्ठुर वचन बोलना। 15. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने कम्बल से सारा शरीर ढक लेना। 16. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के समाने दूसरे की निन्दा करना। 17. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने दूसरे की स्तुति करना। 18. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने अश्लील शब्द बोलना। 19. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने अधोवायु का त्याग करना। 20. शक्ति रहते हुए भी गौण अर्थात् सामान्य उपचारों से भगवान् की सेवा-पूजा करना। 21. श्रीभगवान् को निवेदित किये बिना किसी भी वस्तु का खाना-पीना। 22. जिस ऋतु में जो फल हो, उसे सबसे पहले श्रीभगवान् को न चढ़ाना। 23. किसी शाक या फलादि के अगले भाग को तोड़कर भगवान् के व्यंजनादि के लिये देना। 24. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह को पीठ देकर बैठना। 25. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने दूसरे किसी को प्रणाम करना। 26. गुरुदेव की अभ्यर्थना, कुशल-प्रश्न और उनका स्तवन न करना और 27. अपने मुख से अपनी प्रशंसा करना। 28. किसी भी देवता की निन्दा करना। 29. श्रीभगवान् के श्रीविग्रह के सामने दूसरे किसी को भी प्रणाम करना। 30. गुरुदेव की अभ्यर्थना, कुशल-प्रश्न और उनका स्तवन न करना। 31. अपने मुख से अपनी प्रशंसा करना। 32. किसी भी देवता की निन्दा करना) ~~~०~~~ श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय॥ "जय जय श्री हरि" ********************************************* 🙏🍁🌋🌼🌹💐✍️🚩🌸🌻❤️🌺🌷🥀🏵️

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
astrologer baba ji Feb 22, 2021

Famous Astrologer Baba Ji +919463629203 One Of The Best Love Problem Solution Specialist Baba Ji And Well Expert In Love Vashikaran Mantra, Black Magic, Kala Jadu, Tantra Mantra, Job Business Problems, Husband WIfe Problems, Love Marriage, Divorce Problem Specialist Etc…. +919463629203 Bangalore Dublin Ho Chi Min City Birmingham Wuhan Fukuoka Manchester Hyderabad Chennai Athens Berlin Ankara Chongqing Lyon Turin Porto Alegre Brasilia Warsaw Ahmadabad Hamburg Recife Pune Lagos Salvador Munich Fortaleza Algiers Hanoi Bandung Naples Curitiba Shenyang Leeds Lahore Alexandria East Medellin Helsinki Izmir Auckland Zurich Amsterdam Prague Surat Rotterdam Copenhagen Brussels Chengdu Khartoum Caracas Budapest Puebla Xian Casablanca Taegu Oslo Changchun Kanpur Cologne Baghdad Chittagong Jaipur Lille Lucknow Yangon Luanda Kinshasha Faisalabad Abidjan Kabul Nairobi Addis Ababa Kano Dar es Salaam Krakow Pyongyang (( !+91-9463629203_/ Astrologer Baba Ji )) Get Your All Life Any Problems Solution In 72 Hours With 101% Guarantee. Do One Call Can Change Your Life +91 9463629203 call or whats app सभी जगह से निराश व्यक्ति एक बार अवस्य संपर्क करे आपकी निराशा आशा में बदल जाएगी घर बेठे समस्या का फ़ोन पर समाधान **919463629203** हम कहते है तो करके भी दिखाते है ***** क्या आप परेशान है--- लवमेरिज , किया-कराया, वशीकरण , मनचाहा प्यार पाना ,शादी न होना , निसंतान , बिज़नस , नोकरी , तलाक , पति पत्नी अनबन . गृहकलेश , प्रेम विवाह , शादी के लिए घरवालो को मनाना , मुठकरनी , प्रेमी को मनाना, खोया प्यार पाना, सोतन-दुश्मन से छुटकारा , करियर , काला जादू ,गैर-जातीय विवाह , शारीरिक समस्या, ,, जेसी समस्याओ का घर बेठे समाधान पाईए सिर्फ एक फ़ोन पर ,,,,फ़ोन उठाइए और नंबर लगाइए +91 9463629203और गुरु जी से बात किजिये ........ आपके जीवन की हर समस्या का फ़ोन पर गारंटी के साथ निवारण करगे इनको 15 सालो का अनुभव प्राप्त है ज्योतिष विधा का ..... Qatar Kuwait Singapore Norway Switzerland Macau Liechtenstein Monaco United State Canada Netherlands Hong Kong Australia America Sweden Germany Belgium United Kingdom France Saudi Arabia New Zealand Netherlands Amsterdam Latvia Riga Europe Spain United Arab Emirates Bahrain Oman Tokyo New York Los Angeles London Chicago Paris Mexico City Philadelphia Osaka/Kobe Washington DC Buenos Aires Boston Sao Paulo Hong Kong Dallas/Fort Worth Shanghai Seoul Atlanta San Francisco/Oakland Houston Miami Toronto Moscow Mumbai Madrid Detroit Istanbul Seattle Beijing Metro Manila Rio de Janeiro Sydney Jakarta Delhi Phoenix Guangzhou Minneapolis Kolkata San Diego Singapore Cairo Barcelona Melbourne Denver Rome Bangkok Montreal Milan Tehran Riyadh Pusan Bogotá Santiago Monterrey Baltimore Tel Aviv-Jaffa St Petersburg St Louis Tampa/St Petersburg Johannesburg Lisbon Cleveland Belo Horizonte Portland Vienna Karachi Dhaka Lima Guru Ji Specialist Hai Sabhi Problems Ke Solution Karne Me Problems  tantra mantra specialist+919463629203 Bhubaneswar Odisha Cuttack Italy Lithuania Poland Argentina Russia Malaysia Mauritius Lebanon Mexico Bulgaria Romania Venezuela Austria Tokyo New York Los Angeles London Chicago Paris Mexico City Washington DC Boston San Francisco Oakland Miami Toronto Moscow Detroit Sydney Jakarta Phoenix Minneapolis Johannesburg Lisbon Portland Dhaka Vancouver Cape Town Dublin Birmingham Manchester Berlin Lagos Chicago San Diego Las Vegas California Denmark Fiji Spain Venezuela Brazil Thailand Iraq Iran South Africa Jordan Jamaica Morocco Philippines Nigeria VietNam Sudan Benin Sweden Uk London Usa New York Canada Ontario Ottawa Toronto Abu Dhabi Dubai Moscow Russia Seoul South Korea Beijing Hong Kong World Famous Astrologer bana ji +91 9463629203 Will Solve Your All Life Problems (( love problem, vashikaran mantra, black magic, kala jadu , tona totka, love marriage, husband wife problems, divorce problems, family problems, job problems, business & career problem, gada dhan, muthkarni, enemy problems, lost love back, boyfriend & girlfriend problem, intercast marriage problem, mohni vashikaran etc… )) In 3 Days With 101% Guarantee…So Contact Here. Love VasHikAran specialist best baba ji in london girl or boy vashikaran specialist baba ji in delhi{~91}[9463629203] Love problem solution best baba ji call or whats app Any Problem Get best result 101% Guaranteed Solution By Famous Baba Ji .Love Problem , love marriage specialist, divorced problem, husband wife dispute, love relationship problem, intercast marriage problem, black magic, vashikaran, tona totka, boy or girl vashikaran, kiya karaya etc. sabhi samasyao ka ghar bethe turant samadhan paye by Baba Ji_ get back your love by black magic Qatar Liechtenstein Usa Uk england canada husband wife problems solution astrologer Macau Bermuda India inter cast love marriage problem SOLUTION baba ji Monaco Luxembourg Dubai Arrange marriage or love marriage SPECIALIST baba ji Singapore Jersey . Falkland france Finland love marriage SPECIALIST baba ji Norway San Marino Brunei Malaysia singapore BLACK MAGIC SPECIALIST Best baba ji Switzerland Isle of Man United States BUSINESS PROBLEMS SOLUTION SPECIALIST baba ji Astrologer Hong Kong Guernsey germany GIRLFRIEND BOYFRIEND RELATIONSHIP PROBLEM SOLUTION Netherlands Canada Uk DIVORCE PROBLEMS Solution astrologer Gibraltar Australia Austria Love Problems Solution Baba Ji British Virgin Islands Kuwait Ireland Vashikaran Specialist Baba Ji Sweden Iceland Taiwan Germany Singapore Greece BLACK MAGIC SPECIALIST baba ji Greenland Denmark Belgium New Caledonia denmark Mohini VASHIKARAN SPECIALIST baba ji United Kingdom Andorra Japan Israel Bahrain Love VASHIKARAN SPECIALIST panditji Finland France Saint Pierre and Miquelon sanfarico Girl VASHIKARAN SPECIALIST baba ji Korea, South Bahamas, The Saudi Arabia LOVE MARRIAGE SPECIALIST baba ji New Zealand Spain United Arab Emirates INTER CASTE LOVE MARRIAGE SPECIALIST baba ji Bahrain Oman Italy Malta Husband wife DIVORCE Problems Solution Baba Ji Turks and Caicos Islands Guam Job Problems Solution Baba Ji Slovenia Czech Republic Seychelles Unsatisfied Women SPECIALIST baba Equatorial Guinea Aruba Barbados india Kala jadu SPECIALIST baba ji Slovakia Greece Portugal Lithuania Estonia Women Sex Problems Solution Baba Ji French Polynesia East Timor paris jadutona SPECIALIST baba ji Poland Trinidad and Tobago Hungary TANTRA-MANTRA SPECIALIST baba ji Saint Martin Gabon Chile Latvia GET YOUR LOST LOVE BACK BY VASHIKARN Argentina Antigua and Barbuda GET YOUR EX-LOVE BACK Russia Croatia Malaysia Uruguay Northern Mariana Islands World famous ASTROLOGER In Panama Botswana Puerto Rico Venezuela love vashikaran specialist baba ji Saint Kitts and Nevis Belarus Mauritius Black magic specialist baba ji Lebanon Mexico Sint Maarten Turkey love vashikaran specialist baba ji Curacao Virgin Islands Bulgaria Romania husband wife relationship problem Dominica Kazakhstan Grenada Saint Lucia Boy girl love problem solution Toronto ontario Tokyo New York Los Angeles London Chicago Paris Mexico Worth Shanghai Seoul Atlanta San Francisco/Oakland Berlin Ankara Chongqing Lyon Turin Porto Boy girl Marriage problem solve baba ji victan City Philadelphia Osaka/Kobe Washington DC Buenos Aires Boston Sao Paulo Hong Kong Dallas/Fort Fukuoka Manchester Hyderabad Chennai Athens · Black magic expert baba ji Houston Miami Toronto Moscow Mumbai Madrid Detroit Istanbul Seattle Beijing Metro Manila Tianjin Jiddah Dublin Ho Chi Min City Birmingham Wuhan vashikaranspecialsit baba ji Sydney Jakarta Delhi Phoenix Guangzhou Minneapolis Kolkata San Diego Singapore Baltimore Tel Aviv-Jaffa St Petersburg St Louis Tampa/St Petersburg love vashikaran specialist problem solution baba ji Cairo Barcelona Melbourne Denver Rome Bangkok Montreal Milan Tehran Riyadh Pusan Bogotá Santiago Monterrey Alegre Brasilia GET LOVE BACK XX LOVE MARRIAGE SPECIALIST Johannesburg Lisbon Cleveland Belo Horizonte Portland Vienna Karachi Dhaka Lima Vancouver Cape Town Stockholm Guadalajara Pittsburgh love marriage specialist Aghori baba ji... ... Naples Curitiba Shenyang Leeds Lahore Alexandria East Rand Medellin Helsinki Izmir Salvador Munich Fortaleza Algiers Hanoi Bandung Lagos Powerful Vashikaran Mantra. Warsaw Hamburg Recife Auckland Zurich Amsterdam Prague Rotterdam Copenhagen Brussels Chengdu Khartoum Caracas Budapest Puebla Xian Casablanca Vashikaran Mantra For Love Marriage In Taegu Oslo Changchun Kanpur Cologne Baghdad Chittagong Jaipur Lille Lucknow Yangon Luanda Kinshasha Faisalabad Abidjan Kabul Nairobi Black Magic Removal Specialist In Addis Ababa Kano Dar es Salaam Krakow Pyongyang Cayman Islands italy spain canada no 1 indian baba ji specialist for Love marriage problem solution specialist will give you some tantras and mantras to spells and solve your problems. Vashikarn for love is the powerful tool to get back your love life and a world famous astrologer love marriage problem solution specialized will help you. However, judgment of a well skilled and talented astrologer should be required so that there are no problems later on in life. Baba JI who is widely renowned as a love marriage problem solution astrologist easily evaluates your marriage prospects and ensures the success of your marriage

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB